Author Topic: Kumaoni-Garwali Words Getting Extinct-कुमाउनी एव गढ़वाली के विलुप्त होते शब्द  (Read 35400 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
अतियाड लगूण - यह शब्द एक विशेष परिस्थित में इस्तेमाल किया जाता है! कोई आदमी किसी चीज को खीचने  के लिए हाथ पाँव दोनों से जोर laga raha ho jisme wah khud bhi ghaseeta jaa raha ho ise अतियाड lagana kahte है!

Risky Pathak

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,502
  • Karma: +51/-0
Madan Mohan Bishtposted toPahadi Classes
August 16, 2011
इन कुमाउनी शब्दों (गंध- words related to smell) के हिन्दी- English समानार्थी शब्द ही नहीं हैं आप भी दैखें :
गनैन
सिद्डैन
हन्तरैन
चुरैन
भुटैन
सुनैन
किडैन
भैसैन
हिन्दी में बू या बदबू English में bad smell या foul smell बोला जाता है।
कितनी शशक्त है हमारी मातृ भाषा फ़िर भी उपे्क्षित :((

विनोद सिंह गढ़िया

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,676
  • Karma: +21/-0
अलग-अलग प्रकार की गन्ध के लिए हमारी भाषा या सामान्य बोलचाल की भाषा में जो शब्द प्रयोग किये जाते हैं उनमें एक शब्द 'लूलैन' भी है। बकरे से हमें जो गन्ध आती है, उसे हम 'लूलैन' शब्द से पुकारते हैं।

वास्तव में हमारी भाषा कितनी सशक्त है।


Madan Mohan Bishtposted toPahadi Classes
August 16, 2011
इन कुमाउनी शब्दों (गंध- words related to smell) के हिन्दी- English समानार्थी शब्द ही नहीं हैं आप भी दैखें :
गनैन
सिद्डैन
हन्तरैन
चुरैन
भुटैन
सुनैन
किडैन
भैसैन
हिन्दी में बू या बदबू English में bad smell या foul smell बोला जाता है।
कितनी शशक्त है हमारी मातृ भाषा फ़िर भी उपे्क्षित :( (

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Ajay Kanyal
 
कुमाऊनी शब्दकोष ~
कुछ कुमाऊँनी क्रिया शब्द
( एक प्रयास न्यूनताओं पर सुधार आपेक्षित )
१. अलबलाट :- जल्दीबाजी
२. इतराट :- ओछापन
३. कचकचाट :- व्यर्थ बोलना
४. कुकाट :- बहुत ज्यादा बोलना
५. खितखिताट :- जोर से हँसना
६. चिचाट :- डर कर चिल्लाना
७. चिङचिङाट :- व्यर्थ का क्रोध
८. छलबलाट :- इतराना
९. टिटाट। :- जोर-जोर से रोना
१०. टपटपाट :- लगातार टपकना/कुछ खाने की लगातार इच्छा होना
११. तरतराट :- लगातार एक धारा के रूप में बहना
१२. थरथराट :- डर/कमजोरी के कारण पाँव काँपना
१३. दल्दिराट :- दरिद्रता प्रकट करना
१४. धकधकाट :- डरना
१५. नौराट :- कराहना
१६. बलबलाट :- उच्छृखलता
१७. बिलबिलाट :- दर्द के कारण रोना
१८. भिभाट :- जोर-जोर से रोना
१९. भुभाट :- जोर की आवाज
२०. मचमचाट :- मन्द स्वर में लगातार बोलना
२१. मणमणाट :- लगातार बोलना
२२. सकपकाट :- घबराजाना
२३. सकसकाट :- अधिक रोने के कारण साँस लेने में दिक्कत होना
२४. सुसाट :- हवा चलने की आवाज
२५. लटपटाट :- समय बर्बाद करना
२६. लरबराट। :- हङबङी

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
ईजा माँ
बाज्यू पिताजी
ठुलबाज्यू ताऊ
ठुलईजा ताई
काक चाचा
काखी/काकी चाची
आमा नानी/दादी
बुबू नाना/दादा
दीदी (पुषयांनी) बुआ
भीना फूफा
मामा मामा
मामी मामी
जेड़जा बडी मौसी
कैंजा मौसी
जेड़बाज्यू/जेठबाज्यू बडे मौसा
कंसबाज्यू मौसा
च्यल बेटा
ब्वारी बहू
च्येली बेटी
जमां दामाद/जामाता/जमाई
दाद बडा भाई
भौजी भाभी
दीदि दीदी/बडी बहन
भीना जीजा
भ्या-बैडी(भाई बहन और इनका नाम भी लेते है)
सौर ससुर
सास सास
ज्यठसौर ससुर के बडे भाई
कांससौर ससुर के छोटे भाई
जेठिसास ससुर की भाभी
ममीसौर पति/पत्नि के मामा
ममीसास पति/पत्नी की मामी
ससुर की बहन को भी सौरज्यू कहते है
ज्याठज्यू साला बडा
साव साला
साइ साली
ज्येठसाइ/पूंनी बडी साली
दीदी/बैडी सरहज
सम्दी समधी
समदनि समधन
भद्यो व भद्ये -भाई का लड़का व लड़की महिला के लिये
जेठजी पति का बडा भाई
जिठानि जेठानी
द्योरान देवरानी
द्योर देवर
नद ननद
पूनी ननद बडी
भांणज भानजा
भांणजी भांनजी
भतिज/भतिजि भतीजा/भतीजी
मामी के भाई बहन से कोई रिस्ता नही होता है शादी भी हो सकती है पर आदर हेतु चाचा-चाची बोल सकते है!

received from facebook

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Godhan Singh Bisht
 
कुजरती चीज (natural)
चलक -- भूकम्प
बजर -- बज्रपात (बिजली गिरना)
इन्नाडि --- इंद्रधनुष
अगास -- आकाश
पताव -- पाताल
डाव -- ओले
ह्यूं --- बरफ़ (बर्फ)
चाल-चमकन - -- आसमानी बिजली चमकना
घौडाट-भिडाट -- बादल का गरजना
खलक --- आवाज की प्रतिध्वनि
छौव --- भूत
द्याप्त --- देवता
म्आंस-मन्नखि ---- इंसांन

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
पहाड़ में समय की गणना बड़े दिलचस्प तरीके से होती है -
१- अल्लै ऐ जूल - मतलब आदमी आधे पोने घन्टे बाद ही आऐगा .
२- झिट घड़ि में ऐ जूल - यहां भी आदमी एक दो घन्टे के लिए गया .
३- बस उण जाण छ - आदमी कम से कम तीन घन्टे के लिए गया समझो .
४- एक मिनट में ऐ जूल - ये एक मिनट की अवधि आधे घन्टे की होती है .
५-एक सैकेन्ड में ऊं हां तु बैठ - मतलब दस मिनट तक इन्तजार करो .
६- घन्टेक में ऐ जूल - मतलब तीन चार घन्टे कम से कम .
७- पोरू या परसों - ये भूतकाल का आठ दस दिन से लेकर दस पन्द्रह साल का समय हो सकता है (उदाहरण - बताओ यार तैक ब्या पोरु हई भै . मेकैं भलीके याद छ . आज तैक च्योल दस में पुजि गो बल और चेलि बेउण हैलै बल )
८- तत्ति कैं डाना परून लै - मतलब पूरे दिन भर का रास्ता .
९- पार सामैणि में देखि रौ - मतलब तीन चार घन्टे का रास्ता .
इसी प्रकार मापने के लिए भी एक छिट दूध ( कम से कम आधा गिलास ) एक तुड़ुकि ( लगभग एक गिलास ) द्वि गुद चावलाक ( एक दो पाव चावल ) मूठेक चावल ( लगभग आधा किलो )
ये मात्राऐ देने वाले की नीयत और दरियादिली पर बढ भी जाती हैं .


Facebook courtesy


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
कुछ तकलीफ या बिमारी कुमाउनी में ।
ख़्वर पीड़
अध् कपाई
आँखि
आनण
गन्या
नकसीर
घुंण्त
हप्पू
कंठमाव
कुकैलि
जर
एकनर
दादुर
काकड़
पिसूड़
पित्त
ब्योंजि
सित्त पित्त
उन्हां उभां
उड़भाड़
खवाई
तवाई
छ्यर्
कै
जुक
पिटंग
फट्यूड़
कत्या
नंगचड़

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22