Author Topic: उत्तराखंडी नाटकों की शुरुआत (गढ़वाली, कुमाऊंनी) - UTTARAKHANDI PLAYS !!  (Read 20202 times)

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,802
  • Karma: +22/-1

                Pagal: a Garhwali Drama depicting harmfulness of Blind Faith Rituals 

                                Bhishma Kukreti

[Notes on Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; Garhwali Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; Uttarakhandi Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; Mid Himalayan Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; Himalayan Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; North Indian Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; Indian Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; SAARC Countries Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; South Asian Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; Asian Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals]

        Om Prakash Semwal wrote a Garhwali drama ‘Pagal’ and staged the same in a school of Chamoli Garhwal in December 2000. Om Prakash aims the drama to all age people.
                  Ramu works out of village and lives there while his family lives in village. Ramu’s wife is due to deliver her fourth child. His old parents are separate from their daughter in law. Ramu’s wife delivers a child but dies after some time. Ramu’s wife became mad. Ramu starts visiting Bakya (Future teller). His family performs all folk rituals but madness of his wife enhances. A village doctor advices Ramu. But it is too late for taking doctor’s advice.
            Om Prakash wrote the drama for awakening people that when there is need of physician they should visit physicians and when the need is for rituals they should perform rituals.
   The drama is simple and there is not newness in the drama from my point of view as critic but is useful for social awareness.

Copyright@ Bhishma Kukreti , 3/7/2012
Notes on Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; Garhwali Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; Uttarakhandi Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; Mid Himalayan Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; Himalayan Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; North Indian Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; Indian Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; SAARC Countries Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; South Asian Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals; Asian Dramas depicting harmfulness of Blind Faith Rituals to be continued ..


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,802
  • Karma: +22/-1
Putra janm par Namkaran: A Garhwali Drama about Son bias and bias against Daughter

(Review of a Garhwali drama ‘Putra janm par Namkaran’ (1997) written by Om Prakash Semwal)

                                          Bhishma Kukreti
[Notes on Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; Garhwali Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; Uttarakhandi Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; Mid Himalayan Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; Himalayan Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; North Indian Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; Indian Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; SAARC Countries Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; South Asian Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; Asian Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter]

     The bias for having son and bias against daughter is universal phenomenon. That is the reason that there are following proverbs and sayings in various societies –
She is true wife who has born a son (Manusmiriti)
‘Abu-banat (an Arabic insult)
Raising a daughter means you are watering neighbor’s garden (A Punjabi proverbs) 
With one son you have progeny; with ten daughters you don’t have anything (Vietnamese saying) 
The birth of a son is welcomed with shouts of joys and firecrackers but when a girl is born neighbors say nothing (a Chinese proverb)
  Even after gaining praiseworthy literacy in Garhwal, the society is son bias and against daughter’s birth. Playwright Om Prakash Semwal lives in rural Garhwal and has true knowledge of social behavior in the region.
  Om Prakash Semwal wrote and staged a play ‘Putra janm par Namkaran’ about son bias and bias against daughter’s birth in a school of Chamoli Garhwal in December 1997.
  Everybody related to Gumanu as his family, his in laws, his friends and relatives are frustrated about the births of his daughters. Nobody celebrates the daughter’s birth joy. However, this time wife of Gumanu delivers a male child and there is tremendous joys and celebration at the time of naming ceremony of the boy child. Om Prakash Semwal attacks on the society’s bias for son and bias against daughter heavily at the end of the drama.
  Initially the dram is realistic and the later stage of the dram is of Parsi theatre style.
The drama is aimed to youth of Garhwal, is successful in showing gender discrimination in the society and a strong message against gender discrimination.   
The dram is successful in making social debate about son bias and bias against daughter

Copyright@ Bhishma Kukreti, 4/7/2012                 
Notes on Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; Garhwali Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; Uttarakhandi Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; Mid Himalayan Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; Himalayan Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; North Indian Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; Indian Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; SAARC Countries Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; South Asian Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter; Asian Dramas about Gender Discrimination OR-Son bias and bias against Daughter to be continued…

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,802
  • Karma: +22/-1
Chunav:  Garhwali Drama Portraying Malpractices in Election

(Review of Garhwali Stage Play ‘Chunav’ (2001) by Om Prakash Semwal)

                                  Bhishma Kukreti
[Notes on Dramas Portraying Malpractices in Election; Garhwali Dramas Portraying Malpractices in Election; Uttarakhandi Dramas Portraying Malpractices in Election; Mid Himalayan Dramas Portraying Malpractices in Election; Himalayan Dramas Portraying Malpractices in Election; North Indian Dramas Portraying Malpractices in Election; Indian Dramas Portraying Malpractices in Election; South Asian Dramas Portraying Malpractices in Election; Asian Dramas Portraying Malpractices in Election]

        Om Prakash Semwal wrote and staged a Garhwali drama ‘Chunav’ in G.I. College Chopta, Garhwal in 2001. The story deals with the theory of problem of ‘power corrupts’.  Gram Pradhan take developmental works and enjoys the benefits of village developmental works along with his family members and his supporters.  A couple of aware people want to oust present Gram Pradhan and elect a honest person. However, the corrupt Pradhan and his supporters don’t like the idea of some body is opposing them. There are scenes of social conflicts in the drama. At the time of election, present Gram Pradhan uses all sorts of malpractices. Now, the election machinery comes into action.
  The dram portrays the present crumbling   situation of country and the selfish interest and malpractices by leaders in power.

Copyright@ Bhishma Kukreti, 7/7/2012
Notes on Dramas Portraying Malpractices in Election; Garhwali Dramas Portraying Malpractices in Election; Uttarakhandi Dramas Portraying Malpractices in Election; Mid Himalayan Dramas Portraying Malpractices in Election; Himalayan Dramas Portraying Malpractices in Election; North Indian Dramas Portraying Malpractices in Election; Indian Dramas Portraying Malpractices in Election; South Asian Dramas Portraying Malpractices in Election; Asian Dramas Portraying Malpractices in Election to be continued …

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,802
  • Karma: +22/-1
श्रीमती बीछा देवी जी का गढ़वाली नाटकों में योगदान

प्रिय भाई कुकरेतीजी,

हाल में ही अखिल भारतीय उत्तराखंड महासभा चंडीगढ़ क्षेत्र के अध्यक्ष
दिनेश राणा की माता बीछा देवी जी का स्वर्गवास हो गया। बहुत कम लोगों को
 पता है की स्व0 श्रीमति बीछा देवी जी चंडीगढ़ के गढ़वाली मतया मंच की प्रथम
महिला कलाकारों में से थी तथा उनका स्वाभाविक घरेलू महिला का अभिनय
चंडीगढ़ के उत्तरखंडी समाज में बहुत ही पसंद किया गया था। टिपिकल सास और
माँ  की भूमिकायों में बहिन बीछा देवी जैसा अभिनय पेशेवर कलाकार भी नहीं
 कर पाएंगे ये मेरा मानना है। उनके बारे में और अधिक जानकारी भेजने की
कोशिश करूंगा।
श्रद्धांजली के रूप में उनको याद करते हुये आपसे विनती है कि ये सूचना
सभी को भेज दें।

धन्यवाद सहित ,
ड़ी ड़ी सुंदरियाल ,  शैल कुंज,  49, शिवालिक विहार jeekarpur

ddsundriyalchd@gmail.com

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,802
  • Karma: +22/-1
Garhwali Theatre in Garhwali Chandigarh

             

 Presented by Sri D. D Sundariyal

गढ़ कला संगम चंडीगढ़ की पहली प्रस्तुति  "जौंल बुरांश " एक इनी प्रेम कथा

छाई जो ब्राह्मण लड़की और ठाकुर लड़का का भावनात्मक रिश्तों अर   सामाजिक

कानून वपारिवारिक बंधनो का ताना बाना माँ दुखांत नाटक का रूप म सन 1980 म

गढ़वाली समाज क घोर विरोध व वाद विवाद क बाबजूद  मंचित होई। नायक विजय तथा

नायिका रूपा (सते राम जुयाल व कलावती जुयाल) सामाजिक व पारिवारिक

प्रताड़ना से त्रस्त हवइकी फांस खणों विवश हुँदैन पर वीं जगा फर द्वी

बुरांश की डाली जामनि  जो सदनी फुली ही रैनी और गाँव व समाज थाई

प्रेमियों कु बलिदान याद दिलाणु राई।डी0 डी0 सुंदरियाल "शैलज" की कथा,

पटकथा व निर्देशन म प्रस्तुति गीत, संगीत व मनोरंजन की दृष्टि से दर्शक

कु  पसंद आई पर अंतरजातीय प्रेम कथा वै समयानुसार लोगु ते ज्यादा ठीक नि

लगी।

1979-80 का दोरान संगम द्वारा तीन प्रस्तुति "जौल-बुरांश" का अलावा देनी।

"घूंघटों" (ले 0 एन0 डी0 लखेड़ा), व ओंसी-कु चाँद" " खंद्वार" (ले0 डी डी

सुंदरियाल), तीनी नाटकू निर्देशन चंडी भट्ट भारती न करि।  "घूंघटों" शराब

क दुष्परिणाम से बर्बाद परिवार की कथा छ त ओंसी-कु चाँद अनाथ बालिका पर

अत्याचार (चाची द्वारा) पर आधारित घटनाओ कु विवरण कार्ड। ठाकुर सिंह

नेगी, स्व सुशीला नेगी , कलावती जुयाल, सुशीला सुंदरियाल, ड़ी

ड़ीसुंदरियाल, चंडी भट्ट भर्ती, सते राम जुयाल, एन ड़ी लखेरा  आदि कलाकरों

ने इन नाटकों में भूमिकाएँ निभाई। पलायन  समस्या पर आधारित खंद्वार नाटक

बहुत प्रसिद्ध हुआ एक गरीब किसान जो सड़क गैंग  में काम करने को मजबूर था

और जिसने बेटे को कृषि वैज्ञानिक बनाकर नए भविष के सपने देखे थे ॥टूट कर

बिखर गया जब बेटा परदेश नौकरी गया, अपनी बीबी को भी ले गया। उसकी माँ गम

में मर गयी और बूढ़ा हताश होकर अपने बेटे को श्राप दे गया। "अरे भाई...

अगर कूड़ि पुंगड़ी बांज नि रखणआइ त   क्वी अपना नौनयालु ते एसकोल नि

भेजयान....." संवाद भीतर तक चिरा लगाई दिन्द। गरीब मंगतु मजदूर क रूप माँ

स्व0 देवी परसद अंथ्वाल जी कु प्रकृतिक व सजीव अभिनया कई बर्षू तक लोग

याद करना रैनी। भट्ट कु हास्य अभिनय (कल्या) नाटक की जान छाई। यूं सभी

नाटकू माँ नरेंद्र सिंह नेगी जी व अन्य प्रसिद्ध लोक गीत कु सफल  प्रयोग

भी करे ग्याई। (जारी.....)

गढ़ कला संगम की नाट्य यात्रा-3

 

सन 1981 में "दानु देवता बुढु केदार" (ले0 डी डी सुंदरियाल "शैलज"

निर्दे0 चंडी भट्ट भारती) नई और पुरानी पीढ़ी के आचार विचारों की टकराहट

दिखाता है। गाँव के जाने माने प्रभावशाली व आदरणीय पंडित  गजा धर जोशी (

ओं0पी0 धस्माना) जब बूढ़े असहाय होकर अफसर बेटे (विमल नेथानी) व देसी बहू

(कांति नेथनी) के पास परदेश आते हैं तो ग्राम्य और शहरी जीवन के रहन सहन,

मर्यादा व परम्पराओं की उलझनों में सभी पात्र  उलझते चले जाते हैं जिससे

कभी हास्यमय तो कभी कारुणिक स्तिथियाँ पैदा होती हैं। दोनों पीढ़ियों में

कड़ी का काम करते घरेलू नौकर (चंडी भट्ट) और पप्पू (गजाधर का पोता)

प;अरिवार में समंजस्य बनाने का प्रयत्न करते रहते हैं। अंत में हताश,

निराश बूढ़ा समझोता कर वापस अपने गाँव चला जाता है। सम्पूर्ण नाटकीय

हलचलों वाला यह नाटक दर्शकोन्ने पसंद किया।

 

1981 से 1983 तक संगम ने तैड़ि-तीलोगी लोक कथा पर आधारित  ऐतिहासिक प्रेम

कहानी "धोलि-का-आंसु" का 5-6 बार चंडीगढ़, पानीपत, लूधियाना आदि शहरोंमें

मंचन किया। ब्रिटिश गढ़वाल व राजशाही टिहरी गढ़वाल के दो बड़े घरानों की

रंजिश पर आधारित दुखांत प्रेम कहानी को दर्शकों का पूरा प्यार मिला।

इस नाटक के गीत संगीत की लोकप्रियता से लोगों ने इसे फिल्मबनाने के लिए

भी प्रेरित किया पर फ़ाइनेंस के अभाव में प्रोजेक्ट फ़ाइल हो गया। जसवंत

रावत और उर्मिला रावत के रूम में एक नई जोड़ी रंगमंच पर इस नाटक आई।

"धोलि-का- आंसु" नाटक चंडीगढ़ व अन्य शहरॉ में कई बार मंचित हुआ था ।

मुरली धर -कुसुम नवनी (जो बाद में सोकार सिंह रावत द्वारा निर्मित फिल्म

"रामी बौराणी" में चर्चित रहे) पहली बार नायक नायिका के रूप में इस नाटक

में लाये गए थे। पहली बार गढ़वाली नाटकों में हारमोनियम तबला के अलावा

अन्य संगीत वाद्य यंत्रों, सिंथसाइजर, सितार , वाइलीन, मेंडोलिन आदि  का

प्रगोग किया गया। संगीत शास्त्री एन0 एस0 राठोर के निर्देशन में , मोहन

ठाकुर( तबला) , प्रकाश नेपाली, जीणू राम (बांसुरी), आदि कलाकारों को

संगम ने मंच प्रदान किया और सभी लोग 1996 तक संगम के सभी कार्यक्रमों के

हिस्सा बने रहे।

 

अस्सी के दशक में संगम ने जो अन्य नाटक मंचित किए उनमे "जगवाल", " आस

निरास" ,( ले0 एन0 डी0 लखेड़ा ) " रत्ब्योणा, "  " सर्ग दीदा पाणि-

पाणि.." . तीलु रौतेली" (ले डी0 डी0 सुंदरियाल शैलज) नए थे। पुराने

नाटकों को अन्य शहरों में मंचित किया गया ।

 

" जगवाल" अंधविश्वास में फंसे परिवार को चालाक तंत्रिकों द्वारा लूटे

जाने की कहानी है जिसमें डी डी सुंदरियाल द्वारा अंधे बाबा तांत्रिक की

भूमिका काफी सराही गई। आस निरास में टूटते सन्यूक्त परिवारों व असहाय

बूढ़े लोगों की उपेक्षा को दर्शाता है। सुनीता जुयाल एवं परमानंद जुयाल के

रूप  में नए कलाकार इस नाटक में मंच पर आए। "रत्ब्योणा" विधवा विवाह की

वकालत करता है जिसमे ओ पी धसमाना द्वारा लँगड़े फोजी का अभिनया आज भी

लोगों के जेहन में याद है।  इसी नाटक में संतोष रावत ने विधवा की मुख्य

भूमिका निभाई थी। "सरग दीदा पाणि-पाणि" पंचायत और ग्राम विकास समिति  से

लेकर  ऊपर तक फैले  भ्रष्टाचार, पढे लिखे  युवकों की बेरोजगारी, शराब

माफिया की गुंडागर्दी, राजनीतिक पतन को दिखाता है। इन सभी नाटकों को चंडी

भट्ट भारती द्वारा निर्देशित किया गया और अपने  हास्य अभिनय की छाप भी इन

नाटकों में दर्शकों के दिल में छोड़ने में कामयाब रहे ।   (जारी...)

To be continued…..

Garhwali, Uttarakhandi, Theatre, Stage Plays, Dramas

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,802
  • Karma: +22/-1
Contribution of Kali Prasad (Kishor) Ghildiyal) in developing Modern Garhwali drama

                                      Bhishma Kukreti

     Kali Prasad (Kishor) Ghildiyal is famous name for developing Garhwali modern fiction, poetry and drama literature.  His elder brother late Durga Prasad Ghildiyal is a famous Garhwali fiction writer.  Kali Prasad Ghildiyal was born in village Padlyun, Katalsyun, Pauri Garhwali in 1930. Kali Prasad lives in NOIDA.
         Apart from his immense contribution in Garhwali fiction, Kali Prasad wrote three Garhwali plays  -duno Janam, Keedu bwe and Rag Thag. According to Parashar Gaur, all three plays of Ghildiyal were staged in Sarojani Nagar Community hall, Delhi.
Keedu bwe- the drama is about a village widow looking after her son, taking all pain in his higher education. However, the son after marriage and getting good respectable job ignores his mother. The mother dies in pain for remembering her son for whom she did sacrifice.
Duno Janam: Duno Janam drama is about the problem of untouchability and the crookedness in village councils, and government administration.
Rag Thug: Rag Thug is about childless husband and wife taking care of a notorious child and marrying him. When the boy get married the woman delivers a child too. The theme is that God provides justice in time.
 References:
Dr. Sudha Rani, 1980, Garhwali Rangmanch, Garhwal ki Jeevit Vibhutiyan, Dev Prayag
2- Prashar Gaud- http://www.merapahadforum.com/uttarakhand-language-books-literature-and-words/(-)-uttarakhandi-plays-!!/30/
3- Telephonic Talk of Bhishma Kukreti with Kali Prasad Ghildiyal on 4/7/2012

Copyright@ Bhishma Kukreti 4/7/2012

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,802
  • Karma: +22/-1
आधुनिक गढ़वाली नाटकों व  नाट्य मंचन की सौ साल की यात्रा

                              भीष्म कुकरेती 

 


                गढ़वाल सदा से ही अपने धार्मिक, सांस्कृतिक , सामाजिक,  कलात्मक  व भौगोलिक  वैशिष्ठ्य के करण विशेष रहा है. जहां तक लोक नाट्य कला व मंचन कला का प्रश्न है इसमें भी गढ़वाल की  अपनी  विशेषता रही है. गढ़वाल में बादी- बादण व्यवसायिक स्तर पर लोक नाटकों को संजोये रहते थे व समय समय पर काल, वर्ग, व स्थान की दृष्टी से उनका विकास करते रहते थे. अब यह व्यवसायिक जाति अपने व्यवसाय को तिलांजलि दे रही है जो की शायद समय की भी मांग है.

         गढ़वाल में आधुनिक या कहें कि ब्रिटिश शिक्षा आने से ही गढ़वाली आधुनिक नाटकों का प्रादुर्भाव हुआ.

   आधुनिक  गढ़वाली नाटकों को समय अनुसार विभेद नही कर सकते हैं क्योंकि कालानुसार गढ़वाली नाटकों में एक ही प्रवृति  नही पाई गयी है  . गढ़वाली नाटकों को विषय अनुसार विभेद कर सकते हैं जैसे


- धार्मिक नाटक,

पौराणिक इतिहास पर आधारित नाटक

 -सामजिक व सांस्कृतिक नाटक

- विशेष दर्शकों हेतु नाटक

-आपस में कुछ विशेष लोगों के मध्य खेला जैसे साथियों के मध्य खेला जाने वाला नाटक

- पारिवारिक नाटक

-किसी विशेष परम्परा में खेला जाने वाला नाटक

-त्रासदी या करूण रसमय नाटक

-सम्भोग श्रृंगारिक नाटक

-विप्रलंभ श्रृंगारिक नाटक

-संबंधियों से प्रेम आधारित नाटक

-प्रहसन या हास्य नाटक

-प्रहसन युक्त व्यंग्यात्मक नाटक

-निखालिस व्यंग्यात्मक नाटक

- वात्सल्य मूलक नाटक

-प्रति वात्सल्य मूलक नाटक

-वीर रस युक्त नाटक

-भक्ति या स्वामी भक्ति पूर्ण आधुनिक नाटक

-अपराधिक नाटक व जासूसी नाटक

-संवेदन  शील  नाटक 

-रहस्यात्मक या भूत आदि नाटक

-न्याय पूरक नाटक

-प्रेरणा दायक नाटक

-बाल नाटक

-अन्य प्रकार

भवानी दत्त थपलियाल ने गढ़वाली जागर कथा आधारित  'जय विजय' नाटक लिखकर आधुनिक गढ़वाली नाटकों का श्री गणेश किया . किन्तु 'भक्त प्रहलाद' (१९१२) पहले प्रकाशित हुआ. अत: 'भक्त प्रहलाद' को आधुनिक गढ़वाली का प्रथम नाटक कहा जाता  है.

'बाबा  जी कि कपाळ क्रिया (१९१२-१३) भवानी दत्त थपलियाल द्वारा लिखित नाटक 'भक्त प्रहलाद' का एक भाग है उसी तरह 'फौन्दार कि कछेड़ी'  भी भक्त प्रहलाद का भाग होते भी मंचन दृष्टि से अलग नाटक भी है.

१९३० में वकील घना  नन्द बहुगुणा का 'समाज' नाटक लखनऊ से प्रकाशित हुआ

विश्वम्बर दत्त उनियाल कृत सामाजिक नाटक  'बसंती' १९३२ में देहरादून में मंचित हुआ

सत्य प्रसाद रतूड़ी , देवी दत्त नौटियाल, विद्या लाल नौटियाल, मढ़कर नौटियाल (चार मित्र सूखक) लिखित व गीत विजय रतूड़ी द्वारा रचित नाटक 'पांखु' का मंचन १९३२ में टिहरी में हुआ. 

इश्वरी दत्त जुयाल रचित नाटक 'परिवर्तन' १९३४ में कराची से प्रकाशित हुआ.

 भगवती प्रसाद पांथरी रचित अध : पतन (१९४०-४१)   एक सामाजिक  नाटक है .पांथरी द्वारा रचित दूसरा नाटक  भूतों कि खोह है(१९४०) है

भगवती प्रसाद चंदोला रचित  श्रमदान पर व्यंग्य करता नाटक  'आज अळसो छोड़ देवा' देहरादून में मंचित हुआ

जीत सिंह नेगी द्वारा लिखित गीत-गद्य नाटक 'भारी भूल ' १९५५-५६ मंचित और १९५७ में प्रकाशित हुआ . नेगी के प्रकाशित व अप्रकाशित  'जीतू बगडवाल' , 'राजू पोस्टमैन', 'रामी बौराणी' सभी नाटक मंचित हुए हैं. मलेथा की कूल नृत्य नाटिका का १९८७ से मंचन प्रारम्भ हुआ 

डा. गोविन्द चातक  के सात नाटक जंगली फूल में संकलित हुए (१९५७).  ब्वारी वहू प्रताड़ना विषयक नाटक है; 'द्वी हजार कि द्वी आंखी' महिला मनोविज्ञान कि कथा है; 'घात ''अंधविश्वास विरोधी, 'जंगली फूल' सामाजिक नाटक; केर(मानव अधिकार संबंधी) ; मुंडारो (अनमेल विवाह) ; 'नौनु हुंद तो' (पुत्र लालसा) गढ़वाली नाट्य विधा के फूल हैं 

अबोध बंधु बहुगुणा का बादी बादण शैली का 'छिलाअ छौळ ' नाटक १९५९ में उत्तराखंड साप्ताहिक में प्रकाशित हुआ.


ललित मोहन थपलियाल के सभी नाटक १९५५ के बाद मंचित होने शुरू हुए; खाडू लापता एक हसी व्यंग्य मिश्रित सामाजिक नाटक है;  'अन्छरियों का ताल' एक रहस्यात्मक व दार्शनिक नाटक है; 'एकीकरण' सामजिक संस्थाओं पर चोट है;  'घर जवें'  एक हास्य व्यंग्यात्मक  नाटक है;  'चमत्कार'   अंधविश्वास विरोधी नाटक है

सन अस्सी से पहले देहरादून में दामोदर थपलियाल के चार  नाटक -मनखि, औंसी क रात, तिब्बत विजय व प्रायश्चित मंचित हुए जिनमे मनखि व  औंसी क रात प्रकाशित हो चुके हैं

१९६३ में 'नाची नरसिंग' जगदीश पोखरियाल लिखित देशभक्ति विषयी नाटक मंचित हुआ

मुंबई में १९६२-६३ म२ दीन दयाल द्विवेदी का सामाजिक नाटक 'जागरण' मंचित हुआ

  विश्व मोहन बडोला निर्देशित, लौर्ड डुनसाने कृत  'चट्टी की एक रात' (१९७०)  विदेशी भाषा पर आधारित  नाटक है.  भीष्म कुकरेती ने इसी  नाटक का अनुवाद 'ढाबा मा एक रात' (२०१२) कर इंटरनेट माध्यम में  प्रकाशित किया

 राजेन्द्र धष्माना द्वारा रचित सामजिक संस्थाओं पर चोट करता 'जंकजोड़ ' (१९७०) ' नाटक है तो ' अर्धग्रामेश्वर' आधनिक शैली का नाटक 'अर्ध ग्रामेश्वर '  (1976) सामयिक  ग्रामीण व्यवस्था व प्रवासियों के खटकरम को दर्शाता है

सन १९७० में भीष्म कुकरेती व सम्पूर्ण बिष्ट द्वारा प्रेम चंद कृत 'कफन' का रूपांतरित नाटक देहरादून में मंचित हुआ . १९८० में कुसुम नौटियाल द्वारा रूपांतरित नाटक दिल्ली में मंचित  हुआ

१९७१ से सन अस्सी तक किशोर घिल्डियाल (काली प्रसाद घिल्डियाल) के नाटक 'दूणो जनम' (छुवाछूत विषयक ) ; 'रग ठग '(पुत्र-पुत्रीहीन  दम्पति का संघर्ष) व 'कीडू क ब्व़े '(स्त्री त्याग व संघर्ष) के नाटक दिल्ली में मंचित हुए.

१९७१ में पाराशर गौड़ द्वारा लिखित 'चोळी' (महत्वाकांक्षा सम्बन्धी ) नाटक दिल्ली में मंचित  हुआ

मदन थपलियाल द्वारा कश्मीरी नाटक का रूपांतरित नाटक 'नाटक बन्द करो' का मंचन दिल्ली में १९७३ में हुआ

प्रशाश्कीय लाला फीताशाही पर चोट करता राजेन्द्र धष्माना लिखित नाटक 'जंक जोड़' १९७५ में मंचित हुआ.

नित्यानंद मैठाणी द्वारा लिखित हास्य व्यंग्य नाटक 'चौडंडि' ,; 'छुट्या  बल्द ' (१९७५) युवा शक्ति जागरण का रेडिओ नाटक है; . 'च्यूं'   में मैठाणी ने  लोक कथा शैली अपनाई है; मैठाणी के अन्य 'फुलमुंडी सासू ' वहु प्रताडन विषयक; (सभी नाटक १९७५ के हैं) ; 'खौल्या' (गरीबी, कुपोषण ); ना थीड माई तै (पुत्र लालसा संबंधी ), टॉम (शराब विरोधी)  प्रसिद्ध  नाटक  हैं   

चिंता मणि बडथ्वाल  द्वारा लिखित नाटक ' टिन्चरी ' नाटक दिल्ली में १९७६ में मंचित हुआ

डा.  पुष्कर नैथाणी द्वारा लिखित नाटक 'अभिज्ञान शाकुंतलम' (१९७८-७९)  कालिदास के संस्कृत नाटक का उमदा  अनुवाद है. 

स्वरूप ढौंडियाल लिखित नाटक 'अदालत' कै बार मंचित हुआ (१९७९)  और पलायन विभीषिका को दर्शाता असलियत वादी  नाटक है   

कन्हयालाल डंडरियाल द्वारा लिखित व राजेन्द्र धष्माना द्वारा रूपांतरित नाटक 'कंशानुक्रम' १९७९ में दिल्ली में मंचित हुआ.

पाराशर गौड़ द्वारा लिखित 'औंसी कि रात' नाटक दिल्ली में मंचित हुआ.

इसी तरह दिल्ली में १९७० से १९७५ तक मंचित वीरेन्द्र मोहन रतूड़ी का 'एक जौ अगने' व गिरधारी लाल कंकाल लिखित नाटको का गढ़वाली नाटक में महत्वपूर्ण स्थान है

वैदराज गोविन्दराम पोखरियाल का संयुक्त परिवार कि विभीषिका दिखाता 'बंटवारो ' नाटक अस्सी के दशक में प्रकाशित हुआ

डा. हरिदत्त भट्ट के नाटक 'नौबत, 'दिवता नचा', 'वयो कि बात', 'छि कख क्या' नाटक १९८० से पहले प्रकाशित व मंचित हुए. मूलत : ये नाटक सामजिक व हसी व्यंग्य के नाटक हैं.:

 डी.डी. सुंदरियाल लिखित ज़ात-पंत विरोधी 'जौंळ -बुरांश' (१९७९) में चंडीगढ़ में मंचित हुआ.


सुरेन्द्र बलोदी द्वारा लिखित व निर्देशित नाटक 'ब्यखनि क घाम" (१९८०) एक दार्शनिक, मनोवैज्ञानिक व प्रेरणादायक नाटक है.

१९८० से पहले ब्रज मोहन कबटियाल द्वारा लिखित , निर्देशित धार्मिक गीतेय नाटक 'किष्किन्धा काण्ड' कई बार कोटद्वार में मंचित हुआ.

एन. डी. लखेड़ा लिखित शराब विरोधी नाटक घुंघटो ' १९८० में चण्डीगढ़ में मंचित हुआ

डी.डी. सुंदरियाल लिखित बाल प्रताडन आधारित 'औंसी कु चांद' नाटक चण्डीगढ़ में १९८० मंचित हुआ


पलायन विभीषिका आधारित ,डी.डी. सुंदरियाल लिखित 'खंद्वार ' नाटक १९८० में चंडीगढ़ में मंचित हुआ

शांति स्वरुप उनियाल द्वारा लिखित स्त्री वीरता विषयी 'विधवा ब्योली' नाटक का  प्रकाशन १९८० में हुआ व मंचन भी हुआ

शारदा नेगी द्वारा लिखित शाहुकारी विरुद्ध नाटक ' चक्रचाळ ' मंचित हुआ.

मदन बल्लभ डोभाल लिखित नाटक 'खबेस' अनेक विशो को उठाने वाला नाटक दिल्ली में मंचित हुआ

चंडीगढ़ में मंचित , १९८१ डी.डी. सुंदरियाल लिखित 'दानु दिवता बुडू केदार' दो सखियों के टकराव कि कहानी दर्शाती है

प्रसिद्ध लोक कथा 'तैड़ी तिलोगी ' पर आधरित सुंदरियाल द्वारा रूपांतरित 'धौळि का आंसू ' १९८०-१९८३ के बीच ५-६ बार पंजाब में मंचित हुआ

पंजाब में अस्सी के दशक में एन.डी. लखेड़ा लिखित नाटक 'जग्वाळ ' (अंध विश्वास  विरोधी) व 'आस निरास' (संयुक्त परिवारों का टूटना ) ; डी.डी. सुंदरियाल लिखित 'रत व्योणा'(विधवा विवाह समर्थन ), 'सरगा दिदा पाणि पाणि' (ग्रामीण भ्रस्टाचार) व तीलु रौतेली (लोक गाथा), 'जथगा डाड डाड' (सड़ी गली शिक्षा विरोध) और बलवंत रावत लिखित 'अर सपना सच ह्व़े ग्याई'   नाटक पंजाब में मंचित हुए.   

सचिदानंद कांडपाल द्वारा लिखित नाटक ' मीतु रौत '(1982)  जो चंडीगढ़ में  मंचित भी हुआ एक वीर रस युक्त ऐतिहासिक व लोक कथा आधारित नाटक है

मोहन सिंह बिष्ट द्वारा रचित अपसंस्कृति व दहेज़ कुप्रथा के रोग आधारित    'औडळ' (१९८२)  नाटक दिल्ली में मंचित  हुआ 

चन्द्र शेखर नैथाणी लिखित विकलांग समस्या का नाटक ' मांगण ' १९८२ में दिल्ली में मंचित हुआ

कन्हया लाल डंडरियाल का दहेज़ पर चोट करता  'स्वयंबर' नाटक १९८३ में दिल्ली में मंचित हुआ

ब्रज लाल शाह द्वारा रचित 'महाभारत' नृत्य नाटिका १९८४ में दिल्ली में मंचित हुआ

ब्रज मोहन कबटियाल ने १९८५ से पहले  'वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली', 'गंगू रमोला' 'जीतु बगड्वाल', 'बीर बाला तीलु रौतेला', 'ओड का झगड़ा' , व 'अनपढ़' जैसे ऐतिहासिक व सामाजिक विषयी नाटक लिखे व कोटद्वार में मंचित भी किये.

पाराशर गौड़ द्वारा लिखित प्रायोगिक नाटक 'आन्दोलन' उत्तराखंड राज्य संघर्ष पर लिखा नाटक है जो १९८०-१९८५ के बीच  मंचित हुआ . गौड़ का 'रिहर्सल' नाटक एक रोमांचकारी नाटक है जो मंचित हुआ है;

प्रेम लाल भट्ट का  जातीय संघर्ष का 'खबेस लग्युं च रे खबेश' (१९८५) नाटक दिल्ली में मंचित हुआ

अबोध बन्धु बहुगुणा  लिखित (सभी नाटक १९८६ में चक्रचाळ संकलित ) में  'अंद्र  ताल'  नाटक प्रवासी गढ़वालियों के करूँ कथा बखान करता है , बहुगुणा  द्वारा ऐतिहासिक नाटक 'अंतिम गढ़';  गढ़वाल सभा देहरादून द्वारा मंचित हुआ. बहुगुणा  लिखित 'चक्रचाळ' एक रेडिओ नाटक है; दुघर्या में विधवा पुर्नार्विवाह समर्थन है;  'फरक '. जात पांत विरोधी, 'जीतू हरण' लोक गाथा आधारित पद्य-गद्य नाटिका; 'जोड़ घटाणो ' प्रवासियों के आत्मिक व भौतिक संघर्ष  आधारित; 'कचबिटाळ' प्रवासी व वासी गढ़वालियों  मध्य अन्तराल,  'काठे बिराळी ' (प्रवाशियो कि समस्या प्रधान ) ; 'किरायेदार' (खोय पाया विषय) ;  कुलंगार (कुत्सित प्रवृतियों पर चोट ) ; माई को लाल (श्री देव सुमन बलिदान) , नाग मयूर (ऐतिहासिक); नौछमी नारायण (कृष्ण के नौ रूप);  सृष्ठी संभव (दार्शनिक ); 'तिलपातर' ( बदलाव) नाटक संकलित हैं

ब्रजेन्द्र लाल शाह द्वारा लिखित नाटक 'जीतू बगडवाल' १९८६ में दिल्ली में मंचित हुआ

प्रेम लाल भट्ट द्वारा लिखित पारिवारिक नाटक  ' बडी ब्वारी' दिल्ली में मंचित  हुआ.

१९८७ में पुरुषोत्तम डोभाल कृत 'टिल्लू रौतेली' नाटक प्रकाश में आया

१९८६-८७ में  कुसुम नौटियाल द्वारा लिखित , लोक कथा आधरित 'लिंडर्या छ्वारा' नाटक मंचित हुआ

 हरीश थपलियाल द्वारा लिखित व निर्देशित पलायन  विभीषिका विषय का नाटक 'हौळ कु लगाल (१९८७)  व हास्य-व्यंग्य युक्त  नाटक मेरी पैलि चोरी (१९८९)  भरा नाटक 'मुंबई में मंचित हुए . 

 दिनेश भारद्वाज व रमण कुकरेती द्वारा लिखित हास्य व्यंग्यात्मक नाटक ' बुड्या लापता' १९८५- ८७ के बीच मुंबई में मंचित हुआ

  कुकरेती द्वारा लिखित  'द्वी पळया' (गढ़ ऐना, १९८९) नाटक  सुनने व असलियत में भेद बताता प्रेरणात्मक नाटक है   

गोविन्द कपरीयाल द्वारा लिखित अंध विश्वासों पर चोट करता नाटक ' मेरो नाती' (१९८९) गैरसैण में मंचित हुआ.

ललित केशवान द्वारा लिखित ऐतिहासिक नाटक ' हरि हिंदवाण ' १९८९ में मंचित हुआ

दिनेश भारद्वाज द्वारा लिखित लोक गाथा आधारित गीते नाटक 'तिल्लु रौतेली' मुंबई में १९८९ में मंचित हुआ

भीष्म कुकरेती द्वारा लिखित राजनैतिक व्यंग्यात्मक नाटक 'बखरौं ग्वेर स्याळ' रंत रैबार (२००५) में प्रकाशित हुआ 
 
 भगवती प्रसाद मिश्र द्वारा लिखित धार्मिक नाटक 'बाल नारायण' गढ़ ऐना में मई , १९९० में प्रकाशित हुआ.

गढ़ ऐना के मई, १९९० , अंकों में नागेन्द्र बहुगुणा द्वारा लिखित स्थानीय शराब माफिया की पोल खोलता 'चंदन' नाटक प्रकाशित हुआ

मुंबई में सोनू पंवार द्वारा लिखित निर्देशित नाटक ' बख्त्वार बाड़ा ' १९८९- १९९० के करीब मंचित हुआ .

प्रेम लाल भट्ट लिखित, गरीबी व ऋण विषयी नाटक 'नथुली' १९९० में मंचित  हुआ

धाद (जन. १९९१) में डा. नरेंद्र गौनियाल का शराब विरोधी नाटक 'शराबी' प्रकाशित हुआ .

राजेन्द्र धष्माना द्वारा मराठी नाटक का रूपान्तर 'पैसा ना ध्यला नाम च गुमान सिंग रौतेला ' का मंचन दिल्ली में १९९२ में हुआ.

 १९९२ में मंचित व ओम प्रकाश सेमवाल लिखित 'गरीबी' (१९९२)  नाटक जो चाहो वही पाओ विषय युवाओं के लिए प्रेरणात्मक नाटक है वहीं 'दैजू' (१९९५ में मंचित ) नाटक दहेज प्रथा को नकारने वाला नाटक है.ओम प्रकाश सेमवाल का नशा विरोधी नाटक 'नशा '१९९३ में मंचित हुआ

कुला नन्द घनशाला द्वारा लिखित मनिखी बाग़ (१९९३) प्रशाश्कीय लाल फीताशाही , भ्रष्ट तन्त्र पर चोट करता नाटक है

सुरेन्द्र बलोदी द्वारा लिखित व मंचित (१९९४) नाटक ' सुरमा' स्त्री उत्पीडन व त्रास पर आधारित नाटक है व शराब माफिया विरोधनी  टिंचरि   बाई पर आधारित बलोदी का नाटक ' ब्व़े तु फिर ऐ' १९९५ में मंचित हुआ .

स्वरुप ढौंडियाल  लिखित 'मंगतू बौळया' (१९९३)  ग्रामीण आर्थिक दशा दरशाता असलियतवादी  नाटक है

शराब की बुराईयों पर आधारित , ओम प्रकाश सेमवाल द्वारा लिखित नाटक ' ब्यौ' १९९५ में मंचित हुआ.

ओम प्रकाश सेमवाल द्वारा लिखित, ज़ात पांत व्यवस्था पर चोट करता नाटक 'भात'  १९९६ में मंचित हुआ.

पर्यावरण वचत में वन जानवरों को बचाने व वन आग रोकने पर आधारित सेमवाल का नाटक ' कखि लगीं आग अर कखि  लग्युं बाग़' १९९७ में मंचित हुआ.
 
 सेमवाल द्वारा पुत्र जन्म को महत्व व व पुत्री जनम को महत्वहीन  की मान्यता पर आधारित नाटक 'पुत्रजन्म और नामकरण' १९९७ में मंचित  हुआ .

ओम प्रकाश सेमवाल लिखित सामाजिक नाटक 'दगड़ी' १९९८ में मंचित हुआ.

वन संरक्षण पर आधारित कुला नन्द घनशाला लिखित नाटक 'रामू पतरोल' १९९८ में मंचित हुआ.

ओम प्रकाश सेमवाल लिखित , अपने ही रिश्तेदारों का दोहन विषयक 'नौकरी' नाटक १९९९ में मंचित हुआ.

भारतीय शिक्षा के गिरते स्तर  को उजागर करता घनशाला लिखित नाटक कंप्लेंट (२००० ) में छपा.


पागल (ओम प्रकाश सेमवाल, २०००) अंधविश्वास पर चोट करता मंचित, नाटक है.

डा. डी.आर. पुरोहित, सचिदा नन्द कांडपाल व कृष्णा नन्द नौटियाल लिखित 'चक्रव्यूह ' (२००१) नाटक महाभारत कथा पर आधारित नाटक है जो कि कई बार मंचित हो चुका

ओम प्रकाश सेमवाल लिखित चुनावी धांधली आधारित  'चुनाव नाटक २००१ में मंचित हुआ

२००१ में डा. डी.आर . पुरोहित लिखित ऐतिहासक नाटक 'पाँच भै कठैत ' मंचित हुआ . डा. पुरोहित द्वारा लिखित ' व मंचित 'नंदा देवी जातरा (२००२), एक्लू बटोही (२००४) , इलेक्सन में कृष्ण '(२००८) , 'गांधी बुड्या आइ (२००९), गीत औफ़ गुटका ईटर (२००९), रूपकुंड (नेशनल जिओग्राफी हेतु) नाटक प्रसिद्ध हुए हैं   

ओम प्रकाश सेमवाल का बाल शिक्षा सुधार आधारित नाटक 'धौंस' २००२  में मंचित हुआ.

कुला नन्द घनशाला द्वारा लिखित गढ़वाली नाटक 'सुनपट्ट' (२००२) एक हास्य व्यंग्य नाटक है   

गढ़वाल में स्वास्थ्य सेवाओं की बिगडती दशा को दर्शाता कुला नन्द घनसाला लिखित नाटक 'डाक्टर साब' २००४ में प्रकाशित हुआ.

महावीर सिंग का नाटक 'मुरख्या बुड्या' (२००४) एक हास्य व्यंग्यात्मक नाटक मुंबई में मंचित हुआ

नन्द लाल भारती टीम रचित 'पांडव गाथा ' जौंलसारी  भाषा का नाटक २००५ में देहरादून में मंचित  हुआ

 २००५ में ओम बधानी लिखित लोक गाथा नायकों -बीर भड़  नरु और बिजुला आधारित गीतेय  नाटक 'डांड्यू  क मैती' देहरादून  में मंचित हुआ.

२००५ में नवांकुर नाट्य समूह पौड़ी द्वारा रचित व भूपनेश कुमार द्वारा निर्देशित वीर गाथा आधारित नाटक 'वीर बधू देवकी' का मंचन देहरादून में हुआ

दिल्ली में  दिनेश बिजल्वाण लिखित दो नाटक 'पल्टनेर चन्द्र सिंग' (२००५) व 'कैकु ब्यौ कैकु क्यौ' मंचित हो चुके हैं व 'रुमेलो' (शेक्शपियर के ओथेलो का रूपान्तर ) व 'तिल्लू रौतेली' अप्रकाशित पड़े हैं 

मनु ढौंडियाल व हरीश बडोला लिखित  'गंगावतरण' धार्मिक आख्यानो व पर्यावरण विषयक नाटक  २००७ में मंचित हुआ 

डा. डी. आर. पुरोहित लिखित 'बूढ़ देवा' ,२००७ में मंचित   नाटक एक मास्क लोक नाट्य रूपांतरित नाटक है

प्रमोद रावत द्वारा रचित 'तिलाड़ी एक बिसरीं याद' नाटक का २००७ में मंचन हुआ

दिनेश गुसाईं एवं सहयोगियों द्वारा 'गंगू रमोला' धार्मिक गाथा पर आधारित नाटक २००७ में देहरादून में मंचित हुआ.

ओम बधानी द्वारा लिखित वीर भड़ विषयी  गीत -गद्य नाटक 'राणा घमेरू'  का मंचन २००७ में देहरादून में हुआ

भाई बहिन के  प्रेम पर लोक कथा आधारित, अरविन्द नेगी द्वारा लिखित व मंचित  'अम्बा बैनोळ' (२००८) गढ़वाली नाटक है.

'छत्रभंग' शाक्त ध्यानी द्वारा रचित राजनैतिक व्यंग्यात्मक व गढ़वाली का प्रथम प्रतीतात्मक नाटक २००९ में मंचित हुआ. 

कुला नन्द घनशाला द्वारा रचित व मंचित  'चिंता' (२०११) राजनैतिक खेलों पर करारा व्यंग्यात्मक  नाटक है .कुलानन्द घनसाला रचित नाटक 'अब क्या होलु' उत्तराखंड राज्य आन्दोलन विषयक नाटक है ; 'क्या कन तब 'हास्य व्यंग्य मिश्रित नाटक व फिल्म में शक की बुराईयाँ दिखाई गयी है;

गिरीश सुंदरियाल कृत नाटक संकलन 'असगार ' २०११ में प्रकाशित हुआ जिसमे  'ऐली मेरी पौड़ी '  (२०११) सरकारी दफ्तरों में लाल फीताशाही पर कटाक्ष करता  व्यंग्यात्मक नाटक है; 'भर्ती'  बेरोजगारी व युवा समस्या  विषयक नाटक है; 'पाँच साल बाद' एक राजनैतिक प्रहसन नाटक है; 'शिल्यानाश' एक प्रेरणादायक नाटक है ;  असगार पलायन कि विभीषिका बताता नाटक है .

 ललित केशवान द्वारा संकलित नाट्य संग्रह (२०११) में  'भस्मासुर'  पुराण विषयी नाटक है;'एक मंथरा हैंकि'  शराब विरोधी नाटक है; 'जय बद्रीनारायण' धार्मिक; 'खेल ख़तम' भू माफिया व भू-चोरो पर आधारित ; 'लालसा' .एक सामजिक ,

 मुंबई में बलदेव राणा का गीत गद्य नाटक 'माधो सिंग भंडारी ' कई बार मंचित हो चुका है , बलदेव राणा ने दस के करीब नाटक मंचित किये हैं इनमे से नंदा ज़ात यात्रा (२००९  से प्रति वर्ष) एक अभिनव प्रयोग माना जाएगा. इसी तरह मुंबई में कुंदन सिंग नेगी ने भी कि पर्वतीय नाट्य मंच (१९८६ से अब तक) के लिए नाटक लिखे उनमे से 'लाटो ब्यौ' और मामा बाबु खूब सराहे गये.

श्रीनगर व अन्य स्थानों में  मंचित 'जयद्रथ वध' भी अपने आप में एक प्रख्यात नाटक है

डा. नन्द किशोर हटवाल के दो नाटक मंचित हुए हैं

 इस तरह हम पाते हैं कि आधुनिक  गढ़वाली नाटक  ने सौ साल की  यात्रा में कई पडाव देखे व गढ़वाली नाटकों में सभी तरह के विषय आये हैं.


Copyright@ Bhishma Kukreti 7/10/2012

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,802
  • Karma: +22/-1
Dotiyal Pradhan Ji: Contemporary Drama/Play with Satirical, Humorous, Hilarious Style 
(Review of Garhwali plays /dramas written by Tribhuwan Uniyal
Let us celebrate hundred years of Modern Garhwali dramas!
                               Bhishma Kukreti
(Notes on Contemporary Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Garhwali Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Uttarakhandi Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Uttarakhandi Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style written by playwright residing in Pauri; Contemporary Mid Himalayan Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Mid Himalayan Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style written by playwright residing in Garhwal; Contemporary Himalayan Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Himalayan Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style by playwright residing in Himalayas; Contemporary North Indian Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Indian Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style;  Contemporary Indian subcontinent Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary South Asian Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Asian Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Oriental Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style]
                 Tribhuwan Uniyal (Sanguda, Aswalsyun, Pauri Garhwal, 30/6/1967) is famous satirical columnist and lyrist of Garhwali language. His audio disc ‘Masteni’ is very famous audio disc. 
                 Tribhuwan Uniyal wrote four dramas (a documentary is there of four Garhwali plays, 2007). All his plays are humorous, hilarious and satirical. All the plays/dramas by Uniyal deal with contemporary subject of rural Garhwal.
    ‘Dotiyal Pradhan Ji’ is satirical, humorous and hilarious Garhwali drama/play by Tribhuwan Uniyal Ji. The subject of drama/play deals with the problem of migration by Garhwalis and encroachment by Nepalis in rural Garhwal. A son of migrated Garhwali comes to his village for a certificate from Pradhan (village council chief). The second generation migrated Garhwali is shocked that somebody has occupied his ancestral house.  The second generation migrated Garhwali is furious about a Nepali occupying his own house without his permission. The second generation migrated Garhwali threatens the Nepali that he will complain to the Gram Pradhan (village council chief). It is more than a shock for second generation migrated Garhwali by knowing that Nepali (Dotiyal) is the Gram Pradhan of village.
     The spoofy, comical and uproarious playwright (drama writer) Uniyal took the subject of future that tomorrow this land (rural Garhwal) will be owned by other communities than Garhwalis. The dram writer uses proper uses of conflicts of interest in the sardonic, witty and entertaining drama/play. The dialogues are satirical, humorous and hilarious. The dialogues provide speed to the drama/play. The subject is definitely contemporary. Uniyal took every care in characterizations of characters of ironic, comical and amusing play/drama of existing subject.
Copyright@ Bhishma Kukreti 8/10/2012
Notes on Contemporary Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Garhwali Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Uttarakhandi Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Uttarakhandi Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style written by playwright residing in Pauri; Contemporary Mid Himalayan Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Mid Himalayan Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style written by playwright residing in Garhwal; Contemporary Himalayan Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Himalayan Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style by playwright residing in Himalayas; Contemporary North Indian Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Indian Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style;  Contemporary Indian subcontinent Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary South Asian Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Asian Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style; Contemporary Oriental Dramas/Plays with Satirical, Humorous, Hilarious Style to be continued…
Let us celebrate hundred years of Modern Garhwali dramas!

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,802
  • Karma: +22/-1
Masteni Ji: A Satirical Drama/Play about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India
(Critical review of Garhwali Satire Series)
                                  Bhishma Kukreti
[Notes on Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Garhwali Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Uttarakhandi Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; mid Himalayan Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Himalayan Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Himalayan Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India written by writer residing in rural Garhwal; Mid Himalayan Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India written by writer residing in Himalaya; North Indian Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Indian Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Indian subcontinent Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; South Asian Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Asian Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Oriental Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Oriental Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India written by residing in Himalaya]
                    Tribhuwan Uniyal is a famous Garhwali satirist and is regular satirical columnist of ‘Khabar Sar’ a fortnight newspaper from Pauri. Uniyal created a satirical drama ‘Masteni Ji (documentary 2007). The satirical drama/play Masteni Ji is about a lady teacher resides fifty sixty kilometers away from school where she goes by bus on daily basis from her residence.  The lady teacher is unable to focus on teaching but she is busy in her problem of daily travel by bus from her residence to school. Uniyal exposes various weaknesses of education system in rural Garhwal, India. The dialogues of satirical drama are humorous and dialogues create pace for the play.
  The satirical drama compels the audience for education system in rural Garhwal, India.
Copyright@ Bhishma Kukreti 10/10/2012
Notes on Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Garhwali Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Uttarakhandi Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; mid Himalayan Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Himalayan Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Himalayan Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India written by writer residing in rural Garhwal; Mid Himalayan Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India written by writer residing in Himalaya; North Indian Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Indian Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Indian subcontinent Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; South Asian Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Asian Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Oriental Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India; Oriental Satirical Dramas/Plays about teacher, teaching and education system in Rural Garhwal, India written by residing in Himalaya to be continued…

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,802
  • Karma: +22/-1
  Pani Ki Gani:  Modern Garhwali play/Drama about Water Conservation or Water Harvesting
(Review of ‘Pani ki Gani ’ drama written by Gajendra Nautiyal )
           (Garhwali Drama, Kumauni Plays, Uttarakhandi Stage show, Himalayan Dramas)
   Let us celebrate of Hundred years of Modern Garhwali Theatre!
                                        Bhishm Kukreti
             All over world, in every region there is discussion about problems of water shortage. The future is very dark as far as water availability for all is concerned. One of the main reasons for water shortage is that people ware leaving the traditional system of water harvesting or water conservation.
         There were  traditional water conservation or water harvesting system through Kul in Himachal Pradesh and Uttarakhand; water protection or water harvesting through Naula, water conservation or water harvesting Khatri in many hill provinces, water upkeep or water harvesting through khul in Himachal and Uttarakhand; water conservation or water harvesting through Zabo in Nagaland; water management or water harvesting through Cheo Ozihi in Nagaland; Virdas, katas, Korambus and Jackwalls are other water maintenance or water harvesting systems of Indian rural regions. In Garhwal and Kumaon, making big ditches on hill Plato that is building Khal or chahel were common traditional system of water preservation or water harvesting.
   One of the prolific Garhwali theatre activist and drama writers Gajendra Nautiyal smartly, marvelously discusses the prevailing condition of water shortage in villages, towns, cities and big cities. Through this wonderful awareness play, Gajendra takes the audience to the United Nations conference on Water Conservation, New York too. Gajendra is successful in creating desire to conserve water for next dry season and for next generation too.
 The drama does not have any single story but honestly and cleverly Nautiyal creates such scenes that audience is attracted to watch the drama from beginning to the end. The stage play writer took the help of Sutradhars to connect the scenes of different regions and places very elegantly.
 The dialogues of drama for awareness for water protection are simple and easily connect to audience. Yes of course, there are dialects of Tihri Garhwal but Salanis (South Pauri Garhwal) would also understand those Tihri dialogues in the drama.
The drama style is satirical and humorous that audience digests the serious subject.
 The Playwright used traditional songs and cultural practices realted to understand the importance of water management to start the drama and is marvelous example of connecting the play with the audience immediately-
               प्रथम  दृश्य
[वाद्य यंत्रों की धुन के साथ मंच पर तीन चार क्लालाकर आते हैं। गीत की धुन पर ब्योली और सहेली धारा पूजते हैं ]
कोर्स गीत - ब्योली हे ब्योली तेरि खुटी पड़ी गौं मा
              ब्योली हे  ब्योली, ब्योली हे  ब्योली
              पैलो काम त्वेकू, ब्योली हे  ब्योली
              पाणी भरिल्ये -ब्योली हे  ब्योली
               ब्योली हे  ब्योली, ब्योली हे  ब्योली
               पाणी की धारा , पैली पुजीले। ब्योली हे  ब्योली
              पैली पुजीले

  This drama was staged in fifty eight villages of Devprayag Garhwal region and became so much effective that people of the region built thirty six Khali or Chehel.
Pani Ki Gani is one of the Garhwali marvelous dramas of this century for public awareness.
Definitely, the playwright Gajendra is modern hero for creating such needed awareness for water preservation.
Copyright @ Bhishm Kukreti 3/5/2013
Review on Popular Garhwali Drama, Kumauni Plays, Uttarakhandi Stage Plays, and Himalayan Dramas to be continued

   Let us celebrate of hundred years of Modern Garhwali Theatre! 


 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22