Author Topic: 18 Aug 10-18 School Children Killed in Kapkot, Bageshwar due to Cloudburst  (Read 24519 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Update - Search for bodies of school kids ends and dead bodies accounted for
« Reply #40 on: August 19, 2010, 03:56:33 PM »
Search for bodies at Indian school ends   
 
Rescuers said on Thursday they had stopped searching the rubble of a northern Indian school that collapsed under heavy monsoon rains, after recovering the bodies of all 18 children killed.
The torrential rains on Wednesday caused the single-storey junior school to cave in, trapping the victims aged between five and 12 years. Officials said all the children had now been accounted for.
"We have now recovered all 18 bodies and the search for more victims has been called off," Piyush Rautela, head of Uttarakhand's disaster management agency, told AFP in the state capital, Dehradun.
 
http://news.smh.com.au/breaking-news-world/search-for-bodies-at-indian-school-ends-20100819-12rvz.html

दीपक पनेरू

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 281
  • Karma: +8/-0
ये प्यारी फूलों की क्यारी,
  किसको इसकी नजर लगी,
  क्या फिर उगेगे वही फूल यही पर,
  ऐसी फिर क्यों आस जगी,
 
  क्यों कुदरत ने कहर बरपाया,
  बच्चों ने क्या कुसूर किया,
  किसी कि करनी इन पर बरसी,
  क्यों  इनको हमसे दूर किया,
 
  क्यों पावन भूमि पर ऐसी,
  अनहोनी ने जनम लिया,
  किसी कि करनी कोई भरे,
  क्यों ऐसा कोई करम किया,
 
  क्यों हर "दल" अब रोता है,
  इनको होनी का पता नहीं,
  मौसम विभाग, आपदा प्रबंधन,
  क्यों समय से जगा नहीं.
 
  क्या अब इस जगह कि सुन्दरता,
  ये अब फिर वापस ला सकते है....
  भावनाओ का मोल ख़तम हुआ,
  क्यों एक दुसरे को तकते है,....
 
  फिर कोई "कपकोट" न बन पाए,
  ऐसा सकल्प अब लेना होगा,
  तन, मन, धन जो भी बन पड़े हमसे,
  ओ अब दिल से देना होगा.......
 
  रचना दीपक पनेरू
  दिनांक १९-०८-२०१०

सत्यदेव सिंह नेगी

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 771
  • Karma: +5/-0
दुःख की इस घड़ी में समूचे पहाड़ी एकजुट हों
इस त्रासदी की राह देख रहे ठेकेदार पुनः सोचें
जाने क्या क्या और देखना पड़ें
ये किसके पापो का घड़ा अब,
उत्तराखंड पर फूटा है,
चोर, उचक्के, बदमाश यहाँ,
जिन्होंने लाखों को लूटा है,

मरते अबोध मासूम ओ बच्चे,
जिन्होंने अभी अभी चलना सीखा है,
क्या किस्मत लेकर आये माँ बाप,
क्या बच्चों के भाग्य मैं लिखा है,

ये बारिश का कहर बन क्यों,
प्रभु हमसे रूठा है,
उत्तराखंड की पावन धरती पर,
क्यों कहर बन कर टूटा है,

कही टूटकर गिरे पर्वत,
कही नदिया है जोरो पर,
दुखियों की किसी को खबर नहीं,
नेता लगे पैसे के जोरो पर,

अब इस दुःख की घडी में भी ये,
अपनी जेबों को गरम करें,
जिनको जरुरत है इनकी अब,
उनके लिए तो कुछ शर्म करें.

फिर बना "लेह", "लाह झेकला"
ये इन पापियों के पाप का साया है,
इस पावन उत्तराखंड को हर पल,
इन दुष्टों ने ऐसे ही सताया है.........

अब संभल  जाओ भाइयों,
इनको जड़ से साफ करो,
मरना तो सबको है एक दिन,
क्यों न उत्तराखंड के लिए मरो.

प्रभु दे शांति उन पीड़ितों को,
जिन्होंने इस दुःख को उठाया है,
किसी ने खोया घर बार यहाँ,
किसी ने बच्चों को गवाया है,


रचना दीपक पनेरू,
दिनांक 19 - अगस्त - 2010

Sunder Singh Negi/कुमाऊंनी

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 572
  • Karma: +5/-0
             "कुदरत का खेल निराला"

कुदरत का अपना खेल निराला, हारा उसके आघे, हर इंसान.
कोई बनती प्यारी दुलहनियां, कोई करता उसका, कन्यादान.

आंखों के कोने नम है तनहा के, क्यो जुल्म ढाया तुमने भगवान.
चार दिन की जिन्दगी है तनहा, सभी है इस धरती के, मेहमान.

रो-रो कर सिसकीया भर रहे, माया, ममता, मंजु, दिवान.
मम्मी पापा थाम कलेजा, देहरी मे बैठै है, सुनसान.

सुन्दर सिंह नेगी/तनहा इसान.
19/08/2010. 

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
From   Prateek Tewari <tewari.prateek@gmail.com>

subject   18 School Children Killed in Kapkot, Bageshwar due to Cloudburst

This is really a very heart breaking news. I happened to see this news in morning's Paper and was shocked. My condolences for the families who have lost their loved ones. May God Be with them.

Regards

Prateek Tewari

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

Primary school roof collapse kills 18 kids                                                                                                                                
                                        
                                                                                                                  [/t][/t][/t]
                   Rescuers search for survivors at the school. (AFP)               
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                  
Dehradun, Aug. 18 (PTI):   At least 18 children were killed after the roof of their primary school   in Uttarakhand collapsed in landslides following a cloudburst-triggered   downpour, less than a fortnight after Ladakh’s killer rain that was   blamed on the same weather phenomenon.
Six children have been rescued from the debris of the Saraswati Shishu Mandir at Sumgad village in the hilly Bageshwar district.
The bodies of the   18 children have been recovered and a search is on to find six children   still missing, chief minister Ramesh Pokhariyal Nishank said this   evening. There were 30 children in the class. The rescue has been   hampered by bad weather, and poor road connectivity is slowing efforts   to rush the injured to hospitals.
Nearly a dozen   houses around the school have also been flattened by the landslides that   followed the cloudburst-induced incessant rain since last night.An administrative team of senior officials has been rushed to the area.
Bageshwar district magistrate D.S. Garbiyal confirmed the tragedy occurred because of cloudburst-sparked landslides.
Rescue teams from   the district headquarters had a tough time reaching the spot after a   bridge linking the area with nearby town Kapkot also collapsed in the   heavy rain, according to district development officer S.K. Singh.
However, locals sprang to the rescue immediately after the incident and brought six children out of the rubble, Singh said.
Anup Nautiyal, the   CEO of Emergency Response Service, one of the agencies engaged in   rescue, described the incident as a “grave” tragedy. He said the   operations were continuing despite the bad weather and poor   connectivity. “We have already deployed few ambulances on the spot and   relief work continues as we speak now,” he said.
Chief minister   Pokhariyal announced a compensation of Rs 50,000 each to the families   that have lost their children. Governor Margaret Alva expressed grief   over the deaths. In her message, Alva said she was praying to God to   give strength to the family members of the children to bear the loss, a   Raj Bhavan release  said.
Over 100 people   had perished in the Ladakh downpour of August 6. Most of them were   buried alive under walls of mud and debris that had come crashing down   on Leh and other areas of the picturesque region.
                                                                               
Top
http://www.telegraphindia.com/1100819/jsp/frontpage/story_12828494.jsp[/td][/tr][/table]

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

Rescue Operation



Hisalu

  • Administrator
  • Sr. Member
  • *****
  • Posts: 337
  • Karma: +2/-0
Very sad News.....

Prakartik aapdaao per manushya ka koi bus nahi hota...

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
                  मृत बच्चों की याद में बनेगा स्मारक: निशंक
                  ================================


कपकोट(बागेश्वर): प्रदेश के मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि सरस्वती शिशु मंदिर तप्तकुंड की घटना में मारे गये बच्चों की याद में स्मारक बनाया जाएगा। उन्होंने विद्यालय के पुनर्निर्माण के लिए 10 लाख रुपये देने की घोषणा करते हुए मृत बच्चों के परिजनों को दी जाने वाली सहायता राशि बढ़ाकर दो लाख रुपये करने की घोषणा भी की। इसके साथ ही बच्चों की याद में एक चिल्ड्रन पार्क बनाने का निर्देश भी दिया। सीएम ने अपने साथ गए राज्यमंत्री खजान दास और कुमाऊं आयु्क्त को दो दिनों तक क्षेत्र में ही कैंप करने को कहा है।

गुरुवार को मुख्यमंत्री जगह-जगह बंद रास्तों के कारण सुबह से चलते हुए शाम को बमुश्किल सुमगढ़ पहुंचे। उन्होंने घटनास्थल का निरीक्षण करने के बाद कहा कि यह उनके जीवन की सबसे हृदय विदारक घटना है। इससे वह बेहद दु:खी हैं। उन्होंने कहा कि इसकी भरपाई करना संभव नहीं है, लेकिन प्रदेश सरकार प्रभावित परिवारों को हरसंभव मदद करेगी। उन्होंने सरस्वती शिशु मंदिर के पुनर्निर्माण के लिए 10 लाख रुपये तथा मृत बच्चों के परिजनों को दी जाने वाली सहायता राशि बढ़ाकर दो लाख रुपये करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि बच्चों की याद में पांच लाख रुपये से एक स्मारक बनाया जाएगा। साथ ही भू वैज्ञानिकों से सलिंग, सूडिंग, सुमगढ़ आदि गांवों का निरीक्षण कराया जाएगा। यदि वैज्ञानिकों ने कहा कि गांव में खतरा है तो उन्हें विस्थापित किया जाएगा। उन्होंने टूटी सड़कों, पुलों तथा रास्तों को तत्काल दुरुस्त करने के निर्देश जिला प्रशासन को दिये। घटनास्थल पर पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी बेहद भावुक हो गये। भ्रमण में उनके साथ स्वास्थ्य राज्यमंत्री बलवंत सिंह भौर्याल, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष बची सिंह रावत, पूर्व समाज कल्याण मंत्री अजय टम्टा, आपदा प्रबंधन राज्यमंत्री खजान दास, विधायक शेर सिंह गढि़या व चंदन दास, आपदा प्रबंधन उपाध्यक्ष हीरा धपोला, सांसद प्रदीप टम्टा आदि मौजूद थे।


http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_6661438.html

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
                 पथराई आंखों ने दी 18 बच्चों को अंतिम विदाई
          =====================================







बागेश्वर। सुमगढ़ में बादल फटने के बाद सरस्वती शिशु मंदिर में जिंदा दफन हुए सभी 18 बच्चों के शव निकाल लिये गये हैं। प्रशासन ने सामूहिक पोस्टमार्टम करने के बाद शव परिजनों को सौंपे। क्षेत्र के सैकड़ों लोगों ने रोते-बिलखते मासूमों का अंतिम संस्कार किया।

बुधवार की सुबह सुमगढ़ के सरस्वती शिशु मंदिर तप्तकुंड में बादल फटने के बाद आये मलबे में 18 बच्चे जिंदा दफन हो गये थे। स्थानीय ग्रामीणों, पुलिस प्रशासन, आईटीबीपी व राजस्व टीम ने सभी शवों को मलबे से निकाल लिया है। जिला प्रशासन ने घटना स्थल पर ही मृत बच्चों का पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सौंप दिए। इस घटना से गांव में मातम छाया है।

नन्हे-मुन्ने बच्चों के शव जब परिजनों को सौंपे गए तो चारों ओर चीत्कार व क्रंदन गूंज उठा। इस हृदयविदारक दृश्य को देख हर व्यक्ति रो पड़ा। परिजन कलेजे पर पत्थर रखकर अपने लाड़लों को दफनाने ले गये। इस दौरान सुमगढ़, सलिंग, पेठी, सलिंग उडियार आदि गांवों के सैकड़ों लोग मौजूद थे। शवों को लोगों ने अपने-अपने गांवों के श्मशान घाट पर दफन किया। इस दौरान डीएम डीएस गब्र्याल, एसपी मुख्तार मोहसिन सहित तहसील स्तर के अधिकारी भी मौजूद थे।


http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_6659759.html

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22