Author Topic: Untracked Tourist Spot In Uttarakhand - अविदित पर्यटक स्थल  (Read 52736 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Re: UNKNOWN & UNTRACKED TOURIST SPOTS OF UK
« Reply #30 on: April 25, 2008, 12:10:22 PM »
Berinag

 Berinag  (tea gardens at  Chaukori  (11 km from  Berinag), Didihat (55km), and Jauljibi (77 km) apart from the glaciers or Gal, valleys and waterfalls that dot the region are must visits.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Re: UNKNOWN & UNTRACKED TOURIST SPOTS OF UK
« Reply #31 on: April 25, 2008, 12:11:13 PM »
Pithoragarh Fort is on the top of a hill on the outskirts of the town and was built by the Gorkha rulers.


Chandak (8 kms) is a place where you get awesome views of the Himalayas and also has a very sacred Manu Temple here.
 

Thal Kedar (16 km) is an important religious centre for Shiva devotees, where a large fair is held on the occasion of Maha Shivratri. The natural beauty here is also worth seeing.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Re: UNKNOWN & UNTRACKED TOURIST SPOTS OF UK
« Reply #32 on: April 26, 2008, 04:36:15 PM »

शीतलाखेतः 1828 मीटर की ऊंचाई पर रानीखेत और अल्मोड़ा के बीच खूबसूरत शहर शीतलाखेत स्थित है। शानदार हिमालयी चोटियों, फलों के बगीचे और जड़ी-बूटियों के लिए पर्यटकों के बीच प्रख्यात यह जगह शिविर के लिए आदर्श है।

प्रख्यात स्‍्याही देवी मंदिर यहां से महज तीन किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

यह जगह मशहूर स्वतंत्रता सैनानी और देश के पूर्व गृह मंत्री भारत रत्न पंडित श्री गोविंद बल्लभ पंत का गांव भी है।



एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Re: UNKNOWN & UNTRACKED TOURIST SPOTS OF UK
« Reply #33 on: April 26, 2008, 04:36:55 PM »
कटारमल सूर्य मंदिरः इस सूर्य मंदिर का लोकप्रिय नाम बरादित्य है। पूरब की ओर उन्मुख यह मंदिर कुमायूं क्षेत्र के सबसे बड़े और विशाल मंदिरों में से एक है।

माना जाता है कि इसका निर्माण मध्यकाल में कत्यूरी वंश के राजा कटारमल जिन्होंने द्वाराहाट से केंद्रीय क्षेत्र पर शासन किया था, ने करवाया था।

विभिन्न समूहों में 50 छोटे-छोटे मंदिर हैं जो झुंड में यहां बने हुए हैं। मुख्य मंदिर का निर्माण इनसे अलग समय में हुआ लगता है। वास्तुकला संबंधी विशेषताओं और खंभों पर उकेरे गए शिलालेखों के आधार पर इस मंदिर को 13 शदी में बना हुआ माना गया है।

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: UNKNOWN & UNTRACKED TOURIST SPOTS OF UK
« Reply #34 on: April 28, 2008, 12:17:43 PM »
अल्मोडा के किले

अल्मोड़ा नगर के पूर्वी छोर पर 'खगमरा' नामक किला है। कत्यूरी राजाओं ने इस नवीं शताब्दी में बनवाया था।  दूसरा किला अल्मोड़ा नगर के मध्य में है।  इस किले का नाम 'मल्लाताल' है।  इसे कल्याणचन्द ने सन् १५६३ ई. में बनवाया था। कहते हैं, उन्होंने इस नगर का नाम आलमनगर रखा था।  वहीं चम्पावत से अपनी राजधानी बदलकर यहाँ लाये थे।  आजकल इस किले में अल्मोड़ा जिले के मुख्यालय के कार्यलय हैं।  तीसरा किला अल्मोड़ा छावनी में है, इस लालमण्डी किला कहा जाता है।  अंग्रेजों ने जब गोरखाओं को पराजित किया था तो इसी किले पर सन् १८१६ ई. में अपना झण्डा फहराया था।  अपनी खुशी प्रकट करने हेतु उन्होंने इस किले का नाम तत्कालीन गवर्नर जनरल के नाम पर - 'फोर्ट मायरा' रखा था।  परन्तु यह किला 'लालमण्डी किला' के नाम से अदिक जाना जाता है।  इस किले में अल्मोड़ा के अनेक स्थलों के भव्य दर्शन होते हैं।

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: UNKNOWN & UNTRACKED TOURIST SPOTS OF UK
« Reply #35 on: April 28, 2008, 03:02:52 PM »
नौकुचियाताल
भीमताल से ३ कि.मी. की दूरी पर उत्तर-पूर्व की और नौ कोने वाला 'नौकुचियाताल' समुद्र की सतह से १३१९ मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। नैनीताल से इस ताल की दूरी २६.२ कि.मी. है।

इस नौ कोने वाले ताल की अपनी विशिष्ट महत्ता है। इसके टेढ़े-मेढ़े नौ कोने हैं। इस अंचल के लोगों का विश्वास है कि यदि कोई व्यक्ति एक ही दृष्टि से इस ताल के नौ कोनों को देख ले तो उसकी तत्काल मृत्यु हो जाती है। परन्तु वास्तविकता यह है कि सात से अधिक कोने एक बार में नहीं देखे जा सकते।

इस ताल की एक और विशेषता यह है कि इसमें विदेशों से आये हुए नाना प्रकार के पक्षी रहते हैं। ताल में कमल के फूल खिले रहते हैं। इस ताल में मछलियों का शिकार बड़े अच्छे ढ़ंग से होता है। २०-२५ पौण्ड तक गी मछलियाँ इस ताल में आसानी से मिल जाती है। मछली के शिकार करने वाले और नौका विहार शौकिनों की यहाँ भीड़ लगी रहती है। इस ताल के पानी का रंग गहरा नीला है। यह भी आकर्षण का एक मुख्य कारण है। पर्यटकों के लिए यहाँ पर खाने और रहने की सुविधा है। धूप और वर्षा से बचने के लिए भी पर्याप्त व्यवस्ता की गयी है।

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: UNKNOWN & UNTRACKED TOURIST SPOTS OF UK
« Reply #36 on: April 30, 2008, 04:13:18 PM »
तुंगनाथ- पांच केदार में से एक

The Tungnath temple is situated at the height of 3680 mtrs. atop the Chandranath parvat, 30 Kms. from Ukhimath - Gopeshwar Road. To reach it requires a strenuous trek through dense forest.
                    A story goes that the Rishi Vyas told the Pandavas that they were guilty of killing of their own relatives and their sins would be expiated only if Shiva pardoned them. So the Pandavas began to look for Shiva. Lord Shiva kept avoiding them as he knew that Pandavas were guilty. So the Lord took refuge underground and later, his body parts resurfaced at five different places. These five places, where five magnificent temples of Lord Shiva stand, are known as the “Panch Kedar”. Each one is identified with a part of his body. Tugnath is where his hands were supposedly seen. Kedarnath, his hump; Rudranath, his head; Kalpeshwar, his hair; and Madmaheshwar, his navel.
       

In this temple of Shiva where the dome spans sixteen doors, a 2.5 feet tall idol of Adi Guru Shankaracharya is located along side the lingam. The Nandadevi temple is also situated at Tungnath not far from the awe-inspiring Akash ganga water fall, so called, because the water looks as though is is descending from heaven.

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: UNKNOWN & UNTRACKED TOURIST SPOTS OF UK
« Reply #37 on: April 30, 2008, 04:14:35 PM »
मदमहेश्वर

         The Shiva temple near the source of the Madmaheshwar river, is the second Kedar. According to a legend, when lord Shiva was avoiding the Pandavas, he sank into the earth at Kedarnath with a desire to elude them and his torso surfaced here at Madmaheshwar.

             Located amidst serene environs, the temple has no crowd of Pandas, Pujaris, Shops  or the bustle of major pilgrimage centres . There is a small Dharamshala and provisions must be carried from the village of Gaundar.       The temple is close for six month during winter when the silver idols are taken ceremonially to Ukhimath for worship. Only the Shivling remains. Saraswati kund, where Tarpans are offered is closed by.   

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: UNKNOWN & UNTRACKED TOURIST SPOTS OF UK
« Reply #38 on: April 30, 2008, 04:16:09 PM »
कार्तिकेय मंदिर, रुद्रप्रयाग

38 kms. from Rudraprayag on the Rudraprayag - Pokhri route is a village Kanak Chauri from where 3 kms. trek leads to Kartikswami. This place has a temple and idol of Lord Shiva’s son Kartikeya, situated at a elevation of 3048 mts., the place abounds in natural beauty and one can have a close and panoramic view of the Himalayan peaks.

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: UNKNOWN & UNTRACKED TOURIST SPOTS OF UK
« Reply #39 on: April 30, 2008, 04:17:25 PM »
त्रिजुगीनारायण मंदिर, रुद्रप्रयाग

This magnificent temple dedicated to Lord Vishnu, lies in the village of Triyuginarayan, on the ancient bridle path that connects Ghuttur to Shri Kedarnath. It is similar in architectural style to the temple of Kedarnath making this village an important pilgrimage centre.

             According to a legend, Triyuginarayan was the capital of the legendary Himvat and is the place where Shiva wedded Parvati duing the Satyug. the fire for the divine wedding was lit in the huge four cornered Havan Kund. All the sages attended the wedding of which Vishnu himself was the master of ceremonies.

            Remnants of that celestial fire are believed to be burning in the Havan kund even today. Pilgrim offer wood to the fire that has seen three Yug hence the name TRIYUGINARAYAN. The ashes from this fire is supposed to promote conjugal bliss .

          There are three other kund in this village,Rudrakund, Vishnu kund and Brahmakund. These are kund where the Gods bathed at the time of Shiva-Parvati wedding. The water in these kund flows from the Saraswati kund which is said to have sprang from Vishnu’s Navel. Women seeking children bath here, believing that it cures infertility.

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22