Author Topic: Details Of Tourist Places - उत्तराखंड के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों का विवरण  (Read 57667 times)


Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
नंदप्रयाग


धार्मिक पंच प्रयागों में से दूसरा नंदप्रयाग अलकनंदा नदी पर वह जगह है जहां अलकनंदा एवं नंदाकिनी नदियों का मिलन होता है। ऐतिहासिक रूप से शहर का महत्व इस बात में है कि यह बद्रीनाथ मंदिर जाते तीर्थयात्रियों का पड़ाव स्थान होता है साथ ही यह एक महत्वपूर्ण व्यापारिक स्थल भी है। वर्ष 1803 में आई बाढ़, शहर का सब कुछ बहा ले गयी जिसे एक ऊंची जगह पर पुनर्स्थापित किया गया। नंदप्रयाग का महत्व इस तथ्य से भी है यह स्वाधीनता संग्राम के दौरान ब्रिटिश शासन के विरोध का स्थानीय केंद्र रहा था। यहां के सपूत अनुसूया प्रसाद बहुगुणा का योगदान इसमें तथा कुली बेगार प्रथा की समाप्ति में, सबको हमेशा याद रहेगा।
 
ऐतिहासिक महत्व के स्थान

 

 
       नाम : हिलारी बिंदु
पता : नंदप्रयाग  
दूरभाष : नंदप्रयाग  
सम्पर्क व्यक्ति : प्रकाश फोनिया, कार्यपालक अधिकारी, नगर पंचायत  
दिशा : संगम के समीप
  
विशेष रूचि के मंतव्य : नगर पंचायत ने उस स्थान को चिह्नित कर दिया है जहां सर एडमंड हिलारी ने महानगर से आकाश के अभियान को छोड़ा था। कहा जाता है कि भगवान बद्रीनाथ ने सपने में आकर उन्हें वह अभियान छोड़ने का आदेश दिया था। नगर पंचायत द्वारा इस क्षेत्र के विकास के लिये 20 लाख रूपये खर्च करने की एक योजना है ताकि रीवर राफ्टिंग (नदी-बेड़ायन) की शुरूआत की जा सके। इस स्थान का उपयोग अभी सैनिक कर्मचारियों द्वारा तथा विदेशियों द्वारा नीचे ऋषिकेश तक बेड़ायन अभियान के लिये किया जाता है। फिर भी, यह कार्य-कलाप व्यापारिक स्तर पर नहीं किया जाता है।
 



एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Mukteshwar:
It is a charming hill station featuring the Mukteshwar temple as its key attraction. It is dedicated to Lord Shiva and you can reach the temple with the stairs laid out of stone.

Other noteworthy tourist destinations of Uttarakhand include Almora, Kausani, Chopta and Dehradun. Uttarakhand is a visitor’s delight and your tour will certainly be a memorable experience.

Touristplacesinindia.com offers online information on the tourist destinations in Uttarakhand. For more information on the other tourist places of India, just log on to this site.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

पौराणिक श्रीताल ही है सरूताल

पुरोला (उत्तरकाशी)। उच्च हिमालय में स्थित ताल, बुग्याल अपने में कई रहस्य समेटे है। यही कारण है कि यहां देश-विदेश के पर्यटकों, घुम्मकड़ों का यहां जमावड़ा लगा रहता है। सूबे की यमुनाघाटी में स्थित सरूताल शिवपुराण का श्रीताल है, जो आज भी पर्यटकों की नजर से ओझल है।

उत्तराखंड राज्य में कई खूबसूरत पर्यटक स्थल हैं। सूबे की यमुनाघाटी और टौंसघाटी में अनेकों नयनाभिराम कर देने वाले पर्यटक स्थल आज भी विद्यमान है। पुरोला से 72 किमी दूर सरबड़ियाड़ में स्थित सरूताल समुद्रतल से 5257 मीटर की ऊचाई पर स्थित है। 92 मीटर लंबे और 72 मीटर चोड़ा ताल अपनी खुबसूरती के लिए क्षेत्र में विख्यात है। ताल के समीप पांच वर्षो से डेरा डाले बाबा गिरी महाराज व महन्त जमना गिरी बताते है कि शिवपुराण में यह श्रीताल था, जो बाद में समीप के गांव सर के नाम से सरूताल हो गया। मान्यता है कि इस ताल की परिक्रमा करने और इसकी पूजा पुष्पों से करने से मनोकामना पूर्ण होती है। इसके लिए प्रतिवर्ष यहां क्षेत्र के ग्रामीण इस ताल में पूजा के लिए जाते है। मान्यता यह भी है कि चौथे पहर में यहां प्रतिदिन अप्सराएं खुद ताल की पूजा करने के लिए आती है। इसके अतिरिक्त टौंसघाटी में केदारकांठा, पुष्टारा, बुग्याल सहित कई ऐसे स्थल है, जहां जाने के बाद कोई भी पर्यटक यहां से वापस आना नहीं चाहता है। वैसे तो पूरे हिमालय क्षेत्र में कई ऐसे स्थल है जो पर्यटकों के लिए तिलिस्म के समान है। यही कारण है कि यहां वर्ष भर पर्यटकों का आना-जाना लगा रहता है। इसी क्षेत्र में विश्व प्रसिद्घ पर्यटक स्थल हरकिदून, भ्रराड़सरताल, देवक्यारा भी स्थित है। प. महिमानन्द तिवारी, शिशपाल सिंह, जयवीर सिंह, विरेन्द्र, प्रताप सिंह, देवेन्द्र सिंह का कहना है कि पर्यटन विभाग की ओर से इसके विकास के लिए पहल नहीं की गई। इस कारण यह ताल पर्यटकों की दृष्टि से ओझल है। उन्होंने बताया कि वन विभाग की लापरवाही के चलते क्षेत्र के सरूताल, पुष्टहारा, मानेरा, देवक्यारा,भराड़सर, हरकिदून की खूबसूरती को तस्करों की नजर लग गयी है। इसी के चलते यहां से दुर्लभ केदारपात्री, अतिश, कौडाई सालिम पंजा, बनक्सा सहित दुर्लभ प्रजाति की जड़ी-बुटियों की तस्करी होती है। उन्होंने बताया कि वन विभाग की मिलीभगत के चलते यहां इसका कारोबार फल-फूल रहा है।

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
Panwalikantha,ghuttu bhioag tehri garhwal,

3963 mtr. high above 15 km. from Ghuttu by trek Panwalikantha is a high altitude meadows with colour full flowers during July to August offer a panoramic view of the Himalayas, there is also a dharamshala for night stay.



Budha-Kedar,tehi garhwal,

Budha-Kedar is 50 km. from Ghuttu by motor road. There is an old temple very old temple dedicated to Lord Shiva. Budha-Kedar used to be an important halting place during the days when the pilgrimage used to be done on foot &  pilgrims returning from Gangotri. Budha-Kedar is situated on confluence of Balganga & Dharam Ganga.

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
Kush Kalyani

Beautiful Kush-Kalyani, gay with alpine flowers, is very extensive Bugyal in an idyllic setting - truly blessed by nature.
 It is located on the Gangotri - Shri Kedarnath route near a place called Belak and can be approached from Ghuttu in the opposite direction from Panwali Bugyal.



Masar Tal

The famous MasarTal 3225 mts. above sea level. It is about 16 km. from Ghuttu. The trek is enjoyable but one has to make own arrangement for camping or can take Garhwal Darshan.com 's camping service.

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
Khirsu,ka daanda

The snow - laden mountains of Khirsu tempt the tourist in winters, while the panoramic view of Central Himalayas attracts tourists in summers, when one can get a clear view of 300 named and unnamed peaks. Located 19 kms. away from Pauri at an altitude of 1700 mts. Khirsu is a peaceful spot free from pollution.
The tranquility of the adjoining thick Oak and Deodar forests and apple orchards, is only broken by chirping birds. The ancient temple of Ghandiyal Devta in the vicinity is well worth a visit.

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
Harsil

Situated amidst the incredible beauty of mountain peaks 5000 mts. high in the quite resort of Harsil. Where flowers bloom as an expression of joy.

 Where walks, picnics and treks leads one to undiscovered stretches of green, grassy land.... serving as a perfect invitation to sit down, relax and enjoy the surrounding. A perfect tribute to nature.
   
Siteseeing includes sattal(Seven Lakes) or one has the choice to set off on various treks that introduces one of meadows, waterfalls and valleys.

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
फन वैलीः

यह देहरादून से 32 किलोमीटर की दूरी पर हरिद्वार रोड पर स्थित है। यह अम्यूजमेंट पार्क अपनी तरह का अनोखा है जहां हमेशा देहरादून, ऋषिकेश और हरिद्वार आने वाले लोगों की भारी भीड़ रहती है। यहां पर शांत नदी, कई सारी झीलें, किड पूल और वाटर डिस्को हैं।

 इन सभी आकर्षणों के अलावा यहां पर रेसिंग कार, ड्रेगोन कोस्टर, मिनी ट्रेन, सिक्कों के खेल और मिनी टेली-कमबेट गेम आदि हैं। यहां पर जन्म दिन, शादी की पार्टियों, कारपोरेट सम्मेलनों और सेमीनारों के आयोजन काफी सस्ती दरों पर होते हैं।

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22