Author Topic: Exclusive Information on Uttarakhand - उत्तराखंड के बारे एक्सक्लूसिव जानकारी  (Read 9894 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

Dosto,

We will collect the details about very-2 exclusive information about Uttarakhand under this thread related to geography, culture etc.

Hope you would also share related subject mentioned information under this thread.

Regards,

M S Mehta

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

The information has been provided by Mr C P Nautiyal Ji
====================================

विकासनगर/त्यूणी- कभी उत्तराखंड का गौरव समझा जाने वाला एशिया का सबसे ऊंचा चीड़ महावृक्ष अब सिर्फ इतिहास का हिस्सा मात्र रह गया है। 220 वर्षो तक हर तरह के मौसमी झंझावत झेले, लेकिन 8 मई 2007 को आए तेज आंधी-तूफान में अपने ऊंचे अस्तित्व को बचाए रखने में नाकाम चीड़ महावृक्ष अब सिर्फ डाटों के रूप में हमेशा के लिए अपनी याद छोड़ गया है। टौंस वन प्रभाग पुरोला के देवता रेंज के भासला कंपार्टमेंट खूनीगाड़ में स्थित चीड़ महावृक्ष की लंबाई पर उत्तराखंड के लोगों को नाज था। बेहतर पालन पोषण में पल-बढ़ रहे चीड़ महावृक्ष को पूरे एशिया महाद्वीप में सबसे ऊंचे पेड़ का गौरव हासिल था। हनोल से पांच किमी. दूर स्थित देवता रेंज में चीड़ महावृक्ष की लंबाई 60.65 मीटर और गोलाई 2.70 मीटर थी। इस महावृक्ष की विशेषता यह थी कि इसमें मुख्य तने से लेकर ऊपर तक कोई शाखाएं नहीं थीं, सिर्फ शीर्ष में कुछ शाखाओं का झुरमुट था, जिसके कारण इसकी सुंदरता देखते ही बनती थी। चीड़ महावृक्ष की लंबाई के चर्चे दूर-दूर तक पहुंचे तो वर्ष 1997 में भारत सरकार के वन व पर्यावरण मंत्रालय ने इस चीड़ वृक्ष को एशिया महाद्वीप का सबसे लंबा महावृक्ष घोषित कर दिया। जब इस वृक्ष ने यह गौरव हासिल किया, तब इसकी आयु करीब 220 वर्ष हो चुकी थी। गैनोडर्मा एप्लेनेटस नामक रोग ने अपना प्रकोप इस कदर फैलाया कि महावृक्ष को अंदर ही अंदर खोखला कर दिया। गिरने से कुछ समय पहले आईएफआरआई के वैज्ञानिकों ने महावृक्ष के रोग मुक्त होने की पुष्टि की थी। एक तरफ अच्छी खासी आयु और उसमें महावृक्ष की ताकत कम होने लगी और आठ मई 2007 में आए आंधी-तूफान का सामना करने की इसमें शक्ति नहीं बची, लिहाजा तीन टुकड़ों में टूटकर चीड़ महावृक्ष इतिहास का हिस्सा बन गया। इसकी यादें बरकरार रखने के लिए विभाग ने महावृक्ष के तने को काटकर उसकी 22 डाटें बनाईं, जिन्हें आज भी संग्रहालय के रूप में उसी स्थान पर संरक्षित रखा गया है, जहां कभी महावृक्ष अपनी लंबाई और सुंदरता के साथ तन कर खड़ा था। वैज्ञानिकों द्वारा समय-समय पर इन डाटों को मोनो क्रोटाफास नामक औषधि से उपचारित किया जाता है, ताकि डाटें सुरक्षित और संरक्षित रह सकें


http://pahar1.blogspot.com/2009/09/blog-post_9773.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Kalpvriksh and Adi Shankracharya’s Cave



  
Kalpvriksh and Adi Shankracharya’s Cave
It is said that when Adi Shankracharya came to Uttarakhand in the 8th century AD in his quest to revive the Sanatan Dharm, he meditated under this mulberry tree in Joshimath. It is here that he attained enlightenment. It is said that he considered Raj Rajeshwari his isht devi and here, under the tree, she appeared to him in the form of jyoti or light, and gave him the strength and the power to re-established the Vishnu idol at Badrinath. Joshimath is a corruption of Jyotirmath, a name derived from this incident.

The tree is now said to be over 3,000 years old and the girth of its truck is 36 metres. It is also said that the tree is evergreen right through the year and never sheds its leaves.
 

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

Uttarkashi- Uttarakhand
=================

The biggest pine tree in Asia, with a height of 60.5 m., is found at Khoonigad, en route to Arakot from Mori (Uttarkashi).

Mohan Bisht -Thet Pahadi/मोहन बिष्ट-ठेठ पहाडी

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 712
  • Karma: +7/-0
ek dum sahi mehta ji.. i visit that place many time and have pic of that pine tree.. i m trying to find in my pic



Uttarkashi- Uttarakhand
=================

The biggest pine tree in Asia, with a height of 60.5 m., is found at Khoonigad, en route to Arakot from Mori (Uttarkashi).


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
मैंने एक बार BBC में सुना था कि एक बार इस पेड़ मे चड़ने के लिए एक प्रतियोगिता हुयी शर्त यह थी कि जो इस पेड़ के टॉप पर पहुच पायेगा उसे गाव की आदि जमीन दे दी जायेगी !

बहुत लोगो ने इसके लिए प्रयास किया था लेकिन कोई सफल नहीं हुवा.. एक महिला जो करीब - २ इस पेड़ के टॉप पर पहुच गयी थी लेकिन टहनी को पकड़ कर उसने जब नीचे देखा तो वह संतुलन खो बैठी और नीचे गिर कर मर गयी !


Uttarkashi- Uttarakhand
=================

The biggest pine tree in Asia, with a height of 60.5 m., is found at Khoonigad, en route to Arakot from Mori (Uttarkashi).


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0


उत्तराखंड में है एशिया के सबसे मोटे देवदार के दो वृक्ष
-----------------------------------------------------------

एशिया में मोटाई में दुसरे नंबर के देवदार के वृक्ष उत्तराखंड राज्य के चकराता बन विभाग के क्नासार रेंज में है !

देवदार के इस महावृक्ष की मोटाई (गोलाई) ८.२५ और ऊँचाई २८ मीटर है! इस वृक्ष के आयु ४०० वर्ष से अधिक की बताई जाती है ! १९९४ में केन्द्रीय बन एव पर्यावरण मंत्रालय द्वारा इस महावृक्ष के रूप में पुरुसकरति  किया है!

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
Asia's largest dam,TEHRI DAAM UTTARAKHAND

Despite several hiccups, authorities have completed the construction of Asia's highest dam - Tehri - but suspense grew over the
commissioning of its first phase.

Built at a cost of more than Rs 6,000 crore on the Bhagirathi river in Tehri district of Uttaranchal, the dam authorities are now mulling over the question of the commission of the first phase (1,000 MW) of the controversial 2,400 MW project, which depends on the closure of T-2 tunnel, which is mandatory to fill the reservoir.

The cost of the dam is being shared by 75:25 (equity proportion) by the Centre and Uttar Pradesh government.
 



एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Fair Held in Nainital, Almora & Ranikhet area
=======================

Srikrishna Janmasthami Festival,Ranikhet,

Nanda Devi Festival of Nainital and Ranikhet,

Autumn Festival Nainital and Ranikhet,

Syaldey - Bikhauti Mela, Dwarahat,

Somnath Mela, Masi,

Mahashivratri Festivals of Binsar Mahadev, Sauni;Hedakhan, Chiliyanaula ; Bhikiyasain;

Punyagiri Navratri Maila,

Devidhura Raksha Bandhan Mela,

Doonagiri Mela,

Mustamanu Fair,

Kapileshwar Fair,

Krishnajanmashtami Fair of Kalapani Gunji

Kanardevi fair at Baram at Gori Valley

Honkara Devi Fair at Birthi

Dhanlekh Fair at Askot Laccher

Fair of Naini Patal.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

Langvir Nritya - Celebratedin Tehari Garwal
===========================


The Langvir Nritya is a famous dance form of the state of Uttarakhand. It is mainly performed in the Tehri Garhwal region of Uttarakhand.

This is a form of acrobatic dance and is mainly performed by only men. In this type of dance, a long bamboo pole is fixed at one place and the dancer climbs to the top of the pole and then balances himself on his stomach on top.

The bands of musicians play under the pole; they mainly play Dhol and Damana. This form of dance is very popular in the Tehri Garhwal region of the state.

Source :www.himalaya200.com

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22