Recent Posts

Pages: [1] 2 3 4 5 ... 10
1

   आइस क्रीम, कुल्फी  की फोटोग्राफी  का कुछ नियम व सावधानियां

फ़ूड  फोटोग्राफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग पर कुछ   ध्यान दीण  लैक बथ
 प्रभावशाली फ़ूड फोटोग्रॉफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग , भाग - ६
 Food  Styling for  Effective  Food Photography part - 6
जसपुर तैं  छायाचित्रों द्वारा प्रसिद्धि दिलाण वळ  फोटोग्राफर श्री चंद्र मोहन जखमोला तैं  समर्पित
-
  भीष्म कुकरेती
-
  दिखे जाव त  सबि  भोजनुं  फोटो लीण  कठिन ही हूंद किलैकि  फोटो लीण  अर  स्टाइलिंग तरीका से फोटो तै आकर्षक बणान सरल त  नई च।  इनमा आइस क्रीम फोटोग्राफी फोटोग्राफरों वास्ता एक दिवा स्वप्न ही सिद्ध हूंद।  तो प्रत्येक फोटोग्राफर तै निम्न कुछ नियमुं  पर ध्यान दीण  आवश्यक च -
१- आइस क्रीम फोटो ग्रैफी म उद्देश्य का प्रति  उत्तरदायी हूण  आवश्यक - पैल  यू  द्याखो  कि आइस क्रीमै  फोटो कैकुण लीणा  छ अर फोटो मकसद क्या चजनकि  ब्रैंडिंगौ कुण , मैगज़ीन कुण  या सोशल मीडिया कुण।  ये ही हिसाब से रचनात्मक कार्य हूण  चयेंद। .  .
२-  यदि कॉमर्शियल का वास्ता फोटोग्राफी च तो असली आइस क्रीम की फोटो खैंचो।
३- प्रत्येक बातों प्रबंध पैलि  हूण  चएंद  अर  हर दृश्य व शॉट क पैलि  विशेषण हूण  चयेंद।
४-  स्टैंड प्रयोग - चाए फोटो सोशल मीडिया कुण  हो या कॉमर्शियल सबि जगा स्टैंड प्रयोग आवश्यक च। 
५- नकली आइस क्रीम कु  प्रयोग - भौत सा जगा नकली आइस क्रीम बणान बि  आवश्यक हूंद जनकि  उबाळयूं , मिंडयूं अल्लू तै आइस क्रीम की जगा प्रयोग।
६- मानवीय तत्व - आइस क्रीम फोटोग्राफी म मानवीय तत्वों जुड़न भौत आवश्यक च।  जनकि हथुंन आइस क्रीम पकड़न आदि आदि।
७- आइस क्रीम म  लाळ  चुवाण  वळ टॉपलिंग आकर्षक हूण  चयेंद।
८- प्रॉपर्टीज से फोटो खिंचणम कथा हूण  चयेंद।
९- फोटोग्राफी जटिल ना अपितु सरल हूण चयेंद।
१०- रचनाधर्मिताक  वास्ता   परम्परा तुड़ण  आवश्यक च। 
११ - हर समय तापमान पर ध्यान रौण  चयेंद।
१२ - फोटो म एकी  स्टालिंग की   हूण  चयेंद
१३-  सही उपकरणुं  प्रयोग
१४- आइस  क्रीम फोटोग्राफी म गति व दक्षता आवश्यक हूंद।
 यद्यपि आइस क्रीम की फोटो लीण  कठिन च किन्तु दृढ संकल्प व बार बार पर्यटन आवश्यक च।   

 सर्वाधिकार @ भीष्म कुकरेती

 Food styling and Food Photography;  फ़ूड स्टाइलिंग और फ़ूड फोटोग्राफी , फ़ूड फोटोग्राफी हेतु फ़ूड स्टाइलिंग आवश्यकता; क्या उत्तराखंडी भोजन को भी फ़ूड स्टाइलिंग की आवश्यकता पडती है ?  Food  Styling for  Effective  Food Photography, आइस क्रीम फोटोग्राफी हेतु सावधानियां ;

2

बंगाल स्वीट्स : बंगाल  कु  मिठाई  पाक विधि पर दुसर ग्रंथ


ब्रिटिश कालम  पाक शास्त्र  ग्रंथ  - ५
  Cookbooks in British Period in India
-
   भीष्म कुकरेती 
-
ईस्ट इण्डिया कम्पनी कु  हेड ओफिस कोलकत्ता हूण से इ  ना पुर्तगालिओं  व्यापार केंद्र हूण  से  उख  अंग्रेजी भाषा शिक्षा  भौत अधिक राय तो लिखवार , सुधारक पैदा ह्वेन।  भारतीयों मध्य बनि बनि  विषयों म ग्रंथ  , प्रकाशन कु  रिवाज बि बंगाल म हौर  क्षेत्रों से ज्यादा इ राई।  इनि  जख भारतम अन्य क्षेत्रों म  गुजरात छोड़ि  (पारसी बि  अंग्रेजी पढ़न म अग्नै  रैन  अर  अंग्रेजियत का क्रींबी ह्वेन ) रसोई विज्ञान म ब्रिटिश काल म बंगाल न पहल करी। 
बिप्रोदास मुखोपध्याय कु  बंगला भाषा म मिष्टान पाक 1904  म प्रकाशित ह्वे  त  एक दूसर एडीसन  १९१४ म प्रकाशित ह्वे  जु  संकेत दींद कि  बंगला पाठकों म बंगाली भोजन पकाणू प्रति रूचि छे। 192 1 म श्रीमती जे.  हलदर की अँगरेकी म 'ग्रंथ प्रकाशित ह्वे  जैक १९४८ म पाँचों संस्करण  प्रकाशित ह्वे।  पैलो संस्करण चक्रवर्ती  चटर्जी & कम्पनी लिमिटेड न छाप।  ग्रंथ बड़ो प्रसिद्ध ह्वे अर दुसर  संस्करण  १९२६ म छप।  अर्थात बंगाली समाज म पुस्तक प्रेम बिंदी छौ अर संस्कृति प्रेम बि।  यांसे  पैल  मिसेज जे. हलदर ' द स्टेसमैन' म हर ऐतवारो  कुण  'नोट्स ऐंड क्वेरीज ' स्तम्भ म  भारत से पाठकों अयां  प्रश्नों उत्तर दींदी छे ।  'बंगाल स्वीट्स' म निम्न अध्याय छया -
१- द  रोमांस ऑफ बंगाली स्वीट्स
२- द कौन्फेक्सनरी ऑफ़ बंगाल
३- कॉमर्सियल पॉसिबिलिटीज ऑफ़ बंगाल स्वीट्स
४- यूटेंसिल्स
५- इनग्रेडियंट्स
६- ओप्रेसन्स
७- मिल्क  ऐंड इतस प्रोडक्ट्स
८- सूगर  ऐंड  सिरप
९- रेसिपीज़
१०- रेसिपीज लूची etc
११- रेसिपीज - साल्ट प्रोडक्ट्स
१२- रेसिपीज - मोहनभोग ऐंड बरशा
१३- रेसिपीज - कोकोनट कंजर्वज
१४- रेसिपीज - मिठाइज
१५- रेसिपीज - पंटोहा etc
१६- रेसिपीज -रसगोल्ला etc
१७- रेसिपीज - संदेश 
१८- रेसिपीज - खोया ऐंड मिल्क प्रीपेरेसन्स
१९- रेसिपीज - मिसलेनियस
२० -प्रिजर्वेसन  ऑफ़ स्वीट्स
रोमांस ऑफ़ बंगाली स्वीट्स म मिसेज जे. हलदरन  बंगाल संस्कृति म मिठाई महत्व व बंगाल म कख मिठाई बजार /प्रोडक्शन केंद्र छन। 
मिसेज हलदर का अनुसार मिठाई द्वी परकारा होंदन - दूध से बणीं  मिठै  (मोंडा )   अर  बगैर दूध से  अर  बेसन व अन्य  ऑटो या दालों से बणी मिठै  ।
पाक को  यूनिवर्सल /सार्वभौमिक अर्थ हूंद बल गरमी /आग से गाढ़ो करण।
श्रीमती हलदरन  छुटि  से छुटि  बातों पर ध्यान दे  अर  आज बि  या ुस्तक रेसिपीज लिखणो  एक उदाहरण प्रस्तुत करदी , देहरादून सरीखा स्थलों म बंगाली स्वीट्स शॉप हूणो पैथर बिप्रोदास मुखोपाध्याय व श्रीमती जे हलदर  को हाथ  च जॉन  तब अपण  ुस्तक तब अंत्तराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध कार।  मिसेज हलदर  की पुस्तक इ  ना बल्कण  म  ब्रिटेन म बि  बिक।


 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;  बंगाल में  पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; बंगाल में मिठाई पाक शास्त्र ग्रंथ इतिहास ; Cookbooks in British Period in India  history ;  श्रृंखला जारी रहेगी

3
 
        उत्तराखंडौ  पारम्परिक  आयुर्वेदिक  पिंडालु /अरबी क  गुंडळ /पत्यूड़   पकाणो  विधि  [/b][/size]
-

उत्तराखंड का पारम्परिक  आयुर्वेदिक  पिंडालु /अरबी के गुंडळ /पत्रावेल/पत्यूड़    पकाने की पाक विधि

  Recipe of  Uttarakhand, Ayurvedic Traditional Recipe of Gundal  from  Elephant Ear Leaves
 आयुर्वेदीय  उत्तराखंडी  पारपम्परिक भोजन व्यंजन विधि /पाक विधि/ पाक कला  श्रृंखला  भाग - 
Recipe of Ayurvedic Traditional Food of   Garhwal, Kumaon (Uttarakhand)part- 29
-
संकलन - गढ़वाली भुला  यमकेश्वर
-
अरबी यानि पापड़ / पिँडाळू क पत्तोँ क पत्यूड़ (गुँडळ) बणाण की विधि :-
 सामग्री अरबी क पत्ता मध्यम आकार क 12,
 बेसन -400 ग्राम
 नमक-
 मिर्च मशाला स्वाद अनुसार।
तड़का कुण   राई  तेल -50 ग्राम
 जख्या द्वी चम्मच।
सबसे पैली बेसन माँद मिर्च मशाला, हल्दी डाली कन बाकलू (गाढा) पेस्ट बणै एक अरबीका  पत्ता पर पेस्ट लगावा फिर दूसरू पत्ता फिर लेप, फिर तिसरू पत्ता फिर लेप अर फिर रोल बणै क धागा लपेटी द्याओ। यन्नी बारह पत्तो से चार रोल बणै क कढाई माँद द्वी गिलास पाणी डाळी क तीन चार पतली टहनी रखी क ताकि गुँडल पर पाणि ना लगो बस भाप माँद धीमी आँच माँद आधा घँटा पकै द्यावा। ठण्डु होण क बाद मध्यम आकार क काटी कन तेल गरम करी क जख्या क तड़का लगै क चाय क दगड़ परोसो। सारी विधि चित्रोँ से भी पता चली जाली। यू च ढाँगू, उदयपुर (यमकेश्वर) के फेमस गुँडळ की रस्याँण। गुँडळ हिमाचल, नेपाल, आसाम आदि जगह भी बणदन। बेसन की जगा कखी मुँगरी कू आटू त कखी उड़द की दाल भिगै पीसि कन लेप बणदू
 
-
Copyright @  Garhwali  Bhula  2021
उत्तरखंड  का  आयुर्वैदिक पारम्परिक भोजन  पका कला , Recipe for Ayurvedic  Traditional Cuisine  of    Uttarakhand    , गढ़वाल  का आयुर्वेदिक   पारम्परिक पाक कला, कुमाऊं  का   आयुर्वेदीय पारम्परिक भोजन  पाक कला निरंतर ; Traditional Recipe of Gundal by  Elephant Ear Leaves from Uttarakhand;

4
 
   उत्तराखंड का पारम्परिक  आयुर्वेदिक  आलू पराठा , कस्टर्ड , हरी चटनी    पकाने की पाक विधि

  Recipe of  Uttrakhand, Ayurvedic Traditional Recipe of Alu Paratha, Custard, Chutney
 आयुर्वेदीय  उत्तराखंडी  पारपम्परिक भोजन व्यंजन विधि /पाक विधि/ पाक कला  श्रृंखला  भाग - २८   
Recipe of Ayurvedic Traditional Food of   Garhwal, Kumaon (Uttarakhand)part- 28
-
संकलन -  उषा बिजल्वाण
-
आलू का पराठां,कस्टर्ड और हरी चटणी।
-
४ लोगो का वास्ता।
 समय- आधा घंटा ।
सामग्री- आलू ३ बडा़ उबल्यां
 हरी मिर्च ६
प्याज़ १ बड़ु बरीक कट्यूं।
आटा २५० ग्राम।
   तेल २ चम्मच।
२ चुटकी अजवाइन।
नमक स्वाद अनुसार।
कस्टर्ड ३ चम्मच।
दूध आधा लीटर।।
चीनी ४ बडा़ चम्मच
धनिया हरू आधा गुच्छी।
पुदीना आधा गुच्छी।
कसूरी मेथी आधा चम्मच
जीरा पाउडर आधा चम्मच
चाट मसाला आधा चम्मच
 काळो लूण आधा चम्मच
नीम्बू १।  ------------परांठा पकाणै विधी- आटे में दो चुटकी अजवाइन दो चुटकी कसूरी मेथी दो चम्मच तेल डाल कर अच्छे से मिलौण का बाद धीरे-धीरे पानी डाली गूंदा आटु सख्त ही रखण। भरावन तैं - आलू दे अच्छा सा मैस करीक वै मा प्याज़, कसूरी मेथी और धनिया थोड़ा सा जीरा पाउडर आधा चम्मच लूण , एक चम्मच लाल मिर्च पाउडर आधा चम्मच चाट मसाला वाला चम्मच अजवाइन आधा चम्मच बारीक कटी हरी मिर्च दुई डाळिक अच्छी तरां से  मिलौण आटा   लोई लीतैं लगभग २ चम्मच मसेटू भरीक चौड़ी रोटी बणोण और गरम तवा म खूब अच्छा सा सेकण तब दुया तरफ बटी तेल लगैक करारा बणोण ल्या तैयार छ आलु का पराठां।
------ कस्टर्ड पकाणै विधी- आधा लीटर दूध तै कै पतीला पर उबाळ  रख द्या जब उबाळ  ऐ जालू तब वैम ठंडा पाणी म घोलीक कस्टर्ड डाल द्या आच्छा सा पकौण का बाद चीनी डाळ  द्या थोड़ी देर और पकौण का बाद गैस बन्द कर द्या कस्टर्ड तैयार अब वैम जतना मरजी फल डाल द्या
--------चटणी बणाणै विधि - धनिया और पुदीना तैं बारीक काटीक वैम हरी मिर्च काळो लूण जीरा पाउडर लहसुन अदरक नींबू चीनी डालीक मिक्सी मा बारीक पीस ल्या चटणी भी तैयार
-
Copyright @   Usha  Bijlwan  2021
उत्तरखंड  का  आयुर्वैदिक पारम्परिक भोजन  पका कला , Recipe for Ayurvedic  Traditional Cuisine  of    Uttarakhand    , गढ़वाल  का आयुर्वेदिक   पारम्परिक पाक कला, कुमाऊं  का   आयुर्वेदीय पारम्परिक भोजन  पाक कला निरंतर ; देहरदून की आलू पराठा , कस्टर्ड , हरी चटनी    पकाने की पाक विधि , टिहरी गढ़वाल की  आलू पराठा , कस्टर्ड , हरी चटनी    पकाने की पाक विधि
5

  उत्तराखंड का पारम्परिक  आयुर्वेदिक   भंग जीरा चटनी बनाने की विधि 

  Recipe of  Uttrakhand, Ayurvedic Traditional Recipe of  Bhangjeera  Chutney
 आयुर्वेदीय  उत्तराखंडी  पारपम्परिक भोजन व्यंजन विधि /पाक विधि/ पाक कला  श्रृंखला  भाग -  २७
Recipe of Ayurvedic Traditional Food of   Garhwal, Kumaon (Uttarakhand)part- २७
-
संकलन -   सरोज शर्मा, सहारनपुर

भंग जीरा की चटनी बनाने की विधि ,
सामग्री -
तीन चमच भंग जीरा 5 कली लहसुन, एक चम्मच मूँगफली के दाने भुने हुए, हरि लाल मिर्च 2,लाल साबुत मिर्च 3,
नमक स्वादानुसार,
थोड़ी सी चुटकी भर चीनी
और एक निम्बू सबसे बाद में रस निचोड़ने हेतु
नीम्बू छोड़ उपरोक्त सब सामग्रियों को एक साथ मिक्सर ग्राइंडर में या सिलबट्टे में पीस लें। इस लटपटी पदार्थ में नीम्बू निचोड़ें। तैयार हो गई आयुर्वैदिक चटनी तैयार, पराठे या रोटी या अन्य भोजन के साथ खायें।
-
Copyright @   Saroj  Sharma 2021
उत्तरखंड  का  आयुर्वैदिक पारम्परिक भोजन  पका कला , Recipe for Ayurvedic  Traditional Cuisine  of    Uttarakhand    , गढ़वाल  का आयुर्वेदिक   पारम्परिक पाक कला, कुमाऊं  का   आयुर्वेदीय पारम्परिक भोजन  पाक कला निरंतर ;चौंदकोट गढ़वाल से भंगजीरा चटनी बनाने की विधि   ;  देहरादून से   भंगजीरा चटनी बनाने की विधि

6
     

    उत्तराखंडी पारम्परिक  आयुर्वेदिक लुटपुटि  पनीर भुज्जी    पकाणै   पाक विधि /सगोर
-
 उत्तराखंडी पारम्परिक  आयुर्वेदिक लुटपुटि  पनीर भुज्जी    पकाने    की पाक विधि
  Recipe of  Uttarakhand, Ayurvedic Traditional Recipe of Paneer Bhujji
 आयुर्वेदीय  उत्तराखंडी  पारपम्परिक भोजन व्यंजन विधि /पाक विधि/ पाक कला  श्रृंखला  भाग - २६ 
Recipe of Ayurvedic Traditional Food  of   Garhwal, Kumaon (Uttarakhand)part- 26 
-
संकलन -  प्रेमलता सजवाण
-
पनीर भुज्जी पकाणो समान -
पनीर -१/२ किलो
तेल
कसूरी मेथी
कट्यां प्याज - १/४ किलो
ल्यासण -आदु - ब्रेक पिस्युं या पेस्ट
हल्दी चूरा
मर्च चूरा
धणिया चूरा
४, ५ टमाटर पिस्यां
पोदीना पत्ता
बणाणे सगोर/ पाक विधि /रेसिपी ---
दगड्यो अधा किलो पनीर थै बड़ा बड़ा टुकड़ो मा काटि दीण।
तेल म हल्कु भूरू रंग आण तक तैलि दीण।
अब कढै़ म छौंक जुगा तेल गरम कैरि वैमा जीरा अर कसूरी मेथी कु छौंक लगाण। फिर एक पाव बरीक कट्यां प्याज भून दिणि । फिर लसुण, आदु थै बरीक पीसि कि भूनि दीण। अर अपर पसंद का मसला( लूण,हल्दु,मर्च,धणिया पौडर,देगी मर्च) डालि भुन्याण आण तक भूनि दीण।फिर चार पाँच बरीक पिस्यां टमाटर डालि ऊंथे भी भूनि दीण।जरसि पाणि डालि लटपटु मसला बणै वैमा पनीर डालि कि रलौ मिलै दीण। एक प्लेट म सजै कि मथि भटै पुदीना पत्तों ल सजै भि दीण।

-
Copyright @  Premlata  Sajwan  , Dehradun  2021
उत्तरखंड  का  आयुर्वैदिक पारम्परिक भोजन  पका कला , Recipe for Ayurvedic  Traditional Cuisine  of    Uttarakhand    , गढ़वाल  का आयुर्वेदिक   पारम्परिक पाक कला, कुमाऊं  का   आयुर्वेदीय पारम्परिक भोजन  पाक कला निरंतर ; हरिद्वार की परम्परागत  पनीर भुज्जी रेसिपी , देहरादून की पारम्परिक    पनीर भुज्जी रेसिपी

7


 
   
    क्या आप फ़ूड फोटोग्राफी में फूड   स्टाइलिंग  पर ध्यान देते हो ?
-
 क्या तुम  फूड   फोटोग्राफी म फूड स्टाइलिंग पर ध्यान दींद  छा ?

फ़ूड  फोटोग्राफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग पर कुछ   ध्यान दीण  लैक बथ
 फ़ूड फोटोग्रॉफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग , भाग - ५
जसपुर तैं  छायाचित्रों द्वारा प्रसिद्धि दिलाण वळ  फोटोग्राफर श्री चंद्र मोहन जखमोला तैं  समर्पित
-
   भीष्म कुकरेती 
-
फ़ूड फोटोग्राफी म फ़ूड फोटो वास्तव म   चित्रांकित भोजन की एक अभिव्यक्ति च अर फोटो ही अब कुछ बुलण म सक्षम हूण  चयेंद।  यांकण फोटो लीण  से पैल  फ़ूड की सजावट पर भौत व एकाग्रता से ध्यान दीण  जरूरी च।  फ़ूड सजावट यानी  फ़ूड फोटोग्राफी वास्ता फ़ूड स्टाइलिंग।  फ़ूड  फोटोग्राफी हेतु स्टाइलिंग म निम्न  १० बथुं  पर ध्यान दीण जरूरी च -
१- फोटोग्राफी कुण कम फ़ूड उपयोग कारो - प्लेट म भीड़ युक्त भोजन कम आकर्षित करद तो प्लेट म कम से कम भोजन रखि फ्तो खैंचो।
२- प्लेट का ंथी पेपर धरी बनावट म आकर्षण लाओ - प्लेट क मथि पार्चमेंट पेपर या बेकिंग पेपर से प्लेट दर्शनीय ह्वे जांद।
३- नेपथ्य म कॉन्ट्रास्ट लाओ - उन  त सफेद रंग आकर्षण लांदो पर नेपथ्य म कॉन्ट्रास्ट रंग हो तोआकर्षण बढ़ जांद।
४- थुड़ा  सि  भोजन तै  प्राकृतिक रूपम खतेण द्यावो - यदि भोजन प्राकृतिक रूप से थुड़ा सि  प्राकृतिक ढंग से खत्युं हो तो  फोटोम आकर्षण आंद।
५- सरल बनावट वल प्लेट या क्रॉकरी भली हूंद - यद्यपि कलायुक्त क्रॉकरी (प्लेट , कप थाली आदि ) भली लगदन किन्तु फोटो म कलेक्ट क्रॉकरी  फूड कु  आकर्षण छीन लीन्दन।
६- खाणा  प्राकृतिक रूप ही भल हूंद -जख  तक  ह्वे साको  फोटो खैंचद  दैं खाणा प्राकृतिक रंग रुप  ही रण द्यावो।
७- पाक विधि बि  दिखावो -  पाक विधि बि  दिखावो जख तक ह्वे  साको। 
८- स्वाद वळ  पक्ष उभारो - फोटो लींद  दैं स्वाद पक्ष तै उभारो जन आइस क्रीम क्रीमीनेस  अर  चटण  कु पक्ष दिखाए जांद। 
९- कुछ  रचनात्मक विचार व कथा फोटो म लाओ। 
१० - खाओ अर  तब बच्युं  खाणा की फोटो खैंचो किलैकि अधा खयूं  भोजन अधिक आकर्षित हूंद। 
११- कुछ भोजन की ऊँचाई पर ध्यान आवश्यक हूंद जन आइस क्रीम अर बिस्किट्स या सलाद या  भात , झंगोरा की की डळी  या  ढेर।   
१२- फूड  गार्निशिंग की उपेक्षा कतई नि   हूण  चयेंद जन धणिया पत्ता या रायता म लाल मर्च क बूरा आदि। 
 

 सर्वाधिकार @ भीष्म कुकरेती

 Food styling and Food Photography; फूड   स्टाइलिंग और फ़ूड फोटोग्राफी , फ़ूड फोटोग्राफी हेतु फ़ूड स्टाइलिंग आवश्यकता, फूड फोटोग्राफी में फ़ूड स्टाइलिंग के कुछ गुर , फ़ूड स्टाइलिंग के गुर

8

उत्तराखंड में टूरिस्ट लिजी तैयार पनीर विद सौते वेजिटेबल्स
-
  पारम्परिक  आयुर्वेदिक  पनीर विद  सौते विजिटबल्स  पकाने की पाक विधि

  Recipe of Ayurvedic Traditional Recipe of Paneer with Saute Vegetables
 आयुर्वेदीय  पारपम्परिक भोजन व्यंजन विधि /पाक विधि/ पाक कला  श्रृंखला  भाग - २५
Recipe of Ayurvedic Traditional Food fo  Garhwal, Kumaon (Uttarakhand)part- 25
-
संकलन - सुमिता प्रवीण 
-
उत्तराखंड में टूरिस्ट लिजी तैयार पनीर विद सौते वेजिटेबल्स
-
चार जणने लिजी
सामाग्री
पनीर 200 ग्राम
फ्रेंचबीन्स 100 ग्राम
शिमला मिर्च ( हरीं, पिंगई, लाल जे उपलब्ध हवो)
ब्रोकली एक
गाजर 200 ग्राम।
प्याज़ एक ठुल
मशरूम हौर अन्य जे ले सब्जी उपलब्ध हवो।। सबुन कें क्यूब आकारक काट ल्यो किलेकि सुंदर दिखीन चैनी टुकुड़ एक बराबर।
मसाल( हल्द, लूंण, 4 चम्मच दै, अदरक लसणक पेस्ट,कसूरी मेथी) सब साग व पनीर दगड़ हल्क हाथेल मिस ल्यो हौर 4 घण्ट लिजी मेरीनेट करणे लिजी छोड़ दिया। अब नॉनस्टिक में रिफाइंड ऑइल डाल भेर सेंक ल्यो।जादा तेल झन खितया। हल्क हाथेल उल्टी पल्टी करते रया। प्लेट में सजाभेर मथोल बिटी काय मिर्च बुरका दियो। सॉस दगड़ परसिया।

-
Copyright @ Sumita Pravin, Mumbai 2021
उत्तरखंड पर्यटन विकास  हेतु   आयुर्वैदिक पारम्परिक भोजन  पका कला , Recipe for Ayurvedic  Traditional Cuisine  for   Uttarakhand Tourism   , गढ़वाल पर्यटन हेतु आयुर्वेदिक   पारम्परिक पाक कला, कुमाऊं पर्यटन विकास हेतु   आयुर्वेदीय पारम्परिक भोजन  पाक कला निरंतर ; पारम्परिक  आयुर्वेदिक  पनीर विद  सौते विजिटबल्स  पकाने की पाक विधि

9
क्यूबाक  स्वास्थ्यवर्धक सलाद

क्यूबा देशौ  पारम्परिक स्वास्थ्यवर्धक सलाद , ठुंगार
-
स्वस्थ्यवर्धक ठुंगार /सलाद श्रृंखला - २
-
  संकलन - भीष्म कुकरेती   
-
 सलाद आज एक आवश्यकता च।  भलो  स्वास्थ्य व विशेष पोषक तत्वों बान सलाद/ठुंगार  की जरूरत पोड़दी। 
आज खावो -खलावा   स्वास्थ्यवर्धक ठुंगार

-
सलाद अवयव -
कट्युं  लेट्यूस -१ बुट्या
८ टुकड़ा गोळ कट्यां  टमाटर
८  बरीक  गोळ कटीं  मूळी  ह्वे   सक त लाल मूळी
१ प्याजक छल्ला
१ आवोकाडो - कट्युं

ड्रेसिंग अवयव
१/२ एक्स्ट्रा वर्जिन ओलिव  तेल
१/४ कप निम्बू रस
२ चमच नारंगी रस
१ चमच टुकड़ों म कट्युन ल्यासण
१ चमच काळो लूण
१/४ काळी मर्च चूरा
सब अवयवों तै काटो ठीक से मिलावो अर  ड्रेसिंग डाळो। 

-
Copyright@ भीष्म कुकरेती
 भिन्न देशों के स्वास्थ्यवर्ध्क सलाद , भिन्न भीं क्षेत्रों के स्वास्थ्यवर्धक सलाद श्रृंखला जारी

10
यूनानी स्वास्थ्यवर्धक ठुंगार सलाद

यूनानी (ग्रीक )  स्वास्थ्यवर्धक सलाद , ठुंगार
स्वस्थ्यवर्धक ठुंगार /सलाद श्रृंखला - १
  संकलन - भीष्म कुकरेती   
 सलाद आज एक आवश्यकता च।  भलो  स्वास्थ्य व विशेष पोषक तत्वों बान सलाद/ठुंगार  की जरूरत पोड़दी। 
आज खावो यूनानी  स्वास्थ्यवर्धक ठुंगार

-
-खीरा /छुटि ककड़ी कटी
- शिमला मर्च हौरू   बर्गआकर कट्युं
- चेरी टमाटर  अध कट्यां  - २ कप
-  फेटा चीज  ५ ओंस  १/२ इंच
-  गोळ कट्यां लाल प्याज
-१/३ कप पोदीना कट्युं
- ओलिव  तेल - १/३ कप
ड्रेसिंग
-विनिगर -तीन चमच
-ल्यासण -३ पिस्युं
-ओरिगना १/ २  चमच
-पीली सरसों -१/४
-काळ लूण - १/४ चमच
- काळी मर्च चूरा  - छिड़कणो
Copyright@ भीष्म कुकरेती
विभिन्न स्वास्थ्यवर्धक सलाद, ठुंगार  , भिन्न भिन्न देशों सलाद, ठुंगार  , भिन्न भिन्न क्षेत्रों सलाद , ठुंगार    श्रृंखला   जारी 

Pages: [1] 2 3 4 5 ... 10