Author Topic: Garhwali Poems by Balkrishan D Dhyani-बालकृष्ण डी ध्यानी की कवितायें  (Read 203913 times)

devbhumi

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 800
  • Karma: +0/-0
चार आखरों की माया
« Reply #3470 on: January 11, 2023, 06:42:20 PM »
चार आखरों की माया


चार आखरों की माया च
वा बाटो हेरदा.... हेरदा थकि जालि
जिकुड़ी ते बुते ..... बुते ...वा
राति -बै-राति जगै-सुलै -रुवै सरि जालि

पैल भंडया विन धीर देन
वे बाद विन अधीर कैन
क्या क्या छिन-बिन- विन कैन
घर-बार दुनियादारी सबि क्षीण वैन
चार आखरों की माया च ....

बुद्धी बोनी बौल्या रे तू
विल अबि परति कि कबि नि ऐण
विं ते मिलगै औरी गैण
जिकोड़िळ तबै बि विंकी फिकर कैन
चार आखरों की माया च ....

हैरि जाळु अफि से ज्ब
यकूल रै जाळु जग्वाळ कनू
भैर से भीतर देखिले अफि
जंतर मंतर सबि देखि जाळू
चार आखरों की माया च ....

यन उन हताश होळू अफि से तू
अफि अफ मा तू बिरडी जाळू
सूद-बुध ख्वै जाली ते से अफि
चार आखरों की माया तू पै जालि
चार आखरों की माया च

© बालकृष्ण डी. ध्यानी
https://dhyani1971.blogspot.com/2023/01/blog-post_71.html
http://balkrishna-dhyani.blogspot.in/search/
http://www.merapahadforum.com/
में पूर्व प्रकाशित -सर्वाधिकार सुरक्षित

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22