Author Topic: Folk Songs Of Uttarakhand : उत्तराखण्ड के लोक गीत  (Read 48094 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
हिट भुला हाथ खुटा हला, खाण कमाणें छुईं कला, हिट भुला हाथ खुटा हला, खाण कमांणे छुईं कला
देर पस्यो बगौंणें जा, फुल खिलाला भला-भला, भला-भला….फुल खिलाला भला-भला, भला-भला..

हिट भुला हाथ खुटा हला, खाण कमाणें छुईं कला,हिट भुला हाथ खुटा हला, खाण कमांणे छुईं कला
देर पस्यो बगौंणें जा, फुल खिलाला भला-भला, भला-भला….फुल खिलाला भला-भला, भला-भला..

उठ गरिबी कु रोणुं न रो, खुट त टेक खड़ु त हो, उठ गरिबी कु रोणु न रो, खुट त टेक खड़ु त हो
ग्वाया लगैलि सारु खोजैली, कब तलक अब बड़ुत हो-बड़ुत हो-बड़ुत हो ….हिट भुला ……

हिट भुला हाथ खुटा हला, खाण कमाणै छुईं कला, देर पस्यो बगौणें जा,
फुल खिलाला भला-भला, भला-भला..फुल खिलाला भला-भला, भला-भला..

नि चलि कैकि नि चलिणि रे, मातबरु कि सामणि रे, नि चलि कैकि नि चलिणि रे, मातबरु कि सामणि रे
तौंकि छाया माया का निस, हमारि बिज्वाड़ नि जमिणी रे – नि जमिणी रे- नि जमिणी रे…हिट भुला ……

हिट भुला हाथ खुटा हला, खाण कमाणै छुईं कला, देर पस्यो बगौणें जा,
फुल खिलाला भला-भला, भला-भला..फुल खिलाला भला-भला, भला-भला..

कर्ज पगाला कि स्याणि नि कर, अपुड़ भोळ गिरीबी न धर, कर्ज पगाला कि स्याणि नि कर, अपुड़ भोळ गिरीबी न धर
राख विश्वास अफु फरें, कनि नि होंदि गुजर बसर – गुजर बसर – गुजर बसर….हिट भुला ……

हिट भुला हाथ खुटा हला, खाण कमाणै छुईं कला, देर पस्यो बगौणें जा,
फुल खिलाला भला-भला, भला-भला..फुल खिलाला भला-भला, भला-भला..

क्येकु फस्युंछे दुरमति मां, तमाखु दारु जुवा-पती मां, क्येकु फस्युंछे दुरमति मां, तमाखु दारु जुवा-पती मां
सैरा मुलुक कि आस छ त्वे पर, ज्वनि गवों नाकतामती मां- कतामती मां- कतामती मां….हिट भुला ……

हिट भुला हाथ खुटा हला, खाण कमाणै छुईं कला, देर पस्यो बगौणें जा,
फुल खिलाला भला-भला, भला-भला..फुल खिलाला भला-भला, भला-भला..

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
नैनीताल द्यो लागि रौ नंदी, भीमताल सेब पाकि रो ला-2
गोविंदी त्यर माते को जोगि आ रछै चिमटा छमाछम,-2
गोविंदी घास काटछी, बात करछी पुल बाधेंछी कम,-2
नैनीताल द्यो लागि रौ नंदी, भीमताल सेब पाकि रो ला -2
मोहना लोडा तली सिपाही गोरन गोवा लाग रो ला -2
राम गाड़ राम ढोला छम छम भल बाजनी,-2
तेरी खुटि की झावर म्यर सुवा भल बाजनी,-२
नैनीताल द्यो लागि रौ नंदी, भीमताल सेब पाकि रो ला-2
गोविंदी त्यर माते को जोगि आ रछै चिमटा छमाछम,-2
गोविंदी घास काटछी, बात करछी पुल बाधेंछी कम,-2
नैनीताल द्यो लागि रौ नंदी, भीमताल सेब पाकि रो ला -2
मोहना लोडा तली सिपाही गोरन गोवा लाग रो ला -2

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
Curtsey _ Shri Totaram Dhoundiyal Dhad magazine june 1990
सतपुळि को सैण मेरि बौ सरैला

[एक गढवाली लोक गीत ]
बौ ए . नि जाणो नि जाणो
मेरि बौ सरैला , ए बौ सरैला
ए खाई जाला क्याळा
ए सतपुळि उर्युं च बौ ए
पंचमी कु म्याळा मेरि बौ सरैला
ए लूण भोरि दूण, भोरि दूण
ए सतपुळि नि जाण बौ ए
झगड़ान हूण ,मेरि बौ सरैला
ए ढीबरा का छौना , ए छौना
ए सतपुळि अयाँन बौ ए
तारा दत्ता का नौना
मेरि बौ सरैला
ए बौ हारा जौ का झीस , बौ ए झीस
ए सतपुळि अयूं च बौ ए
त्यार द्यूर 'हरीश' , मेरि बौ सरैला
ए दूदा कि कटोरि , ए बौ कटोरि
ए सतपुळि ऐ गेन बौ ए
कानूं गो, पट्वरि , मेरि बौ सरैला
ए खाई जाली लौकि , बै ए लौकि
ए त्यारा बाना द्याख बौ ए
लैंसडौना चौकि मेरि बौ सरैला
बौ ए . नि जाणो नि जाणो , मेरि बौ सरैला

Internet Presentation by Bhishma Kukreti.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
सतपुळि बजार क्यों आंदि -- गढ़वाली लोक गीत
सतपुळि बजार क्यों आंदि
मेरि ब्वारी गौमती या ?मेरि ब्वारी गौमती या ?
सतपुळि बजारै आन्दु
मी तुमारा बान या, मी तुमारा बान या
काटी च जमणि ये ब्वारि , काटी च जमणि ये ब्वारि
मी तै नि मिलणो ए ब्वारि ,
सबुकी समणि , या सतपुळि
तमाखू का कोया ए जिवरो, तमाखू का कोया ए जिवरो,
डौर छाई तुमतै त पैलि
केकु ज्वाड़ माया या
सतपुळि बजार क्यों आंदि
बामणु कि पोथी ए ब्वारि , बामणु कि पोथी ए ब्वारि ,
भली बिराज दींदि ए ब्वारि
तेरी काळि धोति या
सतपुळि बजार क्यों आंदि
स्वैरि जाली सौँळि जिवरो , स्वैरि जाली सौँळि जिवरो ,
कन बिराज दींदि जिवरो ,
बुलबुलूं कि कौंळ या
सतपुळि बजार क्यों आंदि
मेरि ब्वारी गौमती या ?मेरि ब्वारी गौमती या ?

Curtsey _ Shri Totaram Dhoundiyal Dhad magazine june 1990

Internet Presentation by Bhishma Kukreti

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
ऐ छौ जीजा ' हरसिंगा'
तु सतपुळि केकु ऐ छै स्याळी प्रतिमा ?
तु सबकी समणि आँदी ,
इन्नि बात मी नि सुवांदी
घर जा स्याळी प्रतिमा
तेरी याद जब मी आन्द
अफ्वी मी थै खेंचि लांद
मिन क्या कन त्वी बतौ
मी गळा कि हंसुळि गड़ाणु
ऐ छौ जीजा ' हरसिंगा'
तु सतपुळि केकु ऐ छै स्याळी प्रतिमा ?
छ्क्वे ह्वेग्युं मि बदनाम
सर्या दुन्या मा मेरि हाम
घर जा स्याळी प्रतिमा
पैलू मीकु माया ज्वड़दि
फिर दुन्या से केकु डरदि
बोल जीजा हरसिंगा
मेरि बौ मारली मै घर जा स्याळी प्रतिमा
तेरी दीदि ह्व़े मेरि बौ स्याळी प्रतिमा
मि अफुखुणि साड़ी मूल्याणु ऐ छौ जिजा
हरसिंगा
तु सतपुळि केकु ऐ छै स्याळी प्रतिमा ?
आभार- तोताराम ढौंडियाल, धाद, जून १९९०

Internet Presentation by Bhishma Kukreti.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
सतपुली संबंधित लोकगीत

तु सतपुळि केकु ऐ छै प्रतिमा --सतपुली लोक गीत माला - ३
(इन्टरनेट प्रस्तुति - भीष्म कुकरेती )

तु सतपुळि केकु ऐ छै स्याळी प्रतिमा ?
मि नाक कि नथुलि गड़ाणु
ऐ छौ जीजा ' हरसिंगा'
वै सुनार उखि बुलौलु
त्वेखुणि नथुलि गडौलु
घर जा स्याळी प्रतिमा
घर जा स्याळी प्रतिमा
त्वे बगैर मन णि मंद
अब जम्मा मी घर नि जांदु
मान जीजा' हरसिंगा '
मि नाक कि नथुलि गड़ाणु -2

Internet Presenation by Bhishma Kukreti.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
बबली तेरी मोबाइल
वहां भे तेरी स्माइल
लस धस के हिटेछे
लसका धसका का मारीछे.

कोरस

बबली तेरी मोबाइल
वहां भे तेरी स्माइल

चांदी का बटन हो बबली
चांदी को बटना हो.. ....२

कोरस

चांदी का बटन हो बबली
चांदी को बटना हो.. ....२

मन मा इखारी रैदी
तुमारी रटना हो... २..

त्वे मा आगियो मेरो दिल
बबली तेरी मोबाइल ..

बबली तेरी मोबाइल
वहां भे तेरी स्माइल
लस धस के हिटेछे
लसका धसका का मारीछे.

गियूं बुजा परार हो बबली
गियूं बुजा परार हो ... २

कोरस. .

गियूं बुजा परार हो बबली
गियूं बुजा परार हो

.
गियूं बुजा परार हो बबली
गियूं बुजा परार हो ... २

धरती मा तू आयी छे
आचुरी अवतार हो .. अचुरी अवतारों हो..

चोटी मा तेरो काव तिल
कोरस.. होए.....

बबली तेरी मोबाइल
वहां भे तेरी स्माइल

लस धस के हिटेछे
लसका धसका का मारीछे.

रेशमी रुमाल हो बबली
रेशमी रुमाल हो ..

कोरस :

रेशमी रुमाल हो बबली
रेशमी रुमाल हो ..

हेलो हाय कर भे
तेरो चाल भी कमाल हो.. चाल भी कमाल हो..

बुन्द ना मारदा स्टाइल .
बबली तेरो मोबाइल..

कोरस.. होए.....

कोरस.

बबली तेरी मोबाइल
वहां भे तेरी स्माइल
लस धस के हिटेछे
लसका धसका का मारीछे.

:

सानद की ठेकी हो बबली
सनाद की ठेकी हो.. ..२

कोरस :

सानद की ठेकी हो बबली
सनाद की ठेकी हो.. ..२

कोरस.. होए.....

बिंद छुयाल नि हो बबली
नि जानो की सेकी हो.. . नि जानो की सेकी

लंब चौड़ अन्दो बिल..
बबली तेरो मोबाइल..

कोरस.. होए.....

बबली तेरी मोबाइल
वहां भे तेरी स्माइल
लस धस के हिटेछे
लसका धसका का मारीछे

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
महिला : ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा, ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा

पुरुष : ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा …., हिट साई कौतिक जानू द्वारिहाटा

महिला : ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा, ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा

पुरुष : ओ ..हिट साई कौतिक जानू द्वारिहाटा …., हिट साई कौतिक जानू द्वारिहाटा

महिला : आंग में आंगड़ी नि छ कस के जानु द्वारिहाटा, आंग में आंगड़ी नि छ कस के जानु द्वारिहाटा
पुरुष : वैं दर्जी वैं सिणून द्वारिहाटा, वैं दर्जी वैं सिणून द्वारिहाटा
ओ साई …हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा ….,ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा
महिला : ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा, ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा
पुरुष : ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा…., ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा
महिला : नाख मे नथूली नि छ कस के जानु द्वारिहाटा, नाख मे नथूली नि छ कस के जानु द्वारिहाटा
पुरूष : वै सुनार वै गणून द्वारिहाटा.., वै सुनार वै गणून द्वारिहाटा
ओ साई …हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा ….,ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा
महिला : ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा, ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा
पुरुष : ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा…., ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा
महिला : ख्वार मा पिछौड़ी नि छ कस के जानु द्वारिहाटा, ख्वार मा पिछौड़ी नि छ कस के जानु द्वारिहाटा
पुरूष : वै बणिया वै बणून द्वारिहाटा.., वै सुनार वै बणून द्वारिहाटा…
ओ साई …हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा ….,ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा
महिला : ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा, ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा
पुरुष : ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा…., ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा
महिला : गौं पतानी भलि रैछ दुर्गापुरी द्वारिहाटा,गौं पतानी भलि रैछ दुर्गापुरी द्वारिहाटा
पुरुष : हिट कौतिक दुर्गापुरी द्वारिहाटा , हिट कौतिक दुर्गापुरी द्वारिहाटा …
ओ साई …हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा ….,ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा
महिला : ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा, ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा
पुरुष : ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा…., ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा
यह अंतरा कुछ संस्करणों में मिलता है, कुछ में नहीं। यहाँ पर प्रस्तुत दूसरे संस्करण में यह है।
महिला : मेर खुटा चपल नि छ कस के जानू द्वाराहाटा.., खुट मे चपल नि छ कस के जानू द्वाराहाटा..
पुरूष : वै दूकान वै मोल्यूण द्वारिहाटा..,वै दूकान वै मोल्यूण द्वारिहाटा..
ओ साई …हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा ….,ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा
महिला : ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा, ओ भिना कस के जानू द्वारिहाटा
पुरुष : ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा…., ओ साई ..हिट हिट कौतिक जानू द्वारिहाटा
शुभ संन्धया प्रिय मित्रजनौ नमस्कार
,आपुण स्वागत छ हो
भेट—घाट करते रया,आसल कुशल दिने रया।
मींकं लै आपुणै मानिया म्यार , त् तुम आपुणै हया।
॥ हरि: ॐ तत् सत् ॥
सादर नमन, वंदन एवं अभिनन्दन
आप का आने वाला प्रत्येक नया दिन मंगलमय हो
पं.-श्री प्रकाश चंद्र तिवारी जी २८ -११ - २०१४

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
रंगीली चंगीली पुतई कैसी,
फुल फटंगां जून जैसी,
काकड़े फुल्युड़ कैसी ओ मेरी किसाणा
उठ सुआ उज्याउ हैगो, चम चमको घामा
, उठ सुआ उज्याउ हैगो, चम चमको घामा
रंगीली चंगीली पुतई कैसी,
फुल फटंगां जून जैसी,
काकड़े फुल्युड़ जैसी ओ मेरी किसाणा
उठ सुआ उज्याउ हैगो, चम चमको घामा,
उठ सुआ उज्याउ हैगो, चम चमको घामा
गोरू बाछा अड़ाट लैगो भुखै गोठ पाना,
गोरू बाछा अड़ाट लैगो भुखै गोठ पाना
तेरि नीना बज्यूण हैगे, उठ वे चमाचम,
तेरि नीना बज्यूण हैगे, उठ वे चमाचम
घस्यारूं दातुली खणकि, घस्यारू
दातुली खणकि, वार पार का डाना,
उठ मेरी नांरिंगे दाणी, उठ वे चमाचम
, उठ मेरी नांरिंगे दाणी, उठ वे चमाचम
उठ भागी नाखर ना कर, पली खेड़ खाताड़ा
, उठ भागी नाखर ना कर, पली खेड़ खाताड़ा
ले पिले चहा गिलास गरमा गरम,
ले पिले चहा गिलास गरमा गरम
उठे मेरी पुन्यू की जूना,
उठे मेरी पुन्यू की जूना, छोड़ वे घुर घूरा
ले पिले चहा घुटुकी, गुड़ को कटका
, ले पिले चहा घुटुकी, गुड़ को कटका
रंगीली चंगीली पुतई कैसी,
फुल फटंगां जून जैसी
, काकड़े फुल्युड़ कैसी ओ मेरी किसाणा
उठ सुआ उज्याउ हैगो, चम चमैगो घामा

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0

Gopal Babu Goswami Song

मालुरा हरियालु डांना का पार, मालुरा हरियालु डांना का पार, मालुरा हरियालु डांना का पार
के उलि बुरुंजि कि भलि फुलि रैछ, के उलि बुरुंजि कि भलि फुलि रैछ
रंगिली पिछौड़ि ढलकि ढकि रैछ, रंगिली पिछौड़ि ढलकि ढकि रैछ
मालुरा कर ले तू सोला श्रंगार,मालुरा कर ले तू सोला श्रंगार
मालुरा हरियालु डांना का पार, मालुरा हरियालु डांना का पार
रणमणि मुरूलि के भलि बाजि रै छ, रणमणि मुरूलि के भलि बाजि रै छ
फुरि-फुरि बयार हौंसिया बगि रै छ, फुरि-फुरि बयार हौंसिया बगि रै छ
ए जा वै हौंसिया डांना का पार, ए जा वै हौंसिया डांना का पार
मालुरा कर ले तू सोला श्रंगार,मालुरा कर ले तू सोला श्रंगार
मालुरा हरियालु डांना का पार, मालुरा हरियालु डांना का पार
ए जा सुवा एजा, रुपसि मेरि भै जा, ए जा सुवा एजा, रुपसि मेरि भै जा
किलमौडि, करौंजा, काफले दाणि खैजा,किलमौडि, करौंजा, काफले दाणि खैजा
ए जा वै हरियालु यो डांना का पार, ए जा वै हरियालु यो डांना का पार
मालुरा कर ले तू सोला श्रंगार,मालुरा कर ले तू सोला श्रंगार
मालुरा हरियालु डांना का पार, मालुरा हरियालु डांना का पार
खित खित हँसिणी मुखड़ी तू दिखै जा, खित खित हँसिणी मुखड़ी तू दिखै जा
बांजे डाई स्योआ हौंसिया मेरी आजा ,बांजे डाई स्योआ हौंसिया मेरी आजा
मालुरा जौवन छो दिन चार, मालुरा यौवन यो दिन चार
मालुरा हरियालु डांना का पार, मालुरा हरियालु डांना का पार

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22