Author Topic: People Scarified life for Saving Forest - जंगल बचाने में इन्होने गवाए प्राण  (Read 9062 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Dosto,

Every year heavy fire destroys Crs of rupees forest asset in Uttarakhand specially in Summer season. Apart from Forest Dept, villagers also play major role in putting off and many of them lose their their life in this great noble cause.
We will be sharing here some details about people who lost their lives in saving the forest.

Merapahad pays homage to such people who scarified their life not only for sake of human being but also other creatures.


Regards,

M S Mehta 
 

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
 
Jaman Singh, School Principal, Ason Inter College, District Bageshwar 2010 -   Farswan, Village - Okhalswon)
-----------------------------------------------------------------------
 
We pay our tribute to Late Sh Jaman Singh ji.
 

May God his soul rest in peace!

Though he lost his life in this great social work, but he has set an example for other towards saving the forest. His scarification for saving the forest will not be forgotten.
 
Here is the News about Late Jaman Singh Ji
==================================
 
Bageshwar (Uttarakhand), Jun 3 (PTI) A government school Principal has been charred to death while trying to douse fire in jungles at Ravainkhal area of the district, official sources today said.

The incident took place when Jaman Singh, Principal of Asano Inter College at Kapkot area, went to douse the blaze in the nearby jungles yesterday and came in its grip.

Later, villagers accompanying him informed the officials about the incident, who rushed to the spot and sent the body for postmortem.
 
http://www.ptinews.com/news/688642_School-Principal-charred-to-death

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

Now Go through this news
================

मई  9,                           2009
========================

विशला देवी नाम की महिला टिहरी जिले के   चिन्यालीसौड से कुछ काम कर लौट रही थी तभी उसने अपने गांव के जंगल में आग   लगी देखी। आग को बुझाने के लिए वह पानी की तलाश में जंगल में ही दौड़ पड़ी   तभी आग ने उसे अपनी चपेट में ले लिया जिससे उसकी मौत घटनास्थल पर ही हो गई।
  राज्य के टिहरी जिले में गत दो मई को गगवाड़ा के जंगलों में आग लगने से   पांच व्यक्तियों की मौत हो गई थी और दो व्यक्ति घायल हो गए थे जिनकी बाद   में अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई थी।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Date : Saturday, May 2, 2009

===================

Place : Pauri Garwal -


जंगल की आग से छह मरे पौड़ी गढ़वाल, : जिला मुख्यालय से करीब छह किलोमीटर   दूर गगवाड़स्यूं पट्टी के गगवाड़ा गांव के वन पंचायत क्षेत्र में लगी आग को   बुझाने के प्रयास में पांच लोगों की जलकर मौके पर ही मौत हो गई, जबकि सात   लोग बुरी तरह झुलस गए। झुलसे लोगों को जिला चिकित्सालय पौड़ी में भर्ती   कराया गया है। वहां से तीन की गंभीर स्थिति को देख उन्हें बेस चिकित्सालय   श्रीकोट के लिए रेफर कर दिया गया है। उधर चमोली जिले के थराली ब्लाक में   पैनगढ़ के जंगल में लगी आग से एक 18 वर्षीय युवक आग की चपेट में आ गया,   जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। आज शुक्रवार सुबह छह बजे गगवाड़ा गांव के   सौ से अधिक लोग आग बुझाने जंगल की ओर गए। दोपहर के समय आग ने प्रचंड रूप   लिया। ग्रामीण आग की चपेट में आ गए। इनमें पांच लोगों की जलकर मौके पर ही   मौत हो गई, जबकि सात लोग झुलस गए।

मृतकों में :1. गगवाड़ा गांव निवासी सूरीदास   (53 वर्ष) पुत्र ख्याली दास, 2.   तेजेन्द्रपाल (44 वर्ष) पुत्र पूरण सिंह   सजवाण, 3.   मोहन सिंह (45 वर्ष) पुत्र उम्मेद सिंह,4.  सुनील (18 वर्ष) पुत्र   जयकृत सिंह 5.   सुनील (21 वर्ष) पुत्र पदमराम झुलसे लोगों में   गगवाड़ा गांव के अनिल सजवाण (32 वर्ष) पुत्र मदन सिंह, महेन्द्र (19 वर्ष)   पुत्र राजकुमार, युद्धवीर सिंह (30 वर्ष) पुत्र हुकम सिंह, महावीर सिंह (62   वर्ष) पुत्र साबर सिंह, जगदीश (27 वर्ष) पुत्र महावीर सिंह, जगमोहन व पदम   सिंह शामिल हैं। महावीर सिंह 90 प्रतिशत, युद्धवीर सिंह 55 प्रतिशत, अनिल   सजवाण 45 प्रतिशत जले हैं, इनकी नाजुक स्थिति को देखते उन्हें श्रीकोट बेस   चिकित्सालय के लिए रेफर कर दिया गया है। जिला चिकित्सालय के सीएमएस डा.   ललित गुसांई ने बताया कि आग में गंभीर रूप से झुलसे लोगों की स्थिति   चिंताजनक है। घटना के कई घंटे बाद जिला प्रशासन ने घटनास्थल पर जाने की   जहमत उठाई। सूचना पर जिलाधिकारी डी. सैंथिल पांडियन मौके पर पहुंचे। राजस्व   पुलिस ने मृतकों के शवों का पंचनामा भर दिया गया।


उधर चमोली जिले के थराली   ब्लाक के पैनगढ़ गांव का  दीपू पुरोहित (18) साल पुत्र महेशानंद गांव के   जंगल में गाय चराने गया था कि जंगल में लगी आग की लपटों से वह घिर गया और   आग को बुझाते समय उसकी मौत हो गई। पुलिस ने मृतक के शव का पंचनामा भर   पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया गया है।


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0


If Uttarakhand Govt has a dedicated Helicopter to put off fire in Uttarakhand forest, such casualties will reduce here.

Helicopter carrying water can be used for this purpose. but tough to implement such practices in UK Cr of rupees forest asset is lost every year in UK due to heavy fire.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0



Hem Pant3 hours ago via mobile
14 साल की बच्चीने अपनी जान देकर आग से जन्गल को बचाया.Like ·  · =682337524&p[]=9778843]Share
  • [url=http://www.facebook.com/harishchandra]Harish Chandra[/url], [url=http://www.facebook.com/shekharwallace]Shekhar Sharma[/url], [url=http://www.facebook.com/profile.php?id=100000663967730]Dinesh Bijalwan[/url] and [url=http://www.facebook.com/browse/likes/?id=10151105570452525]22 others[/url] like this.
    • [url=http://www.facebook.com/dinesh.singh.395][/url][url=http://www.facebook.com/dinesh.singh.395]Dinesh Singh[/url] Kuch kash veerale hi aase kam kar sakte hai....ek salam beena ke naam...2 hours ago · Like
    • [url=http://www.facebook.com/laxman.singh.54][/url][url=http://www.facebook.com/laxman.singh.54]Laxman Singh[/url] Ese sahasi bachchi ko sat sat naman .....2 hours ago · Like · [url=http://www.facebook.com/browse/likes/?id=10151105587192525] 1[/url]
    • [url=http://www.facebook.com/profile.php?id=100000663967730][/url][url=http://www.facebook.com/profile.php?id=100000663967730]Dinesh Bijalwan[/url] uske sahas ko naman....  Iswar uski aatman ko saanti pradan karna2 hours ago · Like
    • [url=http://www.facebook.com/khulbekck][/url][url=http://www.facebook.com/khulbekck]K.c. Khulbe[/url] Bhagwan Veena kee Aatma ko shanti pradan karae45 minutes ago · Like · [url=http://www.facebook.com/browse/likes/?id=10151105844812525] 1[/url]
    • [url=http://www.facebook.com/harishchandra][/url][url=http://www.facebook.com/harishchandra]Harish Chandra[/url] jai hind40 minutes ago · Like

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

This is the news from Tehri.

आग बुझाने गया युवक झुलसा
चाका, जागरण प्रतिनिधि : जंगल में आग बुझाने गया युवक आग की चपेट में आकर झुलस गया और पूरी रात जंगल में ही पड़ा रहा। अगली सुबह जब ग्रामीणों को युवक की हालत का पता चला, तो उन्होंने 108 की मदद से उसे नरेंद्रनगर अस्पताल में भर्ती कराया।
 उप तहसील गजा के अंतर्गत टिहरी रेंज से क्वीली पट्टी के गोगनी (थन्यूल) के जंगलों में पिछले कई दिनों से आग लगी है। बुधवार रात थन्यूल निवासी गंभीर सिंह (35 वर्ष), पुत्र मोर सिंह जंगलों में आग बुझाने के लिए गया, जहां पर वह आग की चपेट में आकर झुलस गया। धुएं के कारण वह बेहोश होकर वहीं गिर पड़ा। गुरुवार सुबह परिजनों व ग्रामीणों ने युवक की खोजबीन शुरू की, तो वह झुलसी हालत में जंगल में पड़ा मिला। ग्रामीणों ने युवक को नरेंद्रनगर अस्पताल में भर्ती कराया। डॉ. अजय गैरोला ने बताया कि युवक 50 प्रतिशत जल चुका है, स्थिति गंभीर होने के कारण युवक को हायर सेंटर रेफर किया जा रहा है। इस संबंध में नायब तहसीलदार गजा धर्म सिंह बुटोला ने कहा कि विभाग लापरवाह है, क्योंकि इन्हें अभी तक आग की कोई जानकारी नहीं है। इधर, डीएफओ टिहरी मुकुल जोशी ने कहा कि उन्हें अभी तक इस संबंध में जानकारी नहीं मिली है।
भ्रम में रहा गंभीर सिंह का परिवार 
नई टिहरी : थन्यूल के जंगलों को बुझाने गए गंभीर सिंह के साथ गांव के ही अन्य युवक प्रहलाद, भगत सिंह, रतन बहादुर, कुंवर सिंह व धुमीलाल गए थे। गंभीर सिंह जंगल के सबसे ऊपरी क्षेत्र में आग बुझाने में जुट गया, जबकि अन्य युवक निचले क्षेत्र में आग बुझाकर वापस लौट गए। गंभीर सिंह अपने परिवार में यह बताकर गया था कि जंगल से लौटने के बाद वो गांव के ही एक वृद्ध के घर उसका हालचाल पूछने जाएगा, यही बात उसके अपने साथियों को भी बताई। जब वह देर रात घर नहीं लौटा, तो परिवार वालों ने समझा कि वह उसी वृद्ध के घर गया हुआ है, लेकिन जब वह सुबह तक घर नहीं लौटा, तो परिजनों को चिंता हुई और उन्होंने मोबाइल पर संपर्क किया, लेकिन संपर्क नहीं हो पाया। खोजबीन की गई, तो पता चला कि युवक वृद्ध के घर भी नहीं पहुंचा था। इस पर परिजन व ग्रामीण जंगलों की ओर युवक की खोजबीन करने निकल पड़े। गंभीर सिंह जंगलों में बेहोशी की हालत में पाया गया, तब ग्रामीणों ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया। 
सोया रहा वन विभाग
नई टिहरी : गर्मी का सीजन आते ही पहाड़ों में वनाग्नि की घटनाएं शुरू हो जाती हैं। कई गांवों में वनाग्नि के गांव के नजदीक आने पर ग्रामीण उसे बुझाने में अपनी जान की परवाह न करते हुए झुलस तक जाते हैं। ऐसे ही बुधवार रात टिहरी वन प्रभाग रेंज के क्वीली पट्टी के गोगनी (थन्यूल) के जंगलों में लगी आग को बुझाते समय एक व्यक्ति बुरी तरह झुलस गया। इसे विभाग की निष्क्रियता ही कहा जाएगा कि आग बुझाना तो दूर रहा, घटना के 24 घंटे बाद भी वन विभाग की नींद नहीं खुली है। इससे पहले भी छह माह पूर्व प्रतापनगर के भेलुंता गांव के पास जंगलों में आग बुझाने गया युवक भी झुलस गया था। इस मामले में भी वन विभाग को दूसरे दिन घटना का पता चला था।
मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
आग बुझाने गई महिला पहाड़ी से गिरी, मौत

Updated on: Thu, 21 Jun 2012 05:31 PM

पुरोला: देवता रेंज मोरी के जगंल में लगी भीषण आग बुझाते हुए एक महिला पहाड़ी से फिसलकर खाई में जा गिरी। आग से झुलसी महिला की खाई में गिरने के बाद मौत हो गई। मृतका के परिजनों ने लीसा ठेकेदार से मुआवजे की मांग की है। महिला के भाई ने ठेकेदार पर चुपचाप दाह संस्कार करने की कोशिश का भी आरोप लगाया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार देर रात टौंस वन प्रभाग के मोरी देवता रेंज के मोरा कंपार्टमेंट में लगी भीषण आग को बुझाने गई लीसा लेबर किरमता(45) पत्‍‌नी धनबहादुर बुरी तरह झुलस गई। बचने की कोशिश में वह घबराकर पहाड़ी से नीचे खाई में जा गिरी। उसकी मौके पर ही मौत हो गई। बाद में महिला के परिजनों व अन्य साथियों ने घटना की सूचना वन विभाग की दी। उधर, महिला के पति धनबहादुर ने बताया कि मोरा जंगल में लीसा ठेकेदार के साथ काम करते हैं तथा बुधवार की रात जंगल में लगी भीषण आग से लीसा बचाने को ठेकेदार ने लेबर को आग बुझाने के लिए भेजा था। इसी दौरान किरमता देवी आग से बुरी तरह झुलस गई इससे घबरा कर उसका पैर फिसल गया और वे पहाड़ी से गहरी खाई में जा गिरी। महिला के भाई धनलाल ने बताया कि घटना के बाद ठेकेदार ने इसकी जानकारी दिए बिना मजदूरों के साथ शव को चातरा ले जा कर चुपचाप दाहसंस्कार करने की कोशिश की। लेकिन, सूचना मिलने ही वह घटना स्थल पंहुचा। परिजनों ने विभाग व ठेकेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने व मुआवजे की मांग की।

इस मामले में डीएफओ एके त्रिपाठी ने बताया कि महिला लीसा ठेकेदार की लेबर है। मोरा जंगल में आग बुझाते हुये पहाड़ी से गिरने से मौत की जानकारी मिली है। मामले की जांच की जा रही है।

source dainik jagran

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22