Author Topic: Kailash Mansarovar - कैलाश मानसरोवर यात्रा:उत्तराखण्ड की प्रसिद्ध धार्मिक यात्रा  (Read 63918 times)

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Kailash Mansarowar Yatra concludes
« Reply #50 on: September 25, 2009, 05:42:40 PM »
Source : PTI

Pithoragrh, Sep 24 (PTI) The Kailash Mansarowar Yatra concluded today with the 16th and last batch of 21 pilgrims including five women reaching the base camp at Dharchula this afternoon, a Kumaon Mandal Vikas Nigam official said.

The batch will rest at Didihat tonight and reach New Delhi on 26 September.

With the return of this batch the Kailash Mansrowar Yatra of 2009 comes to end, said Bachi Ram Arya Incharge of base camp at Dharchula.

A total of 667 pilgrims in 16 batches undertook pilgrimage under the KMVN, which is the nodal agency for the Yatra, said DK Sharma, KMVN regional manager tourism at Nainital.

The yatra, which begins from New Delhi spans a distance of over 1,250 kilometres covering Indian and China, Sharma said.

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
कैलास मानसरोवर यात्रा पूरी कर लौटा अंतिम दल


Sep 26, 02:04 am

पिथौरागढ़,जागरण संवाददाता : कैलास मानसरोवर यात्रा का अंतिम 16वां यात्री दल लौट आया। इसके साथ ही वर्ष 2009 की कैलास यात्रा संपन्न हो गई है। यात्रा का औपचारिक समापन शनिवार को दल के दिल्ली पहुंचने पर होगा।

अंतिम दल में कुल 21 यात्री थे। यात्रा पूरी करने के बाद गुरुवार को देर सायं डीडीहाट स्थित पर्यटक आवास गृह पहुंचे यात्रियों ने अपने यात्रा अनुभव सुनाए। साथ ही यात्रियों ने भारत-तिब्बत सीमा पुलिस और कुमाऊं मंडल विकास निगम के सहयोग की सराहना की।

यात्रियों ने यात्रा के दौरान चीन में मिले सहयोग की प्रशंसा भी की। दल के एलओ राजेन्द्र सिंह नेगी थे। दल के दिल्ली से चलने से लेकर यात्रा पूरी करने तक मौसम खराब रहा। बावजूद इसके पूरी यात्रा सुगम रही। लगातार पांचवीं बार यात्रा करने वाली रुद्रपुर निवासी रजनीश बत्रा काफी खुशी दिखाई दीं। दूसरी बार यात्रा पूरी करने वाले महाराष्ट्र के कौशल किशोर भी बेहद उत्साहित थे। दल में शामिल अधिकांश यात्रियों ने फिर यात्रा पर जाने की इच्छा जताई।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_5820125.html

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Kailash Mansarovar Yatra 2010 to commence on June 1
« Reply #52 on: March 11, 2010, 01:02:19 PM »
Pithoragarh (Uttarakhand), Mar 10 (PTI) The annual pilgrimage to Kailash Mansarovar in Tibet will commence on June one, official sources said today.

Sixteen batches of 60 pilgrims each would travel to the Himalayan region in China for a holy dip in Mansarovar lake, they said.

They would also offer prayers at Mount Kailash which is venerated as a place that is representative and emblematic of Lord Shiva.

The pilgrimage would culminate on September 30, the sources said.

For Hindus, a journey to Kailash is considered the ultimate yatra due to both the difficulty in reaching it and the level of sanctity attached to it.

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
कैलाश मानसरोवर यात्री के अनुभव और तस्वीरें देखने के लिये इस ब्लाग पर जायें

http://kailaibala.blogspot.com

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1


श्री डी. पी. तिवारी 2008 में कुमाऊं मण्डल विकास निगम द्वारा आयोजित कैलाश-मानसरोवर यात्रा में भाग ले चुके हैं. उन्होंने अपने अनुभव अन्य लोगों के साथ बांटने के उद्देश्य से बहुत अच्छा ब्लाग बनाया है. कृपया यह ब्लोग यहां पर देखें-

http://mansarovar-yatra.blogspot.com/2009/08/blog-post_22.html 

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
First batch of Kailash Mansarovar yatris reaches Taklakot in Tibet
« Reply #55 on: June 11, 2010, 10:51:47 AM »
First batch of Kailash Mansarovar yatris reaches Taklakot in Tibet


Chinese Army personnel check documents of Kailash Mansarovar pilgrims on the Lipulekh Pass.

 
Pitthoragarh, June 10
The 49-member first batch of Indian pilgrims to Kailash Mansarovar that reached Taklakot in Tibet on June 9 will resume its pilgrimage on the Tibetan soil from tomorrow when it leaves for Darchin, KMVN sources said.

The pilgrims stayed for two days in Taklakot where the Chinese authorities checked their immigration documents and passports. Next day the pilgrims reached Darchin, 140 m for Taklakot, to spend night there, said DK Sharma, a KMVN Manager who had conducted the pilgrimage three times in the past.

“From Darchin, the pilgrims are divided into two groups, one group goes to the Kailash parikrama and another to Mansarovar. The group to holly Kailash returns to Darchin after completing the parikrama of five days. This group stays at nights at Derapuk, Zongzerbu and at the Dolma Pass while the second group on the Mansrowar parikrama spends nights at Hore and Kihumath camps and returns to Darchin after five days when the route of both groups are exchanged,”
said Sharma.

On the 11th day both batches assemble at Darchin and go to Khojarnath on the banks of the Karnali river, 12 km from Darchin. “On the 12th day the group will return to the Lipulekh Pass after completing the 54 km of Kailash and 74 km of the Mansrowar pilgrimage in Tibet,” said Sharma.


Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
कैलास-मानसरोवर यात्रा: दूसरा दल तिब्बत पहुंचा-SOURCE DAINIK JAGRAN

                धारचूला (पिथौरागढ़)। कैलास-मानसरोवर यात्रा  का दूसरा दल भी तिब्बत में प्रवेश कर चुका है, जबकि तीसरा दल पहले पैदल  पड़ाव गाला पहुंचा है।
 प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार दूसरा यात्रा दल मंगलवार की प्रात:  अंतिम भारतीय पड़ाव नाबीढांग से लिपूलेख को रवाना हुआ। मार्ग में काफी  अधिक मात्रा में बर्फ जमी होने के कारण यात्रियों को दिक्कतों का सामना  करना पड़ा।
 निर्धारित समय पर आइटीबीपी अधिकारियों और जवानों की उपस्थिति  में यात्रियों को लिपूपास में चीनी अधिकारियों के सुपुर्द किया गया। दल  मंगलवार को तिब्बत के पहले पड़ाव तकलाकोट पहुंचा है, जहां दल विश्राम  करेगा। उधर, पहला दल मानसरोवर की परिक्रमा कर रहा है। तीसरा दल मंगलवार की  प्रात: आधार शिविर धारचूला से प्रथम पैदल पड़ाव गाला को रवाना हुआ।
 मौसम  साफ रहने के कारण दल को मार्ग साफ मिला। अपराह्न में दल गाला पहुंचा। यह  दल बुधवार को गाला से दूसरे पैदल पड़ाव बूंदी को रवाना होगा। प्रशासन के  अनुसार सभी यात्री सकुशल हैं।
   

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
ITBP revives ancient route to Kailash Mansarovar
« Reply #57 on: June 18, 2010, 10:14:33 AM »

source : zeenews.com & PTI

New Delhi: The troops of ITBP, guarding the country's icy frontier with China,   have re-chartered an ancient route to the holy Kailash Mansarovar on the Indian   side which can be used an as alternative track for the pilgrimage.

The   route stretching nearly 60 kms is said to have been used by pilgrims in ancient   times and would be used and developed as an alternative track when the regular   route is blocked by landslides and heavy rains in the upper reaches of   Uttarakhand.

   
   
            </ins></ins>
The Indo   Tibetan Border Police (ITBP) provides security and logistical help to the   pilgrims during Mansarovar yatra.

The troops stationed in Pithoragarh   district had undertaken the trek. The ITBP has also suggested that Uttarakhand   government declare the route as a heritage site and develop it as a second track   for Kailash Mansarovar yatra pilgrimage.

"Our officers and men have   undertaken the trek and have even made a profile of the local population. The   route can be used as an alternative in case of natural disasters like landslides   and other such eventualities," ITBP chief R K Bhatia told reporters here.   

The personnel also collected historical maps, records, letters and   photos during their trek and the journey has been now compiled and brought out   as a book titled "Kumaon Aur Kailas" which was unveiled today in the presence of   50 pilgrims who will undertake the yatra this year in the 4th batch.   

   
The Kailash Mansarovar Yatra involves   circumambulation of Mount Kailash and Mansarovar Lake in Tibet.

The   yatra, this year, started on May 29 and will be over by September 24 with   approximately 960 people undertaking the pilgrimage.

The journey   involves trekking inhospitable terrain at high altitudes upto almost 19,500 feet   and pilgrims cross the Indian border at Lipulekh Pass.

The present route   of the yatra on the Indian side includes Dharchula, Tavaghat,Mangti, Gala,   Budhi, Gunji, Kalapani and Navidhang.

Hospital for Amarnath   pilgrims

A 40-bed temporary hospital is being set up at this base   camp equipped with all the equipments and adequate medicare facilities for the   pilgrims during Amarnath Yatra scheduled to commence from next month.

In   addition, 30 doctors, 4 lady doctors, 6 specialists and 150 paramedical staff   would be deployed at different halting stations from Pandach to the Holy Cave   while 7 ambulances would remain stationed at Baltal, officials said today.   


Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
                       कैलास यात्रियों को तीसरा दल गुंजी पहुंचा

धारचूला (पिथौरागढ़), जागरण संवाददाता: कैलास-मानसरोवर यात्रा का तीसरा दल  तीसरे पैदल पड़ाव गुंजी पहुंच गया है। दल शुक्रवार को गुंजी में ही प्रवास  करेगा। इस दौरान आईटीबीपी के चिकित्सकों द्वारा यात्रियों का स्वास्थ्य  परीक्षण किया जायेगा। पहले और दूसरे दल के सदस्य इस समय तिब्बत में हैं।

SOURCE DAINIK JAGARN

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
                                     अब तो पगडंडी सा है कैलास-मानसरोवर यात्रा का प्राचीन पथ

पिथौरागढ़। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस ने जिस प्राचीन कैलास-मानसरोवर यात्रा मार्ग की खोज की है वह किसी चुनौती से कम नहीं थी। सैकड़ों या हजारों वर्ष पूर्व तक जिन मार्गो से यात्रियों के जत्थे गुजरते होंगे वे अब पगडंडी भर रह गये हैं। आईटीबीपी द्वारा खोजे गये 260 किलोमीटर लंबे इस प्राचीन मार्ग से कैलास यात्रा का संचालन अब भूस्खलन या अन्य आपात स्थितियों में ही किया जायेगा।कुमाऊं मंडल विकास निगम द्वारा संचालित कैलास-मानसरोवर यात्रा के सफल संचालन में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस की मिर्थी वाहिनी द्वारा विशेष सहयोग दिया जाता है। यात्रियों को सुरक्षित तिब्बत पहुंचाने और वापस बेस कैम्प पहुंचाने में आईटीबीपी का विशेष सहयोग रहता है। वर्षाकाल में भूस्खलन के लिए धारचूला से लेकर गाला तक मार्ग अतिसंवेदनशील है। अधिक वर्षा होते ही पहाड़ियों के टूटने से मार्ग बंद होना आम बात रहती है। यहां पिछले वर्षो में आपदा के कारण नियमित मार्ग के ध्वस्त होने से यात्रियों को तमाम परेशानियों से जूझना पड़ा था। इसी को ध्यान में रखते हुए आईटीबीपी द्वारा प्राचीन मार्ग की खोज का निर्णय लिया गया, ताकि नियमित मार्ग के बंद होने की स्थिति में बिना देरी किये प्राचीन मार्ग से यात्रियों को सुरक्षित गंतव्य तक पहुंचाया जा सके। सातवीं वाहिनी मिर्थी के कमांडेंट एपीएस निंबाडिया ने इस मार्ग की खोज के लिए वर्ष 2009 में जवानों के छह दल गठित किये। इन दलों को गाला से लेकर काठगोदाम तक मार्ग की खोज का जिम्मा दिया गया। खोज में लगाये गये जवानों को इस कार्य में खासी मशक्कत करनी पड़ी। यह मार्ग कई स्थानों पर पगडंडी भर रह गया था। इस यात्रा पथ के किनारे जिन धर्मशालाओं का जिक्र किया जाता रहा है वे भी खंडहर या पत्थर की दीवारों के अवशेष रूप में ही मिलीं। बहरहाल, मार्ग जिस स्थिति में भी हो, लेकिन भारत-तिब्बत सीमा पुलिस द्वारा पूरा किया गया यह अभियान विशेष उपलब्धि रहा और इस काम को खासी सराहना भी मिली। पिछले वर्ष मार्ग को खोजने का काम पूरा होने के बाद संस्कृति मंत्रालय द्वारा आईटीबीपी से इस मार्ग का पूरा ब्योरा मांगा गया। इसके पीछे संस्कृति मंत्रालय की मंशा इस प्राचीन मार्ग को राष्ट्रीय धरोहर में शामिल करना है।

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22