Author Topic: SURPRISE & UNIQUE NEWS OF RELATED TO UTTARAKHAND- जरा हट के खबर उत्तराखंड की  (Read 21142 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Folk song thrives on Tiwari * scandal
« Reply #10 on: January 04, 2010, 05:36:37 PM »
Until recently, very few outside Uttarakhand must have heard the song Nauchhami Narayana. Or its composer and singer Narendra Singh Negi.

Not anymore. Former Andhra Pradesh governor Narain Dutt Tiwari's alleged * scandal has ensured Negi's days of oblivion are over.

The Garhwali song - a travesty on the disgraced Tiwari who was recently sacked as the governor - has caught the public fancy. It is now the rage on YouTube ever since the politician's alleged *capades became public.

The song, which was released as a music video, has registered over one-lakh views on YouTube in just a week.

Nauchhami Narayana (or naughty Narayana) was first uploaded in November 2006, five months after its release. Till the third week of December 2009, it had garnered over 70,000 hits.

But things changed after Telugu channel ABN Andhra Jyothi televised footage of the 86-year old Tiwari allegedly in a * romp with three young girls.

Between December 25, 2009, and January 1, 2010, the music video has been viewed 1,19,038 times. The political satire is set to become the first Garhwali song to touch the two-lakh mark in the weeks to come.

The Congress leader's alleged * clips, meanwhile, have registered a whopping 3 lakh hits on YouTube so far.

Sung as a Jagar (a traditional song worshipping god), Nuachhami Narayana is a commentary on the manner in which Tiwari ran his govern-ment whenever he was the chief minister of Uttarakhand and Uttar Pradesh. ' Nepotism' used to be the order of the day with people close to him getting promoted unduly.

The music video shows a Tiwari lookalike dancing with young girls. Negi also showed Tiwari's alleged relationship with a Nepali girl, Sarika Pradhan, who was given a rank equivalent to a minister of state.

During his tenure as Uttarakhand CM, Tiwari tried to ban the VCD and Negi's shows. But that failed to reign in Negi's popularity. Negi was also harassed by the Congress government and his performances would be routinely disrupted.

The VCD remains the best selling album in Uttarakhand, with over nine lakh copies sold.

It became so famous that it is even performed during public functions and weddings.


http://indiatoday.intoday.in/site/Story/77651/India/Folk+song+thrives+on+Tiwari+*+scandal.html

Rawat_72

  • Newbie
  • *
  • Posts: 43
  • Karma: +2/-0
Until recently, very few outside Uttarakhand must have heard the song Nauchhami Narayana. Or its composer and singer Narendra Singh Negi.

Not anymore. Former Andhra Pradesh governor Narain Dutt Tiwari's alleged * scandal has ensured Negi's days of oblivion are over.

The Garhwali song - a travesty on the disgraced Tiwari who was recently sacked as the governor - has caught the public fancy. It is now the rage on YouTube ever since the politician's alleged *capades became public.

The song, which was released as a music video, has registered over one-lakh views on YouTube in just a week.

Nauchhami Narayana (or naughty Narayana) was first uploaded in November 2006, five months after its release. Till the third week of December 2009, it had garnered over 70,000 hits.




http://indiatoday.intoday.in/site/Story/77651/India/Folk+song+thrives+on+Tiwari+*+scandal.html


Mehta ji, the uploader of the video has deliberately added * video in the title of the song that is why it got so many hits which I think is misleading and wrong.

http://www.youtube.com/watch?v=ZWY-htpsv0I

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0

Rawat Ji.

You are right.

The person who has uploaded it has changed its title recently just to fetch more viwer to the video.

Until recently, very few outside Uttarakhand must have heard the song Nauchhami Narayana. Or its composer and singer Narendra Singh Negi.

Not anymore. Former Andhra Pradesh governor Narain Dutt Tiwari's alleged * scandal has ensured Negi's days of oblivion are over.

The Garhwali song - a travesty on the disgraced Tiwari who was recently sacked as the governor - has caught the public fancy. It is now the rage on YouTube ever since the politician's alleged *capades became public.

The song, which was released as a music video, has registered over one-lakh views on YouTube in just a week.

Nauchhami Narayana (or naughty Narayana) was first uploaded in November 2006, five months after its release. Till the third week of December 2009, it had garnered over 70,000 hits.




http://indiatoday.intoday.in/site/Story/77651/India/Folk+song+thrives+on+Tiwari+*+scandal.html


Mehta ji, the uploader of the video has deliberately added * video in the title of the song that is why it got so many hits which I think is misleading and wrong.

http://www.youtube.com/watch?v=ZWY-htpsv0I

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Woman saves life of husband from leopard- Bageshwar Distt Uttarakhand
« Reply #13 on: February 15, 2010, 05:32:27 PM »
Dehradun, Feb 15 (PTI) Showing exemplary courage, a woman saved the life of her husband from a leopard which had strayed into their house in Bageshwar district.

Woman saves life of husband from leopard (15 Feb 2010)

The incident occurred on the intervening night of Saturday and Sunday in the under-construction house of Bishnuli Devi at Talla Bilona village in the district, official sources said.

As the leopard strayed into their room, Devi and her husband Ram Prasad woke up. When Prasad raised an alarm, the wildcat attacked him and started dragging him outside the house.

On this, Devi picked up a wooden rod and attacked the beast repeatedly from behind until it left her husband, the sources said.

Later, Devi and other family members bolted the door from outside when the leopard went in another room, and informed forest officials who rushed to the spot. After a few hours, forest personnel caught the animal.

http://www.ptinews.com/news/518108_Woman-saves-life-of-husband-from-leopard

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
शराबियों को बिच्छू घास लगाकर दौड़ाया

सोमेश्वर (अल्मोड़ा): थाना क्षेत्र सोमेश्वर के ग्राम सिमखोला की महिलाओं ने शराब पीकर हुड़दंग करने वालों को बिच्छू घास लगाकर शराबियों तथा शराब बेचने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई शुरू कर दी है। गत रोज महिला मंगल दल सदस्यों ने क्षेत्र में शराब पीकर उत्पात मचाने तथा अभद्रता दिखाने वाले दो शराबियों को बिच्छू घास लगाकर गांव में दौड़ाया। भविष्य में मदिरा सेवन नहीं करने का वायदा करने पर ही उन्हें कड़ी चेतावनी के साथ छोड़ा गया। महिलाओं तथा ग्रामीणों ने पुलिस प्रशासन से शराब बेचने वालों तथा पीकर शांति व्यवस्था को भंग करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग करते हुए कहा है कि अगर कार्रवाई नहीं हुई तो उन्हें मजबूरन थाने में भी प्रदर्शन करने को बाध्य होना पड़ेगा।

शराब विरोधी इस अभियान में हाथों में डंडे तथा बिच्छू घास लिए महिलाओं ने भारती देवी के नेतृत्व में सिमखोला में घूम-घूमकर शराब विरोधी नारे भी लगाए। इधर अभिभावक संघ जीआईसी दड़मियां के अध्यक्ष चंदन सिंह बिष्ट ने भी महिलाओं के द्वारा उठाए गए इस अभियान को समर्थन देते हुए पुलिस प्रशासन से इस संबंध में कार्रवाई करने की मांग की है।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_6208081.html

dayal pandey/ दयाल पाण्डे

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 669
  • Karma: +4/-2
Wah Bahut achchha tarika ha sarabiyun ko sabak sikhane ka, 2 se sison laga abhiyan main main bhi samil ho jaunga.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
पत्‍‌नी के कर्णफूल गिरवी रख भरी दरोगा की जेब

चम्पावत। उत्तराखंड की मित्र पुलिस अपने कृत्य को लेकर फिर सुर्खियों में आई है। तल्लादेश के एक प्रधान श्रमिक ने तामली थाने में तैनात दरोगा पर आठ हजार रुपये वसूलने का आरोप लगाते हुए मंगलवार को विभिन्न संगठनों के लोगों के साथ पुलिस प्रशासन को एक ज्ञापन सौंपकर दंडात्मक कार्रवाई की मांग की है। उसका कहना है कि रुपये चुकाने के लिए उसे अपनी पत्‍‌नी के कर्णफूल गिरवी रखने पडे़ है। एसपी के व्यैक्तिक सहायक चिरंजीवी जोशी को सौंपे गए ज्ञापन में पीड़ित माधोंसिंह ने कहा गया है कि वह मंच क्षेत्र में छोटे-मोटे निर्माण कार्यो में प्रधान श्रमिक का कार्य कर अपने परिवार का पालन पोषण करता है। पिछले नवंबर माह में जब वह लोनिवि के दीवार का कार्य करवा रहा था तो तामली थाने में तैनात दरोगा ने उससे आठ हजार रुपये की मांग की और न देने पर वह उसे मजदूर चंचल सिंह, उदय सिंह, रवि, हीरा सिंह, जोगा सिंह तथा कमल सिंह के साथ थाने ले आया। बाद में विनोद सिंह दुकानदार द्वारा दरोगा को आठ हजार रुपये दिए जाने के आश्वासन पर उन्हें छोड़ दिया गया। इस मामले की शिकायत उस समय भी पुलिस अधीक्षक से की गई तो मामला शांत हो गया। लेकिन इस बीच थानाध्यक्ष एसएस दुग्ताल के पूर्णागिरि मेले में तैनाती के बाद उक्त दरोगा प्रभारी बन गया है और फिर उसने आठ हजार रुपये की मांग की तथा न देने पर बंद करने की धमकी दी। जिस पर माधोसिंह ने अपनी पत्‍‌नी के सोने के कर्णफूल गिरवी रखकर आठ हजार रुपये विनोद के माध्यम से दरोगा को भिजवाए है। मंगलवार को इस मामले पर वहां के जनप्रतिनिधियों ने आक्रोश का इजहार कर दरोगा के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। बसपा जिलाध्यक्ष मदन महर, छात्रसंघ महासचिव महेश पुनेठा, बसपा युवा मोर्चा के लवबिष्ट व प्रकाश नाथ के साथ पीड़ित माधोसिंह ने एसपी से न्याय की गुहार लगाई है। इधर दरोगा ने अपने ऊपर लगे आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए बेबुनियाद बताया है।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_6242138.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
बिच्छू घास लेकर महिलाओं ने किया शराब के खिलाफ प्रदर्शन

बागेश्वर। शराबियों व शराब बेचने वालों से आजिज आ चुकी महिलाओं ने रविवार को बिच्छू घास लेकर बिलौना में प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि वह शराब पीकर दिखने वाले तथा शराब बेचने वालों का सामाजिक बहिष्कार करते हुए उन्हे बिच्छू घास लगायेंगी। महिला मंगल दल बिलौना की अध्यक्ष रजनी देवी ने कहा कि बिलौना में शराबियों के आतंक से महिलाओं व बच्चों का चलना दूभर हो गया है। जिस कारण समाज में गलत संदेश जा रहा है। महिलाएं पीड़ित है लेकिन आबकारी विभाग अवैध शराब बेचने वालों पर कार्रवाई नहीं कर रहा है। बेचने वालों तथा पीने वालो के हौसले बुलंद है। महिलाओं के साथ आये दिन छेड़छाड़ की घटनाएं हो रही है। महिलाओं ने चेतावनी दी कि यदि कोई भी व्यक्ति शराब पीकर दिखा तो उसे बिच्छू घास लगाकर गांव से बाहर खदेड़ा जाएगा तथा शराब बेचने वालों पर भी महिलाएं अपने स्तर से कार्रवाई करेगी। महिलाओं ने आरोप लगाया कि बिलौना में अधिकतर दुकानदार अवैध शराब बेच रहे है लेकिन पुलिस व आबकारी विभाग हाथ हाथ धरे बैठा है। महिलाओं ने महिला मंगल दल की अध्यक्ष रजनी देवी के नेतृत्व में जुलूस निकाला।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_6255132.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0

आदिबदरीधाम पहुंचा कलयुग का श्रवणकुमार

कर्णप्रयाग (चमोली)। मां की इच्छा को पूरा करने व आत्मसंतुष्टि के लिए पिछले 14 वर्षो से दृष्टिहीन माता को कंधे पर उठाकर तीर्थ यात्रा पर निकले कैलाश गिरी के आदिबदरीधाम पहुंचने पर लोगों ने भव्य स्वागत किया।

इस मौके पर गिरी ने बताया कि चांदपुरगढ़ी आदिबदरीधाम पहुंचकर ऐसा लगता है मानो उनके 14 वर्षो से जारी तपस्या का फल उन्हें मिल गया है और भगवान की कृपा रही तो वे अपनी 85वर्षीय वृद्ध माता कीर्ति देवी को भू-बैकुंठ बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने पर अखंडज्योति के दर्शन कार्यक्रम में शामिल कराना चाहेंगे।

तीर्थयात्रा के प्रारंभिक दिनों को याद करते हुए कैलाश गिरी बताते हैं कि 14 वर्ष 3 माह व 21 दिन से वे रात-दिन प्रभु का स्मरणकर वे अपनी माता की हर इच्छा को पूरी करने की कोशिश जारी रखे है। श्री गिरी ने बताया कि पवित्र नर्मदा को साक्षी मानकर शुरू की गयी इस यात्रा में काशी, चित्रकूट, रामेश्वरम, कन्याकुमारी, गंगासागर, देवधर, जगन्नाथपुरी, पशुपति नाथ होते 26 हजार किमी की पदयात्रा पूरी हो चुकी है और बदरीकाश्रम के बाद हरिद्वार स्नान के बाद वृंदावन होते हुए वह अपने घर लौट जाएंगे। आदिबदरीधाम में श्री गिरी ने मंदिर में होने वाली पूजा-अर्चना में भाग लिया। कलयुग के श्रवण कुमार के आदिबदरी पहुंचने की खबर मिलते ही समीपवर्ती ग्रामीणों का वहां तांता लग गया। रूंधे गले से माता ने हाथ हिलाकर लोगों का अभिवादन स्वीकारा। सामाजिक कार्यकर्ता नरेन्द्र चाकर ने कहा इस युग में जब तमाम मानवीय भावनाएं शून्य हो गयी हैं, ऐसे में ऐसा चरित्र होना अनुकरणीय है। इस मौके पर भूपेन्द्र पेलू, राजेन्द्र सिंह रावत, पंकज सती, बसंत शाह सहित भारी संख्या में स्थानीय लोग मौजूद थे।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_6274014.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
सुल्ताना डाकू नहीं, फरिश्ता कहिये

कोटद्वार (गढ़वाल)। राबिनहुड, डाकू-लुटेरों के किस्से- कहानियों के इस प्रचलित विदेशी किरदार से तो सभी परिचित हैं, लेकिन यह सचाई कम ही लोगों को मालूम होगी कि अंग्रेजी हुकूमत के दौर में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भी एक राबिनहुड अंग्रेजी शासन की नाक में दम किए हुए था। अंग्रेजी शासन ने भले ही उसे डाकू करार दिया हो, लेकिन करीब बीस वर्ष तक अंग्रेजों को छकाने वाले सुल्तान सिंह उर्फ सुल्ताना इलाके के हजारों गरीबों के लिए किसी 'फरिश्ते' से कम नहीं था। आज भी उत्तराखंड के कोटद्वार व यूपी के नजीबाबाद, बिजनौर में सैकड़ों लोग उसकी दरियादिली की गवाही देते हैं।

अंग्रेजों की नींद उड़ाने वाले सुल्ताना का उल्लेख इंग्लैंड में रखे 1920 के ब्रिटिश पुलिस रिका‌र्ड्स में उपलब्ध है। प्रख्यात शिकारी जिम कार्बेट की पुस्तक 'मैन ईटर आफ कुमाऊं' में भी सुल्ताना का जिक्र किया गया है। इसके मुताबिक बाघ का शिकार करते हुए एक दिन कार्बेट की मुलाकात सुल्ताना से हो गई थी। कार्बेट लिखते हैं कि वह ऐसा शख्स था, जिसे अंग्रेजी हुकूमत का कोई खौफ नहीं था। वरिष्ठ पत्रकार कमल जोशी कहते हैं कि जो भी जानकारी उपलब्ध है, उससे स्पष्ट है कि सुल्ताना ने सिर्फ अमीरों को ही लूटा। वह गरीब लोगों की मदद करता था, इसीलिए करीब बीस वर्ष तक किसी ने उसके खिलाफ मुखबिरी नहीं की। कलालघाटी निवासी 83 वर्षीय हबीबउल्ला व ग्राम झंडीचौड़ निवासी 70 वर्षीय भगतराम कौशिक भी सुल्ताना को गरीबों का मसीहा बताते हैं। बताते हैं कि सुल्ताना जिस व्यक्ति के घर में डकैती डालता था, एक दिन पहले उसे चिट्ठी भेज डकैती का समय बता देता था। सुल्ताना को गुड़-चना सहित अन्य खाद्य सामग्री उपलब्ध कराने वाले स्व. छोटे सिंह के पुत्र गोविंद सिंह बताते हैं कि यदि कोई सुल्ताना से आर्थिक मदद मांगता, तो वह कभी इनकार नहीं करता था।

मोटाढाक निवासी स्व. उमराव सिंह के पोते भुवनेंद्र सिंह बताते हैं कि उनके दादा उमराव सिंह ठेकेदार होने के कारण अंग्रेजों के काफी करीबी थे। एक दिन उनके घर सुल्ताना ने डकैती का फरमान भेज दिया। उमराव सिंह ने पुलिस को सूचना दी, लेकिन इससे पहले कि अंग्रेज पुलिस कुछ कर पाती सुल्ताना को भनक लग गई। वह निर्धारित समय से पूर्व ही घर में आ धमका और उमराव सिंह को उन्हीं की बंदूक से गोली मार दी।

प्रखंड नैनीडांडा के अंतर्गत ग्राम ओंलेथ निवासी पद्मदत्त देवलाल की मानें, तो सुल्ताना की ससुराल ओंलेथ में थी। श्री देवलाल के मुताबिक, सुल्ताना ने फूलमति से विवाह किया था। सुल्ताना का ठिकाना नजीबाबाद-कोटद्वार के मध्य मोरध्वज के किले में था। उसके दस्ते में करीब तीन सौ लोग शामिल थे। सुल्ताना की मौत का स्पष्ट वर्ष तो ज्ञात नहीं है, लेकिन बताया जाता है कि आजादी से पूर्व ही अंग्रेजों ने मुछेरा नामक एक मुखबिर की सूचना पर ग्राम सानपुरा में सुल्ताना को पकड़ लिया था, लेकिन भागने की कोशिश में उसे मुठभेड़ में मार डाला गया। श्री देवलाल बताते हैं कि सुल्ताना को पकड़ने वाले पुलिस अधिकारी सीताराम भदोला भी ओंलेथ के ही रहने वाले थे।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_6277248.html

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22