Author Topic: Gorikund,Famus Kund in Uttarakhand- गौरीकुंड,एक ऐतिहासिक पर्यटन स्थल  (Read 18639 times)

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
    

Also across from the temple is the welcome center of the Badrinath-Kedarnath Temple Committee--where pilgrims can find information about the temples and sites in the Himalayas.  The center is staffed by a local brahmin who was also the priest at the Gauri temple--at one point he took off for the temple in mid-sentence when he saw some people entering the gates.

Of course, jobs are scarce in the hills, and any employment is desirable; this is particularly with regard to traditional occupations, which often don't pay very well.




Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
गौरीकुंड  के  साथ  एक  दूसरी  महत्वपूर्ण  किंवदंती  भी  जुड़ी  है  जिसका  गणेश  और  उनके  हाथी  सिर  के  साथ  संबंध  है।  स्कंद  पुराण  में  इसका  पुन: वर्णन  किया  गया  है, यह  माना  जाता  है  कि  जब  एक  बार  पार्वती  यहां  स्थित  कुंड  में  स्नान  कर  रही  थीं, तब  उन्होंने  गणेश  को  पहरेदारी  करने  के  लिए  कहा  था

  और  उसके  स्नान  करते  समय  किसी  को  भी  भीतर  आने  की  अनुमति  नहीं  देने  की  आज्ञा  दी  थी।  कुछ  ही  देर  बाद  भगवान  शिव  का  आगमन  हुआ  लेकिन  अपने  शब्दों  के  पक्के  गणेश  ने  अपने  पिता  को  भी  'निषिद्ध' क्षेत्र  में  प्रवेश  नहीं  करने  दिया।

 गुस्सैल  जिसके  लिए  वे  प्रसिद्ध  हैं, शिव  तुरंत  अपना  आपा  खो  बैठे  और  गणेश  का  सिर  काट  दिया।  शिव  और  पार्वती  के  बीच  घोर  कलह  हुआ  जिसका  समाधान  केवल  इस  वचन  के  साथ  हुआ  कि  गणेश  को  जीवित  किया  जाएगा।

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
शिव  ने  दूसरे  देवताओं  को  जाने  तथा  सिर  को  लाने  की  आज्ञा  दी।  जैसाकि  यह  हुआ, देवताओं  को  सबसे  पहले  जो  भी  सिर  मिला, वे  उसी  के  साथ  वापस  लौट  आए  – वह  सिर  था  कि  एकदंत  हाथी  का।

 गणेश  के  धड़  के  साथ  वह  सिर  जोड़  दिया  गया  है  और  उन्हें  जीवित  किया  गया  – जिससे  उन्हें  गजानन  (हाथी  के  सिर  वाला) और  एकदंत  (एक  दांत  वाला) का  नाम  मिला।

आज आधा किलोमीटर की दूरी पर “सिर रहित गणेश” की प्रतिमा विराजमान है जिसके दोनों ओर शिव और पार्वती हैं और जो सिरकटा गणेश कहलाती है।

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
जीएमवीएन  टूरिस्ट  रेस्ट  हाउस, गौरीकुंड
दूरभाष: 01364-269202






Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
विजय  टूरिस्ट  लॉज, गौरीकुंड
दूरभाष: 01364-269218



Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22