Author Topic: Lohaghat : Hill Station - लोहाघाट  (Read 69584 times)

सुधीर चतुर्वेदी

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 426
  • Karma: +3/-0
Lohaghat : Hill Station - लोहाघाट
« on: February 12, 2009, 04:18:58 PM »
                                  Lohaghat :Hill Station

भारतीय स्वाधीनता से पहले कुमाऊं के शेष भाग की तरह लोहाघाट भी कई रजवाड़े वंशों द्वारा शासित रहा है। 6ठी सदी से पहले यहां कुनिनदों ने शासन किया। उसके बाद खासों तथा नंदों एवं मौर्यों का शासन हुआ। माना जाता है कि बिंदुसार के शासन काल में खासों ने विद्रोह कर दिया था जिसे उसके पुत्र सम्राट अशोक ने दबाया। इस काल में कुमाऊं में कई छोटे-मोटे सरदारों तथा राजाओं का शासन था।
यह 6ठी से 12वीं सदी के दौरान संभव हो पाया कि एक वंश शक्तिशाली बना और इस समय अधिकांश समय यहां कत्यूरियों का शासन रहा।

परंतु इस दौरान भी चंद शासकों ने चंपावत पर अपना नियंत्रण कायम कर लिया। उस समय चंपावत के निकट होने के कारण लोहाघाट एक महत्वपूर्ण सांस्कृतिक केंद्र था।

12वीं सदी में चंद वंश को प्रधानता मिली, जब उन्होंने अपना अधिकार विस्तृत कर अधिकांश कुमाऊं पर शासन किया और वर्ष 1790 तक शासन करते रहे। अपनी स्थिति सुदृढ़ करने के लिये उन्होंने कई छोटे-मोटे प्रमुखों को पराजित किया तथा पड़ोसी राज्यों से युद्ध भी किया। इस वंश के शासन काल में एकमात्र विराम तब आया जब गढ़वाल के पंवार राजा प्रद्युम्न शाह, कुमाऊं का राजा बना यहां जो प्रद्युम्न चंद के नाम से जाना लगा। वर्ष 1790 में स्थानीय रूप से गोरखियोल कहे जाने वाले गोरखों ने कुमाऊं पर कब्जा कर लिया और चंदों के शासन का अंत कर दिया। वास्तव में प्रथम गोरखा आक्रमण लोहाघाट पर ही हुआ।

गोरखों का शोषण भरा शासन वर्ष 1815 में समाप्त हो गया जब ईस्ट इंडिया कंपनी ने उन्हें परास्त कर कुमाऊं पर अधिकार कर लिया। द हिमालयन गजेटियर (वॉल्युम III, भाग I, वर्ष 1882) में ई टी एटकिंस ने लिखा है कि वर्ष 1881 में लोहाघाट की आबादी 64 महिलाओं सहित कुल 154 ही थी। वह यह भी बताता है कि लोहाघाट सैनिकों की छावनी भी रहा था पर उसे पहुंच, की समस्या के कारण हटा दिया गया।

तिब्बत के प्राचीन व्यापारिक मार्ग पर होने के कारण लोहाघाट का प्रमुख व्यापारिक शहर होना सुनिश्चित हुआ। तिब्बत से भारत, पहाड़ी रास्तों को पार करने में निपुण भोटिया लोग प्रमुख व्यापारी थे जो लोहाघाट के बाजार में ऊन भेड़/बकरी, बोरेक्स एवं नमक बेचने के लिये आते तथा तिब्बत के लिये मोटे कपड़े, चीनी (खासकर गुड़) मसाले एवं तंबाकू खरीदकर ले जाते। वर्ष 1962 के भारत-चीन युद्ध के कारण यह व्यापारिक कार्य एकाएक ठप्प पड़ गया और फलस्वरूप दोनों देशों के बीच व्यापारिक दृष्टि से लोहाघाट का महत्व कम हो गया।

लोहाघाट का इतिहास स्वामी विवेकानंद से भी संबद्घ है, जिन्हें पास ही मायावती में एक अद्वैत आश्रम की स्थापना करने का श्रेय जाता है। यहां वे कई बार आये तथा वर्ष 1901 में दो सप्ताह से अधिक दिनों तक रूके। उन्होंने इस क्षेत्र के बारे में कहा, “यही वह जगह है, जिसका सपना मैं बचपन से देखा करता था। मैने बार-बार सदैव यहां रहने का प्रयास किया पर इसके लिये उपयुक्त समय नहीं मिल सका तथा कार्य व्यस्तता के कारण मुझे इस धार्मिक स्थान से दूर जाना पड़ा। मैं अंतर्मन से प्रार्थना एवं आशा करता हूं और विश्वस्त भी हूं कि मेरे अंतिम दिन यही बीतेंगे। पृथ्वी के सभी स्थानों में हमारी जाति की सर्वोत्तम यादें इन्हीं पर्वतों से संबद्ध हैं।”

अंग्रेजों के औपनिवेशिक शासन से भारत के स्वाधीन होने पर कुमाऊं, उत्तर प्रदेश का एक भाग बना। वर्ष 1972 में अल्मोड़ा जिला का चंपावत तहसील पिथौरागढ़ में शासन किया गया तथा सितंबर 15, 1997 को चंपावत जिला को स्वतंत्र पहचान मिली और लोहाघाट इसका एक हिस्सा बना। वर्ष 2000 में लोहाघाट वर्तमान नये राज्य उत्तराखंड का भाग बना जो तब उत्तरांचल कहलाता था।


Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: Lohaghat : Hill Station
« Reply #1 on: February 12, 2009, 04:32:32 PM »
Source: http://en.wikipedia.org/wiki/Lohaghat

Lohaghat on the banks of Lohawati River in champawat district is one of the important places for its beautiful temples. Located at an altitude of 1706 mts, Lohaghat is a few kilometers from Pithoragarh. This ancient town of Lohaghat has immense historical and mythological importance which attracts a number of tourists. Mostly devotees and pilgrims from all over drop into Lohaghat before visiting Advaita Ashram which is also called the Mayawati Ashram. A sleepy little town of Uttaranchal it shot to fame because of the beautiful temples and fascinating locales near by.

Spread over an areas of 4.5 sq km, Lohaghat is one of the most beautiful places in Uttaranchal specially made popular because of its historical and mythological associations.

Situated 14 km from Champawat, and 62 km away from Pithoragarh on way to Tanakpur. Lohaghar is close several tourist spots in the region, Shyamla Taal, Devidhura, Gurudwara Ritha Sahib, Abbot Mount (8 km), Varansur fort (Vanasur-Ka-Kila) (7 km), Mayawati Ashram (Advaita Ashrama) (9 km), Galchaura, Suin(Pawa), and the Forti viilage.

It is famous for Bagwal fight carnival which takes place at Devidhura (Maa Baarahi temple) on auspicious day of Raksha bandhan day. [4] Near by Ritha-sahib is famous for Sikh gurudwara and sweet Rithas that are unique in world and Pancheshwar is famous for river-rafting and adventurous sports. 20 km far from Lohaghat, there is scenic tourist spot called Pati.

Nearest Railhead :- Tanakpur Railway station is 89 km away from Lohaghat.

Tourist Attractions of Lohaghat:

Mayawati Ashram :- Located at a distance of 9 km from Lohaghat this is famous for the Advaita Ashram which attracts pilgrims and tourists from all over the world.

Abbot Mount :- Situated at a distance of 8 km from Lohaghat this is one of the most serene locales near by Lohaghat. Spend a few moments amidst serenity in Abbot Mount.

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: Lohaghat : Hill Station
« Reply #2 on: February 12, 2009, 04:34:24 PM »


Places of Worship:

Rikeshwar Mahadev Mandir
On the road to Champawat, 1 km from Town

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: Lohaghat : Hill Station
« Reply #3 on: February 12, 2009, 04:35:13 PM »
लोहाघाट लंबे देवदार एवं बुराँज पेड़ों के बीच लोहावती नदी के किनारे स्थित है तथा चंपावत जिले के सर्वाधिक सौंदर्यपूर्ण स्थलों में से एक है। यह एक ग्रामीण स्थल है, जहां शहर के कोलाहल से दूर छुट्टी बितायी जा सकती है। आपको फिर से जोश से भर देने में शहर की प्राकृतिक सुंदरता के साथ शिथिल पुराने सांसारिक परिवेश का अद्भुत योगदान होगा। पड़ोसी क्षेत्रों में कुछ घूमने योग्य स्थान भी हैं जहां रहस्य, ऐतिहासिक तथा साहसिक कार्यों का मिश्रण देखने को मिलता है।

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: Lohaghat : Hill Station
« Reply #4 on: February 12, 2009, 04:35:50 PM »
लोहाघाट की पौराणिकता पास ही स्थित बाणासुर किले की संबद्धता से है। हिन्दू दर्शन के अनुसार बाणासुर हजार हाथों वाला एक राक्षस था जो बाली का पुत्र एवं रावण का वंशज था। बाणासुर एक शक्तिशाली, भयानक असुर तथा भगवान शिव का उपासक था।

बाणासुर की सुंदर पुत्री ऊषा सपने में ही श्रीकृष्ण के पौत्र अनिरूद्ध के प्रति आसक्त हो गयी। अपनी सखियों की सहायता से उसने द्वारका से अनिरूद्घ का अपहरण कराकर चुपके से विवाह कर लिया। जब बाणासुर को यह पता लगा तो उसने अनिरूद्ध को बंदी बनाकर सांपों के बंधन में डाल दिया। जिसके कारण एक बड़ी सेना के साथ भगवान श्रीकृष्ण ने उस पर आक्रमण कर दिया। यह युद्ध वर्षों तक चलता रहा और निरसता में इसका अंत हो गया क्योंकि भगवान शिव ने बाणासुर की सहायता की। युद्ध में कई देवों एवं दानवों की मृत्यु हुई और यही कारण है कि लोहाघाट के आस-पास की मिट्टी का रंग लाल है तथा उनके रक्तपात से ही लोहावती नदी का नाम भी ऐसा पड़ा। लोहाघाट का अपना नाम भी इसी किंवदन्ती पर आधारित है।

नीरस युद्ध की समाप्ति भगवान शिव के अनुरोध पर भगवान श्रीकृष्ण की उस स्वीकृति से हुई, जिसके अनुसार उन्होंने बाणासुर के चार हाथ काटकर उसे जीवन दान दे दिया। भगवान श्रीकृष्ण ने ऊषा के साथ अनिरूद्ध का विवाह कर दिया और उन्हें द्वारका ले आये। बाणासुर हिमालय चला गया और उसने भगवान शिव की आराधना में शेष जीवन बिताया।

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: Lohaghat : Hill Station
« Reply #5 on: February 12, 2009, 04:36:10 PM »
 चंद शासन के दौरान लोहाघाट एक सांस्कृतिक केंद्र था। कुछ किलोमीटर दूर चंपावत आधारित राजाओं ने कला एवं हस्तकला, विचारकों तथा बौद्धिकों को प्रोत्साहित तथा बढ़ावा दिया। शहर के बौद्धिक विकास में 19वीं सदी के उत्तरार्द्ध में स्वामी विवेकानंद द्वारा स्थापित अद्वैत आश्रम का भी भारी योगदान रहा था। लोहाघाट साबर नाम के जूते, जिसे भारत के अन्य भागों में भेजा जाता, तथा तांबे व लोहे के बर्तनों एवं खासकर कढ़ाई की कारीगरी के लिये भी प्रसिद्ध था। भारत, नेपाल तथा तिब्बत के साथ व्यापार में भी भारत उन्नतिशील केंद्र था जो वर्ष 1962 के भारत-चीन युद्ध के कारण एकाएक ठप्प पड़ गया।

गीत एवं नृत्य
अपने आवास पर्वतों की सुंदरता एवं दूरता के कारण इस क्षेत्र के लोग अपनी विशिष्ट सांस्कृतिक परंपरा को बचाये रखने में सक्षम हुए है जो नृत्यों एवं गीतों में दिखाई पड़ता है। अधिकांश गीतों एवं नृत्यों की प्रकृति धार्मिक या फिर ये लोगों की पारंपरिक जीवन-शैली खासकर कृषि के तौर-तरीकों के प्रतीक हैं। वास्तव में लोहाघाट के सर्वोत्तम लोकगीतों में से एक ‘वोडू पाको बार मासौ’ एक स्थायी फल से संबंधित है।

प्रत्येक समारोहों में लोकगीत एवं नृत्य होते हैं। इन अवसरों पर देवी-देवताओं को उपस्थित होने के लिये विभिन्न देवताओं को आमंत्रित करने के लिये भक्तिपरक गीत या जागर गान होता है। इसके अलावा चांचरी जैसे मनोरंजक नृत्य में पुरूष एवं महिलायें दोनों भाग लेते हैं जो समूह नृत्य एवं गान हैं।

हुड़किया बोल कृषि से संबद्घ है। इसमें खास तौर पर सामूहिक पौधे रोपने या धान के खेतों की तैयारी करते समय एक हुड़किया हुडका बजाते हुए स्थानीय देवताओं की प्रशंसा में भक्तिगीत गाया जाता है ताकि वे अच्छी फसल का आशीर्वाद दें, एवं खेतों में काम करती महिलाएं गाने में साथ देती हैं।

विवाहों तथा मेलों के अवसर पर किया जाने वाला छोलिया नृत्य में युद्ध कला का प्रदर्शन होता है। दो या इससे अधिक लोग एक हाथ में ढाल तथा दूसरे हाथ में तलवार लेकर घात-प्रतिघात तथा बचाव की मुद्रा पेश करते हुए ढोल, दामौ, रणसिंघे एवं तुरही की धुन पर थिरकते हैं।

इस क्षेत्र की लोक साहित्य परंपरा काफी समृद्ध है, जिसमें स्थानीय/राष्ट्रीय मिथकों, नायकों, नायिकाओं, बहादुरी के कारनामों तथा प्रकृति के विभिन्न पहलुओं का समावेश होता है। गीतों में पृथ्वी के सृजन, देवी-देवताओं, स्थानीय वंशों/नायकों तथा रामायण  एवं महाभारत के पात्रों का वर्णन होता है। सामान्यत: इन गीतों का आधार स्थानीय इतिहास की घटनाओं से होता है तथा भड़ाऊ सामान्यत: सामूहिक कृषि-कार्यों के दौरान किया जाता है तथा हुडकिया बोल एवं अन्य गीत विभिन्न सामाजिक एवं सांस्कृतिक अवसरों पर गाया जाता है। इसी प्रकार भोटिया जनजाति के शौका लोगों का अपना लोकगीत एवं नृत्य होता है। इनका आयोजन प्रमुखत: उत्सवों एवं सामाजिक समारोहों के अवसर पर होता है।

बोली की भाषाएं
कुमाऊंनी, हिन्दी, नेपाली तथा खडी।

वास्तुकला
लोहाघाट के पुराने घरों का निर्माण मोटे पत्थरों की दीवारों एवं छतों से हुआ है तथा उनके रहने के स्थान तक एक संकरे लकड़ी के सीढ़ीनुमा ढांचे द्वारा पहुंचा जा सकता है। नीचे की मंजिलों में पहले मवेशी रखे जाते थे, पर अब इनका इस्तेमाल भंडार घरों की तरह होता है। आज उत्तरी-भारत की तरह ही यहां भी कंक्रीट एवं सीमेंट से बने घरों का चलन हो गया है।

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: Lohaghat : Hill Station
« Reply #6 on: February 12, 2009, 04:36:26 PM »
लोहाघाट के अधिकांश लोगों के पूर्वज उत्तरी-भारत के मैदानों से आकर पीढ़ियों पहले इस पहाड़ी पर बस गये तथा कोलो के वंशज वे शिल्पकार हैं जो यहां के मूलवासी थे। हाल के वासियों में भोटिया जनजाति के लोग हैं जो वर्ष 1962 के बाद अपनी आव्रजक जीवन-शैली एवं व्यवसाय को जारी रखने की असमर्थता के कारण यहीं बस गये तथा कुछ नेपाली भी हैं जो पास ही सीमा को पार कर यहां बसे।

इस क्षेत्र के लोगों की मुख्य आजीविका कृषि एवं पशुपालन रही है और आज भी ऐसा ही है। भंगीरा एवं मडुआ दाने तथा गेहूं एवं चावल परंपरागत रूप से सीड़ीनूमा खेतों में पैदा होते हैं और यहां प्राय: महिलाएं ही खेतों में कार्य करती हैं क्योंकि पुरूष रोजगार की तलाश में उत्तरी-भारत के मैदानों की ओर चले जाते हैं। हाल ही में आलू पैदा करना एवं सेव, केले तथा संतरों के बागीचों को लगाना भी एक प्रिय खेती हो चला है।

इन परंपरागत आजीविकाओं के अलावा साबर बनाना, यहां की प्रसिद्घ जूते-चप्पलें तथा चर्म उद्योग शामिल थे। यहां से जूते निर्माताओं को चमड़े की आपूर्ति तथा धातु के बर्तनों पर नक्काशी, आदि की जाती थी। दुर्भाग्यवश इन दोनों कार्यों को अब नहीं किया जाता, धातु कारगरी का स्थान अब लोहे के उपकरणों ने ले लिया है।

फिर भी, लोगों ने व्यापार तथा वाणिज्य की अपनी पारंपरिक कुशलता को बनाये रखा है। इनमें से कुछ अब पर्यटन उद्योग की आवश्यकताओं की पूर्ति के कार्यों में लग गये हैं।

चंपावत जिले में लोगों ने इस क्षेत्र की परंपरागत लोक कलाओं को जीवित रखा है। इसमें ऐपन शामिल हैं जो सजावट के कार्यों, धार्मिक अवसरों के लिये ज्यामितिक रूपरेखा में रेखा कला का उपयोग करना होता है तथा इसमें चावल का पीठा, लाल छनी मिट्टी तथा वनस्पति रंगों का इस्तेमाल होता है।

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: Lohaghat : Hill Station
« Reply #7 on: February 12, 2009, 04:36:39 PM »
लोहाघाट लंबे देवदार के जंगलों तथा बुराँज पेड़ों के बीच लोहावती नदी के किनारे अवस्थित है और यह चंपावत जिले का एक मनमोहक एवं सुंदर स्थान है। वास्तव में, यहां आने वाले प्रथम यूरोपीय पी बैरोन्स इसकी प्राकृतिक मनोहरता देखकर स्तब्ध रह गये। उनके विचार में यह शिमला से भी अधिक सुंदर है तथा उन्हें आश्चर्य हुआ कि अंग्रेजी सरकार इसे ग्रीष्म कालीन राजधानी के रूप में विकसित क्यों नहीं कर रही।

वनस्पतियां
लोहाघाट ऊंचे देवदारों तथा मजबूत बुराँज के पेड़ों के बीच स्थित है तथा बसंत ऋतु में इसके चारों ओर बुराँज पेड़ों के समूह दिखाई पड़ते हैं। पास की प्रवाहित नदी तथा कुछ दूरी पर पूर्वी हिमालयी ऋंखला का दृश्य शहर को प्रकृति प्रेमी का स्वर्ग बना देता है।

जीव-जन्तु
शहर को घेरे घने जंगलों में, विभिन्न प्रकार के जानवर पाये जाते हैं। सालभर हिरणों एवं बंदरों की भरमार दिखाई पड़ती है तथा इसके अलावा गर्मियों एवं जाड़ों दोनों मौसमों में कई प्रकार के आव्रजक पक्षियों का आना-जाना लगा रहता है। जाड़ों में शहर के इर्द-गिर्द पेड़ों के बीच कठफोड़वा तथा इसी प्रकार की कई प्रजातियों की वृद्धि होती है। गर्मियों में यहां प्राय: लाल रंग के पक्षी, बकवादी पक्षी, सारिकाएं तथा बुलुबुल की कई प्रजातियां जिनमें शामिल हैं– असामान्य काले बुलबुल, आदि को देखा जा सकता है। अधिक उत्साही लोग नीचे उतरकर नदी की ओर जाते हुए भौरों तथा कई तेज उड़ने वाली गौरैयों को देख पाते हैं, जो वहां अपने घोंसलों के लिये मिट्टी जमा करने आते हैं।

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: Lohaghat : Hill Station
« Reply #8 on: February 12, 2009, 04:38:07 PM »


मायावती में अद्वैत आश्रम

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: Lohaghat : Hill Station
« Reply #9 on: February 12, 2009, 04:38:31 PM »


बाणासुर किला।

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22