Author Topic: Tantra and Mantra of Garhwal, Tantra and Mantra of Kumaun, Tantra and Mantra of  (Read 80433 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0

Dosto,

Our Senior Member Mr Bhishma Kukreti Ji has collected some exclusive Folk Mantra of Uttarakhand which are used in keeping evil spirit.


A Folk Mantra for keeping away Evil Spirit, Demon   भूत भगाने  का मंत्र                             
 
(Notes on Indian Mysterious Traditional Literature, Himalayan Mysterious Traditional Literature, Uttarakhandi Mysterious Traditional Literature, Mysterious Traditional Literature from Garhwal, Mysterious Traditional Literature from Kumaun)
 
                                       Bhishma Kukreti
                        There are folk songs in most of the societies for keeping away the Evil Spirit, Demon, भूत.
Rudolf Wagner provides in the book ‘Contemporary Chinese Historical drama ‘that there was tradition to use songs for killing demon or making circle for killing demon or evil spirit. Martha Beckwith provides folk stories related to demon in her book –Jamaica Anansi Stories’ (about folklore of Jamaica). There are many folk tales about demon in Irish literature.
                     There are many folk mantras or prose-poem to keep away the demon from demonic possessed person.  The folk songs for taking away the demonic spirit from demonic possessed person in Garhwal are not in Garhwali as they are not created by Garhwalis but Nathpanthi preachers from Braj or Rajasthan regions.
   In the following mantra, there is mention of Maimanda veer means that the Mantra is created influenced by Islamic brave person.
                 भूत भगाने  का मंत्र
 
 
ओउम नमो गुरु जी को आदेश , ओउम नमो गुरु जी को आदेश
ओउम नमो गुरु जी को आदेश , मैमंदा वीर को आदेश चार बीर चौरासी सिद्धों को आदेश,
मैमंदावरी माता पिंगला को आदेश , मैमंदा वीर वायुं हाथ अग्नी का
मस्तिक चढ़े चौरासी चेड़ा , कुर्विण चले , मड़े मसाड़ी कुर्विण चले , धरती अकास
कुढोणा होटमणा चले, मढ़े मसाण कुर्विण चले , मारकंरवां चले, तब कौं कौं को मारे ,
उल्लुपाक उखेला , रात सुइलो को नरग उखेला , मूल्या कि माटी उखेला
चौबाट कि धुल उखेला , लामसाणी की छया उखेला , काल़ा मासा उखेला,
, पिंगला धानोवला उखेल रे बाबा बीर भनैडा बार वीत्या , छतीस रोग कुतुब्त की
उखेला , निल्लायी त माता तुरकरणी कु बोल जाई , अपणा गुरु को मांस खाई , फॉर मंत्र इश्वरो
वाच:
Xx                           xx                             xx
संकलन व सम्पादन - डा. नन्द किशोर ढौंडियाल
गढवाली लोकमंत्र , हिमाद्री प्रकाशन, कोट्द्वारा
मूल स्रोत्र - संदीप इष्ट्वाल , इसोड़ी,मवाळस्यूं
धैर्यराम बौड़ाई , भरपूर, साबळी
गिरीश डबराल, डाबर, डबरालस्यूं
प.केशवानंद मैंदोला , रिखणि खाळ
घुताराम जागरी , बिल्कोट नैनीडांडा
 
Notes on Indian Mysterious Traditional Literature, Himalayan Mysterious Traditional Literature, Uttarakhandi Mysterious Traditional Literature, Mysterious Traditional Literature from Garhwal, Mysterious Traditional Literature from Kumaun to be continued……[/font][/b][/font][/size] [/font]


Regards
B. C. Kukreti

---------


M S Mehta

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,015
  • Karma: +22/-1
Culture of Kumaun and Garhwal

                Narsing Jagar : Nathpanthi Mantras

                 नरसिंग जागर : नाथपंथी मन्त्र

 

            (Mantra Tantra in Garhwal, Mantra Tantra in Kumaun , Mantra Tantra in Himalayas )

                      Presented on Internet Medium by :Bhishma Kukreti
                   आम तौर पर नरसिंग भगवान को विश्णु अवतार माना जाता है किन्तु कुमाऊं व गढ़वाल में नर्सिंग भगवान गुरु गोरखनाथ के चेले के रूप में ही पूजे जाते हैं . नर्सिंगावली मन्त्रों के रूप में भी प्रयोग होता है और घड़ेलों में  जागर के  रूप में भी प्रयोग होता है. इस लेखक ने एक नरसिंग घडला में लालमणि उनियाल , खंडूरीयों  का जिक्र भी सूना था

नरसिंग नौ हैं : इंगला वीर, पिंगला बीर , जतीबीर, थतीबीर, घोरबीर, अघोरबीर, चंड बीर , प्रचंड बीर , दुधिया व डौंडिया    नरसिंग

   आमतौर पर दुधिया नरसिंग व डौंडिया   नरसिंग के जागर लगते हैं . दुधिया नरसिंग शांत नरसिंघ माने जाते है जिनकी पूजा रोट काटने से पूरी हो जाती है जब कि डौंडिया नरसिंग घोर बीर माने जाते हैं व इनकी पूजा में भेड़ बकरी का बलिदान की प्रथा भी है

   निम्न जागर बर्दी केदार मन्दिर स्थापना के बाद का जागर लगता है क्योंकि इसमें डिमरी रसोईया (सर्युल ) व रावल का वर्णन भी है

                              जाग जाग नरसिंग बीर बाबा

                              रूपा को तेरा सोंटा जाग , फटिन्गु   को तेरा मुद्रा जाग .

                               डिमरी रसोया जाग , केदारी रौल   जाग

                            नेपाली तेरी चिमटा जाग , खरुवा की तेरी झोली जाग

                            तामा की पतरी जाग , सतमुख तेरो शंख जाग

                              नौलड्या चाबुक जाग , उर्दमुख्या तेरी नाद जाग

                             गुरु गोरखनाथ का चेला जाग

                            पिता भस्मासुर माता महाकाली जाग

                            लोह खम्भ जाग रतो होई जाई बीर बाबा नरसिंग

                             बीर तुम खेला हिंडोला बीर उच्चा कविलासू

                             हे बाबा तुम मारा झकोरा , अब औंद भुवन मा

                             हे बीर तीन लोक प्रिथी सातों समुंदर मा बाबा

                             हिंडोलो घुमद घुमद चढे बैकुंठ सभाई , इंद्र सभाई

                             तब देवता जागदा ह्वेगें , लौन्दन फूल किन्नरी

                             शिवजी की सभाई , पेंदन भांग कटोरी

                            सुलपा को रौण  पेंदन राठवळी भंग

                            तब लगया भांग को झकोरा

                             तब जांद बाबा कविलास गुफा

                              जांद तब गोरख सभाई , बैकुंठ सभाई

    अबोध्बंधू बहुगुणा ने 'धुंयाळ"  में जोशीमठ के रक्षक दुध्या बाबा का जागर इस प्रकार डिया

                      गुरु खेकदास बिन्नौली कला कल्पण्या 

                       अजै पीठा गजै सोरंग दे सारंग दे

                        राजा बगिया ताम पातर को जाग

                       न्यूस को भैरिया बेल्मु भैसिया

                      कूटणि  को छोकरा गुरु दैणि ह्व़े जै रे

                      ऊंची लखनपुरी मा जै गुरुन बाटो बतायो

                      आज वे गुरु की जुहार लगान्दु

                         जै दुध्या गुरून चुडैल़ो आड़बंद पैरे

                        ओ गुरु होलो जोशीमठ को रक्छ्यापाल 

                         जिया व्बेन घार का बोठ्या  पूजा 

                         गाड का ग्न्ग्लोड़ा पूज्या

                           तौ भी तू जाती नि आयो मेरा गुरु रे

                          गुरून जैकार लगाये , बिछुवा सणि  नाम गहराए

                          क्विल कटोरा हंसली घोड़ा बेताल्मुखी चुर्र

                        आज गुरु जाती को ऐ जाणि रे

   डा शिवानन्द नौटियाल ने एक जागर की चर्चा भी  की

                   जै नौ नरसिंग बीर छयासी भैरव

                   हरकी पैड़ी तू जाग

                    केदारी तू गुन्फो मा जाग

                    डौंडी  तू गढ़ मा जाग

                   खैरा तू गढ़ मा जाग

                निसासु भावरू जाग

                  सागरु का तू बीच जाग

                  खरवा  का तू तेरी झोली जाग

                  नौलडिया  तेरी चाबुक जाग

                 टेमुरु कु तेरो सोंटा जाग

               बाग्म्बरी का तेरा आसण जाग

               माता का तेरी पाथी जाग

              संखना की तेरी ध्वनि जाग

              गुरु गोरखनाथ का चेला पिता भस्मासुर माता महाकाली का जाया

               एक त फूल पड़ी केदारी गुम्फा मा

                  तख  त पैदा ह्वेगी बीर केदारी नरसिंग

                  एक त फूल पड़ी खैरा गढ़ मा 

                   तख त पैदा ह्वेगी बीर डौंडि

                    एक त फूल पोड़ी वीर तों सागरु  मा

                   तख त पैदा ह्वेगी सागरया  नरसिंग

                    एक त फूल पड़ी बीर तों भाबरू  मा

                    तख त पैदा ह्वेगी बीर भाबर्या नारसिंग

                     एक त फूल पड़ी बीर गायों का गोठ , भैस्यों क खरक

                    तख त पैदा ह्वेगी दुधिया नरसिंग

                    एक त फूल पड़ी वीर शिब्जी क जटा मा

                    तख त पैदा ह्वेगी जटाधारी नरसिंग

                   हे बीर आदेसु आदेसु बीर तेरी नौल्ड्या चाबुक

                   बीर आदेसु आदेसु बीर तेरो तेमरू का सोंटा

                    बीर आदेसु आदेसु बीर तेरा खरवा की झोली

                   वीर आदेसु आदेसु बीर तेरु नेपाली चिमटा

                    वीर आदेसु आदेसु बीर तेरु बांगम्बरी आसण   

                     वीर आदेसु आदेसु बीर तेरी भांगला की कटोरी

                      वीर आदेसु आदेसु बीर तेरी संखन की छूक

                       वीर रुंड मुंड जोग्यों की बीर रुंड मुंड सभा

                       वीर रुंड मुंड जोग्यों बीर अखाड़ो लगेली

                       वीर रुंड मुंड जोग्युंक धुनी रमैला

                         कन चलैन बीर हरिद्वार नहेण 

                         कना जान्दन वीर तैं कुम्भ नहेण 

                        नौ सोंऊ जोग्यों चल्या सोल सोंऊ बैरागी

                        वीर एक एक जोगी की नौ नौ जोगणि 

                       नौ सोंऊ जोगयाऊं बोडा पैलि कुम्भ हमन नयेण

                      कनि पड़ी जोग्यों मा बनसेढु  की मार

                      बनसेढु की मार ह्वेगी हर की पैड़ी माग

                     बीर आदेसु आदेसु बीर आदेसु बीर आदेसु

 

  Dr Kusum lata Pandey described the following mantra  in her research paper

                     पारबती बोल्दी हे मादेव , और का वास्ता तू चेला करदी

                     मेरा भंग्लू घोटदू   फांफ्दा फटन , बाबा कल्लोर कोट कल्लोर का बीज

                      मामी पारबती लाई कल्लोर का बीज , कालोर का बीज तैं धरती बुति याले

                       एक औंसी बूते दूसरी औंसी को चोप्ती ह्व़े गे बाबा

                        सोनपंखी ब्रज मुंडी गरुड़ी टों करी पंखुरी का छोप

                    कल्लोर बाबा  डाली झुल्मुल्या ह्वेगी तै डाली पर अब ह्वेगे बाबा नौरंग का फूल

                      नौरंग फूल नामन बास चले गे देवता को लोक

                      पंचनाम देवतों न भेजी गुरु गोरखनाथ , देख दों बाबा ऐगे कुसुम की क्यारी

                      फूल क्यारी ऐगे अब गुरु गोरखनाथ

                      गुरु गोरखनाथ न तैं कल्लोर डाली पर फावड़ी मार

                    नौरंग फूल से ह्वेन नौ नरसिंग निगुरा , निठुरा सद्गुरु का चेला

                   मंत्र को मारी चलदा सद्गुरु का चेला

   

    पंडित गोकुल्देव बहुगुणा से प्राप्त नर्सिंगाव्ली पांडुलिपि का उल्लेख करते हुए डा विश्णु दत्त कुकरेती ने यह मंत्र उल्लेख किया है

                ॐ नमो गुरु को आदेस ... प्रथमे को अंड अंड उपजे धरती , धरती उपजे नवखंड , नवखंड उपजे धूमी, धूमी उपजे भूमि, भूमि उपजे डाली , डाली उपजे काष्ठ , काष्ठ उपजे अग्नि , अग्नि उपजे धुंवां , धुंवां उपजे बादल , बादल उपजे मेघ , मेघ पड़े धरती , धरती चले जल , जल उपजे थल , थल उपजे आमी , आमी उपजे चामी , चामी उपजे चावन छेदा बावन बीर उपजे म्हाग्नी , महादेव न निलाट चढाई   अंग भष्म धूलि का पूत बीर नरसिंग

               

                         

 

 

i
  References :

1- Rahul Santyakritan : Kumaun

2- Rahul : himalay Ek Parichay

3- Dr Pitambar Datt Barthwal :

4 Dr Govind Chatak : Garhwal ke Geet so

5- Dr Shiva Nand Nautiyal : garhwal ke Loknrity-Geet

6- Dr Vishnu Datt Kukreti Nathpanth : garhwal ke Paripeksh me

7- Kusum Pandey : Garhwal me Dev Pooja a research Thesis of HNBGU Shrinagar

8- Abodh bandhu Bahuguna : Dhunyal a collection of Folk Songs of Garhwal

Manuscript " Narsingavali and Narsingh Ukhel Bhed  " from Gokul Dev Bahuguna vill Jhala , Chalansyun Pauri garhwal

 


 

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,015
  • Karma: +22/-1
Folk Literature of Kumaun and Garhwal

          Kat (Dysentry )  Mantra and Vedic Mantra

           आंत स्राव  मंत्र और वैदिक मंत्र

       

     (Mantra Tantra in Garhwal Kumaun, Mantra Tantra in Himalaya )

                  Bhishma Kukreti
  गढ़वाल कुमाऊं में हर परेशानी हेतु मंत्र रचे गये हैं कुछ की खोज हो चुकी और असंख्य मन्त्रों की खोज बाकी है

गणित प्रकाश एक ऐसी मंत्र ग्रंथावली है जिसमे चिकत्सा मन्त्र हैं . गणित प्रकाश में चिकित्सा मन्त्र और यंत्र हैं
इस ग्रन्थावली में एक मंत्र काट लगने (आंतो का रोग , आंत्र स्राव, पेचिस )  पर किस प्रकार से चिकत्सा  प्रबंध किया जाय पर एक मंत्र इस प्रकार  है

         स्याळ की राल लौंग सूंठ आम की गुठली स्र्तींतो कट्ठा करण पीस्णों आदा कौड़ी बाण पूडी बाद्णी अनोपान एक बगोट उमरा को एक बगोट

तिमला की  जड़ी को बगोट एक अणताज करणों सात मृच पीसिक डाळणों अदुड़ी पाणि मा कुवात करणों . गया घीउ ना त पथ देणों  कटाई जाई

                         अथर्व वेद में चिकित्सा संकेत मंत्र

 (अथर्व वेद, पांचवां अध्याय , इकाणवे संहिता, ऋषि - भ्रिग्रा, देवता- यक्ष्नाश्म , आप , छंद - अनुषटुपु)

   यह जो औषधि में प्रयुक्त करने के लिए आठ बैल या चै बैल वाले हल द्वारा जोतकर उत्पन्न किये हैं उन यवों से तेरे रोग के कारण पाप को नीचे से निकालता हूँ

  जैसे सूर्य नीचे तपते हैं , वायु नीचे चलती है , गौ नीचे मुख करके दूध देती है , वैसे ही रो तेरा मुख भी अधोमुखी हो , औषधियां जल की विकार रूप हैं

 अत: जल ही रोग निवारण का सर्वोत्तम औषधि है . यह जल सब संसार की औषधि रूप है . वे ही तेरा रोग निवारण करें

             इस तरह अनुमान लगाना सरल है क़ि वैदिक समहिताओं  से चरक सम्हिताओं में होते हुए चिकत्सा मंत्र स्थानीय भाषाओं में आये एवम बहुत सी चिकत्सा पद्धति स्थानीय दृष्टि से खोजी भी गईं हैं

Ref: Dr Vishnu Datt Kukreti, Nathpanth: garhwal ke Peripreksh men

Copyright Bhishma Kukreti bckukreti@gmail.com

 

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,015
  • Karma: +22/-1
Culture of Garhwal Kumaun

                Bairi Binas Mantra and Yantra : Effect of Islamic Culture

                 बैरी बिणास  मंत्र एवम यंत्र जिसमे मुसलमानी सभ्यता झलकती है

 

             (Mantra Tantra of Kumaun , Mantra Tantra of Garhwal , Mantra Tantra of Himalaya )

               Commentry and Presentation by Bhishma Kukreti

             Collected and Edited by Abodh Bandhu Bahuguna

               Gad Matyeki Ganga  is a historical book in Garhwali Prose literature . Abodh bandhu Bahuguna edited the book and he also presented chronological history of Garhwali language prose literature . Abodh presented a few Mantra, Dhol Sagar, Damu sagar in its concluding part . Abodh bandhu Bahuguna called this literature as Adi Gady . This author opposed naming this literature as Adi gady because it is not pure Garhwali of any time but created in Braj/Rajashthani language with mixing Garhwali words .

   Bairi Binas is a mantra and it is also having a Yantra . The mantra seems to be part of Narsingwali, indicates a few tantrik material requirement with mantra and definitely with philosophy and psychological aspects

                                     ॐ नमो आदेस गुरु को आदेस : उंज काला क्न्काला : बजुरमुखी बाण नाचे : : लग्न ऩा नाचे चौसठ मसाण नाचे : आट मारग कि जड़ नाचे : समसाण घाट को कुइलो नाचे : बेताल घाट को बेताल नाचे : छुर्की का अक्षत नाचे : घोर अघोर लग्न नाचे : डुकुर बोल  नि बोले तो : तिन पाल कनिडु करे तो काली कलिन्द्रा कि द्वाई . फिर रे बोल बोल रे ब्यादी बियादी  . लाया लगाया . तोई दूं अष्ट बली . कंकाली कंकाली . किल किल किलक्वार . औटे लग्न बाके मसाण नाचे निबोले नि नाचे तो कलचेरी कि .फुर मंच फटे स्वाहा .

                            अथ लग्न थमौण को मंत्र : ॐ नमो काली कंकाली बर्मा कि बेटी रूद्र कि साळी लठगण का मुख मार्रो ताळी . जो बक दारे सो मरे . उसी का बाण उसी का घर जावे . तोई काली दयून्लू काल़ा बानुर का मुख .कि बळी , ब्यादी बियादी ताका सिर मारो बज्र कि सिला . जा वि मारो लुब्बा कि कील  श्रव काली ह्रीं ह्रीं लं लं हं हं त्रं त्रं पं पं श्रव व्याधि नसावे : फटे स्वाहा ये मंत्रल लगे डुकराण : सतनाजा  को लगण करणु . छुरकी क  साठी समसाण को कुइलो लगण का पेट धरणो : उड़द चौंळ मन्त्रिक लग्न पर ताड़ो मारणो  स्टे . ॐ नमो आदेस . गुरु को जुहार . तो आयो बिर नरसिंग वायु नरसिंग वर्ण नरसिंग . मेरा जिय रख जंत रंग प्राण रख . अष्टन्गुली  आत्मा रख .

                          मेरो बैरी को भख . दडी दुश्मन कि कलेजी चख . फुर मंत्र इस्स्रो वाच . सातर कि विभूति मन्त्रिक अपणा सिर ल़ाणी , तब लग्न को मंत्र करणो . ॐ नमो गुरु को आदेस गुरु को चड़े गेरू में सात गुदडि का देमड़ा . कालिका का पूत चेड़ा खादा औंदा नाड़ तोडि कपाळ फोड़ी चले सत्रु का घर सिव का बाण नाचे कुदेक लवानिवु के ताल हाडिक घुळ मसाण  हवया. गाडो मंगाल बार बिर पथर पड़े . मेरा सत्रु के घर फुर मंत्र एसुरी  वाच . येई मन्त्रण शयीराड़ो मड़घाट कि विभूति १०८ बेरी मंत्र कनु कुड़ अ का आसपास धरी देणु

    ॐ नमो आदेस गुरु को : कालुर देस का कालुरी बिर दानो बिर धुन्दवा बिर सुन्द्रिका बिर लड़तिउं चले भगता लात मारते चले. खटंग बिर खितग ताल चले . सात सबद मार पेखंत खेलता चले . बिर चल चलूंडंति  दानौ मार. बजुर गोला बाण ते चलाऊं तब ब्रिछ  लडाऊं . राम्च्न्दरी बाण चलाऊं . बजुर बाण तेलग लागे . थातिया बिर लडाऊं गुम्बर गुबर नि लदे तो खेल नि खेले तो फेर सात त्रिपर कि दुबाई. फिरेसते चंद्रा बुतिणि बिर कि दुबाई फेरे  सहि. इस मंत्र न मुसलमान  को कब्र कि मटि . ७ जोड़ा लौंग ८ सूत को धागों करणो .एका ब्रिछ बंधणो . आफु अलग राणु , नजर मारणि : ७ चिक्ला मंत्र सूते लड़दि लकड़ी बज्र छीनती कि लकड़ी मुर्दा बोकण कि लकड़ी तीनो लकड़ी घुसाणो ब्रिछु पर छेद दिणि

     ॐ नमो आदेस गुरु  को इंद्रजाल हंकारो जिमजाळ हंकारो काल जिम हंकारो  मेढक जाल हंकारो . उमड़े नही जाहाँ चलाऊं थान चलाऊं . दि चले त ह्न्कारनात भैरों कलुआ ध्यावन छूटे . गेदों सि फूटे डोरी सि टूटे  , रुई को सिमडे लोट सि तड़े. जिम कि सभा नि बैठाई तो काला कलुआ तेरी आण  पड़े . जो इंद्र कि सभा नि बैठाई तो नौ नौरतो कि पूजा नि पाई . देखो परचो उंकी नात भैंरों मेरा बैरी तेरा भक . जम कि सभा नि लग तो तिन  नरग जाई . तिन घडी तिन पहर मड़घट नि ल्याई तो हंकार नात भैरों गुटा जाई तो मिटा खाई . बैण भांजा का पाप जाई ., चांडा बोग्सा कि जाटा तोड़ खाई . जांजी बोगसा उतरी जाई . मेरी भक्ति गुरु कि सती फुर मंत्र फटे स्वाहा . यई मंत्र तिघर कि लाल पिंगळी  पिठाइ २ घर का ज्युंदाळ साड़े तीन हात को धागों नापणो धरणो . सत्रु का घर मा फुकणो ९  सत्रु मरे १८ बेरी काम करणु

  ॐ नमो उस्ताद बैठे पास काम अवे रास . मेरा कलुवा एसा बिर जैसा हो तिर . जिम का मुहा पे बैठी कल़ेजी खाई , छाती पैराडि भैर निकळ आई . भोगे खाई भोगे का आड़ा दे मैं देवा क्रूर वारि करू ढाडा कलुवा कामड़ घाट बैठे ख़ुबाट कूद आवे मुर्दा के घाट. बारा घटी सोला बकरा खाई . असी कासकिदी ड़करे . सोटी ब्यानपे खावे ॐ काल भैरों कंकाल पाटी चन्द्र भैरों दुष्ट कि छ्यती. मेरा बैरी तेरा भक  काट कल़ेजा कर चबट . मेरी बात नि माने त माता कालिका का दांत गीद्लिया . २१ जोड़ा लौंग .

   
अथ घट बंथण को :

तै  बिट में कौं बिर बैठे . बिगठ मै बिर हणमंत रड़ बैठेउर हट्टी आगे दिया . उबैठे वबरी मैं महाकाली बैठे चार बिर घट के पेट में बैठे बंद बंदन भवन बंद पाणी का नागला . चरकी का घेर बंद चलदा घराट बंद .बोल बोल बंद  बंद करी त्याई तो बिर हणमंत तेरी द्वाई . फुट ह्न्मन्त बीर तेरी दवाई . बर्ज मुख का कोइला मंत्रणा . उइरा गेरी देण घरात बंद होई

 अथ उखेल मंत्र :

  ॐ नमो आदेस गुरु का : बिगत बिरात कौं बिर उखेल बिगत बिट हणीमंत्र उखेल द्विखिं आगे दरिया उखेल. चार बीर घट के पेट में उखेल . घट उपरी महाकाली उखेल . उखेल उखेल लखेल करी नि त्याई त : बिर हणमंत तेरी द्वाई . तेरी आण पड़ी . फुर बरुवा अनजानी का पूत हनुमंत उखेल . फुर मंत्र इस्रोवाच पंच गारा मंत्रणा या तीन बेरी या सात बेरी ॐ नमो गुरु को आदेस गुरु को काली काली महाकाली . कंकाली माता गडदेवी या बर्मा कि बेटी . गर्भ ते छुटी  रगत नि लेटी भैं माता कर्यो तेरो सुमरिण वेदी वोलाऊं औसान की बेला माता चली आयी . माता हंकारी ल़े मेरा बैरी सन्तान का जिए खाई .तुम मेरी बैणी मै तेरा भाई .  मेरा बैरी का पेट काट ल्याई . मैदान का बाठा ल्याई रक्त निकाल ल्याई . नाक नकुआ उपाई अंक पाड़ो काल़ो उपाई . तुम मेरी बैणा मै तेरा भाई . तुम बैरी घडी तीसरा पहर तीसरा दिन बरपाई मेरा बैरी का बत्तीस दंत खाई . ताल़ू जिभ्या लाइ . सौ हात आन्द्ड़ो खाई. मेरा बैरी को जितमो फोड़ी खाई फबसो कल़ेजी फोड़ी खाई . मेरा पढ़ायियां नि जाई त अपणा भाई बाप का x x न जाई. तू मेरी बैणा मै तेरा भाई मेरा पठायाँ नि जाई त अपणा गुरु को मांश खाई पाए बिट सिर जाई . मेरा बैरी ढाई पहर ढाई घडी फ़ट जाई . छ्न्चर का दिन न्यूती मात . ऐतवार का दिन हंकार पठाई . आगे नि जाई पीछे रही त अपणा गुरु का मॉस खाई . कैसा फिराआं फिरि आई त भाई बाप का अफु नि जाई . नौ नौती पूजा नि पाई . तोई द्विल नरसिंग कि दुबाई . . अब तो माता किल्कन्ति आई . मेरा बैरी भकनडि आई कं कं किलकन्त जाई  . मेरा बैरी भाकान्ति आई . खं खं खडख प्रले ल़े चली आई . मेरा बैरी तुरंत खाई . घं घं घं घोरंती जाई . मेरा बैरी तुरंत खाई ढं ढं ढं ढाल ल़े जाई . मेरा बैरी बैद हो तो बिदा खाई . सुता हो त सुतो खाई . मेरा बैरी रूसो होव तो मनाई खाई . मेरा बैरी कि डाँडि नदी तिर लाइ . नि ल्याई त अपणा भाई बाप का कुबोल जाई . नौ नारसिंग सोल़ा कलुवा असी मण चौरासी चेड़ा . चौसठ भैरों चौसठ जोगणि रथ बेरथ सुन बे -सुन बैरी का घर घाली तब चलो बाबा काल भैरों . गोल मैमंदा बिर मेरा बैरी का घर सुन बे-सुन घाली मेरा बैरी तीसरा दिन तीसरी पहर तीसरी धीवर ऩा खाई त बाबा सुन्गर हलाल कर खाई . अब मेरा बैरी खाईलो त तेरी पूजा देयून्लू लाल ल्वारण मॉस का बीड़ा कठ गई मठगढ़ बारा भोजन छतीस प्रकार देउलूं . कुखडी मेडा कि बली मद कि धार दयून्लू मेरी चलाई ऩा चली तो नी जाई त नौ नारसिंग बर्मा बिसनु मादेव पारबती  कि आण पड़ी . हणमंत  बिर कि आण पड़ी मेरी भगती गुरु कि सगती फीर मंत्र फटे स्वाहा . कागा कि पाग चित्रि का क्षर मड़ा हाड राता दयेपड़ा को क्षर नूर उंगुल को त्रिसुल करणो  १०८ बेरी मंत्र करणो सबु नाम ल़ेणु

   The literature is obvious that the literature is also informing the material requirement for Tantra performance

There is sole effect on this mantra from  an Islamik Peer mantra .as the mantra states about Halal Sungar (Pig killed by halal process)

The mantra is having mixture of philosophies of Nathpanth , Sakt , Vaishn sects together

The language is also mixture of Braj, Khadi Boli, Urdu and Shrinagrya Garhwali

It seems the mantra is created around eighteenth century or early ninteenth century

सन्दर्भ : अबोध बन्धु बहुगुणा गाड मटयेकि गंगा :

गोकुल देव बहुगुणा ग्राम झाला , पौरी गढवाल से प्राप्त पांडुलिपि से उद्घृत

Copyright @ Bhishma Kukreti bckukreti@gmila.com
           

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,015
  • Karma: +22/-1
Culture of Kumaun - Garhwal

                      Sankaracharj Vidhi Mantravali and Opposing Devilish Mantriks by Nathpanthi Mantriks

                        लोचडा लोचडि  को रोकने  हेतु सन्कराचार्ज विधि मंत्र

                     (Mantra Tantra in Kumaun, Mantra Tantra in Garhwal, Mantra Tantra in Himalaya )

                                    Presentation on Internet   by Bhishma Kukreti

              Published and edited by Dr Vishnu Datt Kukreti with the help of manuscript received from Shri Pabu Nath vill Adali, Langur PG

            There are many published and unpublished Mantras in Garhwal and Kumaun available in manuscripts
which deal with avoiding, stopping or curing of various types of diseases . There are two aspects of such mantras - one type is just Mantra in mantra and second is  providing curing the diseases methodoly too.

   Sankaracharj vidhi is a Nathpanthi mantra .  Sankaracharj vidhi  is about telling that at the time of before Nathpanthi time there were Brajyani Tantrik who with their mantras create various types of diseases such as Lochada (an epidemic as cholera or Small pox . In Lochada,  bleeding happens and the whole area population is effected by disease that after Lochda no humanity is alive in the area) fever, leprosy , Charansi Cheda, and hundred of diseases (Vithya)

     In sankaracharj vidhi Mantra , there are mentions of methods of herbal medicines production and methodology to cure Lochada epidemic disease .Tthe herbal plants are kali tulsi, kala vish, hartal, yekula veer root, rataguli etc with water of seven sources and many plants .

   the Mantra also tells the historical aspects of mantrik who used to spread Lochada diseas by their devilish Mantras as

         धोगी मसाण की राणी जिमला भई . जिमला राणी की पांच कन्या जन्मी . पैल की जेटी बैण खड्ग चंडाली भई. दोंसरी बैण अगणि भई . तीसरी बैण कालंका भई . चौथी बैण सीतला भई . पांचो बैण  पितला भई . छठी बैण राम चंडाली भई. खड्ग चंडाली को पुत्र लोचडा भयो. अग्नि की सस्त्र ज्वाला भई . कालंका को चौरासी चेड़ो भयो . सीतला को चौरासी रोग भयो . पितला को सात कोष्ठ भयो . राम चंडाली को सस्त्र विथा भयो

    In this mantra the creater provided the names of diseases and indicates the reason of diseases too (mother)

     The Nathpanthi mantriks were definitely knowing the very importance of Yoga that a human reuires the mental pleasure (here mental confidence for curing himself) and body curing . The verbal mantra used to provide confidence and the herbal medicines were curing body disease. This combination of Mantra and Vaidiki ( medical treatment) was common in Kumaun-Garhwal till sixties . That is why a Vaidya was also scholar of Mantras too because a patient requires mental and bodily treatment in equal balance.

    This author is witness that the Barthwals mantrik and Vaidya of Gadmola Bichhla Dhangu Pauri Garhwal used to visit the patient in pair . One barthwal used to read mantra and other used to do medical treatment . Barthwals were knowing the effect of  yogic principles (Body and mind ) . When Shri Tara Datt Barthwal and Shri Girja Datt Barthwal were together , Tara Datt jee used to provide medicinal treatment and Girja Datt ji used to read mantra . When Mangala Nand Barthwal ji and Girija datt jee were in pair , Mangala Nand Ji used to read Mantra and Girija Datt ji used to do medical treatment. Same way Juyals of Nairul, Balunis of Uttinda, Dhangu , Pauri Garhwal also used to visit in pair to patient . Today, we may discard these mantras and tantras as Andhvishwash but till sixties these methods were important aspects of life of Garhwalis and Kumaunis

Refe: Dr Vishnu Datt Kukreti, Nathpanth Garhwal ke Paripeksh men

Copyright @ Bhishma Kukreti, bckukreti@gmail.com

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,015
  • Karma: +22/-1
Culture of Garhwal and Kumaun

                     Why Does Jhadkhandi Slap Who is Affected by Bhoot ?

                                 भूत भगाने हेतु थप्पड़ क्यों मारा जाता है ?

         (Mantra Tantra of Garhwal , Tantra Mantra of Kumaun , Tantra Mantra of Himalayas ) 

                            Bhishma Kukreti
         जो गढवाल - कुमाऊं के गाँव में रहे हैं और भूत भगाने की क्रिया को जिन्होंने देखा हो या अनुभव किया हो तो उन्हेंने देखा होगा कि

        झाड़खंडी  भूत लगे मनुष्य को थप्पड़ मरता है या चावल के दानो का ताड़ देता है . कुछ लोग सोचते हैं कि यह अज्ञानियों का कोई खेल है

     जी नही यह भुतहा गये मनुष्य को थप्पड़ मारने वाला  तांत्रिक अनुष्ठान अज्ञानबस  नही अपनाया गया है अपितु विज्ञानं भैरव या भैरव तंत्र के एक  विशेष सिधांत को ब्यवहारिक

   रूप देने हुतू अपनाया गया है Slapping a Bhoot affected person is an application of a formula /principle of Vigyan Bhairav or Bhairav Tantra

   विज्ञान भैरव या भैरव तंत्र में एक सिद्धांत इस प्रकार है

      यस्य कस्येंद्रियस्यापी व्याघाताच्च निरोध्त:

       प्रवष्टिस्याद्व्ये शुन्य तत्रैवात्मा प्रकाशते

यदि अचानक या स्वयम शरीर के किसी अंग पर किसी वाह्य वस्तु से आघात किया जाय तो आत्म दर्शन याने भैरव प्राप्ति होती है

   If any organ is obstructed by striking ( an external object) accidently or by onself, one enters in non dual state of void , and there itself the self shines forth

            (Vigyan Bhairav , 89 )

       सभी को अनुभव होगा कि जब कभी अपघात से (accidently )  किसी बस्तु से जोर से टकराते हैं या कोई वस्तु हमारे शरीर के किसी अंग से जोर से टकराती है तो मनुष्य ना तो भूत काल की शरम या भविष्य की कोई बात सोचता है अपितु पूर्ण वर्तमान (ना भूत ना भविष्य की सोच/विचार) में आ जाता है. पूर्ण वर्तमान क़ी स्तिथि में आने के वक्त ही मनुष्य आत्मा से आत्मसात करता है या असीम आनन्द को प्राप्त होता है

   भूत लगना याने डर याने भूतकाल में जीना . जब भुतहे मनुष्य को थप्पड़ मारा जाता है तो वह वर्तमान में आ जाता है . चावल के दानो का ताड़ भी इसी सिद्धांत के अनुसार दिया जाता है

( This write up is just to analyze the Mantra and Tantra Philosophy exist in Kumaun and Garhwal. This article  neither sopports nor conddemns the Mantra and Tantra )

Copyright@ Bhishma Kukreti, bckukreti@gmail.com

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,015
  • Karma: +22/-1

Comments off Shri Mayank Aswal --- mayank.aswal@gmail.com
Not trying to be personal but in spite of spreading awareness today, if you are suppliying superstitions then it is indeed a mockery of these groups, its people...
What exactly are you trying to prove here... ?? Because the way the first article was written seems you are promoting the practice and then suddenly you are trying to defend yourself.. ??

I really do not care if these were part your your ignorant culture but you do all of us a favor and keep these idiotic cultural things behind and look to the future...
I tried myself to hold form commenting but this was a BS post indeed....



Reply from Bhishma Kukreti
Dear Aswal ji

i dont mind if you attack me in person (definitely in written form )

Respected Aswal ji you questioned me what i am trying to prove.

I am not proving anything i am just showing mirror of our varied culture and trying to find the origin of this culture of mantra and tantra as i tried in past to analyze the origin of Garhwali language and analyze Garhwali literature

You commented , :" I dont care if these were part your IGNORANT CULTURE"

It is rediculous to say "YOUR CULTURE " If you are ASWAL you cant run from your old history How come a migrated or resident Garhwal  can run from a proverb "अधा गढ़वाल अधा असवाल " If i explain this proverb and a Rawat says " Why is Kukreti explaining this proverb ?" I would be  unable to answer because history or culture is a truth

As far as mantra are concerned they still exist Dhol Sagar damau Sagar still exist
I dont know you visit village or not and you perform Ghadela,Narsingh,  nagrja, nagelu, Kantyura Pando pooja or not
If yes ! then I am analyzing those rituals as most of the Jagars related to Nathpanthi Mantra and Tantra
Maimnada, Kantyuri and other Jagars are in this category too
Many members suggested me to discuss about other subjects
When i raised burning issues those members kept quite
Mantra and tantra is part and partial of present culture and anlyzing is not wrong from any point
Kindly provide the substancial arguments that I am wrong in analyzing the same
Knowing present and past history is no wrong in any angle
Aswal ji !
Advise me the subject and it is my promise that I shall initiate debate/discussion

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,015
  • Karma: +22/-1
Culture of Kumaun and Garhwal

                       Chhiddarvali mantra and  Chhandogey Upnishad

                            छिद्दरवाली    मन्त्र एवम छान्दोगेय   उपनिषद

                     

                       (Mantra, Tantra in Garhwal, Mantra Tantra in Kumaun, Mantra Tantra in Himalaya )

                           Bhishma Kukreti

         Dr Vishnu Datt Kukreti a profound scholar of Nathpanth in Garhwal  states that among Mantra and Tantra literature of Kumaun -Garhwal , chiddarvali/Chhidrvali has specific place in Garhwali culture and literature. The Ramnathi Nathpanthi literature Chhidravali  manuscript has 72 pages and  deals with various subjects as , philosophy , historical aspects animals, birds, weapons, seven oceans, numbers, medical curing about Chiddar disease by various herbal plants (jadi Booti)  . chidarvali also mentions about social and economic corruption and their evilsome effects

   There is mention of legendary personalities as Lunachmari, Kaluva Kaudi, Ganthiya Masan,  Hanmant Beer, narsing Beer , Nadbud Bhairon, mata Kalanka , Sharada mata , Kaliya Lohar, Rupi luvani, Kankal Bhairon, Asht Bhairon and Gorakhnath

    in this mantra, it is said that you should find your Guru yourselves. It clearly indicates that the Nathpanth belived on Upnishad principles that you should find your own Guru and there should not be family guru but individual own guru

      उदागिरी कांठ जाण, उदागिरी ते जयागीरी जाण , जीयागिरी ते सीयागिरी जाण सिआगिरी ते लंका जाण ., लंका ते वेलन्का जाण .वेलंका  तीलंका  जाण , तीलंका ते चौलंका जाण  , चौलंका ते हसराली (गुरु  प्रदेश )..

         There is a stanza about philosophy in Chhidarvali which has some similarity with shlokas of Chhandogey Upnishad

   जल नई , थल नई , मेर नई, मन्दिर नई , गीरी नई  , कबीलास नई , धरती नई अकास, माई नई बाप, उपजे सम्बू आपे आप , पैलो भये ऊंकार , उनकर को भये निरंकार, निरंकार को भये निरंजन . निरंजन को भयो आदिनाथ ........

     There is same type of description of this Bramand in Chhandogey Upnishad    as:

      सदेव सोम्येदम्ग्न आसीदेक्मेवाद्वीतिय्म . तद्धैक आहुर्सदेवेद्ग्र आसीदेक्मेवाद्वीतिय्म तस्मादसत सज्जायेत

         In my earlier I post I showed similarities between Garhwali Mantra with Vedic Mantra and this shows the linkage between Vedas, Upnishads with Garhwali Mantra Tantra

 

Ref: Dr Vishnu Datt Kukreti, Nathpanth : Garhwal ke Parpeksh men

Chhandogey Upnishad 6:2,1

Copyright@ Bhishma Kukreti, bckukreti@gmail.com

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,015
  • Karma: +22/-1
Culture of Kumaun and Garhwal

                     Mantra for Curing Various Kinds of Fever and Mantra in Atharva Ved

                         गढवाल -कुमाऊँ  के ज्वर मंत्र एवम अथर्व वेद में ज्वर मंत्र

 

                     (Mantra tantra in Kumaun, Tantra Mantra in Garhwal, Mantra Tantra in Himalaya )

                          Bhishma Kukreti

       dr Pitambar datt Barthwal initiated to collect and analyze the nathpanthi Mantras from Garhwal-Kumaun  . Abodh Bandhu Bahuguna , Dr Chatak , Dr Shiva Nand Nautiyal made advancement in the researhces on mantra and Tantra of Kumaun -Garhwal . However, Dr Vishnu Datt Kukreti took the reaserches exclusively and he found hundreds of Mantra' and Tantra manuscripts from various parts of Garhwal.

 Dr Kukreti got two manuscripts of Ganit Prakash while he was busy in his research on Nathpanth which is very significant folk literature of hills of Himalaya

  the size of   Ganit Paraksh manuscript (from the collection of late Ram Krishn Kukreti, village Barsudi, Dwarikhal, Pauri Garhwal) is 21x13 centimeters and having 84 pages . the copying of manuscript from other manuscript is 1900 Ad by late tara datt Kukreti

    first part is about curing various diseases 9upto 44 pages) and second part is about Numerology (from 45 to 84 page)

    The manuscript starts as

  लीषतो पोस्तक्म निम्नाथ के श्री उमा पारोबती महादेवी बछ श्री भगवान् जी चित्र रेखा बाछ श्री भेमाता कथी तो नारदो वाछ: इति श्रीमुनिनाथ जोझ्ण वाले के पौस्तक गणित प्रकाश काहै ......

 In first part there are description of various fever, and tens of  diseases , stomach aches etc and there is description of herbal treatment too

        In Ganit Parakash there is mantras Nadbud or Rakhwali , In Ganit Prakash there is description of characteristics of various fevers as

   पिथ जर , बिस्म पिथ जर . , कफ जर , सीट जर , शन्निपात जर,

    जडो लागे देहि कामे रोग होए मुख टापि होव देहि का जमाई लागन सीर बाजि होव जांगू फट्टा पीड़ा होव फलाऊँ होव त्रिखा होव आखा तापन गीचो करणों होव .....

ॐ नमो गुरु को आदेस इस पिंड का दुःख बंध करी विमाता .... ह्न्मन्त का जाप खाली न जावे .........

Now let us read a  mantr of Athrva Ved

                                 अथर्व वेद, अध्याय एक   , मंत्र २५

(ऋषि ; भ्रिग्व्गिरा , देवता यक्ष्मनशनो , छंद - त्रिष्टुप , अनुष्टुप       

         हे कष्टदायक ज्वर ! धर्मपालक तथा धर्मवान विद्वान् जिस अग्नि का हवन करते हैं उस अग्नि को तेरा जन्म कहा जाता है तू अपने कारण अग्नि को भली प्रकार समझ कर हमारे उष्ण जल से हमारे अंग व शरीर को छोड़ कर अग्नि के साथ बाहर हो जा

       हे जीवन को दुखमय बनाने वाले ज्वर तू वाट रूप उष्णता से युक्त है ...... इसके अतिरिक्त तू पुरुष शरीर को पीतवर्ण बना देते हो. .. हमारे शरीर से बाहर आ.......

        शीत को उत्पन करने वाले शीत ज्वर के लिए मेरा नमस्कार .. दुसरे दिन आने वाले ज्वर को नमस्कार .... तीसरे दिन आने वाले ज्वर को नमस्कार ......

 if we analyze both the mantras we shall find that in both case there is description of characteristics of various types of FEVER and in Veda , there is no curing tactics but in Ganit Prakash, there is curing methodlogy too

Copyright@ Bhishma Kukreti , bckukreti@gmail.com

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,015
  • Karma: +22/-1
Folk (Mantra Tantra ) Literature of Garhwal -Kumaun

         Similarity Between Ghunad ka Mantra and a Vedic Mantra

            घुणद (दांत का दर्द )  मिटाने का मंत्र तन्त्र  की वैदिक मन्त्रों में  समानता   

 

( Mantra Tantra in Garhwal, Mantra Tantra in Kumaun, Mantra Tantra in Himalaya)

              Bhishma Kukreti

        Obviously the source of creation of Mantra culture started from Vedic era when Vedas were created . mantra are related to get relief through psychological effects.

  Mantravali is collection of miscellaneous hundreds of mantra of Garhwal -Kumaun . Many Mantras are related to curing diseases or body disorder

   following is a Mantra for curing toothache

                                      श्री गणेशाय नम : अथ घुणदा कीड़ा गाडण को मंत्र , ॐ नमो गुरु जी को आदेस , माता पिता गुरु देवता को आदेस. चल धरती को उपर आकास को आदेस चन्द्र सूर्य पौन प्राणी कु आदेस मादेव पारबती को आदेस . गुरु तो गोरखनाथ मछिन्द्र्नाथ को आदेस. झड़ कीड़ा , झड़ कीड़ा दांत का द्न्तेला विष कीड़ा झड़ नी तो महादेव पारबती का सत की दुबै . फोर्मन्त्र इश्व्रोवाच २१ बगत उड़द चौंळ मंत्री क खन्क्वाळ मारणी धडेक मा थुकाइ देणी   , शुभ मंत लाग जंत्र

       Now you read atranslation of Vedic Mantra of Atharv Ved

                            अथर्व वेद , द्वितीय अध्याय , बत्तिसंवां श्लोक

          उदय होते हुए सूर्य गोंओं के शारीर में प्रविष्ट हुए कृमियों को अपनी किरणों से  नष्ट करे .

चितकबरे , चार नेत्र वाले , श्वेतादी अनेक वर्ण और आकार वाले कृमियों को मैं उनकी देह सहित नष्ट करता हूँ

   हे कृमियो ! अत्री कण्व, जम्द्गिन के मन्त्रों से मैं तुम्हे नष्ट करता हूँ . महर्षि अगत्स्य के पुनरउत्त्पति ण होने वाले मन्त्रं से कीड़ों को नष्ट करता हूँ

      .......

हे सीन्ग्युक्त कीट ! तेरी पीडाप्रद सींग को काटता हूँ . तेरे कुशुम्भ को तोड़ता हूँ . तेरे विषयुक्त अवयव को नष्ट करता हूँ

   By the above example , it may be concluded that there is certainly the legacy of Vedic philosophy and strategies for creating Mantras in Garhwal and Kumaun

 

Reference : Dr Vishnu datt Kukreti , Nathpanth : Garhwal ke Paripeksh me , page 186

Manuscrips available from Ram Krishn Kukreti, vill Barsudi, Pauri Garhwal, Dharma Nand Pasbola, Naini, Banghat Pauri Garhwal
Copyright @ Bhishma Kukreti, bckukreti@gmail.com

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22