Author Topic: उत्तराखण्ड के क्रांतिवीर-स्व० श्री विपिन चन्द्र त्रिपाठी/ Vipin Chandra Tripathi  (Read 15759 times)

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
कैलाश चन्द्र पाण्डे जी द्वारा त्रिपाठी जी को काव्य श्रद्धांजलि

भूमि पर भूडोल आया, गगन भी रोने लगा,
देव भू का लाल जब, पंचत्त्व में सोने लगा,
क्यों ग्या तू छोड़कर, निर्मोहिया बलता हमें?
मृदृल से मृदृ संत था, हां सोच का ही पंथ था,
प्रस्तर कठोर किशोर था, सिद्धान्त हेतु अकम्प था,
आपातकाल को याद कर, जब गया तू जेल था,
उद्दण्ड शासन विमुख होना, क्या तनिक सा खेल था?
तू लड़ा जन के लिये, प्रवाह ना की प्राण की,
जनत्रांण की तू अलख लेकर, गति पकड़कर वाण की,
आगे बढ़ा बढ़्ते गया, ओ! गगन मस्तक छू गया,
दिल हम सबों के ले गया, सिद्धान्त पक्के दे गया।
भू-माफियों को भेदकर, तस्कर तरेरे भूमि से,
हक-हकूकों को हमें, तू दे गया संघर्ष से।
आपात कारागार से तू, मुक्त होकर बढ़ चला,
उस छटा को शब्द देना, सामर्थ्य बाहर हो चला,
ढोल दन-दन बज रहे, सैलाब स्वागत आन थी,
बीएन सुन में तान प्यारी, झंकार की क्या बात थी,
सर्वहारा का हितैषी, राज्य का आधार था,
अब यह सहा जाता नहीं, पर काल की गति सत्य है।
अर्पित करुं श्रद्धा सुमन, अश्रुपूरित नेत्र से,
यशःकाया से रहेगा, तू अमर ही क्षेत्र से।



 

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
पुण्यतिथि पर याद किया त्रिपाठी को

देहरादून: उत्तराखंड क्रांति दल के पूर्व अध्यक्ष विपिन त्रिपाठी की पुण्यतिथि पर उनका भावपूर्ण स्मरण करते हुए राज्य को सरसब्ज बनाने के लिए पूरी एकजुटता के साथ कार्य करने की जरूरत पर बल दिया गया। उक्रांद के केंद्रीय कार्यालय में शनिवार को आयोजित कार्यक्रम में सर्वप्रथम स्व. विपिन त्रिपाठी के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की गई। इस मौके पर उत्तराखंड आंदोलन और यहां के विकास में उनके योगदान पर चर्चा की गई। वक्ताओं ने कहा कि राज्य के चहुंमुखी विकास के लिए एकजुटता से कार्य करना ही स्व.त्रिपाठी को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। कार्यक्रम में उक्रांद के पूर्व अध्यक्ष बीडी रतूड़ी, केंद्रीय उपाध्यक्ष डीएन टोडरिया, नत्थीलाल सेमवाल, शैलेश गुलेरी, लताफत हुसैन, यशपाल रावत आदि ने विचार व्यक्त किए। अध्यक्षता दल के जिलाध्यक्ष दिनेश बडोला ने की, जबकि संचालन सुनील ध्यानी ने किया।
 

D.N.Barola / डी एन बड़ोला

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 247
  • Karma: +20/-0
Bipin Tripathi, Uttarakhand-The fighter from Dwarahat


Bipin Tripathi, as I know him, was a prominent Socialist, Activist, Environmentalist and a Journalist. For the first time I met him when he was on a hunger strike with a demand for the establishment of Degree College at Dwarahat. When I met him he had lost sizeable weight but was still determined to continue his hunger strike till death or till the accomplishment of his demand.  At that time he was working as an Owner Editor of Dronanchal Prahari, a fortnightly paper which he used to publish from Dwarahat.  He had in fact devoted his life to the cause of the development of Dwarahat. Whether one accepts or not he has great contribution in the establishment of Engineering College, Polytechnic, Degree College, Nagar Panchayat etc. etc. Tripathi no doubt was a prominent Socialist, Activist, Environmentalist and a Journalist from Uttarakhand

Bipin Tripathi was born in village Dairi of Dwarahat Block on 23 February, 1945. His father was Mathura Datt Tripathi and mother’s name was Smt Kalawati Tripathi. He had his Primary and secondary education at Mukteshwar. He passed his Intermediate from Dwarahat and went to Haldwani for pursuing the course of Electrical Diploma. He graduated from Kumaon University and in 1967 he threw his lot to the cause of the Samajwadi Andolan. He was highly influenced by the thoughts of Dr. Ram Manohar Lohia.  He fought for the landless villagers of Terai of Nainital District from 1965 to 1969.  In 1968-69 he started publication of a fortnightly newspaper ‘Yuvjan Mashal’ and worked for the achievement of the people’s demands. He led many public agitations highlighting various demands. In 1970 he could hold a State Level Conference of the Yuvjan Sabha. During this period he was arrested by the Government for the first time. After his release, he came back to Dwarahat.  In 1971 he started his fortnightly paper Dronanchal Prahari. He also fought against the vindictive attitude of the Star Paper Mill, Lalkuan through this paper, with the result that a case was filed against him in the Press Council. In 1975 during Emergency he went to Jail for more than 22 months.  On return from Jail my association with him strengthened as I persuaded him to take up the Life Insurance agency in 1979. At that time I was working as a Development Officer of the Life Insurance Corporation of India. He accepted to work as an Agent with the specific condition that whatsoever commission would be earned from the Agency, the same would be used for the development of Dwarahat.  I welcomed his gesture.

Tripathi was a founder member of Uttarakhand Kranti Dal. Tripathi was essentially a democrat, committed to the struggles of the hill people of Uttarakhand. He was one of the staunch stalwarts who stood for the establishment of Uttarakhand and he successfully worked for the achievement of this goal. He became a MLA in the year 2002 in the new Uttaranchal State. After becoming an MLA he devoted himself for the cause of the development of Uttarakhand.  He used to remain busy day in and day out. Once he told me that he spends sleepless nights and always thinks about the development of Uttarakhand even in his dreams. He continued his fight with redoubled vigour and enthusiasm. In the meanwhile, he attracted various diseases. He became diabetic and had hypertension. He was quite careless about his health as he had no time to take care of his health. For him development of Uttarakhand was paramount, with the result he expired on 30 August, 2004 at the age 59. At the time of his he was also the President of the State Unit of the Uttarakhand Kranti Dal. After his death his son Pushpesh Tripathi was elected as MLA, who is trying to tread the path which his father had shown.(By D.N.Barola)


पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Creative Uttarakand म्यर पहाड़ द्वारा विपिन त्रिपाठी जी की पुण्य तिथि (३० अगस्त, २००८) पर एक पोस्टर तैयार किया गया।


पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Bipin Tripathi, Uttarakhand-The fighter from Dwarahat


Bipin Tripathi, as I know him, was a prominent Socialist, Activist, Environmentalist and a Journalist. For the first time I met him when he was on a hunger strike with a demand for the establishment of Degree College at Dwarahat. When I met him he had lost sizeable weight but was still determined to continue his hunger strike till death or till the accomplishment of his demand.  At that time he was working as an Owner Editor of Dronanchal Prahari, a fortnightly paper which he used to publish from Dwarahat.  He had in fact devoted his life to the cause of the development of Dwarahat. Whether one accepts or not he has great contribution in the establishment of Engineering College, Polytechnic, Degree College, Nagar Panchayat etc. etc. Tripathi no doubt was a prominent Socialist, Activist, Environmentalist and a Journalist from Uttarakhand

Bipin Tripathi was born in village Dairi of Dwarahat Block on 23 February, 1945. His father was Mathura Datt Tripathi and mother’s name was Smt Kalawati Tripathi. He had his Primary and secondary education at Mukteshwar. He passed his Intermediate from Dwarahat and went to Haldwani for pursuing the course of Electrical Diploma. He graduated from Kumaon University and in 1967 he threw his lot to the cause of the Samajwadi Andolan. He was highly influenced by the thoughts of Dr. Ram Manohar Lohia.  He fought for the landless villagers of Terai of Nainital District from 1965 to 1969.  In 1968-69 he started publication of a fortnightly newspaper ‘Yuvjan Mashal’ and worked for the achievement of the people’s demands. He led many public agitations highlighting various demands. In 1970 he could hold a State Level Conference of the Yuvjan Sabha. During this period he was arrested by the Government for the first time. After his release, he came back to Dwarahat.  In 1971 he started his fortnightly paper Dronanchal Prahari. He also fought against the vindictive attitude of the Star Paper Mill, Lalkuan through this paper, with the result that a case was filed against him in the Press Council. In 1975 during Emergency he went to Jail for more than 22 months.  On return from Jail my association with him strengthened as I persuaded him to take up the Life Insurance agency in 1979. At that time I was working as a Development Officer of the Life Insurance Corporation of India. He accepted to work as an Agent with the specific condition that whatsoever commission would be earned from the Agency, the same would be used for the development of Dwarahat.  I welcomed his gesture.

Tripathi was a founder member of Uttarakhand Kranti Dal. Tripathi was essentially a democrat, committed to the struggles of the hill people of Uttarakhand. He was one of the staunch stalwarts who stood for the establishment of Uttarakhand and he successfully worked for the achievement of this goal. He became a MLA in the year 2002 in the new Uttaranchal State. After becoming an MLA he devoted himself for the cause of the development of Uttarakhand.  He used to remain busy day in and day out. Once he told me that he spends sleepless nights and always thinks about the development of Uttarakhand even in his dreams. He continued his fight with redoubled vigour and enthusiasm. In the meanwhile, he attracted various diseases. He became diabetic and had hypertension. He was quite careless about his health as he had no time to take care of his health. For him development of Uttarakhand was paramount, with the result he expired on 30 August, 2004 at the age 59. At the time of his he was also the President of the State Unit of the Uttarakhand Kranti Dal. After his death his son Pushpesh Tripathi was elected as MLA, who is trying to tread the path which his father had shown.(By D.N.Barola)


बडोला जी,
        त्रिपाठी जी के जीवन और संघर्ष यात्रा का संक्षिप्त विवरण उपलब्ध कराने के लिये धन्यवाद। निःसंदेह त्रिपाठी जी जैसा संघर्षशील व्यक्तित्व मिल पाना अब कठिन ही लगता है।

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
विपिन त्रिपाठी (Vipin Tripathi)

(माताः श्रीमती कलावती त्रिपाठी, पिताः स्व. मथुरा दत्त त्रिपाठी

जन्मतिथि : 23 फरवरी 1945

जन्म स्थान : द्वाराहाट

पैतृक गाँव : दैरी जिला : अल्मोड़ा

वैवाहिक स्थिति : विवाहित बच्चे : 3 पुत्र, 1 पुत्री

शिक्षा : स्नातक

प्राथमिक शिक्षा- बेसिक प्राइमरी पाठशाला, मुक्तेश्वर

हाईस्कूल- मुक्तेश्वर, इण्टर- द्वाराहाट

स्नातक- कुमाऊँ विश्वविद्यालय, इलेक्ट्रिकल डिप्लोमा- हल्द्वानी

जीवन का महत्वपूर्ण मोड़ः डा. राममनोहर लोहिया के विचारों से प्रभावित होकर 1967 में समाजवादी आंदोलन में शामिल।

प्रमुख उपलब्धियाँ : 1968-69 में हल्द्वानी में ‘युवजन मशाल’ पाक्षिक पत्रिका का प्रकाशन; नैनीताल की तराई में 1965-69 में भूमिहीन आंदोलन में सक्रिय, 1970 में नैनीताल में समाजवादी युवजन सभा का प्रदेश सम्मेलन का आयोजन व प्रथम जेल यात्रा, 1971 में द्वाराहाट से ‘द्रोणांचल प्रहरी’ पाक्षिक का प्रकाशन, वनों की लूट के विरुद्ध तथ्यात्मक समाचारों का प्रकाशन, स्टार पेपर मिल का कोप भाजन, पत्र के विरुद्ध प्रेस काउंसिल में मुकदमा, वन बचाओ आंदोलन की शुरूआत, 1974 में वनों की नीलामी के विरुद्ध अन्य साथियों के साथ दो बार प्रदर्शन व गिरफ्रतारी, आपातकाल में जून 1975 में प्रेस एक्ट की विभिन्न घाराओं व डी.आई.आर. में गिरफ्तारी, प्रेस सील, समाचार पत्र बन्द, अल्मोड़ा सहित 5 जेलों की यात्रा। उ.प्र. में सर्वाधिक 22 माह का सश्रम कारावास। 1977 में रिहाई, जनता दल की नीतियों से असहमत होकर पहले उत्तराखण्ड संघर्ष वाहिनी फिर उत्तराखण्ड क्रांति दल में शामिल। द्वाराहाट महाविद्यालय की स्थापना हेतु 9 दिनों का आमरण अनशन, द्वाराहाट में पॉलीटेक्नीक व इंजीनियरिंग कालेज खुलवाने में भी विशेष भूमिका। द्वाराहाट के ब्लाक प्रमुख रहे। राज्य गठन के बाद निर्वाचित प्रथम विधानसभा में विधायक। उत्तराखण्ड राज्य आन्दोलन में निरन्तर सक्रिय तथा विभिन्न जेलों बंद रहे।

युवाओं के नाम संदेशः जब देश नैतिक व चारित्रिक मूल्यों के पतन के कगार पर है। व्यक्तिवाद, परिवार-जातिवाद फैल चुके है, भ्रष्टाचार चरम पर है, ऐसे समय में हिमालय पुत्रों के सामने अग्निपरीक्षा की घड़ी आ गयी है। उक्त महामारियों से छुटकारा पाकर एक आदमी बनना होगा। फिर वे जिस भी क्षेत्र में जायेंगे, उनकी प्रतिभा व योग्यता का लाभ इस प्रदेश, भारत व मानवता को मिल सकेगा। जिस प्रकार हिमालय व गंगा-यमुना ने सारे मानव समाज को दिशा दी है, जीवन दिया है, हम भी उसी अनुरूप आगे बढ़ें।

विशेषज्ञता : जनान्दोलन, लेखन, सम्पादन, समाज सेवा.



नोट : यह जानकारी श्री चंदन डांगी जी द्वारा लिखित पुस्तक उत्तराखंड की प्रतिभायें (प्रथम संस्करण-2003) से ली गयी है।



साभार- अपना उत्तराखण्ड डाट काम  http://apnauttarakhand.com

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
स्व.त्रिपाठी जयंती उत्तराखण्ड राज्य अवधारणा बचाओ दिवस के रूप में मनायी Feb 24, 02:05 am

पिथौरागढ़। उत्तराखण्ड क्रांति दल के नेता स्व.विपिन चन्द्र त्रिपाठी की 63 वीं जयंती उत्तराखण्ड राज्य अवधारणा बचाओ दिवस के रूप में मनायी गयी। जिला कार्यालय में हुई एक गोष्ठी में स्व.त्रिपाठी का भावपूर्ण स्मरण किया गया और राज्य की अवधारणा बचाने का संकल्प लिया गया।

केन्द्रीय महामंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में आयोजित गोष्ठी में वक्ताओं ने स्व.विपिन चन्द्र त्रिपाठी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि त्याग, तपस्या और सत्यनिष्ठा की प्रतिमूर्ति स्व.त्रिपाठी के प्रयासों से पृथक राज्य का सपना साकार हो पाया। वक्ताओं ने कहा उक्रांद को राज्य में मजबूत बनाने और पृथक राज्य का सपना साकार करने में उन्होंने जो सहयोग दिया उसे भूलाया नहीं जा सकता है। गोष्ठी में वक्ताओं ने कहा कि उक्रांद हमेशा से पर्वतीय राज्य की अवधारणा का पक्षधर रहा है और आगे भी रहेगा। इस अवसर पर पर्वतीय राज्य की अवधारणा को बचाये रखने का संकल्प लिया गया।


जयंती पर पूर्व विधायक स्व.त्रिपाठी का भावपूर्ण स्मरण Feb 24, 02:14 am

नैनीताल। उक्रांद के थिंक टैïक रहे पूर्व विधायक स्व.विपिन त्रिपाठी की जयंती पर सोमवार को पार्टी कार्यकर्ताओï ने उन्हेï भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान राज्य स्थापना के उद्देश्योï को साकार करने के लिए संघर्ष की राह अपनाने की जरूरत बताई गयी।

उक्रांद सर्वोच्च सलाहकार समिति के सदस्य प्रकाश पाण्डे की अध्यक्षता मेï आयोजित कार्यक्रम मेï पूर्व विधायक स्व.विपिन त्रिपाठी की जयंती पर कार्यकर्ताओï से उनके संघर्षशील जीवन से प्रेरणा लेने का आह्वïान किया गया। वक्ताओï ने राज्य स्थापना के उद्देश्योï को साकार करने के लिए संघर्ष की जरूरत है। इस मौके पर स्व.त्रिपाठी के जीवन पर विस्तार से प्रकाश डाला गया। नगर अध्यक्ष नवीन लाल साह ने संगठन की मजबूती के लिए सदस्यता अभियान तेज करने पर जोर दिया। उन्होïने कहा कि नए कार्यकर्ताओï के दल मेï जुड़ने से पार्टी के प्रति विश्वास बढ़ेगा।


विपिन त्रिपाठी के बताए मार्गो पर चलने का संकल्प Feb 24, 02:14 am

बागेश्वर। उत्तराखंड क्रांति दल के शीर्षस्थ नेता व पूर्व विधायक विपिन त्रिपाठी के जन्म दिवस पर उक्रांद कार्यकर्ताओï ने उनके बताए मार्गो पर चलने का संकल्प लिया। वक्ताओï ने कहा कि राज्य को शहीदोï की जनभावनाओï के अनुरूप बनाने के लिए एक और आंदोलन की आवश्यकता है। पार्टी कार्यालय मेï आयोजित कार्यक्रम मेï जिलाध्यक्ष हीरा बल्लभ भट्टï की अध्यक्षता मेï आयोजित कार्यक्रम में वक्ताओï ने विपिन त्रिपाठी को राज्य के साथ ही देश का महानायक बताते हुए कहा कि आज राज्य को स्व विपिन त्रिपाठी के जैसे नेताओï की आवश्यकता है। कहा कि आज दुर्भाग्य से राज्य मेï शहीदोï की भावनाओï के अनुरूप कार्य नहीï हो रहे हैï इसके आवश्यक है कि एक और आंदोलन कर आदर्श राज्य का निर्माण किया जाय। इस दौरान कार्यकर्ताओï ने स्व त्रिपाठी के चित्र मेï माल्यार्पण व दीप प्रज्ज्वलित कर उनके बताए मार्गो पर चलने का संकल्प लिया।

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
स्व. विपिन त्रिपाठी की छठी पुण्यतिथि पर आयोजित श्रद्धांजली सभा (अगस्त 2010) में उनके सुपुत्र विधायक श्री पुष्पेश त्रिपाठी द्वारा दिया गया वक्तव्य.  पुष्पेश जी ने अपने भाषण में हमारे इस फोरम में चलाई जा रही सार्थक बहसों की मुक्तकण्ठ से सराहना की

M2U01190 mpeg1video

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
आंदोलनात्मक तेवर थी उनकी पहचान

वन बचाओ आंदोलन, चिपको आंदोलन, चांचरीधार आंदोलन हो या महंगाई के खिलाफ आवाज बुलंद करना हो, सभी में हमेशा आगे रहे बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी विपिन चन्द्र त्रिपाठी यानि विपिन दा। जल, जंगल, जमीन के इस संघर्ष में उन्होंने भूख हड़ताल से लेकर आमरण अनशन किया और जेल में रहे। इस सब की परवाह किये बिना निरंतर संघर्षरत रहे। अब उनकी यादें और संघर्ष ही शेष रह गया है। आज उनकी पुण्य तिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि देने को राज्य के तमाम लोग द्वाराहाट उनके निवास स्थान पहुंच गये हैं। श्री त्रिपाठी का जन्म 23 फरवरी 1945 में द्वाराहाट के ग्राम दैरी में हुआ था। उनके पिता मथुरादत्त त्रिपाठी डाक विभाग में कार्य करते थे। प्रारंभिक शिक्षा गांव में ही ग्रहण की और माध्यमिक शिक्षा मुक्तेश्वर से पूरी हुई। इसके बाद आईटीआई व स्नातक परीक्षा के दौरान ही उनके ऊपर डा. राम मनोहर लोहिया व आचार्य नरेन्द्र देव के विचारों का प्रभाव पड़ा। सादा जीवन उच्च विचारों के साथ ही समाज की सेवा में जुट गये। वर्ष 1967 से आंदोलन में कूद गये। वर्ष 1972 में प्रजा सोशलिस्ट द्वारा चलाये गये भूमि आंदोलन में भी उनकी सक्रिय भागीदारी रही। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के समय महंगाई के विरोध में आवाज बुलंद की। विपिन दा 1982 में ब्रांच फैक्ट्री के खिलाफ, 1988 में वन अधिनियम, 1989 में भूमि संरक्षण आंदोलन में सक्रिय रहे। आपातकाल के समय छह जुलाई 1975 को जेल गये। 22 महीने जेल में सजा काटने के बाद बाहर निकले तो जनता पार्टी की सरकार सत्ता हासिल करने जा रही थी। उन्होंने युवजन सभा से इस्तीफा मोरारजी देसाई को भेज दिया। चिपको आंदोलन, चांचरीधार आंदोलन में भी हमेशा आगे रहे। इतना नहीं विपिन दा सत्ता सुख से दूर रहे। बेमेल राजनीतिक गठबंधन के पक्षधर नहीं थे। इस तरह के गठबंधन को देश के लिए घातक बताते थे। वर्ष 1989 में द्वाराहाट के ब्लाक प्रमुख बने। इस दौरान उन्होंने द्वाराहाट इंजीनियरिंग कालेज, पॉलिटेक्नीक, राजकीय महाविद्यालय खोलने के अलावा अन्य विकास कार्य किये। इसके लिए भूख हड़ताल व आमरण अनशन तक किया। वर्ष 1984 में नशा नहीं रोजगार दो अंादोलन में 40 दिन तक जेल रहे। वर्ष 1980 से उत्तराखंड क्रांति दल से जुड़ने के बाद महासचिव से अध्यक्ष पद तक रहे। वर्ष 1992 में बागेश्वर में उन्होंने उत्तराखंड का ब्लू प्रिंट तैयार किया। इसे ही पार्टी ने घोषणा पत्र तैयार किया। श्री त्रिपाठी ने वर्ष 1974 में बारामंडल सीट से पहला चुनाव लड़ा इसमें 19 हजार वोट हासिल किये। पांच बार चुनाव लड़ने के बाद उत्तराखंड के प्रथम चुनाव में द्वाराहाट के विधायक बने। 30 अगस्त 2004 को उनका निधन हो गया। युवजन मशाल पाक्षिक मैगजीन निकालकर उन्होंने आंदोलनों की धार को तेज किया। उनके सपनों को पूरा करना आज भी राज्य के राजनीतिक दलों के नेताओं के लिए चुनौती बना हुआ है।

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22