Author Topic: Jeet Singh Negi First Folk Singer of Uttarakhand- जीत सिंह नेगी लोक गायक  (Read 16503 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0

This was the first Song of Jeet Singh Negi ji.

बीरा

Singer (जीत सिंह नेगी)

तू होली ऊंची डांड्यौं मां बीरा,
घस्यारिओं  का भेस मां.
ख़ुद मां तेरी सड़क्यौं फर मैं,
रोण लग्युं छौं परदेश मां.

ऊंची निसि डाँडी गाड गदनी,
हिंसर अरु  किन्गोड़ी ला,
बुलबुल बणि होलि डाळी,
ग्वैर दगड्या तोड़ला.

घौणि कुलैयों बीच मां अर्,
बांज की दाळ्यौं का छैल मां,
बेटी ब्वारी बैठीं होलि,
बैख होला हैल मां.

सर सर हवा औणि होलि,
बद्रीनाथ का डांडा की,
मुख मां लटुली उडणी होलि,
ठंडी हवां डांडा की.


पर मैं  मरणु छौ  भूखन,
अर् ठंडन ये देश मां,
ख़ुद मां तेरी सड़क्यौं फर मैं,
रोण लग्युं छौं परदेश मां.

तू तख यकुलि मैं यख यकुलि,
भाग मां हमारा यनि छ,
क्वी दुखि त क्वी सुखी प्रभु जी,
ये जग मां त्यारा छ.

गढ़वाल की भूमि सारी,
मगन छ देवतों का आदेश मां,
ख़ुद मां तेरी सड़क्यौं फर मैं,
रोण लग्युं छौं परदेश मां.


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
History of DramaHistory of Indian DramasHistory of Uttarakhandi DramasHistory of Garhwali DramasHundred Years of Garhwali dramas                        Contribution of Jeet Singh Negi in Developing Garhwali drama[/color] [/b]                 Adaptation -Bhishma Kukreti             “ Too wheli Beera uchi nisi dandyun man ghasiyaryun ka bhesh man…” stirred so much the insight of Uttrakhand written by Jeet Singh Negi that not only common men but even the knowledgeable Uttarakhandis perceive that this famous song is folk song .       A couple of few people knew that Jeet Singh Negi created this song on the road, Agara road, Bhandup , Mumbai at around 11PM. This author is fortunate that he listened the autos-story of Jeet Singh Negi about creation of this song by Jeet Singh himself at the residence of Mrs Pushpa Dobhal and her husband Professor Radha Ballabh Dobhal, Garhwal Darshan, Mumbai. Professor Dobhal have the recorded tape told the story of creation of ‘too wheli beera…” by Negi .     He was the initiator of creating Garhwali song, singing, performing cultural shows in various parts of IndiaI tried for searching on the net about complete biography of Jeet Singh Negi. However, my surprise that nothing much is written about this great personality of India in web-world.This write up is to provide full honor to a legendary creative ever born in Uttarakhand. It is Negi’s popularity that census department (jangana vibhag) of government of India (1961) in its Vol.XV, Uttar Pradesh, Part V, Gramya Survekhsan, page48, describes the popularity of song “too wheli beera…”Great Uttarkhandi personality Govindh Ballabh Pant was fond of the talent of Negi and he used to call Jeet Singh Negi for performing of welcoming cultural show before foreign delegates as cultural show by Negi’s troop before Chines delegate, when Pant was home minister of India. Father-----Sultan Singh Negi Date of Birth: ----27February, 1927 Place of birth or village: Village-Ayal, Paidalsyun,Pauri Garhwal Present address----108/12,Dharmapur, Dehradun Education--- Primary education---Myanmar (Burma) High school in Pauri and D A V College Dehradun Garhwali literature or creativity Published : Geet Ganga (Song collection) Jaul Mangari (Song Collection) Chham Ghungru Bajala (Song Collection) Maleth ki Kool (Historical musical drama (geet natika ) Bhair Bhool (social musical drama) Manuscript ready for publication: Jeetu Bugdwal (historical musical play) Raju Postman (Drama) Rami baurani (Musical play) Unpublished Hindi work Pativrata Rami (Drama form) Raju Postman (Drama) Dramas staged by Negi and his troop 1- Bhari Bhool: Staged in, 1952, damodar hall, Mumbai in the program of Garhwal Bhratri Mandal . The play was instant hit and the drama stirred not only the mind set of migrated Garhwali Mumbakrs but across the India, migrated Garhwali became aware about the importance of drama in their cultural programs. The dialogues are in hindi and Garhwali and that was the unique experiencing point (UEP) , Jeet Singh Negi was conceptualizer , writer, director and stage manager of Bhari Bhool. Bhari Bhool is a mile stone in the history of Garhwali stage and cultural programs. Himalaya Kala Sangam, Delhi staged this drama in 1954-55. Later on this drama was stage many places and many times. Sudharani a research scholar of Garhwali drama writes, “ Is natak ko dekhne sabhi jagah darshak toot pade and this was the reason that Lalit Mohan thapliyal entered in Garhwal drama taking leave from Hindi drama. 2-Maletha Ki Kool:This is historical drama and based on famous Maletha canal built by Chief of army staff of Garhwali a sovereign kingdom, the winning warrior of Tibet and father of brave bhud Gajendra Singh Madho singh Bhandari . The dram is staged 18 (eighteen ) times in Dehradun, Mumbai, Delhi, Chandigarh, Mussorie, Tihri and many places. Jeet Singh Negi wrote and directed this drama.3-Jeetu Bagdwal: Jitu Bagdwal is famous folk lore of Garhwal. Jeetu Bagdwal was a brilliant flute player. Singh wrote the musical drama on this folk lore and more than eith times this melodious drama is staged at various places under his direction, stage administration. 4-Pativrata Rami: Parvatiya Munch Delhi staged the Hindi drama Rami Baurani conceived and created by Jeet Singh Negi in 1956 and staged many times. 5-Rami : At the occasion of Tagore centurion year , Rami a Garhwali musical drama (geet natika ) was staged first in Narendra Nagar in 1961 . Later on more than hundred of stage shows have been all across India.6-Raju Postman: This is a Dhabadi Garhwali drams and dialogues are mixed Hindi and Garhwali. Raju Poastman Garhwal sabha Chandigarh staged this dhabadi drama first and more than ten times this drama is staged 7-Relays from Akashvani : His first Garhwali song was relayed from Akashvani in 1954. His dramas and songs are relayed more than six hundred times and it is great achievement for any regional language artist. Jeetu Bagdwal and Maletha ki Koo the radio-geet-natika are also relayed more than fifty times from Akashvani8-Relay from Doordarshan: The Hindi version of Rami was relayed by Delhi Doordarshan Achievements fo Jeet Singh Negi 1-He is called swar samrat. He collected many lost Garhwali folk music methodologies notes and preserved the for our future . . He also showed many Garhwali music instruments to our generation and showed that our conventional instruments are important to create Garhwali music . Jeet Singh Negi is great admirer of late kasha Anuragi the expert of dhol Sagar .2-Jeet Singh Negi is first Garhwali folk singer whose six songs were recored by His master Voice (HMV) in 1949 Cultural Activities 1942- Started cultural programs, staging dramas, and singing programs in Pauri city 1954: Worked as assistant director in Khalifa and Chaudaheen Rat (Hindustani Movies) in Mumbai 1954: He worked as Deputy Music Director in National Gramophone Company , Mumbai 1955 : First Garhwali Song Batch Singer in Akashvani Delhi 1955 ; Directed cultural program in Raghumal Arya Girls School, Delhi 1955: Lead the cultural show before Chinese Foreign delegates in Kanpur 1955-56: was connected with cultural programs of Sarswati Maha Vidyalaya Delhi 1955: Sung Garhwal land reform related progressive songs at Garhwali progressive front conference in Delhi 1956, Lead the Garhwali Cultural Team for participating in Parvteeya Lok Geet program , Delhi, inaugurated by Indian Home minister Govind Ballabh Pant 1956: Participated and sung in Buddha Jayanti program in Lansdown 1956; All India tour for organizing Garhwali musical and cultural programs in many cities 1956: Uttarapradesh lok Sahitya Sameeti Lucknow recorded those songs which were created sung and provided music by him only HMV Mumbai recorded his song (music by him) in 1956 and 1964 1957: Participated and lead the singers and Garhwali cultural team in the program of Uttar Pradesh Suchana Vibhag and Lok Sahitya samitee, Lucknow 1957: Participated in first Greesma kalin festival, Lainsdown 1960-He represented and led the Garhwali cultural team in participating in historical Viraat Sanskrit Sammelan Dehradun and later, Negi Ji on became secretary of this organization 1962-He organized and participated with zeal in Parvatiya Sanskritik Sammelan Trained the child artists for participating as Garhwali performers for collecting money for Rashtriya Surakhsa Kosh through Harijan Sevak Sangh Dehradun 1964-Organized a famous Garhwali cultural show for arijan Sevak Sangh in Shrinagar Garhwal 1966- Led the Garhwali cultural team for participating in cultural program of Garhwal Bhratri Mandal Mumbai 1970- Member of organizing body of Sharad Utsav Mussurie 1972-Led the cultural team of Dehradun for Garhwal Sabha Moradabad 1976- Trained the local Mumbai performing team for the cultural show of Garhwal Bhratri Mandal Mumbai. In Garhwali society, this is historic moment that local performers Mumbaikars came out on the stage 1979- Led the cultural team at occasion of inauguration of Door Darshan TV tower in Mussorie 1979-Particpated by staging cultural program in Central Defence Account Sahtabdi celebration , Dehradun 1979-lded the Garhwali cultural team for Sharadotsava in Mussorie 1980-Staged a Garhwali cultural show in Chandigarh for Garhwal sabha Organized piratical Kala manch Dehradun and staged four Garhwali cultural shows in that year 1982-Staged a cultural show in Chandigarh Selected secretary of piratical kala manch 1986 Presided Garhwali Kavi Sammelan Kanpur 1987 led the Garhwali cultural team for participating in Uttar Madhya Sanskrit sammelan of Government of India in Allahabad One of the organizer of cultural program in Rashtriya Drishtibadharth sans than Dehradun Garhwali Movies He wrote dialogues and song for Meri Pyari Bwai Total creation of Cithara (Video cassette ) of Rami and maletha Ki Kool Wrote song for Samaun (till now, un-exhibited ) Awards /Appreciations 1955-Raghumal Arya Kanya Pathshala 1956-Garhwal sabha , Dehradun 1956 District Magistrate Dehradun for program in Prantiya Raksha dal 1956-Parvitiya jan vikash delhi 1956 Sarswati mahavidyalaya Delhi 1957 Prashastrti patra by Bhagta Darshan (MP) and Naredndra Dev Sgashtri (MLA) 1958, Parvatiya Sanskritik sammelan Dehradun 1962 Lok Vidyalaya Chamoli awarded hi by“ Lokaral’award 1970, himalaya kala sngh awarded him for Maletha ki Kool 1979, Central Defense Account Department Dehradun awarded him for his contribution in promoting cultural program 1980-Akshvani Naziabad awarded as “Lok Sangeet Swar” 1984, Doon memoranda club Vishishtha samman 1990, Gadhratna, by garhwal Bhratri Mandal Mumbai 1995 Academy award by uttar Pradesh sangeet Academy of Uttar Pradesh government 1995, Doon Ratna by Nagrik Parishad SanshthanDehradun 1999, Meeel ka Pathar award by Uttarakhand Mahotsava Dehrdun 2000, First “ mohan Upreti lok Sanskriti Puruskar” by Almora sangh 2003, Eighteen social organizations of Dehradun facilitated him by “ samuhik Nagrik Abhnandan ” Uttaranchal government 2007, New Tihri club facilitated him on 25/5/2007 His relation with social and cultural organization Manonranjan Club Pauri Shail Suman Mumbai Himalaya kala sangam Delhi Parvtiya jan kalyan samitee Delhi Garhwal Bhratri Mandal Mumbai Himalaya Kala sangam Dehradun Parvatiya Sanskrit sammelan Sarswati mahvidyalaya Delhi Garhwal Sabha dehradun Garhwal ramleela parishad Dehradun Garhwali Sahitya mandal Delhi Uttar Pradesh Harijan Samaj Dehradun Bharat Sevak Samaj (Curtsey by Hilliwood News , Mussorie, Vars-1, edition-4th,March, 2009, pages 8-12 ) References:
 
1-Dr Anil Dabral, Garhwali Gady Parampara (Critical History Garhwali Dramas from beginning till 1990)

2-Abodh Bandhu Bahuguna, Gad Myateki Ganga (Brief History of Garhwali dramas from beginning till 1975)

3-Dr Sudharani, Garhwal ka Rangmanch (Brief History of Garhwali Dramas and Staging of dramas from beginning till 1985)

4-Drama special issue of Chitthi Patri magazine (Garhwali Dramas and plays staged in Delhi, Karachi, Mumbai, Dehradun and other places)

5- Dr Hari Datt Bhatt Shailesh, Garhwali Natak evam Rangmanch: Ek Vihngam Avlokan (History of Garhwali Dramas and theatres from beginning till 1985)

6-Dr Bhakt Darshan: Barrister Mukandi Lal Srmriti Granth (Garhwali dramatists or theatres playwrights till 1985

7-Dr Nand Kishor Dhoundiyal, Garhwal ki Divangat Vibhutiyan (pp108-116, about contribution of Bhagwati Prasad Panthri for developing Garhwali drama)

Copyright@ Bhishm Kukreti

History of Drama, History of Indian Dramas, History of Uttarakhandi Dramas, History of Garhwali Dramas, Hundred Years of Garhwali dramas to be continued…..

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
By Dinesh Dhyani 



जीत सिंह नेगी जी सिर्फ एक व्यक्ति नही एक युग का नाम है।
गढ़वाली के लोक गायक/नाटककारः जीत सिंह नेगी
दिनेश ध्यानी
जीवन वृत्त
पर्वतीय संस्कृति एवं भाषा के अनन्य उपासक श्री जीतसिंह नेगी पर्वतीय संस्कृति भाषा, लोकगीतों, लोक-गाथाओं, लोक-नृत्य, लोक-संगीत, स्वस्थ-परम्पराओं के पुर्नजीवन एवं उत्थान के लिए निरन्तर समर्पित भाव से जुटे हुए हैं स्वरचित गीतों, नृत्य-नाटिकाओं एवं गीत-नाटकों के मंचन के माध्यम से उन्होंने पर्वतीय जन-जीवन को बड़ें ही मार्मिक, सजीव एवं प्रभावी ढंग से चित्रित किया है।
विगत 56 वर्षों से गढ़वाली-गीतों की धुनों में स्वरचित सैकड़ों गीतों को अपनी मधुर व प्रेरक वाणी में गाकर यहां के जन-मानस को आल्हादित करते हुए अपनी संस्कृति की ओर आकर्षित करते आ रहे हैं। गढ़वाल के सांस्कृतिक कार्य-कलापों में उनके नेतृत्व की महत्वपूर्ण भूमिका रही है तथा गढ़वाली गीतों की धुनों को बनाने एवं सजाने-संवारने में उनकी विशिष्टता को, लोक-साहित्य समिति, उत्तर प्रदेश के तत्कालीन सचिव श्री विद्यानिवास मिश्र तथा आकाशवाणी दिल्ली के चीफ प्रोड्यूसर ;म्यूजिकद्ध ठाकुर जयदेव सिंसह ने गढ़वाली-गीतों को बनाने तथा गीत-रिकार्डिगं के लिए उन्हें आमत्रित कर मान्यता दी है। श्री नेगी के गीतों की व्यापकता और लोकप्रियता को भारतीय जनगणना सर्वेंक्षण विभाग ने भी प्रमाणित किया है। भारत सरकार के जनगणना विभाग 1961 वौल्यूम ग्ट उत्तर प्रदेश भाग टप् के ग्राम्य सर्वेंक्षण, ग्राम, थापली तहसील पौड़ी, जनपद गढ़वाल के पृष्ठ 48 पर सामयिक सर्वप्रिय लोक-गीतों में श्री नेगी के गीत जिसका विशेष उल्लेख किया गया है।:-
तू होली बीरा उंची निसी ड़ाड्यों मां घसियारी का भेष मा
खुद मां तेरी रूणूं छौउ यखुली मी परदेश मां।
प्रायः सभी महत्वपूर्ण आयोजनों के अवसर पर, यथा चीनी प्रतिनिधि-मण्डल के स्वागत में तथा तत्कालीन गृहमंत्री, भारत सरकार, स्वर्गीय पं. गोबिन्द वल्लभ पंत आदि के समक्ष श्री नेगी ही गढ़वाल की सांस्कृतिक टोलियांें का नेतृत्व करते रहे हैं, आज भी कर रहे हैं। साथ ही गढ़वाल के सांस्कृतिक पक्ष को उजागर करने में वे नेतृत्व प्रदान करते आ रहे हैं। उनके अनेक अनुयायी हैं जो उनके प्ररक मार्गदर्शन में पर्वतीय जनजीवन को चित्रित करने वाले गीत एवं नाटक लिख रहे हैं और आकाशवाणी एवं दूरदर्शन के अच्छे कलाकारों में स्थान पा रहे हैं।
1. नाम जीतसिंह नेगी
2. जन्मतिथि 2 फरवरी, 1927
ग्राम अयाल, पट्टी- पैडुलस्यूं, पौड़ी गढ़वाल
3. वर्तमान पता 108/12, धर्मपुर, देहरादून, उत्तराखण्ड
4. शिक्षा प्रारम्भिक शिक्षा-वर्मा में माध्यमिक शिक्षा
ड़ी.ए.वी हाई स्कूल पौड़ी गढ़वाल में तथा
डी.ए.वी. काॅलेज, देहरादून में
5. रचनाएं ;गढ़वाली मेंद्ध -
क. प्रकाशित
गीत गंगा गीत-संग्रह
जौंळ-मंगरी ;गीत-संग्रह
छम घंुघरू बाजला गीत-संग्रह
मलेथा की कूल ऐतिहासिक-नाटक
भारी भूल ऐतिहासिक-नाटक
ख अप्रकाशित
जीतू-बगड्वाल ऐतिहासिक-नाटक
पप राजू पोस्टमैन एकांकी
रामी गीत-नाटिका
अप्रकाशित
पतिव्रता नारी हिन्दी-नाटक
राजू पोस्टमैन एकांकी हिन्दी रूपान्तर
6. मंचन किए गए नाटकः-
भारी भूलः सन् 1952 में गढ़वाल भाृत-मण्डल बुम्बई के तत्वाधान में प्रथम बार इस गढ़वाली नाटक का सफल मंचन हुआ। मुम्बई के प्रवासी गढ़वालियों का यह सर्वप्रथम बड़ा नाटक था। तत्पश्चात 1954-55 में हिमालय कला संगम, दिल्ली के मंच से उक्त नाटक का सफल निर्देशन व मंचन किया गया। इसके अतिरिक्त विभिन्न नगरों मं जनता की भारी माॅंग पर अनेक बार इस नाटक का मंचन किया गया।
मलेथा की कूलः ऐतिहासिक पुरूष टिहरी नरेश के सेनाध्यक्ष तिब्बत विजेता, शूरमा व श्रमदानी माधोसिंह भण्डारी द्वारा मलेथा गांव की कूल के निर्माण की रोमांचक घटना पर आधारित स्वरचित मलेथा की कूल ऐतिहासिक नाटक का प्रथम बर 1970 देहरादून में निर्देशन व मंचन किया गया। 1983 में पर्वतीय कला मंच के तत्वाधान में इस नाटक के देहरादून में पांच मंचित किया गया। इस प्रकार चण्डीगढ़, दिल्ली,टिहरी गढ़वाल, मसूरी एवं मुम्बई आदि मिलाकर इस नाटक को 18 बार प्रदर्शित किया गया।
पपप जीतू बगड़वालः गढ़वाल की लोक-गाथा के प्रसिद्ध नायक बांसुरी- वादक जीतू बगड़वाल पर मधुर लोक-धुनों में गीत-नृत्य-नाटक, जीतू बगड्वाल का प्रदर्शन व मंचन पर्वतीय कला मंच के तत्वाधान में सन् 1984 में देहरादून में किया गया। सन् 1986 में देहरादून में ही इस नाटक के आठ प्रदर्शन हुए। 1987 में पुनः चण्डीगढ़ में इस नाटक के चार प्रदर्शन किए गए।
पअ पतिव्रता रामीः 1956 में पर्वतीय सेवा समाज, दिल्ली के मंच से दो बार हिन्दी में इस सामाजिक नाटक का मंचन व निर्देशन किया गया।
अ रामीः 1961 में टैगोर शताब्दी के अवसर पर इस गढ़वाली गीत-नाटिका का नरेन्द्र नगर में सफल मंचन हुआ। इस नाटिका के अब तक मुम्बई, दिल्ली, मसूरी, मेरठ, सहारनपुर आदि नगरों में सैकड़ों प्रदर्शन किए गए है।
अप राजू पोस्टमैनः गढ़वाल-सभा, चण्डीगढ़ के तत्वाधान में टैगोर थियेटर में इस हिन्दी गढ़वाली मिश्रित एकांकी का मंचन किया गया। इसके अतिरिक्त इस नाटिका का प्रदर्शन मुरादाबाद, देहरादून तथा अन्य नगरों में सात बार किया गया।
अपप आकाशवाणी से प्रसारित रचनाएंः जीतू बगड्वाल एवं मलेथा की कूल गीत-नाटकों का कई बार आकाशवाणी नजीबाबाद से प्रसारण किया गया। सन् 1954 से अब तक आकाशवाणी दिल्ली, लखनउू व नजीबाबाद से पांच-छः सौ बार गढ़वाली गीतो का प्रसारण किया गया।
अपपप दूरदर्शन दिल्ली से प्रसारित रचनाएंः रामी गीत-नाटिका का दिल्ली दूरदर्शन से पहलीबार हिन्दी रूपान्तर प्रसारण।
;पगद्ध गढ़वाली लोक-गीतोंः नृत्यों के रंगारंग कार्यक्रम राष्ट्रीय त्यौहारों, धार्मिक उत्सवों तथा विभिन्न शताब्दी समारोहों के अवसरों पर 1950 से देश के विभिन्न नगरों में प्रदर्शन।
7. उपलब्धियां
क गढ़वाली लोक-गीतों को विभिन्न लुप्त, अर्द्धलुप्त धुनों के सम्बर्द्धक, सरचियता एवं स्वर समा्रटः-
अन्य पहाड़ी-प्रदेशों की मिलती-जुलती मधुर धुनों का समावेश कर सम्बर्द्धन एवं स्वरचित उत्तराखण्ड परिवार की धुनों में अभिवृद्धि की। प्राचीन लुप्त व विस्मृत धुनों को अपनी मौलिक प्रतिभा से पुर्नजीवित किया। उमड़ते-घुमड़ते बादलों, वर्षा की रिमझिम बूंदों, झरनों, नदी-नालों को कलकल, फूलों की मुस्कान, पशु-पक्षियों का हाल-लास आदि प्रकृति के विभिन्न रूप बिम्बवत उनके गीतों में सन्निहित है। यथा मेरा मैत का देश ना बांस घुघूतीए ना बांस घुघुती घू.........
श्री नेगी के मुख से निकलेने वाले गढ़वाली लोक-गीतों के प्रत्येक शब्द में बसे मधुर स्वरों को सुनकर मनुष्य की क्या पशु-पक्षी भी अपने गंतव्य को भूल जाते हैं।
ख प्रथम गढ़वाली लोक-गीतकार जिन्हौंने गढ़वाली लोक गीतों को सर्वप्रथम हिज मास्टर व्हाइस एवं ऐजिंल न्यू रिकार्ड़िंग कम्पनी में छः गीतों को रिकार्डिं़ग की।
ग गढ़वाली लोक-गीतों द्वारा गढ़वाल के प्राचीन व आधुनिक सामाजिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक व धार्मिक आदि विचारों को वहां के जन-जीवन से जोड़कर नाटक व गीतों में पिरोकर अभिव्यक्त किया।
भविष्य की पीढ़ी के गीतकारों के लिए गढ़वाली लोक-गीतों के स्वर, ताल, लय व धुन को शोध के विषय का मार्ग प्रशस्त किया।
;ड़द्ध गढ़वाली लोक-गीतों व नाटकों द्वारा रचनाकारों को उनके जीवन-यापन से जोड़ने के लिए मार्ग-दर्शन किया। उनकी कई रचनाओं के आज चलचित्र भी बन रहे हैं।
8. अतिरिक्त सर्वोंत्तम सांस्कृतिक गतिविधियांः-
सन् 1942 में छात्र जीवन से ही गढ़वाल की राजधानी पौड़ी के नाटक-मंचों से स्वरचित गढ़वाली-गीतों के सस्वर पाठ से गायन-जीवन का शुभारम्भ। प्रारम्भ से ही आकर्षक सुरीली धुनों में लोकगीत गाकर जन-प्रियता को प्राप्ति।
सन् 1949 में यंग-इण्डिया ग्रामोफोन कम्पनी, मुम्बई से छः गढ़वाली गीतों की रिर्काड़िग, ये गीत बहुत ही प्रचलित हुए और सराहे भी गए।
सन् 1954 में, मुम्बई में ही फिल्म मूवी इण्डिया द्वारा निर्मित खलीफा चलचित्र में सहायक निर्देशन की भूमिका निभाई।
उन्ही दिनों चैहदवीं रात फिल्म जो कि मुम्बई की मून आर्ट पिक्चर ने बनाई थी, उसमें भी सहायक निर्देशक के रूप में कार्य किया।
नेशनल ग्रामोफोन रिकार्ड़िग कम्पनी मुम्बई में भी सहायक संगीत निर्देशक के पद पर कार्य किया।
1955 में दिल्ली आकाशवाणी से गढ़वाली गीतों का प्रसारण आरम्भ होने पर प्रथम बैच का गीत गायक तब से निरन्तर सक्रिय।
1955 में ही दिल्ली रघूमल आर्य कन्या पाठशाला में छात्राओं को सांस्कृतिक दिशा देने हेतु रंगारंग कार्यक्रम का निर्देशन।
1955 में कानपुर में चीनी प्रतिनिधि मण्डल के स्वागत समारोह में पर्वतीय जन-विकास समिति के तत्वाधान में संास्कृतिक दल का नेतृत्व।
1955 व 56 में सरस्वती महाविद्यालय दिल्ली के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का निर्देशन।
1955 में गढ़वाल भूमि सुधार से सम्बधिंत दिल्ली स्थित प्रवासी गढ़वालियों के वृह्द सम्मेलन में प्रगतिवादी एवं कृर्षि-उत्थान सम्बन्धी गढ़वाली गीतों द्वारा जन-जागरण में प्रमुख योगदान।
सन् 1956 में माननीय पं. गोबिन्दबल्लभ पंत, केन्द्रीय गृह-मंत्री द्वारा उद्घाटित पर्वतीय लोक-नृत्य से भरपूर सांस्कृतिक समारोह में गढ़वाल की टोली का नेतृत्व।
1956 में लैन्सीड़ौंन गढ़वाल में बुद्ध जयन्ती समारोह के अवसर पर धार्मिक प्रेरणा-प्रद गीतों का गायन कार्यक्रम में भाग लिया।
सन् 1956 में गढ़वाली लोक-गीतों की अन्य नगरों में गीत-संध्या का आयोजन करते हुए भ्रमण।
सन् 1957 में लोक साहित्य समिति, उत्तर प्रदेश के तत्कालीन सचिव श्री विद्यानिवास मिश्र द्वारा विशेष रिकार्डि़ग के लिए स्वरचित गढ़वाली लोग-गीतों के गायन का निमंत्रण, गीतों की स्वीकृति और उनकी रिकार्ड़िग।
1957 व 1964 में एच.एम.वी. एवं कोलम्बिया ग्रामोफोन कम्पनी के लिए स्वयं गाकर आठ गढ़वाली-गीतों की रिकार्डि़ग जो कि अत्यधिक प्रचलित हुए और सराहे गए।
1957 में सूचना विभाग एवं लोक-साहित्य समिति द्वारा संचालित साॅंस्कृतिक कार्यक्रम, लखनउ में गढ़वाल की ओर से पर्वतीय कार्यक्रमों की प्रस्तुति एवं गढ़वाली -भाषा कविता पाठ में सक्रिय भाग लिया।
1957 में लैन्सीड़ौन गढ़वाल में प्रथम ग्रीष्म-उत्सव में कवि-सम्मेलन एवं साॅंस्कृतिक कार्यक्रम में भाग लिया। इसी अवसर पर गढ़वाल साॅंस्कृतिक विकास समिति का सदस्य निर्वाचित।
1957 में देहरादून में आयोजित ऐतिहासिक विराट साॅंस्कृतिक सम्मेलन में गढ़वाल की लोक-गीत-नृत्य टोली का नेतृत्व। तत्पश्चात इसी संस्था का कला-सचिव निर्वाचित।
1960 में पर्वतीय साॅंस्कृतिक सम्मेलन, देहरादून के मंच से लोक-गीत एवं नृत्यों का आयोजन एवं प्रदर्शन।
1962 में पर्वतीय साॅंस्कृतिक सम्मेलन, देहरादून के मंच से लोक-गीत एवं नृत्यों का प्रदर्शन।
1963 में हरिजन सेवक संघ, देहरादून के तत्वाधान में राष्ट्रीय सुरक्षा कोष के लिए पर्वतीय बाल-कलाकारों को प्रश्क्षिित कर लोक-गीत व नृत्यों का अभूतपूर्व आयोजन। इस कार्यक्रम का उद्घोषक भी बाल-कलाकार को ही बनाया।
1964 में श्रीनगर गढ़वाल में हरिजन सेवक संघ के लिए मनोरम कार्यक्रम का निर्देशन।
1966 में गढ़वाल भ्रात-मण्डल, मुम्बई के तत्वाधान में उत्तराखण्ड के लोक-गीत व नृत्यों के कार्यक्रम में गढ़वाली साॅंस्कृतिक टोली का नेतृत्व।
1970 में मसूरी शरदोत्सव समारोह के अवसर पर शैक्षणिक एवं सांस्कृतिक संस्थाओं के रंगारंग कार्यक्रम प्रतियोगिताओं में निर्णायक।
1972 में गढ़वाल-सभा मुरादाबाद के मंच पर देहरादून की अपनी सांस्कृतिक टोली द्वारा साॅंस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तति।
1976 में गढ़वाल-भ्रातृ-मण्डल, मुम्बई के लिए वहीं के गढ़वाली कलाकारों द्वारा साॅंस्कृतिक कार्यक्रमों का निर्देशन।
1979 में मसूरी टी.वी. टावर के उद्घाटन के अवसर पर दिल्ली दूरदर्शन के लिए अपनी टोली द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का प्रस्तुतीकरण।
1979 में सेन्ट्रल डिफेन्स एकाउण्ट के शताब्दि-समारोह के अवसर पर रंगारंग कार्यक्रम की प्रस्तुति।
1980 में गढ़वाल-सभा चण्डीगढ़ के तत्वाधान में टैगोर थियेटर में सांस्कृतिक टोली का नेतृत्व एवं रंगारंग कार्यक्रमों की प्रस्तुति।
1982 में पर्वतीय कला मंच के गठन के बाद देहरादून में सांस्कृतिक कार्यक्रमों के चार प्रदर्शन तथा इसी वर्ष गढ़वाल-सभा, चण्डीगढ के मंच पर भी सांस्कृतिक कार्यक्रमों के चार प्रदर्शन।
1883 में पर्वतीय कला मंच का सचिव नियुक्त।
1986 में गढवाली समाज, कानपुर के गढ़वाली कवि-सम्मेलन की अध्यक्षता।
1987 में भारत सरकार द्वारा संचालित उत्तर मध्य सांस्कृतिक क्षेत्र द्वारा आयोजित इलाहाबाद में सम्पन्न सांस्कृतिक समारोह में पर्वतीय कला मंच की टोली का नेतृत्व।
1987 में ही दृष्टिवाध्तिार्थ राष्ट्रीय संस्थान, देहरादून में आयोजित संगीत, गायन नृत्य और नाटक की प्रतियोगिता में निर्णायक।
9. विभिन्न संस्थाओं द्वारा सम्मानित।
पद्ध रघुमल आर्य कन्या पाठशाला, दिल्ली द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए 1955 में सम्मानित।
पपद्ध गढ़वाली गीतों का प्रथम संग्रह गीत-गंगा पुस्तक अखिल गढ़वाल सभा देहरादून द्वारा 1956 में सम्मानित।
पपपद्ध प्रान्तीय रक्षा दल, देहरादून द्वारा आयोजित खेलकूद व सांस्कृतिक प्रतियोगिता के अवसर पर जिलाधीश श्री मोहम्मद बट्ट द्वारा 1956 मंे सम्मानित।
पर्वतीय जन-विकास, दिल्ली द्वारा गढ़वाली लोक-संगीत के लिए 1956 में सम्मानित।
सरस्वती महाविद्यालय, दिल्ली द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए 1956 में सम्मानित।
आचार्य नरेन्द्र देव शास्त्री विधायक व सांसद माननीय श्री भक्तदर्शन द्वारा 1957 में प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित।
पर्वतीय सांस्कृतिक सम्मेलन, देहरादून द्वारा गणतंत्र दिवस के अवसर पर लोकगीतों के रंगारंग कार्यक्रमों के लिए 1958 में सम्मानित।
लोक-विद्यालय की ओर से साहित्य-सम्मेलन, चमोली द्वारा 1962 में लोकरत्न उपाधि से सम्मानित।
मलेथा की कूल नाटक के सफल मंचन हेतु हिमालय कला संगम, देहरादून द्वारा 1970 में सम्मानित।
ड़िफेंस एकाउन्टस रिक्रेशन क्लब सी.ड़ी.ए. देहरादून द्वारा 1979 में सम्मानित।
लोक-संगीत-स्वर परीक्षा में उत्तीर्ण होने पर आकाशवाणी, नजीबावाद द्वारा 1980 में प्रशस्ति पत्र।
15 अगस्त 1984 को स्वतंत्रता-दिवस के अवसर पर दून मनोरजन क्लब की ओर से जिलाधीश श्री आशुतोष चतुर्वेदी द्वारा सम्मानित।
10. विभिन्न संस्थाओं द्वारा सम्मानित क्रमशः।
गपपप गढवाली लोक-गीत, संगीत एवं रंगकर्म के क्षेत्र में विशिष्ठ योगदान के लिए गढ़वाल भ्रातृ मंड़ल मुम्बई द्वारा गढ़-रत्न उपाधि से सम्मानित 1990 में।
अग उत्तर-प्रदेश संगीत नाटक अकादमी द्वारा लोक गीत एवं रंगकर्म के क्षेत्र में विशिष्ठ योगदान के लिए 27/3/1995 में सम्मानित।
नागरिक परिषद देहरादून द्वारा 1995 में गढ़रत्न से सम्मानित।
गढ़वाल भ्रातृ मण्डल क्लमेंट टाउन क्षेत्र देहरादून द्वारा 1995 में गढ़रत्न अलंकार से सम्मानित।
उत्तराखण्ड भ्रात1 मण्डल सोलन द्वारा 1997 में सम्मानित।
अखिल गढ़वाल सभा देहरादून द्वारा उत्तराखण्ड महोत्सव-1999 में सम्मानित।
उत्तराखण्ड के लोकनृत्य/लोकगीत, टैगोर थियेटर, चण्डीगढ़ उत्तराखण्ड युवामंच द्वारा 7/2/1999 में सम्मानित।
संगीत नाटक अकादमी उत्तर प्रदेश द्वारा आयोजित निर्बल वर्गजन कल्याण समिति , गढ़वाल मण्डल द्वारा 16/4/1995 में सम्मानित।
अखिल भारतीय उत्तराखण्ड एकादमी दिल्ली द्वारा प्रशस्ति-प्रमाण पत्र से सम्मानित 7/5/1995 मे।
हिमालय सामाजिक व सांस्कृतिक संस्था देहरादून द्वारा 6/1/1996 में अभिनन्दन पत्र से सम्मानित।
गढ़वाली साहित्य परिषद कानपुर द्वारा पं. आदित्यराम नवानी, गढ़वाली भाषा प्रोत्साहन पुरस्कार से 1988 में सम्मानित।
गढ़वाली भ्रातृ मण्डल और्डनेन्स फैक्टरी स्टेशन रायपुर देहरादून द्वारा अभिनन्दन पत्र से 13/4/199 को सम्मानित।
नन्दादेवी कलासंगम द्वारा सुमन-स्मृति सम्मान - 1994
एग्रीरियनस फील्ड एवं फाॅरेस्ट लिमिटेड़ द्वारा उत्तराखण्ड सम्मान से 1994 में सम्मानित।
मैत्री सांस्कृतिक कला संगम देहरादून द्वारा सम्मानित 1994 में।
अखिल गढ़वाल सभा, देहरादून द्वारा उत्तरायण महोत्सव 1994 में सम्मानित।
11.राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय सांस्कृतिक संस्थाओं से सम्बद्ध।
मनोरंजन क्लब, पौड़ी गढ़वाल।
हिमालय कला संगम, दिल्ली।
पर्वतीय जन-कल्याण समिति दिल्ली।
गढ़वाल भ्रातृ-मण्डल, मुम्बई।
हिमालय कला संगम, देहरादून।
पर्वतीय सांस्कृतिक सम्मेलन, देहरादून।
पर्वतीय कला मंच, देहरादून।
सरस्वती महाविद्यालय, दिल्ली।
शैल-सुमन, मुम्बई।
अखिल गढ़वाल सभा, देहरादून।
गढ़वाल रामलीला परिषद, देहरादून।
गढ़वाल साहित्य मण्डल, दिल्ली।
उत्तर-प्रदेश हरिजन सेवक समाज, देहरादून।
भारत सेवक समाज, देहरादून।
नागजुण्डा नागराजा अयाल का थाल, ये गुठयार,
चामुण्डा मादेव, वख, बल्द जुंटा धार।।
मेरू वोल्यूं औल्यंू कू स्वाद सूण जरा बस।
रौंत्यलु गुठयार म्यारू, हाथु देदे हाथ।
संयोजकः- गढवाळी के वरिंष्ठ कवि श्री रघुवीर सिंह रावत अयाळ
प्रस्तुतिः- दिनेश ध्यानी

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22