Author Topic: Meaning Of Lyrics Of Songs - उत्तराखंडी लोक गीतों के भावार्थ  (Read 11858 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
एक बार सूखे के कारण आनाज उत्पादन नहीं हुवा और रानीखेत के बाजार में गेहू के स्थान पर बाजरा बिकने लगा उस बना यह लोक गीत
 
 राणी खेता बजारा, बाजीर के चलो झक !
 नान भाऊ का बाज्यू बाजीर ले ल्याया झक !
 द्वि सेर बाजिरा मेरी, कानी जै पिडगै!
 बिन घास, बिन पाता, मेरी थोरी जै पटईगे
 नान भाऊ की इजा, रुवाट के हाल छी टक!
 मालखन भितेरा म्यार ज्याठजियु लकड़ पट्ट!
 
 भावार्थ :
 
 रानीखेत के बाजार, बाजरा क्या चला (बिकने laga झक! बच्चे भाऊ के पिताजी, बाजरा क्या लाये झक!
 दो सेर बाजार, मेरे कंधे दुःख गये!
 बिना घास पात के मेरी थोरी (भैस का बच्चा) कमजोर हो गयी!
 बच्चे भाऊ की माँ, छी तू रोटियां क्या पकाती है टक
 मल्लाखंड (घर की पहली मंजिल ) के अन्दर मेरे जेठ  जी बीमार हो गये

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
प्रयाग पाण्डे
" भिटौली " के लिए भाई की प्रतीक्षा में बहिन

मित्रो ! बसंत का सुआगमन हो गया है | बुरांश फुल गया है और सरसों फूलने लगी है । " कपुवा "के साथ ही अन्य पंछियों के सुमधुर स्वर सुनाई देने लगे हैं | हरेक प्राणी उल्लास से भर गया है | " भिटौली " का महीना आ गया है । " भिटौली " के लिए ब्याहता बहिने ससुराल में अपने भाइयों की प्रतीक्षा करने लगी हैं कि उनके भाई " भिटौली " लेकर आते ही होंगे । " भिटौली " के इस महीने में आज आपको कुमांऊँ का बहुत पुराना ऋतु लोक गीत से रूबरू करा देते है |

रितु ऐ गे रणा मणी , रितु ऐ रैणा |
डाली में कफुवा वासो , खेत फुली दैणा |
कावा जो कणाण , आजि रते वयांण |
खुट को तल मेरी आज जो खजांण |
इजु मेरी भाई भेजली भिटौली दीणा |
रितु ऐ गे रणा मणी , रितु ऐ रैणा |
वीको बाटो मैं चैंरुलो |
दिन भरी देली मे भै रुंलो |
वैली रात देखछ मै लै स्वीणा |
आगन बटी कुनै ऊँनौछीयो -
कां हुनेली हो मेरी वैणा ?
रितु रैणा , ऐ गे रितु रैणा |
रितु ऐ गे रणा मणी , रितु ऐ रैणा ||

भावार्थ :-

रुन झुन करती ऋतु आ गई है | ऋतु आ गई है रुन झुन करती |
डाल पर "कफुवा " पक्षी कुजने लगा | खेतों मे सरसों फूलने लगी |
आज तडके ही जब कौआ घर के आगे बोलने लगा |
जब मेरे तलवे खुजलाने लगे , तो मैं समझ गई कि -
माँ अब भाई को मेरे पास भिटौली देने के लिए भेजेगी |
रुन झुन करती ऋतु आ गई है | ऋतु आ गई है रुन झुन करती |
मैं अपने भाई की राह देखती रहूंगी |
दिन भर दरवाजे मे बैठी उसकी प्रतीक्षा करुँगी |
कल रात मैंने स्वप्न देखा था |
मेरा भाई आंगन से ही यह कहता आ रहा था -
कहाँ होगी मेरी बहिन ?|
रुन झुन करती ऋतु आ गई है | ऋतु आ गई है रुन झुन करती ||

( कुमांऊँ का लोक साहित्य )

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,394
  • Karma: +22/-1
Kaliya Nag Jagar: Asian/Oriental Ritual Folk Song about Krishna Winning Kaliya Nag (Cobra)

Asian Folklore, Folk Legends, Folk Myths of Kumaon-Garhwal, Haridwar, Uttarkahnd-69

Asian Pauranic /Epic, Marathon, Classic, Impressive, Grand, Mahabharata Folklore, Ramayana Folklores, Folktales, Folk Stories of Haridwar,   Garhwal, Kumaon, Uttarakhand – 5 

(The write up is dedicated to Dr. Hari Datt Bhatt ‘Shailesh’ his extensive works on Kumaoni-Garhwali (Asian) Folk and Modern Literature)

                                         By: Bhishma Kukreti

                        Krishna’s activities are nearer to common man. Therefore Krishna influenced every society and Krishna became hero of every society. In Garhwal-Kumaon, Lord Ram is worshipped as ideal person, therefore less folk literature is created about Rama. 
               There are many folk songs, folklores, folktales and folk saying about Krishna in Garhwal, Kumaon and Haridwar.
   One of the religious or ritual folk songs (Jagar) about Krishna is his winning to Kaliya Nag. The story has clear local color that Krishna advised Kaliya Nag to shift from Gokul to Uttarakhand. 


              कुमाऊं, गढ़वाल ,हरिद्वार  की लोक गाथाएँ  -69     

   
          ( टिहरी सेगढवाली लोक गीत,  उत्तरकाशी से गढवाली लोक गीत, पौड़ी से गढवाली लोक गीत, चमोली -रुद्रप्रयाग से गढवाली लोक गीत, नैनीताल से कुमाउनी लोक गीत, अल्मोड़ा से कुमाउनी लोक गीत,पिथोरागढ़ -बागेश्वर से कुमाउनी लोक गीत,चम्पावत , उधम सिंह नगर से कुमाउनी लोक गीत,उत्तराखंडी लोक गीत , हिमालयी लोक गीत, हरिद्वार से लोक गीत ,मध्य हिमालयी लोक गीत , हिमालयी लोक गीत,उत्तर भारितीय लोक गीत, भारतीय लोक गीत श्रृंखला  ) 

                     कुमाऊं, गढ़वाल ,हरिद्वार  की  पौराणिक लोक गाथाएँ - 5 
   
                           

 कालिया नाग संबंधी जागर गाथा

 (सन्दर्भ : डा हरी दत्त भट्ट 'शैलेश', गढ़वाली भाषा और उसका साहित्य )
(इंटरनेट प्रस्तुति; भीष्म कुकरेती )



चल ग्वाल बाल भायो , तुम खेला गिंदुवा,
सोना  का गिंदुवा मेरो , विष्णु पटन मढ्यु छ।
सोना का गिंदुवा , चांदी का घुँघर।
हे प्रभु सोबन गेंदुवा तेरो हाथ नि लियेंदु।
भ्वां नि धरेंदु।
तब खेलण जांदा सब कुञ्ज वन मा,
कुञ्ज वन मा खिल्यां बार भांति फूल।
अनमन भांति की औंदे फूल की वासनी,
भौंरा छन गुंजणा , ग्वारी रूणाणी छन,
कि अनमन भाँति की केसर लेला।
सारा कुञ्ज वन मा खेल गेंदुवा।
छट छुटी गेंदुवा जमुना मा पडि गे।
वीं गैरी जमुना मा माछुने घुऴयाळे।
तब विष्णु भगीवान धै लगौंदा।
ग्वाल बाल सब ड़्यार बौड़ी ऐना,
जिया को बाळ जमुना छाल छुटिगे।
तब जिया जिया जसोमति इन बैन बोदी-
सबूका बाला घर ऐन, मेरा कृष्ण नि आयो।
जागदी रै गये सया राणी सत्यभामा।
काली नाग रैंदो तैं गैरी जमुना,
हे मेरा कृष्ण नाग डसी जालो।
कृष्ण भगीवान इन रैन बली,
गाडी दिने गेंदुवा , साधी लाइन नाग।     
                  There was a great snake Kali Nag in Kalidah tank into Yamuna. He had sixteen hundred queens. Once with his shepherd friends, Krishna was playing ball. The ball fell into Kalidah tank. Krishna jumped into Kalidah tank. His friends were afraid and ran away to village. Krishna’s mother Jasoda started weeping madly.

            Krishna reached to court of Kali Nag. He played his flute. The sixteen hundred queens were attracted to beauty of Krishna.
              All snake queens advised Krishna to return back as Kali Nag was very angry snake. Krishna told the queens he would go back only after taking gold ball with silver rings. The queens informed that the ball is into s mouth of Kali Nag who was sleeping. Queen snakes advised him that Kali Nag would flow his deathly poison on him. Krishna did not listen to snake queens. He put his hand into Kali Nag mouth and got the ball out. Kali Nag awoke. The great snake started stirring his fifty two mouthed hoods. Krishna rode on snake hood. Krishna won over the great snake kali Nag. Krishna started dancing over snake hood.
                 Kaliya nag reminded Krishna that he helped his father Vasudev crossing Yamuna when Krishna was born. Kali Nag reminded Krishna that he covered child Krishna by his hood. Krishna advised Kaliya Nag to leave Gokul and shift to Uttarakhand. Krishna blessed Kaliya Nag that Kaliya Nag family would flourish in Uttarakhand and Nag would be worshipped by people there.     
 
             The villagers with Nand and Jasoda came to Yamuna bank. They saw that Krishna was dancing on snake hood. Krishna came out of tank. Everybody was pleased.   
  Kaliya nag shifted from Gokul to Uttarakhand and flourished here. He is our God. 


Copyright (Interpretation) @ Bhishma Kukreti, 27/06/2013
Folklore, Folk Legends, Folk Myths of Kumaon-Garhwal-Haridwar (Uttarakhand) to be continued…70 
Pauranic /Epic, Marathon, Classic, Impressive, Grand, Mahabharata Folklore, Ramayana Folklores, Folktales, Folk Stories of Haridwar,   Garhwal, Kumaon, Uttarakhand  to be continued…6 
 
   
                                  Curtsey and references
 
Dr. Krishna Nand Joshi, Kumaon ka Lok Sahitya (Folklore texts of Kumaon)
 Dr Trilochan Pandey, Kumaoni Bhasha aur Uska Sahity(Folklore literature of Kumaon )
Dr Shiva Nand Nautiyal, Garhwal ke Lok Nrityageet  (Folk Songs and Folk dances of Garhwal )
Dr Govind Chatak, Garhwali Lokgathayen (Folklore of Garhwali)
Dr. Govind Chatak, Kumaoni Lokgathayen (Folklore of Kumaoni)
Dr Urvi Datt Upadhyaya, Kumaon ki Lokgathaon ka Sahityik Adhyayan (Literary review of Folklore of Kumaon)
Dr. Dip Chand Chaudhri, 1995, Askot ka Palvansh , Gumani Shodhkendra, Uprada, Gangalighat
Dr. Prayag Joshi, Kumaon Garhwal ki Lokgathaon ka Vivechnatmak Adhyayan (Critical Review of Folklore of Kumaon and Garhwal)
Dr Dinesh Chandra Baluni, Uttarakhand ki Lokgathayen (Folklore of Uttarakhand)
Dr Jagdish (Jaggu) Naudiyal, Uttarakhand ki Sanskritik Dharohar, (Partially Folklore of Ravain) 
Ramesh Matiyani ‘Shailesh’ 1959, Kumaun ki Lok Gathayen
Abodh Bandhu Bahuguna, Dhunyal (Folklore and Folk Songs of Garhwal)
Shambhu Prasad Bahuguna, Virat Hriday
Kusum Budhwar, 2010, Where Gods Dwell: Central Himalayan Folktales and Legends 
C.M. Agarwal , Golu Devta, 1992, The God of Justice of Kumaon Himalayas
N.D .Paliwal, 1987, Kumaoni Lok Geet
E.S. Oakley and Tara Datt Gairola 1935, Himalayan Folklore
M.R.Anand, 2009, Understanding the Socio Cultural experiences of Pahadi folks: Jagar Gathas of Kumaon and Garhwal
Dr. Pradeep Saklani, 2008, Ethno archeology of Yamuna Valley
Shiv Narayan Singh Bisht, 1928, Gadhu Sumyal, Banghat , Pauri Garhwal
Kumaon: Kala, Shilp,aur Sanskriti         www.himvan.com/webpages/dana.htm
Anjali Kapila (2004), Traditional health Practices of Kumaoni women
Bhishma Kukreti, Garhwali Lok Natkon ke Mukhy Tatva va Vivechana
Helle Primdahi, 1994, Central Himalayan Folklore: folk Songs in Rituals of the Life Cycle
Hemant Kumar Shukla, D.R. Purohit, 2012, Theories and Practices of Hurkiya Theater in Uttarakhand, Language in India Vol.12:5: 2012 Page 143- 150
Dev Singh Pokhariya, 1996, Kumauni Jagar Kathayen aur Lokgathayen
Madan Chand Bhatt, 2002, Kumaun ki Jagar Kathayen 
Bhishma Kukreti, Garhwal ki Lok Kathayen, Alaknanda Prakashan
Bhishma Kukreti, Notes on History, Folk Literature of Haridwar
Khima Nand Sharma, Veer Balak Haru Heet, Kumauni Sahitya Sadan, Delhi, 1980.
Xx                                             xx                                             xx
टिहरी सेगढवाली लोक गीत,  उत्तरकाशी से गढवाली लोक गीत, पौड़ी से गढवाली लोक गीत, चमोली -रुद्रप्रयाग से गढवाली लोक गीत, नैनीताल से कुमाउनी लोक गीत, अल्मोड़ा से कुमाउनी लोक गीत,पिथोरागढ़ -बागेश्वर से कुमाउनी लोक गीत,चम्पावत , उधम सिंह नगर से कुमाउनी लोक गीत,उत्तराखंडी लोक गीत , हिमालयी लोक गीत, हरिद्वार से लोक गीत ,मध्य हिमालयी लोक गीत , हिमालयी लोक गीत,उत्तर भारितीय लोक गीत, भारतीय लोक गीत श्रृंखला जारी…
Xx                         xx
Notes on Asian/Oriental Ritual Folk Song about Krishna Winning Kaliya Nag (Cobra); Asian/Oriental Ritual Folk Song from Kumaon, about Krishna Winning Kaliya Nag (Cobra); Asian/Oriental Ritual Folk Song from Garhwal about Krishna Winning Kaliya Nag (Cobra); Asian/Oriental Ritual Folk Song from Haridwar, about Krishna Winning Kaliya Nag (Cobra); Asian/Oriental Ritual Folk Song from Uttarakhand about Krishna Winning Kaliya Nag (Cobra) Asian/Oriental Ritual Folk Song from Central Himalaya about Krishna Winning Kaliya Nag (Cobra); Asian/Oriental Ritual Folk Song from Himalaya about Krishna Winning Kaliya Nag (Cobra);Asian/Oriental Ritual Folk Song from North India about Krishna Winning Kaliya Nag (Cobra); Asian/Oriental Ritual Folk Song from India about Krishna Winning Kaliya Nag (Cobra); Asian/Oriental Ritual Folk Song from Indian subcontinent about  Krishna Winning Kaliya Nag (Cobra).

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,394
  • Karma: +22/-1
Asma Shanta : Asian Folk Song illustrating Regional Disturbances and Army Deployment 


Folk Songs from Kumaon-Garhwal, Haridwar, Uttarakhand (India)-309
(Asian, Himalayan Folk Song/Traditional Folktales/ Conventional Sayings Series)
                 कुमाऊं, गढ़वाल ,हरिद्वार के  लोक गीत  -309
                                      By: Bhishma Kukreti
           The Garhwal and Kumaon region is the land of Army men. When the army men are holidaying in their home village and there is war with neighboring enemy country the Garhwali-Kumaoni army men had to cancelling holiday and return to their head quarter in border place.
    The following folk song illustrates the regional disturbance in North East Frontier Area and army deployment there.
 The folk song also discusses the pain of wife of army man going to joining duty in disturbed region.
 The folk song discusses the death and life as sides of a coin for an army man.
असमा  शांता

(संकलन ; रामेश्वरी  और  डा. प्रीतम  अपछ्यांण ,  सन्दर्भ: चिट्ठी पत्री  2003 )
(इंटरनेट प्रस्तुती व व्याख्या - भीष्म कुकरेती ) 

ऐंसूका  साल खरड़ा खैली
भोळका साल असमा जैली
शांता पिंयारी  असमा जैली
बोटिंन रसि खैंचिन डोरा
शांता लडै को जोरा
शांता पिंयारी लडै को जोरा
बणै दे शांता दो रोटी तीन
ख़तम ह्वेगी छुटी का दीन
शांता पिंयारी छुटी का दीन
बणै दे शांता बासमती का भात
जाज उड़ी  बंगाल माथ
शांता पिंयारी बंगाल माथ
बणै दे शांता दो रोटी दाल
शांता पिंयारी जिन्दगी काल
बणै दे शांता दो रोटी पूर
कांध रैफल बगलै छूर
शांता पिंयारी बगलै छूर
गाड मॉळेली लंगलंगी तूण
जाण जरूर बेकारै रुण     
शांता पिंयारी बेकारै रुण

In the above folk song, the army man provides sympathy and encouragement o his wife too.
The folk song shows that   Garhwali-Kumaoni folk creators have sharp eyes on every aspect of life.

Copyright (Interpretation) @ Bhishma Kukreti, bckukreti@gmail.com 3/8/2013
Folk Songs from Kumaon-Garhwal-Haridwar (Uttarakhand) to be continued…310 
   
Xx                        xxx
उत्तराखंड से  लोक गीत , दुसांत से बाल  गीत; चमोली  गढ़वाल से  लोक गीत ;गदकोत चमोली गढ़वाल से  लोक गीत ; रुद्रप्रयाग गढ़वाल से  लोक गीत ; पौड़ी गढ़वाल से  लोक गीत ; टिहरी गढ़वाल से  लोक गीत ;उत्तरकाशी गढ़वाल से  लोक गीत ;केदार उत्यपका गढ़वाल से  लोक गीत ; बद्रीनाथ घाटी गढ़वाल से  लोक गीत ; लैंसडाउन गढ़वाल से  लोक गीत ; कोटद्वार गढ़वाल से  लोक गीत ;नरेंद्र नगर गढ़वाल से  लोक गीत ;प्रताप नगर गढ़वाल से  लोक गीत ; गौचर गढ़वाल से  लोक गीत ; पुरोला गढ़वाल से  लोक गीत ; राठ  क्षेत्र गढ़वाल से  लोक गीत ; गैरसैण  गढ़वाल से  लोक गीत ; दूधातोली गढ़वाल से  लोक गीत  श्रृंखला जारी ..
Xx        xxx
Notes on Asian Folk Song illustrating Regional Disturbances and Army Deployment; Asian Folk Song from Chamoli Garhwal illustrating Regional Disturbances and Army Deployment; Asian Folk Song from Rudraprayag Garhwal illustrating Regional Disturbances and Army Deployment; Asian Folk Song from Tehri Garhwal illustrating Regional Disturbances and Army Deployment; Asian Folk Song from Uttarkashi Garhwal illustrating Regional Disturbances and Army Deployment; Asian Folk Song from Pauri Garhwal illustrating Regional Disturbances and Army Deployment; Asian Folk Song from Vishnuprayag Garhwal illustrating Regional Disturbances and Army Deployment; Asian Folk Song from Alaknanda valley Garhwal illustrating Regional Disturbances and Army Deployment; Asian Folk Song from Nayar valley Garhwal illustrating Regional Disturbances and Army Deployment; Asian Folk Song from Hinval valley Garhwal illustrating Regional Disturbances and Army Deployment;

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,394
  • Karma: +22/-1
Mui Deen Kanu Labi: Asian Wedding Folk Song illustrating Women Love for Ornaments   

Oriental/Asian Folk Song and Folk Literature from Ravain/Rawaeen, Yamuna-Tons Valley Region, Uttarkashi, Dehradun, Garhwal -53 

  रवांइ, उत्तरकाशी, देहरादून गढ़वाल क्षेत्र  के  प्रचलित   लोक गीत- 53     

    Translation, Interpretation by: Bhishma Kukreti


 The following folk song depicts the women love for jewels and jewelry
This song is a wedding folk song from Ravain illustrating the request of bride to her father for ornaments. 
मुई दीण कानू लाबी

(संकलन व अन्वेषण : डा.जगदीश नौडियाल)

( इंटरनेट प्रस्तुति  एवं अतिरिक्त व्याखा - भीष्म कुकरेती )

मुई देण बा लो कानू की लाबी
मुई देण बा लो हाथू की पौंछी
मुई देण बा लो नाक नथलू
मुई देण बा लो लांबी बिसार
मुई देण बा लो शीशफूल सुहाग
मुई देण बा लो जेवरू की खाण
 Father! Gift me Ear Ornaments
Father! Gift me Hand Ornaments
Father! Gift me Nose Ring Ornaments
Father! Gift me Long Ornaments
Father! Gift me Head Ornaments
Father! Gift me mine of  Ornaments



Copyright Interpretation, @ Bhishma Kukreti 3/8/2013 

Oriental/Asian Folk Literature from Ravain/Rawaeen, Yamuna-Tons Valley Region, Uttarkashi, Dehradun, Garhwal to be continued …54 
( रवांइ क्षेत्र के जागर, लोक गीत ; हर की दून, रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के जागर, लोक गीत ; जानकी चट्टी, रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के जागर, लोक गीत ; फुल चट्टी , रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के जागर, लोक गीत ; मोरी रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के जागर, लोक गीत ; पुजेली , रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के  जागर, लोक गीत ; पुरोला , रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के जागर, लोक गीत ; बनाल पट्टी , रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के जागर, लोक गीत ; रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के जागर, लोक गीत ; राढ़ी डांडा,  रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के   जागर, लोक गीत ; यमुनोत्री , रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र जागर, लोक गीत ; हनुमान चट्टी , रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के जागर, लोक गीत ; खरसाली रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के  भाषा जागर, लोक गीत ; गंगनाणी ,  रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के  जागर, लोक गीत ; बडकोट , रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के जागर, लोक गीत ; नौगाँव , रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के   भाषा जागर, लोक गीत ; आराकोट , रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के   जागर, लोक गीत ; जर्मोला धार रवांइ -उत्तरकाशी क्षेत्र के  जागर, लोक गीत ;लाखामंडल,  रवांइ -देहरादून  क्षेत्र के जागर, लोक गीत ;चकरौता  रवांइ -देहरादून  क्षेत्र के रंवाल्टी  भाषा जागर, लोक गीत ;अनहोल रवांइ -देहरादून  क्षेत्र के  भाषा जागर, लोक गीत ; त्यूणी  रवांइ -देहरादून  क्षेत्र के  जागर, लोक गीत श्रृखला जारी)
Xx           xxx
Notes on Asian Wedding Folk Song illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song from Hari ki Dun Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song from Janki Chatti Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song from Fulchatti Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song from Hanuman Chatti Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song from Yamunotri Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song from Pujeli Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song from Banal Patti Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song from Radhi danda Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song from Ringal Pani Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song from Arakot Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song from Jarmola Dhar Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song from Naugaon Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song Gangnani from Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments; Asian Wedding Folk Song Badkot from Uttarkashi, India illustrating Women Love for Ornaments;

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,394
  • Karma: +22/-1
 Imagination of Silver, Gold and  Gems  in Rajasthani, Garhwali and Kumaoni Folk Songs -Part 3

                           
                                      गढ़वाली-कुमाउंनी,  राजस्थानी,   लोकगीतों में कल्पना,  सोना- चांदी,  गहने   -3

                                           Comparison between Rajasthani Folk Songs, Garhwali, Kumaoni Folk Songs-19

                                             राजस्थानी, गढ़वाली-कुमाउंनी  लोकगीतों का तुलनात्मक अध्ययन:भाग-19     


                                                                भीष्म कुकरेती
लोक गीतों में अतिरेक मिलना स्वाभाविक है।  अप्राप्य वस्तुओं का वर्णन ऐसा करना जैसे यह अति सुलभ वस्तु है मनुष्य का उद्दाति -करण मानसिकता है जो कि राजस्थानी और गढ़वाली -कुमाउंनी गीतों में सर्वत्र मिलता है। 


       गढ़वाली और कुमाउंनी   लोकगीतों में कल्पना,  सोना- चांदी,  गहने   -3             

नाच बेटी क्वेला मोर नाच , नाच बेटी क्वेला मोर नाच
क्यांलै नाचु बाबा मोर नाच,क्यांलै नाचु बाबा मोर नाच
त्वेइ तैं दियूं छौ मोर नाच,-2
सिरमोरी  नथ मोर नाच,-2
त्वेइ तैं दियूं छौ मोर नाच,-2
गौळा  की हाँसुळी   मोर नाच, -2
सौतेलिन पैरी मोर नाच , -2
त्वेइ तैं दियूं छौ मोर नाच, -2
कानूं का कनफूल मोर नाच, -2
त्वेइ तैं दियूं छौ मोर नाच, -2
रमथमी बुलाक मोर नाच, -2
सौतेलिन पैरी मोर नाच,-2
त्वेइ तैं दियूं छौ मोर नाच,-2
हातों की धगुली मोर नाच, -2
सौतेलिन पैरी मोर नाच,-2
त्वेइ तैं दियूं छौ मोर नाच,-2
झुमक्याळी झुमका मोर नाच ,-2
 सौतेलिन पैरी मोर नाच,-2
त्वेइ तैं दियूं छौ मोर नाच,-2
खुट्यों की पैज्बी मोर नाच, -2 
सौतेलिन पैरी मोर नाच,-२
त्वेइ तैं दियूं छौ मोर नाच,-2

 -----------------अनुवाद  (डा हटवाल )------------

नाच बेटी क्वेला , मोर नाच

तुझे  दी है

सिरमोरी नथ
तुझे  दी है

गले की हंसिया
सौत ने पहना
तुझे  दी है
कानो के कर्णफूल
रमथमी बुलाक
सौत ने पहना

तुझे  दी है

हाथों के धगुले
सौत ने पहना
तुझे  दी है

झुमक्याळी  झंवोरी
सौत ने पहना
तुझे  दी है

पैरों की पाजव
सौत ने पहना

                   राजस्थानी,   लोकगीतों में कल्पना सोना- चांदी, गहने   जर -जेवरात  -3
    एक राजस्थानी लोक गीत में सोने के दीपक और रेशम की  डोर का प्रयोग इस प्रकार हुआ है -
सोने रे म्हें दिवली घड़ास्यां
रेशम बाट बटास्यां जी
चार बाट चौमुख दीवो
घी सूं म्हें पुखास्यां जी
उपरोक्त गीत में सोने दीपक , रेशम की बाती और घी।  गीत इस तरह का है जैसे  घी दो की बाते हों।
निम्न एक  अन्य राजस्थानी लोक गीत में भी सोना चांदी का प्रयोग हुआ है -
हल चल हुई हलकार
मेवाड़ों  रा साथ में रे लोल
भर लो मोतिडों सूं थाल
सुन्दर गौरी म्हारे मोरतियो पूछाव
मेवाड़ी सरदारों की सेना में हलचल हुयी।  प्रस्थान के नक्कारे -नगाड़े बज रहे हैं



Copyright@ Bhishma  Kukreti 4  /9 /2013


सन्दर्भ
 
डा जगमल सिंह , 1987 ,राजस्थानी लोक गीतों के विविध रूप , विनसर प्रकाशन , दिल्ली
डा राम प्रसाद दाधीच , (सम्पादन )  राजस्थानी लोक गीत
रानी लक्ष्मी कुमारी चूंड़ावत  , (सम्पादन ) राजस्थानी लोक गीत
पुरुषोत्तम मेनारिया (संपादन ), राजस्थानी लोक गीत
ठाकुर राम सिंह (संपादन ) , राजस्थानी लोक गीत
गंगा प्रसाद कमठान , राजस्थानी लोक गीत
डा जगदीश नौडियाल उत्तराखंड की सांस्कृतिक धरोहर:रवाँई क्षेत्र का लोक साहित्य का सांस्कृतिक अध्ययन 
लीलावती बंसल , 2007 , लोक गीत :पंजाबी , मारवाड़ी और हिंदी के त्यौहारों पर गाये जाने वाले लोक प्रिय गीत
डा नन्द किशोर हटवाल , 2009 उत्तराखंड हिमालय के चांचड़ी  लोक गीत एवं नृत्य ,विनसर पब क. देहरादून(अनुवाद सहित )
अबोध बंधू बहुगुणा , धुयांळ , दिल्ली
महाबीर रंवाल्टा , उत्तराखंड में रवाँई क्षेत्र  के लोक साहित्य की मौखिक परम्परा, उद्गाता 
डा शिवा नन्द नौटियाल , गढ़वाल के लोक नृत्य-गीत
डा गोविन्द चातक , गढवाल की लोक गाथाएँ
 
[Comparison between Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Exclusive features of Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Different Style and Mood of Rajasthani Traditional Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Differentiation between Rajasthani Customary  Songs and Garhwali-Kumaoni long-established  Songs; Assessment of Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Appraisal of Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Review of Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Analytical review of Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Folk Songs; Analysis of Rajasthani Folk Songs and Garhwali-Kumaoni Traditional  Songs;Comparison and Analysis of Traditional Songs; assessment and Analysis of Rajasthani –Kumaoni –Garhwali Traditional Songs; study of Rajasthani –Kumaoni –Garhwali conventional Songs; Comparison and investigation of Rajasthani –Kumaoni –Garhwali Traditional Songs; evaluation and Analysis of Folk  Songs; similarity, dissimilarity  and examination of Rajasthani –Kumaoni –Garhwali Traditional Songs; Finding contrast and investigation of Folk  Songs;Imagination in Rajasthani Folk Songs; Imagination in Rajasthani Folk Songs from; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Jaipur Division; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Bikaner Division; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Udaipur Division; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Ajmer Division; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Bikaner Division; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Kota Division; Imagination in Rajasthani Folk Songs from Bharatpur Division; Imagination in Garhwali  Songs from Garhwal ; Imagination in Kumaoni Folk Songs   

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
By - प्रयाग पाण्डे
 

कुमांऊँनी विरह गीत -" मैं उदास हूँ , मेरा प्रेम किसने देखा , किसने अनुभव किया ।"

न्यौली लांबा गाडा तीरा न्यौत्या तिमुली को पात ।
न्यौली त्यारा बिना आबा नी काटियों मेरी रात ।
न्यौली पटवारी का हाता , न्यौल्या सरकारी लेख ।
न्यौली मैं लाग्यो उदेख , माया मेरी लै कैलै देखो ।
न्यौली ऊनी को कापडा , ज्युनाली कैलो बुनियो ।
न्यौली आबा का नीं आयो ऊ जो छियो हौसियों ।
न्यौली झुंगरा की घासी , न्यौत्या झुंगरा की घासी ।
न्यौली जब नीं मैं हौंसियो की पुन्युं छ कि अमुसी ।
खाली रै ग्यान ख्वाब जासा , उमर ल्है गई ऐसी ।
न्यौली ऐल साल बाट आइ ना मंडी को किराइनी ।
न्यौली आब संगी खेलो , को छ क्वे छै नां विराइनी ।
न्यौली तली की चालै की पानी की बरमंसी धारी ।
न्यौली तेरी छ खेलियो घाट मैं नैं औनी सार ।
न्यौली लांबा गाडा तीरा चाला सुपै की छिटी रो ।
न्यौली कै बतूंली आब लेख्यो छ करमा जो तेरो ।

भावार्थ :-
न्यौली उस लम्बे से खेत के किनारे पर तिमिली का पत्ता है ।
ओ प्रिय , तुम्हारे बिना अब मुझसे यह रात काटे नहीं कटती ।
न्यौली पटवारी के हाथ में सरकारी कागज है ।
मैं उदास हूँ , मेरा प्रेम किसने देखा , किसने अनुभव किया ।
न्यौली , ऊनी वस्त्र बुना गया है , चांदनी की तरह सफ़ेद ।
ओ प्रिय , इस बार वह नहीं आया जो रसिक था ।
न्यौली, झुंगरा की घास , न्यौली, झुंगरा की घास।
आह , जब अपना प्रेमी ही नहीं तो चाहे पूर्णिमा हो चाहे अमावस ।
केवल भूली सी यादें रह गई हैं , जीवन ऐसे ही बीत गया ।
न्यौली, इस साल मंडी का व्यापारी इस ओर नहीं आया ।
ओ प्रिय , आओ साथ ही नृत्य में भाग लें , कोई पराया नहीं है यहाँ ।
न्यौली, निचले खेत में पानी की सालभर चलने वाली धारा है ।
ओ प्रिय , तुमने तो इस घाट पर खेला है पर मुझे तो आदत ही नहीं है ।
न्यौली, उस लम्बे से खेत में सुप से फसल की छिटाई की जा रही है ।
ओ प्रिय , क्या बताया जा सकता है कि भाग्य में न जाने क्या लिखा है ।

( कुमांऊँ का लोक साहित्य )

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0

प्रयाग पाण्डे
August 9
कुंमाँऊनी लोक गीत ------
कै करूँ सासू लम चरयो लै रेवती बौज्यू बुड |
चपल पैरछी चुड , चुडे चल मेरी दुकाना ,चपल पैरछी चुड |
खुकुरी को म्याना , जोगी बैठी ध्याना |
च्याल वालौं का च्याला. जीरौं , फकतों की जाना |
कैकी करूँ मनवसी , कैकी अभिमाना |
नानछिना की पिरीति की त्वे नि रूनी फामा |
करी गेछे वो खडयूँणी रुख डावा चाणा |
चपल पैरंछी चुड , चुडे चल मेरी दुकाना ,चपल पैरछी चुड |
कै करूँ सासू ठुल कुडैलै रेवती बौज्यू बुड |
मडुवे की मानी , जतिये की कानी ,
जैकि हूँ फोसडी खोरी पापिणी उ धिनाली नी खानी |
जनम सबूं ले लियो छ पापिण करमै कि खानी |
चपल पैरछी चुड , चुडे चल मेरी दुकाना ,चपल पैरछी चुड |
केलडी को खाना , धुरी पाको आमा |
नानछिना की पिरीति की त्वे धरिये फामा |
चपल पैरछी चुड , चुडे चल मेरी दुकाना ,चपल पैरछी चुड |
कै करूँ सासू लम चरयो लै रेवती बौज्यू बुड |
कै करूँ सासू ठुल कुडैलै रेवती बौज्यू बुड |
भावार्थ
क्या करूँ सास जी , लम्बे मंगल सूत्र से रेवती के पिता जी अर्थात :मेरे पति तो बूढ़े हैं |
चप्पल पहनोगी या चूडियाँ , चलो मेरी दुकान में चलो |
चप्पल पहनोगी या चूडियाँ , चलो मेरी दुकान में चलो |
खुकुरी की म्यान , योगी ध्यान - मग्न बैठा है ,
सन्तान वालों के पुत्र चिरजिंवी हों , और कुवारे दीर्घायु हों |
किस - किस की मर्जी पूरी करूँ और किस पर घमंड करूँ |
तुम्हें तो तुम्हारी वल्यापन की प्रीति याद ही नहीं रहती |
बुरा हो तेरा , मुझे तो तू बिलकुल एकांकी छोड़ गई |
चप्पल पहनोगी या चूडियाँ , चलो मेरी दुकान में चलो |
सास जी , मैं क्या करूँ इस बड़े मकान से , रेवती के पिता जी तो बूढ़े हैं |
मडुवा का भूसा , भैसे के कंधे ,
जिसका भाग्य ही रुखा हो उसे दही - दूध क्या मिलेगा ?|
जन्म तो सभी ने लिया है , पर तुम तो भाग्य की खान जन्मी हो |
चप्पल पहनोगी या चूडियाँ , चलो मेरी दुकान में चलो |
केले के वृक्ष का ताना , बगिया में आम पक गए ,
हमारी बचपन की प्रीति को याद रखना तुम |
चप्पल पहनोगी या चूडियाँ , चलो मेरी दुकान में चलो |
क्या करूँ सास जी , लम्बे मंगल सूत्र से मैं , ओ सास जी , रेवती के पिता जी तो बूढ़े हैं |
सास जी , मैं क्या करूँ इस बड़े मकान से , रेवती के पिता जी तो बूढ़े हैं |

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
प्रयाग पाण्डे
July 19
यो बाटो कां जान्या होला ?
यो बाटो कां जान्या होला सुरा - सुरा देवी का मंदीरा ।
चमकनी गिलास सुवा रमकनी चाहा छ ।
तेरी - मेरी पिरीत को दुनिये ड़ाहा छ ।
यो बाटो कां जान्या होला सुरा - सुरा देवी का मंदीरा ।
जाई फ़ुली , चमेली फुली, देणा फुली खेत ।
तेरो बाटो चानै - चानै उमर काटी मेता ।
यो बाटो कां जान्या होला सुरा - सुरा देवी का मंदीरा ।
गाडा का गडयार मारा दैत्या पिसचे ले ।
मैं यो देख दुबली भ्यूं तेरा निसासे लै ।
यो बाटो कां जान्या होला सुरा - सुरा देवी का मंदीरा ।
तेरा गावा मूंगे की माला मेरा गावा जंजीरा।
तेरी - मेरी भेंट होली देबी का मंदीरा।
यो बाटो कां जान्या होला सुरा - सुरा देवी का मंदीरा ।
अस्यारी को रेट सुवा अस्यारी को रेट ।
यो दिन यो मास आब कब होली भेंट ।
यो बाटो कां जान्या होला सुरा - सुरा देवी का मंदीरा।
भावार्थ :
इस राह से किधर जा रही हो तुम ? सीधे देवी के मंदिर की ओर ।
चमकते गिलास में तेज रंग की चाय रही हुई है ।
तुम्हारे , मेरे प्रेम से सभी लोग ईर्ष्या करने लगे हैं ।
इस राह से किधर जा रही हो तुम ? सीधे देवी के मंदिर की ओर ।
जाई और चमेली के फूल खिले हैं , खेतों में सरसों फूली है ।
तुम्हारी राह देखते - देखते मैंने अपनी सारी उम्र मायके में ही बिता दी है ।
इस राह से किधर जा रही हो तुम ? सीधे देवी के मंदिर की ओर ।
दैत्य- पिचास ने छोटी नदी की मछलियाँ मार डाली हैं ।
देखा , तुम्हारे विरह में कितनी दुर्बल हो गई हूँ ।
इस राह से किधर जा रही हो तुम ? सीधे देवी के मंदिर की ओर।
तुम्हारे गले में मूंगे की माला है और मेरे गले में जंजीर ।
तुम्हारे और मेरी भेंट होगी देवी के मन्दिर में।
इस राह से किधर जा रही हो तुम ? सीधे देवी के मंदिर की ओर।
असेरी (स्थानीय माप का बर्तन )का घेरा ।
आज के दिन , इस माह ,हम मिले , अब कब भेंट होगी ?
इस राह से किधर जा रही हो तुम ? सीधे देवी के मंदिर की ओर ।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
हो नी काटो , नी काटो झुमरयाली बाँज , बंजानी धुरा ठंडो पानी |
ठंडो पानी , ठंडो पानी , बाँज बंजानी धुरा ठंडा पानी |
नैपाल की धनपुतली , कमर खुकुरी |
बरमा जानी धनपतली ,कमर खुकुरी |
ठंडो पानी , ठंडो पानी , बाँज बंजानी धुरा ठंडो पानी |
हो नी काटो , नी काटो झुमरयाली बाँज , बंजानी धुरा ठंडो पानी |
म्हैना आयो चैत को हो कोई न कोई आलो |
जैको भाई , चाई रौली , गत भिटौली ल्यालो |
ठंडो पानी , ठंडो पानी , बाँज , बंजानी धुरा ठंडो पानी|
हो नी काटो , नी काटो झुमरयाली बाँज , बंजानी धुरा ठंडो पानी |
यो दिन यो बार मेरी ऊमर की बात |
भुलुलो , भुलुलो कुंछी , बांकी उन्छी याद |
ठंडो पानी , ठंडो पानी , बाँज बंजानी , धुरा ठंडो पानी |
हो नी काटो , नी काटो झुमरयाली बाँज , बंजानी धुरा ठंडो पानी |
भावार्थ :
मत काटो काटो मत , इस नुकीली घनी पत्तियों वाले बाँज को , बाँज के वन का जल बहुत शीतल होता है |
शीतल , बहुत शीतल जल , बाँज के वन में बहुत शीतल जल होता है |
नेपाल का धनपुतली नामक व्यक्ति कमर में खुकुरी बांधे है |
धनपुतली वर्मा जा रहा है , कमर में खुकरी बंधी है |
शीतल बहुत शीतल जल , बाँज के वन में बहुत शीतल जल है |
मत काटो काटो मत , इस नुकीली घनी पत्तियों वाले बाँज को , बाँज के वन का जल बहुत शीतल होता है |
चैत का महीना आ रहा है , कोई न कोई अवश्य आवेगा |
जिन बहिनों के भाई हैं वे भाई की राह देखती होंगी कि कब भिटौली लेकर भाई आ जावे |
शीतल , बहुत शीतल जल , बाँज के वन में बहुत शीतल जल है |
मत काटो काटो मत , इस नुकीली घनी पत्तियों वाले बाँज को , बाँज के वन का जल बहुत शीतल होता है |
वह दिन , वह वार जीवन भर मेरी स्मृति में रहा |
जितना इसे भुलाने की चेष्टा की , उतना ही अधिक याद आया यह |
शीतल , बहुत शीतल जल , बाँज के वन में बहुत शीतल जल है |
मत काटो काटो मत , इस नुकीली घनी पत्तियों वाले बाँज को , बाँज के वन का जल बहुत शीतल होता है |
(कुमाऊँ का लोक साहित्य से )

by Prayag Joshi

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22