Author Topic: Give Employment Not Ebriety 1984 - "नशा नहीं, रोजगार दो" आन्दोलन 1984  (Read 12212 times)

dramanainital

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 171
  • Karma: +2/-0
मुझको मत पी बहुत खराब हूँ मैं,
तुझको पी जाउँगी,शराब हूँ मैं.
 
मेरा वादा है अपने आशिकों से,
रुसवा कर जाउँगी,शराब हूँ मैं.
 
है बदन और दिमाग़ मेरी गिज़ा,
नोश फ़रमाउँगी,शराब हूँ मैं.
 
तुम मुझे क्या भला ख़्ररीदोगे,
तुम को बिकवाउँगी,शराब हूँ मैं.

jaankaare hetu dhanyawaad pankaj jee. 

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,048
  • Karma: +59/-1
मुनियाली में भी शराब का विरोध यात्रा मार्ग से शराब की दुकान हटाने की मांग, आंदोलन की चेतावनी

गोपेश्वर। पहाड़ में कच्ची शराब के अवैध कारोबार को जड़ से मिटाने के लिए चमोली जनपद में एक के बाद एक गांव की महिलाएं सक्रिय हो रही हैं। नंदप्रयाग के मंगरोली गांव के बाद अब मुनियाली गांव की महिलाएं शराब के विरोध में सड़क पर उतर आयी हैं। महिलाओं ने नंदप्रयाग में स्थित अंग्रेजी शराब की दुकान को भी बंद करने की मांग की है।


मुनियाली गांव की महिलाओं ने महिला मंगल दल अध्यक्ष कल्पेश्वरी देवी के नेतृत्व में गांव से लेकर नंदप्रयाग तक जुलूस निकाला। महिलाओं का कहना है कि नंदप्रयाग क्षेत्र शराब की गिरफ्त में है और क्षेत्र का माहौल खराब हो रहा है।


 महिलाओं ने चेतावनी है कि यदि शीघ्र            नंदप्रयाग में अंग्रेजी शराब की दुकान और कच्ची शराब के ठिकानों को नष्ट नहीं किया गया तो उग्र आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा।


इस मौके पर महिला मंगल दल उपाध्यक्ष मंजू मुनियाल, मुन्नी देवी, उमा देवी, बसंती देवी, बबीता              देवी, सीता, पूजा, शकुंतला देवी        ेआदि महिलाएं मौजूद थी। अब नहीं खुलेगी शराब की दुकान


घनसाली (टिहरी)। चमियाला से हटाई गई शराब की दुकान को श्रीकोट गांव के पास खोलने के निर्णय पर  श्रीकोट की महिलाओं ने विरोध शुरू कर दिया था। दुकान संचालक के यहां दुकान न खोलने के निर्णय पर महिलाओं ने मंगलवार को आंदोलन समाप्त कर दिया।


चमियाला बाजार में स्थित शराब की दुकान हटाने को लेकर चमियाला गांव की महिलाएं सात दिनों से धरना-प्रदर्शन कर रहीं थी। सोमवार को महिलाओं की प्रशासन के साथ वार्ता के बाद दुकान को श्रीकोट गांव के पास खोलने का निर्णय हुआ था।

 जैसे ही श्रीकोट गांव की महिलाओं को इसकी भनक लगी उन्होंने आंदोलन शुरू कर दिया। मंगलवार को दुकान संचालक ने श्रीकोट में दुकान न खोलने का निर्णय लिया। इसपर महिलाओं ने आंदोलन समाप्त कर दिया। इस मौके प्रधान दिल देई राणा, सुनीता देवी, बैशाखी देवी, कौशल्या देवी आदि महिलाएं मौजूद थीं।
यात्रा मार्ग से शराब की दुकान हटाएं

श्रीनगर। यूथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं की बैठक में राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित शराब की दुकान को अन्यत्र स्थापित न करने कड़ा रोष प्रकट किया गया। कहा गया कि स्थानीय प्रशासन से इस संदर्भ में बार-बार कार्रवाई की मांग पर भी प्रशासन ने मौन साधा हुआ है। वक्ताओं ने कहा कि श्रीबदरी-केदार यात्रा मार्ग पर शराब की दुकान संचालित होने से श्रद्धालुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं।

 यदि मांग पर तत्काल कार्रवाई नहीं होती है तो कार्यकर्ताओं को धरना, प्रदर्शन और घेराव के लिए बाध्य होना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि इस मामले को मुख्यमंत्री के संज्ञान में भी लाया जाएगा। बैठक में शोभित जोशी, हिम्मत घुघतियाल, शिवकांत, दीपक सजवाण, अमित जुगराण, केशव भट्ट, नवीन खंडूरी आदि मौजूद रहे।




Amarujala
 
 

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22