Recent Posts

Pages: [1] 2 3 4 5 ... 10
1


जसपुर के नाव /नाओ /नावो डांड  पर शिल्पकारों का कब्जा (Jaspur, Dwarikahl block History)
-
(गंगासलाण का इतिहास व वैशिष्ठ्य श्रृंखला )
-
  आलेख : भीष्म कुकरेती
-
 जसपुर गाँव में कई सामाजिक क्रांतियां  हुईं या कहें तो लोगों ने अपने अधिकारों के लिए कई लड़ाइयां लड़ीं , कुछ जीते कुछ अनिर्णीत रह गयीं।
  भूमिहीन द्वारा सँजैत भूमि छीनो या भूमि हस्तगत करना भी एक तरह का संघर्ष ही होता है या भूमिहीन द्वारा दूसरे की जमीन हथियाना भी तो संघर्ष  ही है ।  जसपुर गाँव में दो भूमि अधिग्रहण ऐतिहासिक हैं।  एक तो जसपुर के शिल्पकारों द्वारा नाओ /नाव /नावो डांड पर कब्जा कर उसे कृषि लायक बनाना और दूसरा सौड़ गाँव वालों द्वारा ग्वील गाँव वालों के कब्जे वाले क्षेत्र कळसूण (जसपुर का अंग ) पर कब्जा।
    आज मै नावो डांडे पर चर्चा करुंगा।
  नावो डांड जसपुर के उत्तर में दो ढाई मील पर  एक विशेष डाँड है।  नावो डांड गुडगुड्यार गदन के  ऊपर और लयड़ डांड के नीची वाला भूभाग है। नाव डांड  की एक और विशेषता है कि यहां बारामासा पानी है  शायद इसीलिए इस भूभाग को नाव डांड कहा जाता है और दो मील पश्चिम व एक मील पूर्व में कहीं भी भद्वाड़  हो उस समय  मवेशियों को पानी पिलाने यहीं लाना पड़ता था।  नाव मे  पानी ना होता तो पुरयत , भटिंडा , बांजै  धार और लयड़  में भद्वाड़ करना कठिन हो जाता। 
इस भूभाग पर जो भी खेत हैं उन पर केवल शिल्पकारों का ही कब्जा है और नीचे जखमोलाओं का कब्जा है। दिखने -सुनने में तो सरल  लगता है कि इस भूभाग पर शिल्पकारों का कब्जा है। गढ़वाली राज से लेकर गोरखा राज तक शिल्पकारों को जमीन पर कब्जा देने के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता था।  अंग्रेजों के जमाने में  शिल्पकार सवर्णों को वन भूमि को कृषि भूमि बनाने में सहायता करते थे किन्तु अपने आप जंगल की भूमि नहीं हथिया सकते थे। अंग्रेजी सरकार के प्रोत्साहन के कारण ही  जो भी खेत आज दिख रहे हैं उनका 60 प्रतिशत हिस्सा अंग्रेजों के समय में ही  हस्तगत किया गया ।  जंगल काट कर कृषि भूमि बनाने हेतु   अंग्रेजी  शासन ने ही जनता को प्रोत्साहन दिया था।  किन्तु तब भी शिल्पकार पीछे रहे क्योंकि समाज में इसे बर्जित माना जाता था।
   किन्तु जसपुर में नाव डांड की कृषि भूमि पर शिल्पकारों  का कब्जा है। नावो  डांड पर शिल्पकारों के कब्जे पर मुझे जसपुर  के सवर्णो से तीन कथाएं मिलीं। चूँकि इन कथ्यों की पुष्टि करने वाला  कोई  नहीं है तो मैं  इन कथ्यों को लोककथा ही मानकर चल रहा हूँ।
    पहला कथ्य है कि जसपुर के सवर्णों की सहमति से शिल्पकारों ने नावो डांड की खुदाई की और कृषि भूमि तैयार की।  बात हजम होने लायक नहीं है।  जिस गाँव में --एक कुकरेती मुंडीत वालों ने  एक मुट्ठी बंजर सँजैत जमीन (घीड़ी ) में मकान बनाया तो गाँव  वालों ने उन पर मुकदमा ठोक डाला। यह मुकदमा बीस तीस साल  चला। उस गाँव वालों से शिल्पकारों को सरलता से कृषि भूमि खोदने देना नामुमकिन लगता है।
    एक कथ्य है कि शिल्पकार कुल्हाड़ी , तलवार लेकर भूमि खोदने गए।  तो उन्होंने इस तरह भूमि छीनी।  इस कथ्य में भी तर्क नहीं लगता क्योंकि ऐसा होता तो शिल्पकार अन्य जगह भी यही  रणनीति अपनाते।  फिर शिल्पकार बाड़ा के नीचे जैखाळ वन की जमीन हथियाना ज्यादा तर्कसंगत होता (वैसे जैखाळ ग्वील वालों का वन भी है ) .
    तीसरा कथ्य जो मुझे मेरी दादी जी श्रीमती क्वाँरा देवी पत्नी स्व शीशराम कुकरेती ( मेरे पिता जी की ताई जी ) ने सुनाया था अधिक तर्कसंगत लगता है।  कुली बेगारी के समय अंग्रेज अधिकारियों व भारतीय अधिकारियों की भोजन पानी , परिवहन हेतु ग्रामीणों को कुली बेगार करनी  पड़ती थी और टट्टी पेशाब का ट्वायलेट कंडोम सिर पर उठाकर ले चलना पड़ता था।  ब्राह्मण जाति  होने के नाते जसपुर वालों को ट्वाइलेट कंडम उठाना या साफ़ करना नागंवारा लगा तो एक सामाजिक संधि के तहत यह निर्णय हुआ कि शिल्पकार कुली बेगार पांती   में ट्वाइलेट कंडम उठाएंगे और इसके ऐवज में शिल्पकार नाव /नाओ डांड को कृषि भूमि लायक बना सकते हैं। 
 जो भी कारण रहे होंगे शिल्पकारों को नावो डांड  भूमि अधिग्रहण में सवर्णो के विरुद्ध संघर्ष तो करना ही पड़ा होगा। संघर्ष में किस तरह सामाजिक तनाव रहा होगा यह हम आज नहीं सोच सकते।  इतिहास पर गौर करें तो पाएंगे कि  तहसीलदार ठाकुर जोध  सिंह नेगी के कारण गढ़वाल में कुली बेगार समाप्त करने हेतु कुली एजेंसी बन चुकी थी।  याने शिल्पकारों का नावो डांड पर शिल्पकारों का कब्जा 1900  से कई साल  पहले हो चुका था।  सरकारी खसरे में कब जमीन जोड़ी गयी यह देखना पड़ेगा। कुछ साल पहले नाव डांड में स्व कानूनगो श्री कृष्ण दत्त ने मकान भी बनवाया था जो अब उजाड़ हो गया है।
       
     
    यदि आपके पास भी ऐसी सूचनाएं हैं तो साजा कीजियेगा
 



सर्वाधिकार @  भीष्म कुकरेती , मुंबई , 2018
History Jaspur, History, Dhangu, History Dabralsyun, History Udaypur, History Ajmer , History Langur, History Sheela, History Dwarikhal Block, History Yamkeshwar Block
2
Myths, Religious Importance of Indian Sarsaparilla Anantmool, Anant Mul in Uttarakhand
-
Plant Myths, Religious Importance, and Traditions in Uttarakhand (Himalaya) - 15
By: Bhishma Kukreti, M.Sc. (Botany) (Mythology Research Scholar)
Botanical name –Hemidesmus indicus
English Name –Indian Sarsaparilla
Local name – Anantmul ,Anantmool,
Hindi Name – Anant Mool
Sanskrit Name –Anant
Economic benefits – Medicinal values in disorder of indigestion , asthma, cough fertility, dysentery, fever , menorrhagia etc. 
                   Myths, Religious Importance and Traditions
-

     Ananta Mool for Mangal (Marsh)  Grah Shnati मगल गढ़ शांति
                When a person is affected by non-favor from Marsh (Mangal Dosh) star, the astrologer or Karmkandi Brahmin suggests to  tie Anatmool root by a red tag and purify the both and put on left arm of female and right arm of males on Ravipushya Nakshatra of Sunday.
 There are mantras for uprooting the root, purification nd when the root is tagged.
             Anant Mul in Mool Shanti Karmkand  मूल शांति पूजा
  Anantmul is also used in Mul Shanti Puja
-
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai 2017
-
Plant Myths  , Religious Importance, Traditions , Garhwal, Uttarakhand ; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Kumaon, Uttarakhand ;Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand, Himalaya; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand, North India; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand, South Asia


3
Myths, Religious Importance of Indian Sarsaparilla Anantmool, Anant Mul in Uttarakhand
-
Plant Myths, Religious Importance, and Traditions in Uttarakhand (Himalaya) - 15
By: Bhishma Kukreti, M.Sc. (Botany) (Mythology Research Scholar)
Botanical name –Hemidesmus indicus
English Name –Indian Sarsaparilla
Local name – Anantmul ,Anantmool,
Hindi Name – Anant Mool
Sanskrit Name –Anant
Economic benefits – Medicinal values in disorder of indigestion , asthma, cough fertility, dysentery, fever , menorrhagia etc. 
                   Myths, Religious Importance and Traditions
-

     Ananta Mool for Mangal (Marsh)  Grah Shnati मगल गढ़ शांति
                When a person is affected by non-favor from Marsh (Mangal Dosh) star, the astrologer or Karmkandi Brahmin suggests to  tie Anatmool root by a red tag and purify the both and put on left arm of female and right arm of males on Ravipushya Nakshatra of Sunday.
 There are mantras for uprooting the root, purification nd when the root is tagged.
             Anant Mul in Mool Shanti Karmkand  मूल शांति पूजा
  Anantmul is also used in Mul Shanti Puja
-
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai 2017
-
Plant Myths  , Religious Importance, Traditions , Garhwal, Uttarakhand ; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Kumaon, Uttarakhand ;Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand, Himalaya; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand, North India; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand, South Asia


4

Myths and Religious Importance of Timla, Gular,Elephant ear Fig 
in Uttarakhand  (Tantra, mantra and karmkand)
-
Plant Myths, Religious Importance, and Traditions in Uttarakhand (Himalaya) – 14
By: Bhishma Kukreti, M.Sc. (Botany) (Mythology Research Scholar)
Botanical name – Ficus auriculata
Local name – Timal, Timla, Timul
Hindi Name – Gular
Sanskrit Name – Udambara
Economic benefits –There are tens of medical uses of Elephant Ear fig in Garhwal. People use leaves for plate making and fodder. The tree is used for fuel too.  People use raw fruits for vegetable and ripe fruits for eating.
                   Myths, Religious Importance and Traditions
There a couple of uses of Timla, Timul, Timal or Elephant fig in Uttarakhand.
                 Timla in Hindu Astrology  ज्योतिष शास्त्र में गूलर
           In Hindu Astrology Gular, or Timla or Elephant fig is connected with rohani nakshtra. Shukra (one of Nine Graha)  is boss of Gular and Anjir. 
                      Kalash Sthapana कलश  स्थपना में में गूलर
  In karmkand, kalash thapan is important ritual performance. The Elephant fig is one of Panhvat or five plants – Mango, Peepal, Banyan , Pakar and Udambar ( Timla)
                Dry Twig of Timal, Timla, Timul in Havan हवन /यग्य में गूलर
   Dry twigs of Timal, timlu, Timla are used a sacrificing twigs along with twigs of Peepal, Mango for Havan or yagya.
 In old age, kings used to perform yagya with ‘gular samidha’ with honey, wine and Gud  for getting rain in drought. 
 Gular Samhita is also used in getting the kingdom of the enemy

                                  Mool Pujan  मूल दोष पूजन में गूलर
  If a child is born in Mool Nakshatra , Vedic Karmkandi Brahmin suggests for ritual performance of Mool Nakshatra after five years. Elephant ear fig is one of the puja (ritual) ingredients for performing Mool Puja.
                                 Elephant Ear Fig in Ucchatan Tantra-Mantra-Yantra तंत्र व मन्त्र में में गूलर
  Tantrik or Mantrik use Elephant ear Fig wood for Uchatan mantra performance. Uchatan Mantra with Tantra is used for distracting the focus of enemies and opponents.
   There are two mantras for purifying the twelve inch Timala wood .
‘Om namo bhagvate rudray karalay amuk putr bandhavaissah sheeghr mucchataya tha:, Tha: Dha:.
or
  “Oum Shreem Shreem Shreen swaha”
After purifying the wood, the wood is dug in house of opponent or where uchatan is required.
                  Elephant ear fig uses in Atharvarn tantra  अथर्वेद मन्त्र में गूलर प्रयोग
   Vedic Tantric use Elephant ear fig root for performing Atharvarn Tantra, by performing Athavarn tantra , the subject get  hidden gold or wealth., prosperity and children. On Ravi –Pushp yog, the root of Fig is purified by  Arthothapan mantra of Atharveda. Then the root is put in gold Tabij.
 One of mantra is –Om malakshmaye cha vidamah  vishnu patnaye ch dheemihi tanno Lakshmi prachodayat . This Mantra ritual  is performed on graham on eclipse day.
     Elephant Ear Fig , gular or timla in  Dattatraya  Mantra –Tantra  दत्तात्रय तन्त्र –मन्त्र में गूलर
  In Dattatray mantra and Tantra Performance, the person sits under Gular, Timla tree and recites mantra  mostly on Gurupushya yog day.
  If not in Uttarakhand, in other partस of India  followers of Dattatray keep Gular , Timla twig at the time of building foundation.
-
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai 2017
-
Plant Myths  , Religious Importance, Traditions , Garhwal, Uttarakhand ; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Kumaon, Uttarakhand ;Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand, Himalaya; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand, North India; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand, South Asia


5

Myths and Religious Importance of Timla, Gular,Elephant ear Fig 
in Uttarakhand  (Tantra, mantra and karmkand)
-
Plant Myths, Religious Importance, and Traditions in Uttarakhand (Himalaya) – 14
By: Bhishma Kukreti, M.Sc. (Botany) (Mythology Research Scholar)
Botanical name – Ficus auriculata
Local name – Timal, Timla, Timul
Hindi Name – Gular
Sanskrit Name – Udambara
Economic benefits –There are tens of medical uses of Elephant Ear fig in Garhwal. People use leaves for plate making and fodder. The tree is used for fuel too.  People use raw fruits for vegetable and ripe fruits for eating.
                   Myths, Religious Importance and Traditions
There a couple of uses of Timla, Timul, Timal or Elephant fig in Uttarakhand.
                 Timla in Hindu Astrology  ज्योतिष शास्त्र में गूलर
           In Hindu Astrology Gular, or Timla or Elephant fig is connected with rohani nakshtra. Shukra (one of Nine Graha)  is boss of Gular and Anjir. 
                      Kalash Sthapana कलश  स्थपना में में गूलर
  In karmkand, kalash thapan is important ritual performance. The Elephant fig is one of Panhvat or five plants – Mango, Peepal, Banyan , Pakar and Udambar ( Timla)
                Dry Twig of Timal, Timla, Timul in Havan हवन /यग्य में गूलर
   Dry twigs of Timal, timlu, Timla are used a sacrificing twigs along with twigs of Peepal, Mango for Havan or yagya.
 In old age, kings used to perform yagya with ‘gular samidha’ with honey, wine and Gud  for getting rain in drought. 
 Gular Samhita is also used in getting the kingdom of the enemy

                                  Mool Pujan  मूल दोष पूजन में गूलर
  If a child is born in Mool Nakshatra , Vedic Karmkandi Brahmin suggests for ritual performance of Mool Nakshatra after five years. Elephant ear fig is one of the puja (ritual) ingredients for performing Mool Puja.
                                 Elephant Ear Fig in Ucchatan Tantra-Mantra-Yantra तंत्र व मन्त्र में में गूलर
  Tantrik or Mantrik use Elephant ear Fig wood for Uchatan mantra performance. Uchatan Mantra with Tantra is used for distracting the focus of enemies and opponents.
   There are two mantras for purifying the twelve inch Timala wood .
‘Om namo bhagvate rudray karalay amuk putr bandhavaissah sheeghr mucchataya tha:, Tha: Dha:.
or
  “Oum Shreem Shreem Shreen swaha”
After purifying the wood, the wood is dug in house of opponent or where uchatan is required.
                  Elephant ear fig uses in Atharvarn tantra  अथर्वेद मन्त्र में गूलर प्रयोग
   Vedic Tantric use Elephant ear fig root for performing Atharvarn Tantra, by performing Athavarn tantra , the subject get  hidden gold or wealth., prosperity and children. On Ravi –Pushp yog, the root of Fig is purified by  Arthothapan mantra of Atharveda. Then the root is put in gold Tabij.
 One of mantra is –Om malakshmaye cha vidamah  vishnu patnaye ch dheemihi tanno Lakshmi prachodayat . This Mantra ritual  is performed on graham on eclipse day.
     Elephant Ear Fig , gular or timla in  Dattatraya  Mantra –Tantra  दत्तात्रय तन्त्र –मन्त्र में गूलर
  In Dattatray mantra and Tantra Performance, the person sits under Gular, Timla tree and recites mantra  mostly on Gurupushya yog day.
  If not in Uttarakhand, in other partस of India  followers of Dattatray keep Gular , Timla twig at the time of building foundation.
-
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai 2017
-
Plant Myths  , Religious Importance, Traditions , Garhwal, Uttarakhand ; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Kumaon, Uttarakhand ;Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand, Himalaya; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand, North India; Plant Myths , Religious Importance, Traditions , Uttarakhand, South Asia


6
Myths and Religious Importance of Panyyan, Himalayan wild Cherry in Uttarakhand (Nirankar Puja)
-
Plant Myths, Religious Importance, and Traditions in Uttarakhand (Himalaya) - 13
By: Bhishma Kukreti, M.Sc. (Botany) (Mythology Research Scholar)
Botanical name – Prunus ceraoides
Local name –Panyyan
Hindi Name –Padma
Sanskrit Name –Padmaka, Charu, kaidara
Economic benefits – Important for rich nectar for bee keeping; drum stick, stick, resin, fodder, fuel; bark paste for relieving contusion, medicines for uterus disease   
                   Myths, Religious Importance and Traditions
      Painyyan or Himalayan wild cherry is very sacred tree of Uttarakhand.  The tree stick are used for drum playing (drum and Thali).
 The stick is also kept at Nirankar Thau (Place of Nirankar deity).
   When there is Nirnkar or bad devta Puja  (Ghadela), the person whom Nirankar enters (Nirankar Pashwa) is taken on Pinus or Dwala in a processon  to a sacred Panyyan tree. There is drum and Thali play in the procession. The procession ends at Panyyan tree. Then it is said that Garud and snake come there near the tree. After seeing Garud and snake, the Ghadela and other ritual performances are completed. The Painyyan/payyan or Himalayan wild Cherry tree also worshipped.
 Painyyan leaves are inserted into garland as for good luck or auspicious in nature.
 Painyya/Payan twig are used in Marriage Rituals and those twig are dug on four corner of Vedi.
 Madan Swarup Singh Rawat reports that there are many folklore and songs describing Panyyan in Garhwal (Himalaya a Regional Prospective pages -45)
Krihna Kumar Mamgain and Madhuri Barthwal offered following folk songs about Painyyan/Panyan –
सेरा की मींडोली
नै डाली पंयां जामी ।
दुपत्ति ह्वे ग्याया
नै डाली पंयां जामी ।
चल पांणि चढ़ौला
नै डाली पंयां जामी । .
 M.N. Gaur informed following folk song lines –
पैंय्या डाली फूलि ग्येनी,झम झमा झम,झम झमा झम ...ह्यूवालि काँठी झूमि ग्येनी,चम् चमा चम्, चम् चमा चम्
People very rarely cut the tree for wood purpose.  However, the handle of sickle always is liked .
-
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai 2017
7
Myths and Religious Importance of Panyyan, Himalayan wild Cherry in Uttarakhand (Nirankar Puja)
-
Plant Myths, Religious Importance, and Traditions in Uttarakhand (Himalaya) - 13
By: Bhishma Kukreti, M.Sc. (Botany) (Mythology Research Scholar)
Botanical name – Prunus ceraoides
Local name –Panyyan
Hindi Name –Padma
Sanskrit Name –Padmaka, Charu, kaidara
Economic benefits – Important for rich nectar for bee keeping; drum stick, stick, resin, fodder, fuel; bark paste for relieving contusion, medicines for uterus disease   
                   Myths, Religious Importance and Traditions
      Painyyan or Himalayan wild cherry is very sacred tree of Uttarakhand.  The tree stick are used for drum playing (drum and Thali).
 The stick is also kept at Nirankar Thau (Place of Nirankar deity).
   When there is Nirnkar or bad devta Puja  (Ghadela), the person whom Nirankar enters (Nirankar Pashwa) is taken on Pinus or Dwala in a processon  to a sacred Panyyan tree. There is drum and Thali play in the procession. The procession ends at Panyyan tree. Then it is said that Garud and snake come there near the tree. After seeing Garud and snake, the Ghadela and other ritual performances are completed. The Painyyan/payyan or Himalayan wild Cherry tree also worshipped.
 Painyyan leaves are inserted into garland as for good luck or auspicious in nature.
 Painyya/Payan twig are used in Marriage Rituals and those twig are dug on four corner of Vedi.
 Madan Swarup Singh Rawat reports that there are many folklore and songs describing Panyyan in Garhwal (Himalaya a Regional Prospective pages -45)
Krihna Kumar Mamgain and Madhuri Barthwal offered following folk songs about Painyyan/Panyan –
सेरा की मींडोली
नै डाली पंयां जामी ।
दुपत्ति ह्वे ग्याया
नै डाली पंयां जामी ।
चल पांणि चढ़ौला
नै डाली पंयां जामी । .
 M.N. Gaur informed following folk song lines –
पैंय्या डाली फूलि ग्येनी,झम झमा झम,झम झमा झम ...ह्यूवालि काँठी झूमि ग्येनी,चम् चमा चम्, चम् चमा चम्
People very rarely cut the tree for wood purpose.  However, the handle of sickle always is liked .
-
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai 2017
8
ख़्वाब मा मेर तू ऐग्याई

ख़्वाब मा मेर तू ऐग्याई
जीबन मा ऐगे मौल्यार
बाटों माँ पड्यां कांडों थे
तू दूर कैरग्याई
मुखड़ी परि छैगे  मेरु फुल्यार

देख नींदी मेर मेसे हर्चि ग्याई
मिथे चढ़िगे माया को बुखार
जाण कया होलो  भौल मां अब
कया देल वा मिथे अपड़ी पछाँण
ख़्वाब मा मेर तू ऐग्याई .....

तेरु मेरु रिस्ता कया छ
जीकोडी मेरी तू  मिथे बथा
अध बाटूँ तेर मेर भेंट ह्वैग्याई
भाग्या मां लिख्युं कया वेळ ह्वैजाण
ख़्वाब मा मेर तू ऐग्याई .....

आगास मां मिल लेखीयाळी
जीकोडी को मेरु सरयू  उल्यार
मेर पिऱती आली तेर नींदी मा
अपड़ी जीकोडी को खोली राखी दार
ख़्वाब मा मेर तू ऐग्याई .....

बालकृष्ण डी ध्यानी
देवभूमि बद्री-केदारनाथ
मेरा ब्लोग्स
http://balkrishna-dhyani.blogspot.in/search/
http://www.merapahadforum.com/
में पूर्व प्रकाशित -सर्वाधिकार सुरक्षित
9
Best  of  Garhwali  Humor , Wits Jokes , गढ़वाली हास्य , व्यंग्य )
-
दिनेश कंडवाळौ ड्यार बसनणम भ्यूंळ -खड़िक मध्य  करुणामय बातचीत  किलै ?
-
 चबोड़ , चखन्यौ , ककड़ाट  :::   भीष्म कुकरेती   

बांदर - तुमन बि सूण बल साइकिलबाड़ी - किमसारौ , उदेपुरौ  दिनेश कंडवाल रिटायरमेंट का बाद अपण गाँव बसणो आणु च।
स्याळ  -कुछ पता नी।  अचकाल त मनिख बुल्द कुछ हौर च अर करदु कुछ हौर च।  अचकाल त यी गढ़वळि फेसबुक्या फोटक बाज ह्वे गेन।
बांदर -नै नै सच्ची ड्यार बसणु च।  मि त चॉकलेट , नमकीन अर पव्वा क खातिर वैक कूड़ जिना  गे छौ मि त दिनेशौ साफ़ कर्युं कूड़ अळग जैक पटाळ खपचैक ऐ ग्यों।  अबि वैन भितर कुछ नि धार।
स्याळ - मतलब सच्ची बसणु  च।  ह्यां बखर बि पाळल कि  ना ? चिनख -चनख ! हैं ?
बांदर -तेरी अर मनिखों नजर चिनखों डौण्यूं पर रौंद।  मि त किमसार जिना जाणु  छौं लंच टैम ह्वे गे।  लोगुन प्रेसर कुकर पर भात पकै ह्वे ह्वाल।  एकादक भितर कुछ त मीलल।
स्याळ -मि त बण्वस जिना जाणु छौं।  धनसिंगौ बखर बियाण वळ छौ।  क्वी चिनख इ हाथ लग जावो।
(द्वी चल जांदन )
खड़िक - मेरा पिया  घर आया , मेरा पिया घर आया।  दिनेश घर आया
भ्यूंळ (भीमल )- ये बुड्या खड़िक ! सोळा सालै बिरहणि तरां क्या छे कुतकणी बल मेरा पिया  घर आया ?
खड़िक - अरे जन दिनेशक दादि मेरी भुकि पींद  छे तनि अब दिनेश मेरी भुकि प्याल।  पचास -साठ  साल ह्वे गेन मनुष्य स्पर्श दिख्यां।  आह जब दिनेशै दादी मि तैं मलासादि छे , मेरी भुकि पींदी छे तो अहा क्या रोमांच आंद छौ , रोमांच , आनंद ही आनंद। उफ़ वो आनंद अब दिनेशौ स्पर्श से प्राप्त होलु।
भ्यूंळ  - झूठ साला खड़िक।  वा तेरी भुकि नि पींदी छे ना ही त्वे तैं मलासदी छे अपितु त्यार ग्वाळ इथगा म्वाट छौ कि चढ़द दैं वींक मुख त्यार ग्वाळ , तेरी फौंट्युं   पर लग जांद छौ।  अर तू समजद छौ कि वा तेरी भुकि पीणी छे या त्वे मलासणि च। 
खड़िक -चुप कर , चुप कर , मि तैं भूतकाल मा जाण दे।  अहा वो आनंद , वो असीम आनंद , वाह वो परमानंद! हौर डाळयूं चेतना दाथी देखिक रूंदी छे कि अकाल मृत्यु आण वळ च किन्तु  मेरी चेतना दिनेशै ददि हथ पर दाथी या थमळि देखिक प्रसन्नता मा हिलोर मारदी छे।  मीन त यु आनंद दिनेशै बूडददि दाथी , थमळि से बि कथगा बार ले छौ।  जनि दिनेशैक बूड ददि या ददि की थमळ दिख्यांद छे कि मेरी जीव चेतना प्रसन्न हूंद छे कि वा अपण घासौ बान मि तैं छिंडारली , काटली अर कटण -छंटण -छिंडारण से मेरी उमर दिन प्रतिदिन बढ़दी जाली।  अहा वो रोमांच अब दिनेश से प्राप्त होलु।
भ्यूंळ (जोर कु किराट )  - नि दिला याद , नि दिला वो आनंद का हिलोर।  मीन दिनेशै बूड ददि क हस्त स्पर्शौ चरमानंद नि ले पर वैक ददि अर कुछ दिन वैक ब्वे क हस्त स्पर्श का आनंद लियुं च।  श !श !श्यू ! अहा वो ऊंक मे पर चिपटण , ऊंक लौंफ्याण अर हर साल मे तैं छिंडारण।  वो वो ! चरमानंद मिल्दो छौ कि मेरी उमर बढ़ली। किंतु जनि दिनेशै ब्वे देस क्या गे क्वी मनिख स्पर्श ना , क्वी भुकि ना अर क्वी छिंडारण ना।  बस एक हस्त स्पर्श की प्रतीक्षा। हाय ! हाय ! यी गाँव वळ परदेस गेन अर हम तै अनाथ , बेबस छोड़ी गेन।
खड़िक - अर अब ! इथगा सालों से लगलों झाड़ तौळ दब्युं छौं।  अब त क्वी हम तै छिंडारो ना सै किन्तु हमर मथि जंगली लगलों जाळ से मुक्त तो कराओ कि जां  से हम अकाल मृत्यु से बच जौवां।
दूर डांड बिटेन बांज की आवाज - अरे हमर बि सी हाल छन।  जंगली लगलों तौळ ज्यूंरा की जग्वाळ।  त्रासदी ही त्रासदी।
भ्यूंळ  - मि बि यूं लगलों बोझ से  अदमर ह्वे ग्यों।  उना यूं गाँव वळुंन खेती बंद कर दे तो हमर जलड़ुं कुण हवा बि बंद ह्वे गे
खड़िक - अहा  हौळ देखिक बि मेरी चेतना प्रसन्न हूंदी छे बल हौळ लगण , निराई गुड़ाई से हमर नजीकै मिट्टी मा हवा इना ऊना होली।  क्या दिन छा  वो।
भ्यूंळ  - अब त पचास साल  ह्वे गेन नई हवा की सुरसराट अनुभव कर्यां।  वू.. फ ..फ   .... वा सरसराट   ....
खड़िक - चलो अब फिर इ मेरी चेतना मा  नई ऊर्जा संचारण हूण लग गे  कि अब दिनेश हमर मथि लगलुं जाळ साफ़ करवाल  ,  हम तै छिडरवाल। . अति आनंद।
भ्यूंळ  -चरमानंद , चरमानंद , चरम ..
तिमलौ डाळ  (अट्टाहास )-  वाह भै वाह  ! आज द्याख बल वनस्पति बि मनिखों तरां कपोलकल्पना म रत हूंद। वनस्पति जु छ याने ऐज इट इज पर विश्वास करद अर तुम कल्पना तै जिंदगी समजण लग गेवां ?
खड़िक - क्या मतलब ? दिनेश हम तैं नि कटवाल ?
भ्यूंळ  - हाँ हम तैं नि छिंडवारल ?
तिमल - पर किलै वु तुमर सुद्द ल्यालु ? वै तैं क्या पड़ीं च कि हम तैं दिनेश छिंडवारल ?
खड़िक - कनो वै दिनेश तैं गौड़ुं कुण हमर घासै जरूरत नि ह्वेली ?
तिमल - हाँ गौड़ ह्वाल तो अवश्य ही हम तिन्युं जरूरत दिनेश तैं पोड़ली।
भ्यूंळ  -तो वो दूधक बान अवश्य ही गौड़ पाळल कि ना ?
खड़िक - हाँ बोल  बोल।  दिनेश गौड़ पाळल कि ना ?
तिमल - ना।  बिलकुल ना आज गौड़ पाळिक दूध पीण मैंगो ह्वे गे।
भ्यूंळ  - तो दिनेश दूध कखन प्यालु ?
खड़िक -हाँ बोल दिनेश दूध कखन प्यालु  ?
तिमल - अब पॉलीथिन बैग या टेट्रापैक पर दूध मिल जांद तो गौड़ कु पाळल ?
भ्यूंळ --खड़िक (भयंकर किराट ) हे भगवान ! तो हमन इनि खुंडेक मोर जाण ?

17/1 / 2018, Copyright@ Bhishma Kukreti , Mumbai India ,

*लेख की   घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख में  कथाएँ , चरित्र , स्थान केवल हौंस , हौंसारथ , खिकताट , व्यंग्य रचने  हेतु उपयोग किये गए हैं।
-
    ----- आप  छन  सम्पन गढ़वाली ----
-
 Best of Garhwali Humor Literature in Garhwali Language , Jokes  ; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language Literature , Jokes  ; Best of  Uttarakhand Wit in Garhwali Language Literature , Jokes  ; Best of  North Indian Spoof in Garhwali Language Literature ; Best of  Regional Language Lampoon in Garhwali Language  Literature , Jokes  ; Best of  Ridicule in Garhwali Language Literature , Jokes  ; Best of  Mockery in Garhwali Language Literature  , Jokes    ; Best of  Send-up in Garhwali Language Literature  ; Best of  Disdain in Garhwali Language Literature  , Jokes  ; Best of  Hilarity in Garhwali Language Literature , Jokes  ; Best of  Cheerfulness in Garhwali Language  Literature   ;  Best of Garhwali Humor in Garhwali Language Literature  from Pauri Garhwal , Jokes  ; Best of Himalayan Satire Literature in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal  ; Best of Uttarakhand Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal  ; Best of North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal  ; Best of Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal  ; Best of Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal   ;  Best of Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal  ; Best of Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal   ; Best of Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar    ;गढ़वाली हास्य -व्यंग्य ,  जसपुर से गढ़वाली हास्य व्यंग्य ; जसपुर से गढ़वाली हास्य व्यंग्य ; ढांगू से गढ़वाली हास्य व्यंग्य ; पौड़ी गढ़वाल से गढ़वाली हास्य व्यंग्य ;
Garhwali Vyangya, Jokes  ; Garhwali Hasya , Jokes ;  Garhwali skits , Jokes  ; Garhwali short Skits, Jokes , Garhwali Comedy Skits , Jokes , Humorous Skits in Garhwali , Jokes, Wit Garhwali Skits , Jokes
10
Best  of  Garhwali  Humor , Wits Jokes , गढ़वाली हास्य , व्यंग्य )
-
दिनेश कंडवाळौ ड्यार बसनणम भ्यूंळ -खड़िक मध्य  करुणामय बातचीत  किलै ?
-
 चबोड़ , चखन्यौ , ककड़ाट  :::   भीष्म कुकरेती   

बांदर - तुमन बि सूण बल साइकिलबाड़ी - किमसारौ , उदेपुरौ  दिनेश कंडवाल रिटायरमेंट का बाद अपण गाँव बसणो आणु च।
स्याळ  -कुछ पता नी।  अचकाल त मनिख बुल्द कुछ हौर च अर करदु कुछ हौर च।  अचकाल त यी गढ़वळि फेसबुक्या फोटक बाज ह्वे गेन।
बांदर -नै नै सच्ची ड्यार बसणु च।  मि त चॉकलेट , नमकीन अर पव्वा क खातिर वैक कूड़ जिना  गे छौ मि त दिनेशौ साफ़ कर्युं कूड़ अळग जैक पटाळ खपचैक ऐ ग्यों।  अबि वैन भितर कुछ नि धार।
स्याळ - मतलब सच्ची बसणु  च।  ह्यां बखर बि पाळल कि  ना ? चिनख -चनख ! हैं ?
बांदर -तेरी अर मनिखों नजर चिनखों डौण्यूं पर रौंद।  मि त किमसार जिना जाणु  छौं लंच टैम ह्वे गे।  लोगुन प्रेसर कुकर पर भात पकै ह्वे ह्वाल।  एकादक भितर कुछ त मीलल।
स्याळ -मि त बण्वस जिना जाणु छौं।  धनसिंगौ बखर बियाण वळ छौ।  क्वी चिनख इ हाथ लग जावो।
(द्वी चल जांदन )
खड़िक - मेरा पिया  घर आया , मेरा पिया घर आया।  दिनेश घर आया
भ्यूंळ (भीमल )- ये बुड्या खड़िक ! सोळा सालै बिरहणि तरां क्या छे कुतकणी बल मेरा पिया  घर आया ?
खड़िक - अरे जन दिनेशक दादि मेरी भुकि पींद  छे तनि अब दिनेश मेरी भुकि प्याल।  पचास -साठ  साल ह्वे गेन मनुष्य स्पर्श दिख्यां।  आह जब दिनेशै दादी मि तैं मलासादि छे , मेरी भुकि पींदी छे तो अहा क्या रोमांच आंद छौ , रोमांच , आनंद ही आनंद। उफ़ वो आनंद अब दिनेशौ स्पर्श से प्राप्त होलु।
भ्यूंळ  - झूठ साला खड़िक।  वा तेरी भुकि नि पींदी छे ना ही त्वे तैं मलासदी छे अपितु त्यार ग्वाळ इथगा म्वाट छौ कि चढ़द दैं वींक मुख त्यार ग्वाळ , तेरी फौंट्युं   पर लग जांद छौ।  अर तू समजद छौ कि वा तेरी भुकि पीणी छे या त्वे मलासणि च। 
खड़िक -चुप कर , चुप कर , मि तैं भूतकाल मा जाण दे।  अहा वो आनंद , वो असीम आनंद , वाह वो परमानंद! हौर डाळयूं चेतना दाथी देखिक रूंदी छे कि अकाल मृत्यु आण वळ च किन्तु  मेरी चेतना दिनेशै ददि हथ पर दाथी या थमळि देखिक प्रसन्नता मा हिलोर मारदी छे।  मीन त यु आनंद दिनेशै बूडददि दाथी , थमळि से बि कथगा बार ले छौ।  जनि दिनेशैक बूड ददि या ददि की थमळ दिख्यांद छे कि मेरी जीव चेतना प्रसन्न हूंद छे कि वा अपण घासौ बान मि तैं छिंडारली , काटली अर कटण -छंटण -छिंडारण से मेरी उमर दिन प्रतिदिन बढ़दी जाली।  अहा वो रोमांच अब दिनेश से प्राप्त होलु।
भ्यूंळ (जोर कु किराट )  - नि दिला याद , नि दिला वो आनंद का हिलोर।  मीन दिनेशै बूड ददि क हस्त स्पर्शौ चरमानंद नि ले पर वैक ददि अर कुछ दिन वैक ब्वे क हस्त स्पर्श का आनंद लियुं च।  श !श !श्यू ! अहा वो ऊंक मे पर चिपटण , ऊंक लौंफ्याण अर हर साल मे तैं छिंडारण।  वो वो ! चरमानंद मिल्दो छौ कि मेरी उमर बढ़ली। किंतु जनि दिनेशै ब्वे देस क्या गे क्वी मनिख स्पर्श ना , क्वी भुकि ना अर क्वी छिंडारण ना।  बस एक हस्त स्पर्श की प्रतीक्षा। हाय ! हाय ! यी गाँव वळ परदेस गेन अर हम तै अनाथ , बेबस छोड़ी गेन।
खड़िक - अर अब ! इथगा सालों से लगलों झाड़ तौळ दब्युं छौं।  अब त क्वी हम तै छिंडारो ना सै किन्तु हमर मथि जंगली लगलों जाळ से मुक्त तो कराओ कि जां  से हम अकाल मृत्यु से बच जौवां।
दूर डांड बिटेन बांज की आवाज - अरे हमर बि सी हाल छन।  जंगली लगलों तौळ ज्यूंरा की जग्वाळ।  त्रासदी ही त्रासदी।
भ्यूंळ  - मि बि यूं लगलों बोझ से  अदमर ह्वे ग्यों।  उना यूं गाँव वळुंन खेती बंद कर दे तो हमर जलड़ुं कुण हवा बि बंद ह्वे गे
खड़िक - अहा  हौळ देखिक बि मेरी चेतना प्रसन्न हूंदी छे बल हौळ लगण , निराई गुड़ाई से हमर नजीकै मिट्टी मा हवा इना ऊना होली।  क्या दिन छा  वो।
भ्यूंळ  - अब त पचास साल  ह्वे गेन नई हवा की सुरसराट अनुभव कर्यां।  वू.. फ ..फ   .... वा सरसराट   ....
खड़िक - चलो अब फिर इ मेरी चेतना मा  नई ऊर्जा संचारण हूण लग गे  कि अब दिनेश हमर मथि लगलुं जाळ साफ़ करवाल  ,  हम तै छिडरवाल। . अति आनंद।
भ्यूंळ  -चरमानंद , चरमानंद , चरम ..
तिमलौ डाळ  (अट्टाहास )-  वाह भै वाह  ! आज द्याख बल वनस्पति बि मनिखों तरां कपोलकल्पना म रत हूंद। वनस्पति जु छ याने ऐज इट इज पर विश्वास करद अर तुम कल्पना तै जिंदगी समजण लग गेवां ?
खड़िक - क्या मतलब ? दिनेश हम तैं नि कटवाल ?
भ्यूंळ  - हाँ हम तैं नि छिंडवारल ?
तिमल - पर किलै वु तुमर सुद्द ल्यालु ? वै तैं क्या पड़ीं च कि हम तैं दिनेश छिंडवारल ?
खड़िक - कनो वै दिनेश तैं गौड़ुं कुण हमर घासै जरूरत नि ह्वेली ?
तिमल - हाँ गौड़ ह्वाल तो अवश्य ही हम तिन्युं जरूरत दिनेश तैं पोड़ली।
भ्यूंळ  -तो वो दूधक बान अवश्य ही गौड़ पाळल कि ना ?
खड़िक - हाँ बोल  बोल।  दिनेश गौड़ पाळल कि ना ?
तिमल - ना।  बिलकुल ना आज गौड़ पाळिक दूध पीण मैंगो ह्वे गे।
भ्यूंळ  - तो दिनेश दूध कखन प्यालु ?
खड़िक -हाँ बोल दिनेश दूध कखन प्यालु  ?
तिमल - अब पॉलीथिन बैग या टेट्रापैक पर दूध मिल जांद तो गौड़ कु पाळल ?
भ्यूंळ --खड़िक (भयंकर किराट ) हे भगवान ! तो हमन इनि खुंडेक मोर जाण ?

17/1 / 2018, Copyright@ Bhishma Kukreti , Mumbai India ,

*लेख की   घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख में  कथाएँ , चरित्र , स्थान केवल हौंस , हौंसारथ , खिकताट , व्यंग्य रचने  हेतु उपयोग किये गए हैं।
-
    ----- आप  छन  सम्पन गढ़वाली ----
-
 Best of Garhwali Humor Literature in Garhwali Language , Jokes  ; Best of Himalayan Satire in Garhwali Language Literature , Jokes  ; Best of  Uttarakhand Wit in Garhwali Language Literature , Jokes  ; Best of  North Indian Spoof in Garhwali Language Literature ; Best of  Regional Language Lampoon in Garhwali Language  Literature , Jokes  ; Best of  Ridicule in Garhwali Language Literature , Jokes  ; Best of  Mockery in Garhwali Language Literature  , Jokes    ; Best of  Send-up in Garhwali Language Literature  ; Best of  Disdain in Garhwali Language Literature  , Jokes  ; Best of  Hilarity in Garhwali Language Literature , Jokes  ; Best of  Cheerfulness in Garhwali Language  Literature   ;  Best of Garhwali Humor in Garhwali Language Literature  from Pauri Garhwal , Jokes  ; Best of Himalayan Satire Literature in Garhwali Language from Rudraprayag Garhwal  ; Best of Uttarakhand Wit in Garhwali Language from Chamoli Garhwal  ; Best of North Indian Spoof in Garhwali Language from Tehri Garhwal  ; Best of Regional Language Lampoon in Garhwali Language from Uttarkashi Garhwal  ; Best of Ridicule in Garhwali Language from Bhabhar Garhwal   ;  Best of Mockery  in Garhwali Language from Lansdowne Garhwal  ; Best of Hilarity in Garhwali Language from Kotdwara Garhwal   ; Best of Cheerfulness in Garhwali Language from Haridwar    ;गढ़वाली हास्य -व्यंग्य ,  जसपुर से गढ़वाली हास्य व्यंग्य ; जसपुर से गढ़वाली हास्य व्यंग्य ; ढांगू से गढ़वाली हास्य व्यंग्य ; पौड़ी गढ़वाल से गढ़वाली हास्य व्यंग्य ;
Garhwali Vyangya, Jokes  ; Garhwali Hasya , Jokes ;  Garhwali skits , Jokes  ; Garhwali short Skits, Jokes , Garhwali Comedy Skits , Jokes , Humorous Skits in Garhwali , Jokes, Wit Garhwali Skits , Jokes
Pages: [1] 2 3 4 5 ... 10