Author Topic: Ceremonial Songs Of Uttarakhand - फ़ाग/मंगल गीत/संस्कार गीत/शकुन आखर  (Read 43103 times)

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
नामकरण हेतु शकुन आंखर

आज बाजी रहे, बाजा बाज रहे,
रामीचन्द्र दरबार, लछीमन दरबार।
बधाईया रातों ए बाज बाजिये राति ए,
तू उठ रानी बहुआ, सीता देहि बहुआ,
बहुरानी ओढो, दक्षिण को चीर, ए
हम तो ओढे़ रहे, हम तो पैरि रहे,
अपने बाबुल प्रसाद, ससुर दरबार, प्रिय परसाद,
लला के काज, संय्यां के राज, बलम दरबार,
बधाईयां राती ए, ए सोहाई है रातो ए,

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
बच्चे को नामकरन के दिन प्रथम सूर्य दर्शन कराया जाता है, इस अवसर पर निम्न शकुन आंखर गाया जाता है-

अपना पलना, अपना पलना,
अपना पलना, हस्ती घोड़ा,
हम जानू, हम जानू,
बबज्यू मेरा, कक्ज्यू मेरा,
मेरा सूरिज जुहारए,
बाला की, भाई बाला की माई,
हरखि, निरखि,
हम जानू, हम जानू बबज्यू,
ककज्यू मेरा, सुरिज जुहारए।

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
सूर्य दर्शन के समय गाये जाना वाला शकुन आंखर
 
लिपि घैंसी, अंगना में,
पुरी हाला चौकी,
तसु चौका बैठाल पंडित ज्यू,
रामीचन्द्र पंडित लछीमन,
आन ए पाट,
बुणै हाली डोरी,
तसु डोरा पैरली सीता देही,
सुमित्रा देही, बहुराणी,
आजु बधावन नगरी सुहावन।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
विवाह के अवसर पर  गया जाने वाला  नंदी मुख श्राद्ध का मांगळ (गढ़वाली लोक गीत )

          The song is about inviting their ancestors to attend wedding ceremony .

                Initially the ancestors are invited in initial wedding ceremony to bless the groom/bride
 In the song the society assume that the ancestors in heaven above the sky. the song presumes that the path from heaven to the earth is having rogh roads, hills, spiky bush. and the singers ask the live members to clean the roads by various appliances as spades, reaping hooks etc
 there is mention and assurance to ancestors souls that we shall offer libation of water and milk to the ancestors .
At last the ancestors of nine generations are requested to bless
           ऐ जावा पितरा ऐ जावा पितरा मैं मात लोक     
            ऐ जावा पितरा ऐ जावा पितरा मैं मात लोक    ए  s s s


           तुम तैं पितरा  तुम तैं पितरा न्यूत बुलोंला
           तुम तैं पितरा  तुम तैं पितरा न्यूत बुलोंला ए  s s s
         
           कनकैक ऑन्ला कनकैक ऑन्ला मै मात लोक
           कनकैक ऑन्ला कनकैक ऑन्ला मै मात लोक ए s s s


           मै मात लोक मै मात लोक किंकर्युं का झ्याळ
             मै मात लोक मै मात लोक किंकर्युं का झ्याळ ए s  s s


            किंकर्युं का झ्याळ किंकर्युं का झ्याळ  पोड पखाण
            किंकर्युं का झ्याळ किंकर्युं का झ्याळ  पोड पखाण  ए  s s s


          कोरी तुमड़ी  ल़ा कोरी तुमड़ी ल़ा कुयादी फटोला
           कोरी तुमड़ी  ल़ा कोरी तुमड़ी ल़ा कुयादी फटोला


             पयाँ बींड़  दाथिन पयाँ बींड़  दाथिन  जील कटला
              पयाँ बींड़  दाथिन पयाँ बींड़  दाथिन  जील कटला
               
              घौणु   सबळयूँन  घौणु   सबळयूँन  पाड़ फोडला
              घौणु   सबळयूँन  घौणु   सबळयूँन  पाड़ फोडला  ए  s s s


            अपणा  पितरों कु अपणा  पितरों कु बाटो बणोऔल़ा
             अपणा  पितरों कु बाटो बणोऔल़ा  ए  s s s


            चांदी सांगउ चांदी सांगउ तुमकू लगौन्ला
            चांदी सांगउ तुमकू लगौन्ला ए s s s
   
            तुम बिन पितरो तुम बिन पितरो कारज नि होंद
            तुम बिन पितरो कारज नि होंद  ए
 
             ताम्बा परात  मा ताम्बा परात  मा तर्पण द्युन्ला
             ताम्बा परात  मा तर्पण द्युन्ला ए s s s
 
            गाई दूधन गाई दूधन तर्पण द्योला
             गाई दूधन तर्पण द्योला  ए s s  s


             ऐ जावा ऐ जावा पितरो मैं मात लोक
             ऐ जावा पितरो मैं मात लोक  ए s s s


             कै जलमो हवालो  कै जलमो हवालो पूत सपूत
              कै जलमो हवालो पूत सपूत  ए  s s s


              जौन हमकू जौन हमकू न्यूतो भिजाई
               जौन हमकू न्यूतो भिजाई  ए


               जो ह्वाला तुमारा जो ह्वाला तुमारा  पिंड पळयावूँ
               जो ह्वाला तुमारा  पिंड पळयावूँ  ए s s s


                पिंड पळयांवुं पिंड पळयांवुं  अंचळी ढ्क्याओ
                 पिंड पळयांवुं  अंचळी ढ्क्याओ ए s s s


                सागसी ह्व़े जाओ  सागसी ह्व़े जाओ नौ पीढयूँ  का
                 सागसी ह्व़े जाओ नौ पीढयूँ  का  ए


                 नौ पीढयूँ का नौ पीढयूँ का  सात साक्युं का                   
                नौ पीढयूँ का  सात साक्युं का ए s s


                पितर लोक पितर लोक चमकै उठाला 
                 पितर लोक चमकै उठाला  ए s s s


                 मुळकै हैंसाला मुळकै हैंसाला जुप कै बैठाला
                   मुळकै हैंसाला जुप कै बैठाला  ए s s s


                   हमारो कारज हमारो कारज सुफल करियां
                   हमारो कारज सुफल करियां  ए s s s


                  दे द्याओ पितरो दे द्याओ पितरो अपणो दुरबा
                  दे द्याओ पितरो अपणो दुरबा ए


                  सदा रैं अमर सदा रैं अमर पितर लोक
                  सदा रैं अमर पितर लोक  ए s s  s


                 दे जावा पितरो दे जावा पितरो आशिरबाद
                 दे जावा पितरो आशिरबाद ए s s s
 
 Reference : Totaram Dhoundiyal Shrimati Shailja Thapliyal, Mangal, Dhad Prakashan , Dehradun
Copyright @ Bhishma Kukreti bckukreti@gmail.com

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
 Beti Tain Shiksha : Garhwali Father Daughter Wedding Song (Mangal)

             

                           Bhishma Kukreti

 

 बेटी तैं शिक्षा -मांगळ

द्वी घरूं की लाज बेटी त्यारा हाथ  माँ द्वी घरूं की लाज बेटी त्यारा हाथ  माँ

धब्बा ना लगै देई बेटी ! मेरो नाक मा

बेटी! , मेरो नाक मा

 

सासू गाली देली बेटी ! बुरु नि माँनणु सासू गाली देली बेटी ! बुरु नि माँनणु

मन मर्जी काम बेटी ! कबि नि करणु

बेटी !  कबि नि करणु

 

डांडा बिटेन एली बेटी ! बिठ्की बिसैली डांडा बिटेन एली बेटी ! बिठ्की बिसैली

शाबाश मेरी लाडली ! कनो नाम उठैली

कनो नाम उठैली

 

आज तोड़ी याल मिन फुलून की क्यारी आज तोड़ी याल मिन फुलून की क्यारी

नौनी ईं समज्याँ समदी ! नौनू से प्यारी

समदी ! नौनु से प्यारी

सन्दर्भ : तोताराम ढौडियाल , श्रीमती शैलजा थपलियाल , गढवाली मांगळ

Translation of the mangal-----

Father or mother says to bride!

The images of both families is in your hand , dear daughter!

My image is in your hand and don’t do any such work which spoils my name

If mother in law abuses dot feel bad!

Don’t do any work without discussing to all !

You will come with grass from hills . I shall be proud on you for your hard work in in laws house

Father to in law of bride----

My daughter was  follower of my farm, I plucked the flower handed over to you.

Please love her more than your son! )

 

       In every community, whether the marriage is performed in court or through traditional ways, the parents and elders offer teaching to the bride for taking care and do those work which are full of pride.

 There hundred of wedding songs related to father speaking to his bride daughter as

 

        Daddy’s Little Girl (Father-Daughter dance-Song)

And you are daddy’s Little girl

You’re the end of rainbow……

You’re the spirit of Christmas

You’re everything nice

A and you’re daddy’s little girl.

(Lyric by Al Martino)

 

Hero (Father-Daughter dance song)


There’s a hero

If you look inside your heart ……

Its along road

When you face the world alone

No one reaches out a hand

For you to hold

You can find love

If you search within yourself…..

(By Mariah Carey )

Compiled and commentary by Bhishma Kukreti

 


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
            Bidai ku Mangal : Garhwali Wedding farewell Folk Song

                         Bhishma Kukreti

(African Wedding songs, American Wedding Songs, Asian Wedding song, European Wedding Songs, Pacific region wedding songs)

The following song is sung by female singers at the time of departure of groom marriage party from bride’s house taking bride with them. The song is very heart touching and bride including females weep at this time of separation

          बिदै  क मांगळ

 

पैटावा पिताजी पैटावा पिताजी प्युंळी पिटार

पैटावा पिताजी प्युंळी पिटार ए

पैटावा पिताजी पैटावा पिता जी घोड़ी बयेडि

पैटावा पिता जी घोड़ी बयेडि ए

मीन जाण पिताजी मीन जाण पिताजी चौदिशुं  पार

मीन जाण पिताजी चौदिशुं  पार ए

जा मेरी लाडी जा मेरी लाडी सदा रै अमर

जा मेरी लाडी सदा रै अमर ए

सदा अमर  रै सदा अमर रै  सदा स्वागीण

सदा अमर  रै सदा अमर रै  सदा स्वागीण

पिता जनक की पिता जनक की कोख सूनी ह्वाई

पिता जनक की कोख सूनी ह्वाई  ए

माँ सुनंदा की माँ सुनंदा के कोख सूनी ह्वाई

अब रयाँ मा जी अब रयाँ मां जी निंद सुनिंद

अब रयाँ मां जी निंद सुनिंद ए

अब रयाँ पिताजी अब रयाँ पिताजी निंद सुनिंद

बेटी बिवै  की  बेटी बिवै  की तीरथ नयाल

बेटी बिवै  की तीरथ नयाल ए

बद्री बिशाल बद्री बिशाल केदार नए आल

बद्री बिशाल केदार नए आल  ए

 In this song first the bride requests her father to arrange boxes, horse etc for departure as she had to go very far to her in laws village.

The father offer blessing the bride for living forever and living with her husband forever. The singers say that now the house is empty without the daughter of bride’s father. There is simile here between king Janak and queen Sunanda and bride’s parents

The singers tate that marrying the daughter means completing a very big responsibility and  is as good as bathing in Badinath and Kedarnath.

(song is published in Garhwali Mangal by Totaram Dhoundiyal)

  Mostly in all community, there was tradition of singing farewell song. The author took privilege to offer readers of wedding farewell songs of various regions as

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
    Byoli Bwad:  Dialogues between Father-Daughter  in Garhwali Wedding Folk Song 

                                 Bhishma Kukreti

(Abstract: There are examples of wedding songs of dialogues between daughter and parents  of Garhwal (India), America or English language, Latvia, Armenia, China, Arabic countries  in this write up )


  When the marriage procession start journey back from bride house to groom house, the singers sing the following song on behalf of bride. The wedding folk song is very touchy and the females of bride side start crying including bride

                ब्योली ब्वाद (मांगळ )

             बगीचा का फूल मांजी स्ब्युंन  त्वाड , बगीचा का फूल मांजी स्ब्युंन  त्वाड

            खुकली   की बेटी मांजी सब्युंन छ्वाड   

             मांजी सब्युंन छ्वाड   

              उठा स्वामी !  कसा घोड़ी , पैटा द्यालै तरफों तैं उठा स्वामी !  कसा घोड़ी , पैटा द्यालै तरफों तैं

                ना रोई ब्व़े , न रवा बुबाजी ! मिं ससुरास जाणु छौं

               मिं ससुरास जाणु छौं

               ना र्वावा ब्वाडा जी, ना रो बोडि जी , मिं ससुरास जाणु छौं  ना र्वावा ब्वाडा जी, ना रो बोडि जी , मिं ससुरास जाणु छौं

               ना रोवा  काका जे, ना रो काकी , पराया देस जाणू छौं

                पराया देस जाणू छौं

                ना र्वावा ममाजी , ना रो ममी जी , पति को संग जाणू छौं ,  ना र्वावा ममाजी , ना रो ममी जी , पति को संग जाणू छौं

                 न रो  भैजी , न रो बौजी , मिन अब घर बसाण

                 मिन अब घर बसाण

                   मेरी दगड्या सबि मै ना भुल्याँ कबि, मेरी दगड्या सबि मै ना भुल्याँ कबि

                   मी त परदेसी ह्व़े गयों अबी

                       मी त परदेसी ह्व़े गयों अबी

 Reference : Totaram Dhoundiyal, Garhwali Mangal

 

                      Bride  Says ….

    All plucked the garden flowers

  After marriage,   Parents leave daughters

Dear husband! Come on! Make horse ready for going from here

Mother! Don’t cry, Father! Don’t cry; me departing for house of my lover

Elder Uncle!  Don’t cry, Elder Aunt! Don’t cry; me departing for house of in law

Younger Uncle! Don’t Cry, Younger Aunt! Don’t cry; me departing for new area just now 

Maternal uncle! Don’t Cry, Maternal Aunt! Don’t cry; me departing with my protector

Elder brother! Don’t Cry, Sis in law! Don’t cry; from now, my husband is my life partner

Darling friends! Don’t forget me ever.

From now, I am foreigner forever

              Father-Daughter Dialogues in Wedding Songs from Other countries

The Garhwali (Indian) song is in sad melodious tone and the song make people cry. The first line is figurative one that as people plucks the flowers, flower has to leave stem and same way the daughter has to leave parent’s house. This song is one of the examples of pathos rapture in Garhwali folk songs with different nature.

 There are many father-daughter dance song in English, however, the song  ‘Sing me a Song again , daddy’ sung by Famous Philippine icon Jose Mari Chan and lyric Cherie Gil has same similar emotions as the Garhwali folk wedding song ‘Byoli Bwad’ has . the song is as :

            Sing me a song daddy by Jose Mari Chan and Cherie Gil

              Daughter says –

              I am asking your blessing

            As I’m about to be wife

        Of a man I know who loves me

         And I am proud to be his bride

Dad time has come for me leave your side…..

Written by - Bhishma Kukreti

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
When the marriage party taking bride reaches at the village, a few respectable villagers who did not go to marriage party welcome the marriage party at the village gate. After reaching on the country yard (chauk of groom house) , two persons separately take groom and bride at the door step of marriage ceremony room. There, the groom’s mother and other female family members throw rice mixed with turmeric dust and coins circling the hand around heads of bride and groom. There is pooja (rituals) at the door step. Then there is a ritual at the entry gate inside the room. Then bride and groom sit before Pooja Chaukal. There, there are a couples of rituals in Sanskrit and many customs are performed as Knagn todan, etc.

  There is  Mukh Dikhai, Sasbhet, gifting etc in the marriage pooja room. There is enthusiasm in the atmosphere as there are funs; funny talks etc in the room. Bhabhi would be teasing groom and many women would be teasing bride too.

        When there are performances of various rituals and customs, the female singers inside the room and professional female das singer outside the room sing the ‘Welcoming Bride  Songs or Byoli Byola Grih Pravesh. The following wedding song of welcoming bride song is a symbolic song. In thi osng the bride is Sita and groom is Ram , groom’s mother is equal to Kaushyalya….:


            ब्योली -ब्योला गृह प्रवेश

      लै आयूँ मांजी लै यूं मांजी सीता बिवैक

       लै यूं मांजी सीता बिवैक  ए

       त्वेकूण  लौऊँ त्वेकूण  लौऊँ पाणि पन्द्यर 

      त्वेकूण  लौऊँ पाणि पन्द्यर  ए

      मा कौशल्या को मा कौशल्या को नाम उठाई

        मा कौशल्या को नाम उठाई ए

     राजा जनक को परण पूरो काई

     राजा जनक को परण पूरो काई ए

    सुजातअ  होली सुजातअ  होली  दैणि खुटी ध्वेली

    सुजातअ  होली  दैणि खुटी ध्वेली  ए

    कुजातअ होली कुजातअ होली मुख मोड़ी रैली

    कुजातअ होली मुख मोड़ी रैली ए

   बैठ मेरी सीता बैठ मेरी सीता आतोल भण्डार

   बैठ मेरी सीता आतोल भण्डार  ए

    जोंकी ह्वेली सीता जौंकी होली सीता सोना सिंगाड़

     जौंकी होली सीता सोना सिंगाड़  ए

    सोना सिंगाड़  सोना सिंगाड़ चंदी किवाड़

   सिंगाड़ चंदी किवाड़ ए

     वी होली सीता वी होली सीता आतोल भण्डार

     वी होली सीता आतोल भण्डार  ए

    जख होली सीता जख होली सीता जोत उन्दंकार

   जख होली सीता जोत उन्दंकार  ए

   सदा रैंनि  अमर  सदा रैंनि  अमर बर ब्योली जोड़ी

   सदा रैं अमर बर ब्योली जोड़ी

     दूब सि मौळयाँ दूब सि मौळयाँ चाम सि फुळयाँ

       दूब सि मौळयाँ चाम सि फुळयाँ

 

Mom! I brought Sita after marrying her.

For you , she is a helping hand for many house works

For me, she is companion, a lover!

I made mother Kaushalya’s name famous

I made to complete the promise of King Janak

She would be civilized and would wash right feet

If she would be uncivilized, she would be quarrelsome

Sit! My dear Sita .you are similar to never ending store of luck and materials

That who w weds sita , he will have gold door head

That who weds sita would get the silver door

Sita is the sign of never ending store

Wherever  Sita would be there would be bright light (Good Luck)

Mother and other female members:

Be your companionship for forever!

Be healthy for forever as evergreen Doob grass and be famous and prosperous! As Cham tree.

              A significant custom next day of Marriage

     Most of the Garhwali wedding customs and rituals of Garhwal are as per Hindu rules. However, there is a regional touch in the next day custom. The young married and unmarried females take the bride to source of water for fetching the water. The Pundit is does perform a very short ritual there.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
 
Prayag Pande

बेटी की विदाई के समय का कुमांऊनी संस्कार गीत _

काहे कि छोडूँ मैं एजनी पैजनी काहे कि लम्बी कोख ए ?
बाबु कि छोडूँ मैं एजली पैजली माई कि लम्बी कोख ए |
काहे कि छोडूँ मैं हिल मिल चादर , काहे कि रामरसोई ए ,
भाई कि छोडूँ मैं हिल मिल चादर , भाभि कि रामरसोई ए |
छोटे - छोटे भाईन पकड़ी पलकिया हमरी बहिन कांहाँ जाई ए ,
छोडो - छोडो भाई हमरी पलकिया , हम परदेसिन लोक ए |
जैसे जंगल की चिड़ियाँ बोलै , रात बसे दिन उडि चलै ,
वैसे बाबुल का घर हम धिय सोहें , रात बसे दिन उडि चलै |
बाबुल घर छाडी ससुर का देस , छाड़ो तुम्हारो देस ए ,
भाईन घर छाडी जेठ का देस , छाड़ो तुम्हारो देस ए |
माई कहे बेटी नित उठि अइयो, बाबु काहे छट मास मे,
भाई कहे बैना काज परोसन ,भाभि कहे क्या काज ए ||

( कुमांऊँ का लोक साहित्य )

विनोद सिंह गढ़िया

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,676
  • Karma: +21/-0
इतिहास की दहलीज पर ‘शगुन आखर’

‘शकुनादे काज ये अति नीका सो रंगीलो, पाटल अंचलि कमलै को फूल सोदी फूल मोलावंत, गणेश, रामीचंद, लछिमन, भरत, चतुर लवकुश जीवा जन्मे’।
किसी भी शुभ कार्य में भगवान की स्तुति में इन दुर्लभ शब्दों से मिलकर बनी ये पंक्ति कुमाऊंनी संस्कृति के ‘शगुन आखर’ गीतों का वो हिस्सा हैं जिसे 21वीं सदी की आधुनिकता ने इतिहास की दहलीज पर खड़ा कर दिया है।
शगुन आखर गीतों में हिंदी और संस्कृत दोनों भाषाओं के शब्दों का समावेश है।

वेद-पुराणों में देवताओं की स्तुति के लिए उल्लिखित मंत्रों का जब लोकीकरण हुआ तब यही मंत्र शगुन आखर रूप में जन्मे थे। विवाह, जनेऊ, नामकरण संस्कार में शगुन गीतों को गाने की परंपरा रही है। इनके माध्यम से पौराणिक देवता गणेश, लक्ष्मी, शिव के साथ ही विष्णु अवतार मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम, शेषावतार लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न, लव-कुश समेत कई देवताओं के नाम लिए जाते हैं। देवस्मरण के बाद जिस घर में शुभ कार्य हो, उस परिवार के प्रत्येक व्यक्ति का नाम गीतों के माध्यम से ही पुकारते हुए सुख-समृद्धि की प्रार्थना की जाती है।

शगुन आखर गीत अपनी उत्पत्ति के बाद से ही पहाड़ की संस्कृति का अध्याय बन गए थे। लेकिन बदलते वक्त के साथ बदली जीवनशैली के चलते आज यही अध्याय इतिहास के पन्नों में शामिल होने के करीब है।
जिन बुजुर्ग महिलाओं को कभी मांगलिक कार्यों में गीत गाने से फुर्सत नहीं होती थी, आज उनकी कोई पूछ नहीं है। जिस घर में बड़े-बुजुर्ग हैं वो इस रिवाज को निभाने के लिए महिलाओं को बुलाते जरूर हैं, लेकिन गीतों को सुनने-समझने वाला कोई नहीं होता।

ऐसे होता है गायन

शगुनाखर गीतों की शुरूआत नारी भजनावली से होती है। फिर मोतीमाणी, गणेश पूजन, निमंत्रण, मातृ पूजा, बसोधारा, आवदेव, पुण्यावाचन, कलश स्थापन, नवगृह और आखिर में सिंचन गीत गाया जाता है। गीतों को गाने का प्रहर अलग-अलग रहता है। विवाह में बारात के प्रस्थान-आगमन के साथ-साथ सुबह और शाम के समय ही गीत गाए जाते हैं। बुजुर्ग महिलाओं का समूह एक सुर, लय और ताल में गीत गाता है।

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22