Author Topic: Folk Songs on Market,Fairs & Jeeja Saali etc - बाजारों, मेलो एव जीजा साली पर गीत  (Read 12968 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
केकु बाबाजीन मिडिल पढायो
इंटरनेट प्रस्तुति -भीष्म कुकरेती

केकु बाबाजीन मिडिल पढायो
केकु बाबाजीन मिडिल पढायो
केकु बाबाजीन राठ बिवायो
बाबाजीन देनी सैंडल बूट
भागन बोली झंगोरा कूट ।
बाबाजीन दे छई मखमली साड़ी
सासू नी देंदी पेट भर बाड़ी ।
जौं बैण्योंन साड़ी रौल्यों क पाणी
वा बैणि ह्वे गए राजों क राणी ।
जौं बैण्योंन काटे रौल्यों को घास
वा भूली गै राजों का पास ।
मै छंऊ बाबा राजों का लेख
तब मी पाए सौंजड्या बैख ।
दगड्या भग्यानो की जोड़ी सौंज्यड़ी
मेरी किस्मत मा बुड्या कोढ़ी ।
बांठा पुंगड़ा लड़बड़ी तोर
नी जैन बुड्या संगरादी पोर ।
बाबाजीन दे छई सोना की कांघी
सासू ना राखी छै मैना राखी ।
(गीत संकलन : डा कुसुम नौटियाल , गढ़वाली नारी : एक लोकगीतात्मक पहचान)

By - Bhishma Kukreti

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Mahi Singh Mehta
9 hrs ·

नन्द हटवाल जी किताब 'चाचड़ी झुमाको' से यह बहुत पुराना चाचरी (लोक गीत) है! मै बचपन में अपने गाव में इस गीत को लोगो को स्थानीय मेले में गाते हुए सुनता था!
इंटरनेट प्रस्तुति - एम एस मेहता
-------------------------------------
माछी न बगनि, दादू लफटना
हँसिया पराणी, मेरी लफटना !!
रई न सकनी, दादू लफटना !
ओ दोलकी कमाक, भुलु गावरला !
खुट कान छना बुडा, भुलु गावरला !!
यो छोड़ि छ कामक, भुलु गावरला!
पड़ि झन फुटा, दादु लफटना !
राम लक्ष्मण, कसी लफटना !
जोड़ी झन टूटी, दाज्यू लफटना !!
तू हे कुलो उँछ, कटे लफटना !
तुमुली क पात, भुलु गावरला !
संग हैजा सोवती, का गावरला !!
लम्बी है जो रात, भुलु गावरला !
सूपा भरी धान, दादु लफटना !
झिट घडी, झिट घडी लफटना !!
चाचरी में ध्याना, दादु लफटना !
सानंड़ की राउळी, भुलु गावरला!
भोलू पोरियु बटी, भुलु गावरला !!
कौनो जै के रौली, भुलु गावरला !
ईसाई के रेट रेट, भुलु गावरला !
ईसाई के रेट रेट, भुलु लफटना !!
काक तुमि काक, हमि लफटना !
आज है रे भेट, दाज्यू लफटना !!
इंटरनेट प्रस्तुति - एम एस मेहता - साभार-नन्द हटवाल जी किताब 'चाचड़ी झुमाको'

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
ए संज्या झुकि गेछ भगवान , नीलकंठ हिवाला |
ए संज्या झुकि गेछ हो रामा, अगास रे पताला|
ए संज्या झुकि गेछ भगवाना ,नौ खंडा धरति मांझा|
नौ खंडा धरति हो रामा , तीन हो रे लोका |
के संज्या झुकि गेछ भगवाना ,के संज्या झुकि गेछ |
के संज्या झुकि गेछ रामा ,कृष्ण ज्यु की द्वारिका |
हो के संज्या झुकि गेछ हो रामा , यो रंगीली वेराटा|
के संज्या झुकि गेछ भगवाना , यो पंचवटी मांझा |
के संज्या झुकि गेछ हो रामा ,रामाज्यु की अजुध्या |
के संज्या झुकि गेछ भगवाना , कौरवुं को बंगला |
के संज्या झुकि गेछ हो रामा ,यो गेली समुन्दरा|
के संज्या झुकि गेछ भगवाना ,पंचचुली का धुरा |
के संज्या झुकि गेछ हो रामा ,हारीहरा हरिद्वारा|
के संज्या झुकि गेछ भगवाना ,सप्ता रे सिन्धु ,पंचा रे नंदा |
ए संज्या झुकि गेछ हो रामा ,सुनै की लंका धामा ||

(कुमांऊँ का लोक साहित्य से ) - Internet Presentation - Prayag Joshi

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
कुंमाँऊनी लोक गीत ------
कै करूँ सासू लम चरयो लै रेवती बौज्यू बुड |
चपल पैरछी चुड , चुडे चल मेरी दुकाना ,चपल पैरछी चुड |
खुकुरी को म्याना , जोगी बैठी ध्याना |
च्याल वालौं का च्याला. जीरौं , फकतों की जाना |
कैकी करूँ मनवसी , कैकी अभिमाना |
नानछिना की पिरीति की त्वे नि रूनी फामा |
करी गेछे वो खडयूँणी रुख डावा चाणा |
चपल पैरंछी चुड , चुडे चल मेरी दुकाना ,चपल पैरछी चुड |
कै करूँ सासू ठुल कुडैलै रेवती बौज्यू बुड |
मडुवे की मानी , जतिये की कानी ,
जैकि हूँ फोसडी खोरी पापिणी उ धिनाली नी खानी |
जनम सबूं ले लियो छ पापिण करमै कि खानी |
चपल पैरछी चुड , चुडे चल मेरी दुकाना ,चपल पैरछी चुड |
केलडी को खाना , धुरी पाको आमा |
नानछिना की पिरीति की त्वे धरिये फामा |
चपल पैरछी चुड , चुडे चल मेरी दुकाना ,चपल पैरछी चुड |
कै करूँ सासू लम चरयो लै रेवती बौज्यू बुड |
कै करूँ सासू ठुल कुडैलै रेवती बौज्यू बुड |
भावार्थ
क्या करूँ सास जी , लम्बे मंगल सूत्र से रेवती के पिता जी अर्थात :मेरे पति तो बूढ़े हैं |
चप्पल पहनोगी या चूडियाँ , चलो मेरी दुकान में चलो |
चप्पल पहनोगी या चूडियाँ , चलो मेरी दुकान में चलो |
खुकुरी की म्यान , योगी ध्यान - मग्न बैठा है ,
सन्तान वालों के पुत्र चिरजिंवी हों , और कुवारे दीर्घायु हों |
किस - किस की मर्जी पूरी करूँ और किस पर घमंड करूँ |
तुम्हें तो तुम्हारी वल्यापन की प्रीति याद ही नहीं रहती |
बुरा हो तेरा , मुझे तो तू बिलकुल एकांकी छोड़ गई |
चप्पल पहनोगी या चूडियाँ , चलो मेरी दुकान में चलो |
सास जी , मैं क्या करूँ इस बड़े मकान से , रेवती के पिता जी तो बूढ़े हैं |
मडुवा का भूसा , भैसे के कंधे ,
जिसका भाग्य ही रुखा हो उसे दही - दूध क्या मिलेगा ?|
जन्म तो सभी ने लिया है , पर तुम तो भाग्य की खान जन्मी हो |
चप्पल पहनोगी या चूडियाँ , चलो मेरी दुकान में चलो |
केले के वृक्ष का ताना , बगिया में आम पक गए ,
हमारी बचपन की प्रीति को याद रखना तुम |
चप्पल पहनोगी या चूडियाँ , चलो मेरी दुकान में चलो |
क्या करूँ सास जी , लम्बे मंगल सूत्र से मैं , ओ सास जी , रेवती के पिता जी तो बूढ़े हैं |
सास जी , मैं क्या करूँ इस बड़े मकान से , रेवती के पिता जी तो बूढ़े हैं |

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
बीणा नि आंयां मांजी दिब डंडा ओर
रात घनाघोर माँजी रात घनाघोर
बीणा नि आंयां मांजी दिब डंडा ओर .... २
पुंगड़्यूं ब्यूं चा हे मांजी पुंगड़्यूं ब्यूं चा …२
मैं बुल्वों को मांजी जंवाई अयुं चा …२
रात घनाघोर माँजी रात घनाघोर
बीणा नि आंयां मांजी दिब डंडा ओर .... २
मरो च मलेयु मांजी मरो च मलेयु .... २
मत्नडा नि जाणा मांजी ना बनों कलेयु .... २
रात घनाघोर माँजी रात घनाघोर
बीणा नि आंयां मांजी दिब डंडा ओर .... २
मारी जाली फाल हे मांजी मारी जाली फाल … २
जंवाई नि आई मांजी मि कू आई काल .... २
रात घनाघोर माँजी रात घनाघोर
बीणा नि आंयां मांजी दिब डंडा ओर .... २
चिलमि को पिच हे मांजी चिलमि को पिच … २
मि मारियाली मांजी अदा राति बिच… २
रात घनाघोर माँजी रात घनाघोर
बीणा नि आंयां मांजी दिब डंडा ओर .... २
रोटी की टुकुड़ी हे मांजी रोटी की टुकुड़ी .... २
कनके देखलू मांजी तेरि मुखुड़ी .... २
रात घनाघोर माँजी रात घनाघोर
बीणा नि आंयां मांजी दिब डंडा ओर .... २
बीणा नि आंयां मांजी दिब डंडा ओर .... ३
उत्तराखंडी गीत बीणा नि आंयां मांजी दिप डंडा ओर
उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
उत्तराखंड मनोरंजन
बालकृष्ण डी ध्यानी
-देवभूमि बद्री-केदारनाथ
अब भोळ भेंट हुली जी

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
सुवा रिसैगे - कुमाऊनी लोकगीत
ह्या ये हरयाल मने बजार मा अरे यु रानी खेते बजार मा
औ दाज्यू सुवा रिसैगे मेरी पगली हरेगे छे
औ दाज्यू सुवा रिसैगे मेरी पगली हरेगे
अरे यु अल्मोड़े बजार मा अरे यु बागेश्वर खौथिग मा
औ दाज्यू सुवा रिसैगे मेरी पगली हरेगे छे
औ दाज्यू सुवा रिसैगे मेरी पगली हरेगे
हे …… होसिया अरे ये आधु क बाट मा जा मि कैदिगे धक
अब ये आधु क बाट मा जा मि कैदिगे धक
नदनी होसिया मेरी अप्डे मन की
अरे अप्डे अ .... अ मन की अरे अब कथा ढूंढ़ दियू ई कनि
ये दाज्यू मेर गाल गाल ऐगे
अरे यु अल्मोड़े बजार मा अरे यु बागेश्वर खौथिग मा
औ दाज्यू सुवा रिसैगे मेरी पगली हरेगे छे
औ दाज्यू सुवा रिसैगे छे मेरी पगली रिसैगे
हे …… होसिया अरे र वार चानू पार चानू नि पूजैनि आँखि
अब वार चानू पार चानू नि पूजैनि आँखि
तुमल देखि छों यारो बते दियू भागी
अब तुमल ये ..... देखि छों यारो बते दियू भागी
अरे मन में नि सांस लेरो अरे रावत जी महराज ढूंढ़ दियू ई कनि
अरे मेरी सुवा रिसेगे
अरे यु अल्मोड़े बजार मा अरे यु बागेश्वर खौथिग मा
औ दाज्यू सुवा रिसैगे मेरी पगली हरेगे
औ दाज्यू सुवा रिसैगे मेरी पगली हरेगे
औ दाज्यू सुवा रिसैगे मेरी पगली हरेगे
हे …… नाक मा नथुली विंकी कानो मा जाब आई
अरे नीबू ऐ की दानि जैसी कखि मै भुवाई
ऐ शर्मा जी देखो कइले मै भैन्चों
अब कखि मै भुवाई मन में नि सांस लेरो
अब कं ढूँढू दाजी जरा दखो बाल कु न छ कंई ति
अरे मेरी सुवा रिसैगे
अरे यु द्वारहटे खौथिग मा यु अल्मोड़े बजार मा
औ दाज्यू सुवा रिसैगे छे पगली हरेगे
मेरी सुवा रिसैगे छे पगली हरेगे
ये सुवा हरेंगे छे पगली हरेगे
हे …… अल्मोड़े की बजार मा जां पड़ी रों र मौका
अरे जानि कथा ले गे दाज्यू अप्डे मन की
अरे डंगवाल जी लाव विं थे ढूंढे कि भेर
जानि कथा ले गे दाज्यू अप्डे मन की अधुक बाटू मा जा
अरे अड़ डा डा डा अरे रे रे मेरी सुवा रिसेगे
अरे यु बागेश्वर खौथिग मा यु मासिको बजार मा
औ दाज्यू सुवा रिसैगे छे पगली हरेगे
औ दाज्यू सुवा रिसैगे मेरी पगली हरेगे
अरे यु अल्मोड़े बजार मा अरे यु रानी खेते बजार मा
औ दाज्यू सुवा रिसैगे मेरी पगली रिसैगे छे
औ दाज्यू सुवा हरेगे मेरी पगली रिसैगे छे
औ दाज्यू सुवा रिसैगे मेरी पगली हरेगे छे
औ दाज्यू सुवा रिसैगे मेरी पगली रिसैगे छे
औ दाज्यू सुवा रिसैगे मेरी पगली रिसैगे छे
मेरी पगली रिसैगे मेरी पगली रिसैगे मेरी पगली रिसैगे
कण लगा जी जरूर बतवा जी
सुवा रिसेगे - कुमाऊनी लोकगीत
उत्तराखंडी गीत
उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
उत्तराखंड मनोरंजन
बालकृष्ण डी ध्यानी
-देवभूमि बद्री-केदारनाथ
अब भोळ भेंट हुली जी

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
एक गढ़वाली लोक गीत
ना बास घुगुती चैत की
खुद लगिंच माँ मैत की … २
डाली फुल्ली माँ फूलों की
खुद लगिंच माँ भूलों की … २
बाट देख्दी रों बाबा आल
चैत फूल कंडी माँ मि कु ल्याल … २
ना बास घुगुती चैत की
खुद लगिंच माँ मैत की …
मिन सोची मा भैजी आल
रखड़ि भंटे माँ मिथे द्याल… २
ना बास घुगुती चैत की
खुद लगिंच माँ मैत की …
स्वामी जी इनि माँ निर्दयी
फोन भी चिठ्ठी नि देई … २
ना बास घुगुती चैत की
खुद लगिंच माँ मैत की …
आदि रात मा उठदु
काठी झंगोरा माँ कुटदु … २
ना बास घुगुती चैत की
खुद लगिंच माँ मैत की …
सासु जेठानी माँ देंदी गालि
नन्द भारी छुँयाळी … २
ना बास घुगुती चैत की
खुद लगिंच माँ मैत की …
क़्या कु बाबा न दूर देनी
बेटी अपरि भूल गैनी … २
ना बास घुगुती चैत की
खुद लगिंच माँ मैत की …
डाली फुल्ली माँ फूलों की
खुद लगिंच माँ भूलों की …
खुद लगिंच माँ भूलों की …
खुद लगिंच माँ भूलों की …
कण लगा जी जरूर बतवा जी
एक गढ़वाली लोक गीत ना बास घुगुती चैत की
उत्तराखंडी गीत
उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
उत्तराखंड मनोरंजन
बालकृष्ण डी ध्यानी
-देवभूमि बद्री-केदारनाथ
अब भोळ भेंट हुली जी

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
रानीखेत रामढोला घम घामा कन बजन..
रानीखेत रामढोला घम घामा कन बजन.. २
तेरी खुट्यु की पेजबी मेरी सुआ
भली सजन... २
रानीखेत रामढोला ...रानीखेत
रानीखेत रामढोला घम घामा कन बजन.. २
तेरी खुट्यु छम छम
तेरी खुट्यु की पेजबी मेरी सुआ भली सजन...
तेरी खुट्यु की पेजबी मेरी सुआ
भली सजन...
कोरस
{रानीखेत रामढोला घम घामा कन बजन..
तेरी खुट्यु की पेजबी मेरी सुआ
भली सजन...
तेरी पाऊ की पुलिया ..तेरी पाऊ..
तेरी पाऊ की पुलिया मेरी सुआ .भली सजन..
तेरी हथो की पोछिया...मेरी सुआ भली सजन..
तेरी गोले.....तेरी गोले की हसुली मेरी सुआ. भली सजन..
तेरी गोले की हसुली मेरी सुआ. भली सजन
रानीखेत रामढोला घम घामा कन बजन.. २
रानीखेत रामढोला घम घामा कन बजन..
कोरस
{रानीखेत रामढोला घम घामा कन बजन..
तेरी खुट्यु की पेजबी मेरी सुआ
भली सजन...}
तेरी माथे की बिंदुली ...तेरी माथे
तेरी माथे की बिंदुली मेरी सुआ
भली सजन ..
कन्दुरुयो मा तेरु कुंडल ..मेरी सुआ भलु .
सजन ..
तेरी नाके ....तेरी नाके की बिसार मेरी सुआ भली सजन .
तेरी नाके की बुलाक मेरी सुआ भलु सजन ..
रानीखेत रामढोला घम घामा कन बजन..
कोरस
रानीखेत रामढोला घम घामा कन बजन..
रानीखेत रामढोला घम घामा कन बजन..
तेरी खुट्यु की पेजबी मेरी सुआ
भली सजन...
तेरी गोटे की अंगड़ी तेरी गोटे
तेरी गोटे की अंगड़ी मेरी सुआ ..भली सजन...
त्यारा सिरा को सीस फुला मेरी सुआ .भलु सजन...
तेरी सूंघी ई तेरी सूंघी को संघल मेरी सुआ
भलु सजन...
तेरी सूंघी को संघल मेरी सुआ भलु सजन
रानीखेत रामढोला घम घामा कन बजन.. २
कोरस
रानीखेत रामढोला घम घामा कन बजन..
तेरी खुट्यु की पेजबी मेरी सुआ
भली सजन.... २
रानीखेत रामढोला घम घामा कन बजन..
उत्तराखंडी गीत है
उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
चलचित्र के नीचे गीत लिखा है बस
बालकृष्ण डी ध्यानी
देवभूमि बद्री-केदारनाथ

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
प्रयाग पाण्डे
December 17 at 8:30pm
ओ हो रे ओ दिगौ लाली।
सावनी साँझ आकाश खुला है
ओ हो रे ओ दिगौ लाली।
छानी खरीकों में धुआं लगा है
ओ हो रे ओ दिगौ लाली।
थन लागी बाछी कि गै पंगुरी है
द्वी - द्वा, द्वी - द्वा दुधी धार छूटी है
दुहने वाली का हिया भरा है
ओ हो ये मन धौ धिनाली।
ओ हो रे ओ दिगौ लाली।
मुश्किल से आमा का चूल्हा जला है
गीली है लकड़ी कि गीला धुआं है
साग क्या छौंका है कि गौं महका है
ओ हो रे गंध निराली।
ओ हो रे ओ दिगौ लाली।
कांसे की थाल - सा चाँद टंका है
ओ हो रे साँझ जुन्याली।
ओ हो रे ओ दिगौ लाली।
दूर कहीं कोई छेड़ रहा है
ओ हो रे न्योली "सोरयाली"
जौल्यां मुरुली का "सोर" लगा है
आइ - हाइ रे लागी कुतक्याली
ओ हो रे ओ दिगौ लाली।
- गिरीश तिवाड़ी "गिर्दा"

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
घुघुती नि बासा, आमे कि डाई मा घुघुती नि बासा,
घुघुती नि बासा ssss, आमे कि डाई मा घुघुती नि बासा।
तेर घुरु घुरू सुनी मै लागू उदासा,
स्वामी मेरो परदेसा, बर्फीलो लदाखा, घुघुती नि बासा।

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22