Author Topic: रूपकुंड (कंकाल झील) की सुन्दर तस्वीरें,Photo Gallery Roopkund Uttrakhand  (Read 12648 times)

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
कंकाल झील के नाम से प्रसिद्ध रूपकुंड, हिमालय की गोद में स्थित एक मनोहारी और खूबसूरत पर्यटन स्थल है, यह हिमालय की दो चोटियों के तल के पास स्थित है:  त्रिशूल (7120 मीटर) और नंदघुंगटी (6310 मीटर). बेदनी बग्याल की अल्पाइन तृणभूमि पर प्रत्येक पतझड़ में एक धार्मिक त्योहार आयोजित किया जाता है जिसमें आसपास के गांवों के लोग शामिल होते हैं.

 
  नंदा देवी राज जाट का उत्सव, रूपकुंड में बड़े पैमाने पर प्रत्येक बारह वर्ष में एक बार मनाया जाता है. कंकाल झील वर्ष के ज्यादातर समय बर्फ से ढकी हुई रहती है. हालांकि, रूपकुंड की यात्रा एक सुखद अनुभव है. पूरे रास्ते भर, व्यक्ति अपने चारों ओर से पर्वत श्रृंखलाओं से घिरा हुआ होता है.

यात्री के लिए रूपकुंड जाने के कई रास्ते हैं. आम तौर पर, ट्रेकर और रोमांच प्रेमी सड़क मार्ग से लोहाजुंग या वान की यात्रा करते हैं. वहां से, वे वान में एक पहाड़ी पर चढ़ते है और रन की धर पहुंचते हैं. वहां कुछ समतल क्षेत्र है जहां ट्रेकर रात को शिविर लगा सकते हैं. अगर आसमान साफ हो, तो व्यक्ति बेदनी बग्याल और त्रिशूल देख सकता हैं.

अगला शिविर स्थान है बेदनी बग्याल, जो वान 12-13 किमी दूर है पर है. वहां खच्चरों, घोड़ो और भेड़ो के लिए एक विशाल चरागाह है. वहां दो मंदिर और एक छोटी झील है जो उस जगह की खूबसूरती को बढ़ाता है. व्यक्ति बेदनी बग्याल पुल से हिमालय की कई चोटियों को देख सकता हैं. इसके बाद ट्रेकर भागुवाबासा तक पहुंचता है, जो बेदनी बग्याल से 10-11 किमी दूर है. भागुवाबासा का जलवायु वर्ष के अधिकांश समय प्रतिकूल रहता है.
व्यक्ति को त्रिशूल और 5000 मीटर से अधिक ऊंची अन्य चोटियों को करीब से देखने का अवसर मिलता है. आसपास के पहाड़ों की गहरी ढलानों पर कई झरने और भूस्खलन देखने को मिलते हैं. भागुवाबासा से, ट्रेकर या तो रूपकुंड जाकर वापस आते हैं


या वे जुनारगली कर्नल पास,जो झील के थोड़ी ही ऊपर है, से होते हुए शिल समुन्द्र (पत्थरों का महासागर) जाते हैं, और फिर वे होमकुंड तक ट्रेक के द्वारा आगे बढ़ते हैं.और यहाँ आप देखेंगे इस कंकाल झील की कुछ तस्वीरें !!!!!!!




http://www.merapahadforum.com/tourism-places-of-uttarakhand/roopkund-unsolved-mystery/

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
त्तराखण्ड का हिमालयी क्षेत्र अपने आप में कई रहस्यों तथा चमत्कारों से भरा पड़ा है। इन्हीं में से एक रहस्यमयी झील जिसे `रूपकुण्ड´ कहा जाता है इसी हिमालय की पर्वत श्रृंखला त्रिशूल तथा नन्दाघाटी के नीचे स्थित है। समुद्रतल से इसकी ऊंचाई लगभग 16499 फीट है।
यह स्थान चमोली जनपद के देवाल क्षेत्र में आता है। यह वही पवित्र स्थान है जहां हर बारह साल में नन्दा देवी राजजात की यात्रा का यह अंतिम पड़ाव है यहां के बाद यह कहा जाता है कि सीधे स्वर्ग का मार्ग जाता है।

  एक कहावत यह भी है कि यहां से ही भगवान शिव पार्वती को कैलाश की ओर ले गए थे। जब रास्ते में पार्वती को प्यास लगी तो भगवान शिव ने अपने त्रिशूल से इस पर्वत पर एक झील बना डाली थी जिसका पानी पीकर पार्वती ने अपनी प्यास तो बुझाई थी वही इस झील में अपने प्रतिविंब को देखकर पार्वती ने इसे ही रूपकुण्ड का नाम दिया था।


http://aviewfromhimalaya.wordpress.com

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22