Author Topic: Poems on Pahad By Geetesh Negi Ji -गीतेश नेगी जी की कविताये  (Read 16022 times)

geetesh singh negi

  • Newbie
  • *
  • Posts: 38
  • Karma: +5/-0
घुर घुगुती घुर

 
हैरी डांडीयूँ  का बाना ,हिवांली कांठीयूँ  का बाना
बांजा रै गईं  जू  स्यारा  ,रौन्तेली  वूं  पुन्गडीयूँ  का बाना
घुर घुगुती घुर ...............

 रीति  कुडीयूँ  का बाना ,जग्वल्दी चौक शहतीरौं का बाना
 खोज्णा  छीं सखियुं भटेय जू बाटा ,बिरडयाँ वूं  अप्डौं  का  बाना
  घुर घुगुती घुर ...............

रूणी   झुणक्याली दाथी  ,गीतांग  घस्यरीयूँ  का बाना
बन्ध्या  रे  गईं  जू ज्युडौं  ,निर्भगी वूं  बिठगौं का बाना
घुर घुगुती घुर ...............

टपरान्दी अन्खियुंऽक कू सारु , बगदी अस्धरियूँऽ   बाना
तिस्वला रे  गईं जू साखियुं  ,यखुली वूं छोया -पंदेरौं का बाना
घुर घुगुती घुर ...............


पिंगली फ्योंली रुणाट ,खून बुरंशीऽ का बाना
मुख चढैकि बैठीयूँ  जू जिदेर ,फूल वे ग्वीराल बाना
घुर घुगुती घुर ...............

रीती रुढीयुं का जोग ,बुढेन्द बसंत भग्यान
इन्न लौन्प कुयेडी ,टपरान्द रे ग्या  असमान
चल गईं फिर भी छोडिक जू मैत्युं ,वूं पापी पुटगियुं का बाना
घुर घुगुती घुर
घुर घुगुती घुर
घुर घुगुती घुर .....................


स्रोत : अप्रकाशित गढ़वाली काव्य संग्रह " घुर घुगुती घुर " से , सर्वाधिकार सुरक्षित (गीतेश सिंह नेगी )
(http://geeteshnegi.blogspot.in/2012/12/blog-post_13.html)

geetesh singh negi

  • Newbie
  • *
  • Posts: 38
  • Karma: +5/-0
वाडा कु ढुंगु

ब्याली अचानक लमड्डी गयुं मी  एक जघह मा
अलझि गयौं सडाबड़ी  मा एक ढुंगा से
और व्ये ग्यूं चौफुंड वक्खी  मा 
चोट की पीड़ा  बहुत व्हये
और अचानक मिल ब्वाल
औ ब्वई  मोर  गयुं  मी
झन्णी जैक्कू म्वाड़ म्वार  होलू
कैल धार  होलू  यु  ढुंगु   यम्मा ?
थोड़ी देर मा व्हेय ग्या सब ठीक
पर व्ये ढुंगा की ढसाक से
मी रौं जम्मपत्त झन्णी कत्गा दिनों तक
और स्येद आज भी छोवं
किल्लेय की  ढुंगा की चोट करा ग्या याद बचपन की
और कैर ग्या घाव हरा सम्लौंणं का
याद करा ग्या गौं का बाटा कु वू
वाडा कु ढुंगु
जू अल्झंणु रेहंदु छाई
रोज कै ना कै का खुटोउन  फ़र
पर जेथे कुई रड्डा भी नि सकदु छाई
किल्लेइ  की वू छाई "वाडा कु ढुंगु "
भोत गाली दीन्दा  छाई आन्दा जान्दा लमडदरा  लोग
व्ये ढुंगु थेय
पर झणी किल्लेय,मी अब सम्लाणु छोवं
व्ये  वाडा कु ढुंगु थेय
जोडिकी हत्थ ,अस्धरियुं का साथ
जैल याद दिला देय  मित्थेय
म्यारू बोगयुं और ख़तयूँ
निरपट पान्णी  की खीर सु बचपन
अब जब भी जन्दू मी  वीं  सड़क का ध्वार से
ता  सबसे पहली देखुदु व्ये ही ढुंगु  थेय
और फिर मनं  ही मनं
सेवा लगाई  की  बोल्दु
जुगराज रेए  हे  वाडा का ढुंगा
रए सदनी व्ये ही  बाट  मा
सम्लाणु रहे  इन्ही  हम्थेय
जू बिसिर  ग्यें   अपडा गौं कु बाटू   
जू  बिसिर ग्यें  म्यरा गढ़ -कुमौं कु बाटू 
जू बिसिर ग्यें    म्यरा गढ़ -कुमौं  कु बाटू


रचनाकार:        गीतेश सिंह नेगी (सिंगापूर प्रवास से )
अस्थाई निवास:  मुंबई /सहारनपुर
मूल निवासी:     ग्राम महर गावं मल्ला ,पट्टी कोलागाड
                   पोस्ट-तिलखोली,पौड़ी गढ़वाल ,उत्तराखंड
स्रोत :             म्यारा ब्लॉग " हिमालय की गोद से " व " पहाड़ी फोरम " मा  पूर्व - प्रकाशित (सर्वाधिकार सुरक्षित )
                    (http://geeteshnegi.blogspot.com)

geetesh singh negi

  • Newbie
  • *
  • Posts: 38
  • Karma: +5/-0

 
A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by an Asian poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a south Asian poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a SAARC countries poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by an Indian subcontinent poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by an Indian poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a North Indian poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a Himalayan poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a Mid-Himalayan poet ; A Poem based destructive plan causing catastrophe in India by an Uttarakhandi poet ;A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a Garhwali poet from Mumbai ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a Garhwali poet


गढ़वाली कविता : योजना

 

तुम

जू बण्या रौ

परवाण

दिणा रौ बचन

घैंटणा रौ सौं

विकासऽक नौ फर

अर बणाणा रौ

योजना फर योजना

साखियुं भटेय

पर ऐंशुऽक बस्गाल

बोग ग्यीं सब योजना तुम्हरी

मेरी खाली कुड़ी

अर तुम्हरी बांझी पुन्गडी जन्न

अर तुम !

सैद मीस्सै ग्ये व्हेला झट्ट से फिर

बणाण फर

एक और योजना

जू बूढेय जैली

कटद कटद उक्काल म्यार गौंऽकी

पर नी पहुँचली ज्वा सैद कब्बी

विकास

और वूं निर्भगी छ्वारौं जन्न

जू अज्जी तक नी आई बोडिक
म्यार मुल्क ?



रचनाकार : गीतेश सिंह नेगी ,सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत :म्यार ब्लॉग हिमालय की गोद से (http://geeteshnegi.blogspot.in/2012/06/blog-post.html )
 


A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by an Asian poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a south Asian poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a SAARC countries poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by an Indian subcontinent poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by an Indian poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a North Indian poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a Himalayan poet ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a Mid-Himalayan poet ; A Poem based destructive plan causing catastrophe in India by an Uttarakhandi poet ;A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a Garhwali poet from Mumbai ; A Poem based on destructive plan causing catastrophe in India by a Garhwali poet
[/color][/size][/b]

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22