Author Topic: Tourism and Hospitality Industry Development & Marketing in Kumaon & Garhwal (  (Read 25557 times)

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,387
  • Karma: +22/-1
                      Understanding Marketing in Hospitality Management Context

                          आतिथ्य प्रबंधन संदर्भ में मार्केटिंग /विपणन को समझना

                                              Hospitality Management  -8

                                                  आतिथ्य प्रबंधन -8

                                     ( Hospitality and Tourism  Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--126 ) 

                                         उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन -भाग 126   

 

                                                                    लेखक ::: भीष्म कुकरेती  (विपणन व विक्री प्रबंधन विशेषज्ञ )

विपणन एक व्यक्तिगत  और सामाजिक विधि है जिसके द्वारा व्यक्तियों या समूहों को उनके आवश्यकता , उनकी इच्छा पूर्ति की जाती है और उसके ऐवज में  अदला -बदली द्वारा कीमत , मूल्य , वस्तु या सेवा मिलती है।

मार्केटिंग के मुख्य कारक है -

१- आवश्यकता (आवश्यकता , इच्छा व मांग )

२- वस्तु /सेवा /विचार

३ - कीमत,संतोष व गुणवत्ता

४ - अदलाबदली ,अदलाबदली के तरीके व संबंध 

५- बजार

Copyright @ Bhishma Kukreti  8/12//2014


Contact ID bckukreti@gmail.com

Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी …
                                    References

1 -भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना , शैलवाणी (150  अंकों में ) , कोटद्वार , गढ़वाल

Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and  Hospitality Industry Development  in Uttarakhand; Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pauri Garhwal, Uttarakhand; Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand; Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Tehri Garhwal, Uttarakhand; Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Chamoli Garhwal, Uttarakhand; Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand; Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Nainital Kumaon, Uttarakhand; Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Almora Kumaon, Uttarakhand; Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Champawat Kumaon, Uttarakhand; Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Bageshwar Kumaon, Uttarakhand; Understanding Marketing in context of Hospitality Management &  Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand;

          स्वच्छ भारत ! स्वच्छ भारत ! बुद्धिमान भारत !

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,387
  • Karma: +22/-1
                          Needs in Context of Hospitality Marketing Management

                               आतिथ्य प्रबंधन संदर्भ में आवश्यकता पर विचार

                                          Hospitality Management  -9

                                                  आतिथ्य प्रबंधन -9

                                     ( Hospitality and Tourism  Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--127 ) 

                                         उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन -भाग 127   

 

                                                                    लेखक ::: भीष्म कुकरेती  (विपणन व विक्री प्रबंधन विशेषज्ञ )

  किसी भी वस्तु -सेवा -विचार विपणन हेतु मनुष्य  आधारभूत आवश्यकताओं को समझना आवश्यक है।

मास्लो  के अनुसार मानव की मुख्य आवश्यकताएं निम्न हैं -

१- भौतिक आवश्यकताएं -भोजन , पानी , कपड़ा , रहने का ठिकाना

२- सुरक्षा आवश्यकता -व्यक्तिगत सुरक्षा , सामान की सुरक्षा। होटल में सुरक्षा प्रबंध  सुरक्षा आवश्यकता संतुष्टि का उदाहरण है।

३-सामाजिक आवश्यकताएं - समाज में सम्मान . होटलों द्वारा प्राइवेट /पब्लिक क्लब में जाने की सुविधा आदि उदाहरण है। होटलों द्वारा कोई सामजिक त्यौहार /इवेंट्स मनाना सामाजिक आवश्यकता संतुष्टि उदाहरण है।

४-अहम तुष्टि  आवश्यकताएं - एयर लाइन में फस्ट क्लास , बिजिनेस क्लास का होना अहम तुष्टि सन्तुस्टीकरण का एक उदाहरण है।

५- आत्मिक आनंद आवश्यकताएं

आतिथ्य प्रबंधन में उपरोक्त सभी आवश्यकताओं से ग्राहक को उनकी आवश्यकताओं के अनुसार संतोष देने का प्रवाधान किया जाता है।

यदि ग्राहक की आवश्यकता पूरी नही हुई तो वह विकल्प की खोज करेगा अथवा अपनी आवश्यकता को कम कर देगा।

ग्राहक द्वारा अपने हिसाब से आवश्यकता संतुष्टि का प्रलोभन /आशा आतिथ्य प्रबंधन का एक भाग है।

Copyright @ Bhishma Kukreti  9/12//2014


Contact ID bckukreti@gmail.com

Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी …
                                    References

1 -भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना , शैलवाणी (150  अंकों में ) , कोटद्वार , गढ़वाल

Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and  Hospitality Industry Development  in Uttarakhand; Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pauri Garhwal, Uttarakhand; Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand; Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Tehri Garhwal, Uttarakhand; Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Chamoli Garhwal, Uttarakhand; Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand; Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Nainital Kumaon, Uttarakhand; Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Almora Kumaon, Uttarakhand; Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Champawat Kumaon, Uttarakhand; Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Bageshwar Kumaon, Uttarakhand; Needs in Context of Hospitality Marketing Management & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand;


           स्वच्छ भारत ! स्वच्छ भारत ! बुद्धिमान भारत !

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,387
  • Karma: +22/-1
                      Want Concept in Hospitality Marketing

                           आतिथ्य विपणन में चाहत , अभिलाषा की भूमिका

                                          Hospitality Management  -10

                                                  आतिथ्य प्रबंधन -10

                                     ( Hospitality and Tourism  Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--128 ) 

                                         उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन -भाग 128   

 

                                                                    लेखक ::: भीष्म कुकरेती  (विपणन व विक्री प्रबंधन विशेषज्ञ )

 संस्कृति व व्यक्तित्व के अनुसार मनुष्य की आवश्यकता चाहत या अभिलाषा के रूप में सामने आती है। चाहत का विपणन में अर्थ है कि मनुष्य कैसे अपनी आवश्यकता को दर्शाता है ,दिखाता है , याने आवश्यकता का प्रदर्शन ही चाह , चाहत या अभिलाषा है।

जंगल में एक बहुत भूखा मनुष्य छिपकली के विषहीन अंडे खा सकता है। बहुत भूखा शाकाहारी हिन्दू अमेरिका में ऑमलेट खाने से परहेज नही करेगा।  हिमलाय व उत्तराखंड के ब्राह्मण मानशाहारी होते हैं।

आवश्यकताएं  वस्तुओं की चाहत के रूप में सामने आती हैं। वस्तुएं के विकल्प आने से व ग्राहक के पास खर्च करने के लिए पैसा आने से चाहत इच्छाओं में बदल जाती हैं।

उत्तराखंड के मल्ला ढांगू , पौड़ी गढ़वाल में सिलाई एक जगह है। पचास साल पहले पहले गाँवों से या शहरों से लोग सिलोगी आते थे तो लम्बे पीतल के गिलास में चाय , रस या पकोड़ी खाने भंडारी होटल, सुर्रा लाला की दूकान में जाते थे।  चाय  , रस व पकोड़ी तक ग्राहकों की चाहत सीमित थी।  अब आय बढ़ने से व नास्ते में कई विकल्प आने से अब ग्राहकों की कई नई इच्छाएं आ गयी हैं और भंडारी होटल ग्राहकों की इच्छाओं को मसझा और उसने होटल का रंग बदला तो आज भी भंडारी होटल खड़ा है और अब तरह तरह के नास्ते रखता है व कांच के गिलासों  या चाइना कप -प्लेट में चाय सौंपता है।  सुर्रा लाला की दूकान बंद पद गयी क्योंकि सुर्रा लाला का स्वामी ग्राहकों की चाहत व इच्छाओं को न समझ सका। सुर्रा लाला का स्वामी  चाहत व आवश्यकता में अंतर नही मानता था।  चाहत व आवश्यकता एक दूसरे से जुड़े होने के बाद भी बिलकुल अलहदा विषय हैं। नास्ते की आवश्यकता हमेशा रहेगी किन्तु चाहत संस्कार , संस्कृति और व्यक्तित्व के अनुसार बदलती रहेगी।

वस्तु का भौतिक रूप केवल आवश्यकता समस्या समाधान देता है और अपने आप में अमर नही है।  अब चाय गुड की कुटकी के साथ नही पी जाती है।  समय के साथ नए वस्तुओं के आने से पुरानी शैली व पुराने वस्तु की चाहत समाप्त हो जाती है।

 

Copyright @ Bhishma Kukreti 11/12//2014

 
Contact ID bckukreti@gmail.com

Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी …
                                    References

1 -भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना , शैलवाणी (150  अंकों में ) , कोटद्वार , गढ़वाल

Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and  Hospitality Industry Development  in Uttarakhand; Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pauri Garhwal, Uttarakhand; Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand; Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Tehri Garhwal, Uttarakhand; Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Chamoli Garhwal, Uttarakhand; Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand; Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Nainital Kumaon, Uttarakhand; Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Almora Kumaon, Uttarakhand; Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Champawat Kumaon, Uttarakhand; Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Bageshwar Kumaon, Uttarakhand; Want Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand;
           स्वच्छ भारत ! स्वच्छ भारत ! बुद्धिमान भारत !




Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,387
  • Karma: +22/-1
                                  Product Concept in Hospitality Marketing

                                  आतिथ्य प्रबंधन में वस्तु की भूमिका

                                     Hospitality Management  -12

 

                                                  आतिथ्य प्रबंधन -12

                                     ( Hospitality and Tourism  Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--130 ) 

                                         उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन -भाग 130   

 

                                                                    लेखक ::: भीष्म कुकरेती  (विपणन व विक्री प्रबंधन विशेषज्ञ )

प्रोडक्ट या वस्तु का मार्केटिंग /विपणन में अर्थ है  जो ग्राहक की आवश्यकता पूरी करता है और  संतोष देता है।

निम्न विषय प्रोडक्ट/ वस्तु के अंतर्गत आते हैं -

वस्तु

सेवा

विचार

अनुभव

व्यक्ति

स्थान

वितरण

सूचना

संस्थान

               आदि

अतः आतिथ्य प्रबंधन में वस्तु या  प्रोडक्ट केवल भौतिक रूप में नही लिया जाता है।

Copyright @ Bhishma Kukreti 14/12//2014

 
Contact ID bckukreti@gmail.com

Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी …
                                    References

1 -भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना , शैलवाणी (150  अंकों में ) , कोटद्वार , गढ़वाल

Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and  Hospitality Industry Development  in Uttarakhand; Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pauri Garhwal, Uttarakhand; Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand; Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Tehri Garhwal, Uttarakhand; Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Chamoli Garhwal, Uttarakhand; Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand; Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Nainital Kumaon, Uttarakhand; Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Almora Kumaon, Uttarakhand; Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Champawat Kumaon, Uttarakhand; Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Bageshwar Kumaon, Uttarakhand; Product Concept in Hospitality Marketing  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand;

उत्तराखंड पर्यटन विकास , गढ़वाल , उत्तराखंड पर्यटन विकास ; उत्तराखंड पर्यटन विकास ; कुमाऊं  उत्तराखंड पर्यटन विकास ; हरिद्वार उत्तराखंड पर्यटन विकास ;   

 

      स्वच्छ भारत ! स्वच्छ भारत ! बुद्धिमान भारत !


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,387
  • Karma: +22/-1
                     Customer Value in Hospitality Management

                                     ग्राहक का  उपयोगिता  प्रति दृष्टिकोण

                                     Hospitality Management  -13

 

                                                  आतिथ्य प्रबंधन -13

                                     ( Hospitality and Tourism  Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--131 ) 

                                         उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन -भाग 131   

 

                                                                    लेखक ::: भीष्म कुकरेती  (विपणन व विक्री प्रबंधन विशेषज्ञ )

    ग्राहक को वस्तु के लाभ  (benefits ) व  कीमत  (Cost ) के अंतर को विपणन में उपयोग /मूल्य  कहते हैं।

कीमत का आकलन रूपये -पैसे से भी हो सकता है और बगैर रूपये से  होता। है

जैसे समय की बचत , मान सम्मान आदि भी कीमत (Cost ) के अंतर्गत आते हैं। अतः value या उपयोगिता में धन व बगैर धन के कारक महत्वपूर्ण होते हैं।

  प्रत्येक ग्राहक समूह की उपयोगिता के बारे में छवि या दृष्टिकोण अलग अलग होती है।

विपणन कर्ता को ग्राहक अन्वेषण से पता लगाते रहना चाहिए कि उनके मुख्य ग्राहक समूह का उपयोगिता के प्रति क्या क्या दृष्टिकोण है।

यह खा जाता है कि उत्तराखंड में गढ़वालियों के  होटल बंद हो रहे हैं और गैर गढ़वालियों के होटल अधिक चल रहे हैं तो यह स्पष्ट है कि गढ़वाली होटल मालिक ग्राहकों का उपयोगिता के प्रति दृष्टिकोण के प्रति सचेत नहीं रहे हैं

 

Copyright @ Bhishma Kukreti 15/12//2014

 
Contact ID bckukreti@gmail.com

Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी …
                                    References

1 -भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना , शैलवाणी (150  अंकों में ) , कोटद्वार , गढ़वाल

Marketing of Travel, Tourism and  Hospitality Industry Development  in Uttarakhand; Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pauri Garhwal, Uttarakhand; Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand; Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Tehri Garhwal, Uttarakhand; Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Chamoli Garhwal, Uttarakhand; Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand; Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Nainital Kumaon, Uttarakhand; Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Almora Kumaon, Uttarakhand; Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Champawat Kumaon, Uttarakhand; Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Bageshwar Kumaon, Uttarakhand; Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand;

उत्तराखंड पर्यटन विकास , गढ़वाल , उत्तराखंड पर्यटन विकास ; उत्तराखंड पर्यटन विकास ; कुमाऊं  उत्तराखंड पर्यटन विकास ; हरिद्वार उत्तराखंड पर्यटन विकास ;   

      स्वच्छ भारत ! स्वच्छ भारत ! बुद्धिमान भारत !



Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,387
  • Karma: +22/-1
                        Customer Satisfaction in Hospitality Management

                              आतिथ्य प्रबंधन में ग्राहक संतोष की भूमिका

                                     Hospitality Management  -14

 

                                                  आतिथ्य प्रबंधन -14

                                     ( Hospitality and Tourism  Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--132 ) 

                                         उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन -भाग 132   

 

                                                                    लेखक ::: भीष्म कुकरेती  (विपणन व विक्री प्रबंधन विशेषज्ञ )

ग्राहक संतोष वास्तव में ग्राहक की अवधारणा , अवबोधन संबंधी अनुभूति है।  वस्तु द्वारा दिया गया फल और ग्राहक की आशाओं का अनुपात ग्राहक संतोष होता है।  माना कि बद्रीनाथ के होटल में ग्राहक ने कमरे में वाटर हीटर की आशा ना की हो और हीटर मिल जाय तो ग्राहक का संतोष वृद्धि लाजमी है। यदि ग्राहक ने आशा की हो कि होटल में वाटर गीजर होगा किन्तु होटल में बद्रीनाथ तप्त कुण्ड से  गरम पानी लाया जाता हो तो हो सकता है कि ग्राहक को असंतोष हो। आशा अनुरूप सेवा मिलने या ना मिलने का सीधा संबंध संतोष -असंतोष से होता है।

यदि सेवा आशानुरूप न हो तो ग्राहक को असंतोष होता है।

यदि सेवा आशानुरूप  हो तो ग्राहक को संतोष होता है।

यदि सेवा आशानुरूप से अधिक  हो तो ग्राहक को आनंद मिलता है।

ग्राहक की अपेक्षाएं निम्न कारणों से सजीव होती हैं -

१ -स्वयं का भूतकालीन अनुभव

२- विज्ञापन सूचनाओं आधार पर

३- दोस्तों , परिचितों के अनुभव व सूचनाओं के आधार पर

४- अवचेतन मन अनुसार

५- चेतन मन अनुसार

  आतिथ्य व्यापार के व्यापारियों को अपने व्यापार के बारे में नाप तौलकर ही ग्राहक की आशा पैदा करनी चाहिए।  सेवा से कम की आशा भी हानिकारक होती है और सेवा से अधिक की आशा भी।

संतोष प्राप्त ग्राहक अन्य ग्राहकों को आपके व्यापार की प्रशसा करते हैं और असंतोष प्राप्त ग्राहक आपके व्यापार की आलोचना करता है।

ग्राहक संतोष  आतिथ्य व्यापार की कुंजी है।

Copyright @ Bhishma Kukreti 16/12//2014

 
Contact ID bckukreti@gmail.com

Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी …
                                    References

1 -भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना , शैलवाणी (150  अंकों में ) , कोटद्वार , गढ़वाल

Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and  Hospitality Industry Development  in Uttarakhand; Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pauri Garhwal, Uttarakhand; Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand; Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Tehri Garhwal, Uttarakhand; Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Chamoli Garhwal, Uttarakhand; Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand; Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Nainital Kumaon, Uttarakhand; Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Almora Kumaon, Uttarakhand; Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Champawat Kumaon, Uttarakhand; Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Bageshwar Kumaon, Uttarakhand; Customer Satisfaction in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand;

उत्तराखंड पर्यटन विकास , गढ़वाल , उत्तराखंड पर्यटन विकास ; उत्तराखंड पर्यटन विकास ; कुमाऊं  उत्तराखंड पर्यटन विकास ; हरिद्वार उत्तराखंड पर्यटन विकास ;   

 

      स्वच्छ भारत ! स्वच्छ भारत ! बुद्धिमान भारत !

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,387
  • Karma: +22/-1
                                  Role of Quality in Hospitality Management

                                   आतिथ्य प्रबंधन में गुणवत्ता की भूमिका

                                            Hospitality Management  -15

 

                                                  आतिथ्य प्रबंधन -15

                                     ( Hospitality and Tourism  Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--133 ) 

                                         उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन -भाग 133   

 

                                                                    लेखक ::: भीष्म कुकरेती  (विपणन व विक्री प्रबंधन विशेषज्ञ )
    उत्पादन , सेवा या कार्य सम्पादन में गुणवत्ता का आतिथ्य हो या अन्य कोई व्यापार  सभी व्यापार में महत्व होता है। उत्पाद , सेवा या कार्य में गुणवत्ता का ग्राहक के मूल्यों और संतोष  अवश्य ही प्रभाव पड़ता है। गुणवत्ता  की सीमित  परिभाषा है -दोष रहित उत्पाद या सेवा या कार्य। किन्तु यह परिभाषा  सीमित है और गुणवत्ता में ग्राहक संतोष आवश्यक है। जिस उत्पाद , सेवा या कार्य से ग्राहक को संतोष न हो वह उत्पाद , सेवा या कार्य दोषपूर्ण है।
  गुणवत्ता की शुरुवात ग्राहक की आवश्यकता से शुरू होती है और गुणवत्ता का अंत ग्राहक संतोष पर होता है।
दोषपूर्ण गुणवत्ता से व्यापारी को अनेक वित्त संबंधी (रखरखाव व्यय  में वृद्धि आदि ) हानियां उठानी पड़ती है अंत  में ग्राहकों से हाथ धोना पड़ता है। 
आज विपणनकर्ताओं को रिटर्न ऑन क्वालिटी (ROQ ) पर ध्यान दे रहे हैं।
सफलता हेतु कम्पनियों को सम्पूर्ण गुणवत्ता प्रबंधन प्राप्ति हेतु रणनीति बनानी होती है और ग्राहकों के संरक्षकों का रोल भी अदा करना पड़ेगा।


Copyright @ Bhishma Kukreti 17/12//2014

 
Contact ID bckukreti@gmail.com

Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी …
                                    References

1 -भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना , शैलवाणी (150  अंकों में ) , कोटद्वार , गढ़वाल

Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and  Hospitality Industry Development  in Uttarakhand; Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pauri Garhwal, Uttarakhand; Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand; Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Tehri Garhwal, Uttarakhand; Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Chamoli Garhwal, Uttarakhand; Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand; Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Nainital Kumaon, Uttarakhand; Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Almora Kumaon, Uttarakhand; Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Champawat Kumaon, Uttarakhand; Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Bageshwar Kumaon, Uttarakhand; Role of Quality in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand;

उत्तराखंड पर्यटन विकास , गढ़वाल , उत्तराखंड पर्यटन विकास ; उत्तराखंड पर्यटन विकास ; कुमाऊं  उत्तराखंड पर्यटन विकास ; हरिद्वार उत्तराखंड पर्यटन विकास ;   

 

      स्वच्छ भारत ! स्वच्छ भारत ! बुद्धिमान भारत !




Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,387
  • Karma: +22/-1

                                    Exchanges, Transactions and Relationship in Hospitality Management

                                        आतिथ्य प्रबंधन में विनियम , लेन -देन और संबंधो का महत्व

                                           Hospitality Management  -16

 

                                                  आतिथ्य प्रबंधन -16

                                     ( Hospitality and Tourism  Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--134 ) 
     
                                         उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन -भाग 134   

 

                                                                    लेखक ::: भीष्म कुकरेती  (विपणन व विक्री प्रबंधन विशेषज्ञ )

                                          विनियम


              विनियम में एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति/संस्था  से अपनी आवश्यकता पूरी कर संतुष्टि प्राप्त कर ऐवज में कीमत रूप में पदार्थ/धन /सेवा देता है या यूँ कहा  जा सकता है कि कीमत के ऐवज में आवश्यकता पूर्ति व संतुष्टि प्रदान करने को विनियम कहते हैं।

विनियम द्वारा व्यक्ति /समूह /संस्था अपनी ऐच्छिक आवश्यकता पूर्ति करता है।

                                                                    लेन-देन या सौदा

         दो व्यक्तियों या संस्थाओं; व्यक्ति व संस्था या संस्था से संस्था के मध्य व्यापारिक क्रिया को लेन -देन या सौदा कहते हैं।

                                                                        संबंध प्रबंधन

सौदा वास्तव में संबंध प्रबंधन का ही हिस्सा है।

आतिथ्य प्रबंधन में सौदा का महत्व महत्वपूर्ण है और भविष्य में संबंध प्रबंधन की और भी महत्व बढ़ता जाएगा।

संबंध प्रबंधन का महत्व निम्न क्षेत्रों में महत्व है -

१- आतिथ्य संस्थान व ग्राहकों के मध्य संबंध

२- आतिथ्य संस्थान व उसके कर्मचारियों के मध्य संबंध

३- आतिथ्य प्रबंधन में प्रतियोगियों के मध्य संबंध

४- पर्यटन रिटेलर /खुरदरा व्यापारियों का और पर्यटन -आतिथ्य सेवा दायकों के मध्य संबंधजैसे होटल का एयरलाइन , टूर गाइड , परिहवन सेवा  मध्य संबंध

५-पर्यटन रिटेलर या खुरदरा व्यापारियों का बड़े ग्राहकों /संस्थानों या सरकारी संस्थाओं के मध्य संबंध

६- भोजन सेवा दाताओं का विश्वविद्यालय जैसे संस्थानों के साथ संबंध

७-फ़ूड चेन वालों का परिहवन या अन्य सेवा दाताओं के साथ संबंध

८- पर्यटन व्यापारियों /होटल वालों का सप्लायरों के मध्य संबंध

९- पर्यटन व्यापारियों /होटल वालों का अन्य सहभागी सहयोगी संस्थाओं के साथ सबंध जैसे होटल वालों का विज्ञापन कम्पनियों , इंटरनेट सेवा दाताओं के साथ संबंध

१०- पर्यटन या आतिथ्य व्यापारियों का सप्लाई व ग्राहक के तरफ वाले वितरकों के साथ संबंध

 ११-पर्यटन  व्यापारियों का स्थानीय समाज से संबंध


Copyright @ Bhishma Kukreti 18/12//2014

 
Contact ID bckukreti@gmail.com

Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी …
                                    References

1 -भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना , शैलवाणी (150  अंकों में ) , कोटद्वार , गढ़वाल


Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and  Hospitality Industry Development  in Uttarakhand; Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pauri Garhwal, Uttarakhand; Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand; Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Tehri Garhwal, Uttarakhand; Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Chamoli Garhwal, Uttarakhand; Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand; Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Nainital Kumaon, Uttarakhand; Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Almora Kumaon, Uttarakhand; Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Champawat Kumaon, Uttarakhand; Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Bageshwar Kumaon, Uttarakhand; Role of Exchanges, Transactions and Relationship in Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand;

उत्तराखंड पर्यटन विकास , गढ़वाल , उत्तराखंड पर्यटन विकास ; उत्तराखंड पर्यटन विकास ; कुमाऊं  उत्तराखंड पर्यटन विकास ; हरिद्वार उत्तराखंड पर्यटन विकास ;   

 

      स्वच्छ भारत ! स्वच्छ भारत ! बुद्धिमान भारत !


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,387
  • Karma: +22/-1
                                 Role of Market in Hospitality Management, Hotel Management
                                                   आतिथ्य में मार्केट /बाजार की भूमिका

                                         Hospitality Management, Hotel Management   -17

 

                                                  आतिथ्य प्रबंधन, होटल प्रबंध -17

                                     ( Hospitality and Tourism  Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--135 ) 
     
                                         उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन -भाग 135   

 

                                                                    लेखक ::: भीष्म कुकरेती  (विपणन व विक्री प्रबंधन विशेषज्ञ )

बाजार या मार्किट का सरल और पुराना मतलब है कि जहां खरीददार आकर कुछ खरीदता है और विक्रेता को प्रोडक्ट /सेवा के ऐवज में धन या कोई वस्तु देता है।
बाजार उन संभावित खरीददारों का समूह होता है जहां खरीददार एक खास आवश्यकता पूर्ति करते हैं।
किन्तु अब बाजार केवल भौतिक स्थिति के नजरिये से नही देखा जा सकता है।  अब बाजार इंटरनेट में भी लगते हैं।  बाजार की अब रचना की जाती है।
आधुनिक विपणन प्रबंधन श्रम विभाजन के सिद्धांतो पर चलता है और श्रम कार्य भी विशेष श्रम हो गए हैं। विशेष श्रमिक विशेष प्रोडक्ट उत्पादन करता है और फिर अपनी अन्य आवश्यकता की पूर्ति दूसरे श्रमिक द्वारा बनाये उत्पाद से करता है।

Copyright @ Bhishma Kukreti 19/12//2014

 
Contact ID bckukreti@gmail.com

Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी …
                                    References

1 -भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना , शैलवाणी (150  अंकों में ) , कोटद्वार , गढ़वाल

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,387
  • Karma: +22/-1
                                         Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management

                                          होटलों के अबांछित ग्राहक और आतिथ्य प्रबंधन में विपणन की भूमिका


                                         Hospitality Management, Hotel Management   -18

 

                                                  आतिथ्य प्रबंधन, होटल प्रबंध -18

                                     ( Hospitality and Tourism  Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series--136 ) 
     
                                         उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन -भाग 136   

 

                                                                    लेखक ::: भीष्म कुकरेती  (विपणन व विक्री प्रबंधन विशेषज्ञ )

 विपणन का आतिथ्य प्रबंधन में अधिक आवश्यकता पड़ती है क्योंकि आतिथ्य  प्रबंधन एक जटिल कार्य है और प्रत्येक ग्राहक होटल या आतिथ्य प्रबंधन को प्रभावित करता है।

कुछ अवांछित ग्राहकों का निम्न उदाहरण यह बतलाने के लिए काफी है कि क्योंकर  आतिथ्य प्रबंधन में समग्र विपणन की आवश्यकता पड़ती है -

   अवांछित पुरुष ग्राहकों  क्रियाएँ ----------------------------------------------------------------अवांछित स्त्री ग्राहकों की क्रियाएँ

१-बहुत बड़ा अहम जिसे हर समय सहलाना आवश्यक है ----------------------------------१- गुस्से में खाना वापस भेज देती हैं

२-गाली गलौज की भाषा बोलना ----------------------------------------------------------------२- बिना अतिरिक्त कीमत में कुछ विशेष की मांग

३-सम्भोग युक्त शब्दों का प्रयोग ---------------------------------------------------------------३- हर समय मन बदलना

४- सेवक को पेट नाम से पुकारना ---------------------------------------------------------------४- फोकट में अतिरिक्त सेवा

५-दूर बैठना और सेवक के लिए परेशानी पैदा करना -----------------------------------------५- भोजन के बाद भी देर तक टेबल में   बैठे रहना

६- यह समझना कि होटल उसने खरीद लिया है ----------------------------------------------६-अत्त्याधिक परफ्यूम लगाकर  सार्वजनिक जगह जैसे डाइनिंग हॉल में आना

७-स्त्री सेवकों की तुलना में पुरुष सेवकों को  जोर से निर्दयता पूर्वक आदेश देना --------७-टिप देने में अत्याधिक कंजूसी

८- केवल मैनजरों से डील करना ----------------------------------------------------------------८- यह समझना कि होटल में केवल वही अतिथि है

९- सेवकों को फटकारते रहना -------------------------------------------------------------------९-अपना सामान दूसरों की कुर्सी में लापरवाही से रखना

१०-जो समझता है कि दुनिया में उससे अधिक समझदार कोई नही है --------------------१०- गलत होने पर टौन्ट कसते जाना

उपरोक्त ग्राहकों की आदतें सिद्ध करता है कि व्यवसायिक आतिथ्य प्रबंधन में आधुनिक व व्यवसायिक विपणन की आवश्यकता आवश्यक है।

Copyright @ Bhishma Kukreti 20/12//2014

 
Contact ID bckukreti@gmail.com

Tourism and Hospitality Marketing Management for Garhwal, Kumaon and Hardwar series to be continued ...

उत्तराखंड में पर्यटन व आतिथ्य विपणन प्रबंधन श्रृंखला जारी …
                                    References

1 -भीष्म कुकरेती, 2006  -2007  , उत्तरांचल में  पर्यटन विपणन परिकल्पना , शैलवाणी (150  अंकों में ) , कोटद्वार , गढ़वाल

Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and  Hospitality Industry Development  in Uttarakhand; Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Haridwar Garhwal, Uttarakhand; Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pauri Garhwal, Uttarakhand; Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Dehradun Garhwal, Uttarakhand; Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Uttarkashi Garhwal, Uttarakhand; Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Tehri Garhwal, Uttarakhand; Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Rudraprayag Garhwal, Uttarakhand; Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Chamoli Garhwal, Uttarakhand; Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Udham Singh Nagar Kumaon, Uttarakhand; Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Nainital Kumaon, Uttarakhand; Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Almora Kumaon, Uttarakhand; Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Champawat Kumaon, Uttarakhand; Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development  in Bageshwar Kumaon, Uttarakhand; Undesirable Customers and Need of Marketing in Hospitality Management  & Marketing of Travel, Tourism and Hospitality Industry Development in Pithoragarh Kumaon, Uttarakhand;

उत्तराखंड पर्यटन विकास , गढ़वाल , उत्तराखंड पर्यटन विकास ; उत्तराखंड पर्यटन विकास ; कुमाऊं  उत्तराखंड पर्यटन विकास ; हरिद्वार उत्तराखंड पर्यटन विकास ; देहरादून उत्तराखंड पर्यटन विकास ;   गढ़वाल  उत्तराखंड में होटल प्रबंधन ; कुमाऊं उत्तराखंड में होटल प्रबंधन ;  देहरादून उत्तराखंड में होटल प्रबंधन ; हरिद्वार उत्तराखंड में होटल प्रबंधन ;     

 

      स्वच्छ भारत ! स्वच्छ भारत ! बुद्धिमान भारत !



 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22